Categories: FILMEntertainment

ऐसे शुरू हुई थी आर.डी. बर्मन और आशा भोसले की म्यूज़िकल लव स्टोरी (Happy Birthday R. D. Burman: Musical Love Story Of RD Burman And Asha Bhosle)

संगीत जगत के लेजंड राहुल देव बर्मन यानी आर.डी. बर्मन ने बॉलीवुड को संगीत का ऐसा सुनहरा दौर दिया, जिस पर आज भी लोग झूम…

संगीत जगत के लेजंड राहुल देव बर्मन यानी आर.डी. बर्मन ने बॉलीवुड को संगीत का ऐसा सुनहरा दौर दिया, जिस पर आज भी लोग झूम उठते हैं. 60 से लेकर 80 के दशक तक आर.डी. बर्मन ने एक से बढ़कर एक सुपरहिट गानों के साथ दर्शकों को अपना दीवाना बना दिया था. आर.डी. बर्मन की ज़िंदगी जितनी दिलचस्प थी, उतनी ही दिलचस्प थी उनकी लव स्टोरी. कैसे शुरू हुई आर.डी. बर्मन और आशा भोसले की म्यूज़िकल लव स्टोरी? आज (27 जून) आर.डी. बर्मन यानी पंचम दा का जन्मदिन है. आइए, हम आपको बताते हैं उनकी ज़िंदगी और उनकी लव स्टोरी से जुडी कुछ दिलचस्प बातें.

ऐसे शुरू हुई थी आर.डी. बर्मन और आशा भोसले की म्यूज़िकल लव स्टोरी
आर.डी. बर्मन और आशा भोसले की पहली मुलाकात एक रिकॉर्डिंग स्टूडियो में हुई थी, जहां आर.डी. बर्मन के पिता एस डी बर्मन ने दोनों को मिलवाया था. तब तक आशा भोसले ने इंडस्ट्री में अच्छी खासी पहचान बना ली थी, जबकि आरडी बर्मन मशहूर संगीतकार सचिन देव बर्मन के टीएनज बेटे थे. करीब 10 साल बाद वो मौका आया जब आरडी बर्मन ने फिल्म ‘तीसरी मंजिल’ के लिए आशा भोसले से गाने के लिए संपर्क किया. तब तक पंचम दा और आशा भोसले दोनों की ही पहली शादी टूट चुकी थी. पंचम दा अपनी पहली पत्नी रीता पटेल से अलग हो गए थे. उस वक्त पंचम दा अपनी पहली पत्नी रीता पटेल से इतना परेशान हो चुके थे कि घर छोड़कर होटल में रहने चले गए थे. आशा भोसले जी की भी पहली शादी सुखद नहीं थी. आशा जी अपने पति गणपतराव भोसले से बिल्कुल खुश नहीं थीं. और फिर एक दिन आशा जी ने अपने बच्चों के साथ अपनी बहन के घर की ओर रुख कर लिया. उसी दौरान आशा जी लगातार पंचम दा के लिए गाने गा रही थीं. पंचम दा का संगीत और आशा जी की सुरीली आवाज उन्हें एक-दूसरे के करीब ला रहे थे. कई सालों तक बिना कुछ कहे दोनों के एहसास संगीत में घुलते-मिलते रहे. उस वक़्त दोनों ने एक से बढ़कर एक सुपरहिट गाने दिए थे. पंचम दा का आशा जी को प्रपोज़ करने का अंदाज़ भी बहुत निराला था. आशा जी ने एक खास बातचीत के दौरान बताया था कि शादी के लिए प्रपोज़ करते वक्त भी पंचम दा ने म्यूजिक का सहारा लिया था. उन्होंने आशा जी से कहा कि मेरे सुरों को तुम ही समझ सकती हो. पंचम दा की इस बात को आशा जी समझ गई थीं और उन्होंने शादी के लिए हां कर दी थी. लेकिन आरडी बर्मन और आशा भोसले की शादी का रास्ता इतना आसान नहीं था. आशा जी उम्र में पंचम दा से बड़ी थीं इसलिए पंचम दा की मां इस रिश्ते के खिलाफ थीं, उन्होंने इस शादी के लिए साफ मना कर दिया था. आशा जी से शादी के लिए आरडी बर्मन को लंबा इंतजार करना पड़ा, लेकिन आखिरकार दो प्यार करने वाले एक हो ही गए. आर.डी. बर्मन और आशा भोसले की म्यूज़िकल लव स्टोरी बहुत लंबी नहीं थी. शादी के 14 साल बाद ही पंचम दा 54 साल की उम्र में इस दुनिया से चले गए. पंचम दा के चले जाने के बाद आशा जी बिल्कुल टूट गई थीं, कई सालों बाद वो सामान्य हो पाई थीं.

यह भी पढ़ें: किशोर कुमार की प्रेम कहानी: एक नहीं चार बार की थी शादी (Untold Love Story Of Bollywood Actor, Singer Kishore Kumar)

उस वक्त आशा भोलसे सिर्फ पंचम दा के लिए ही रिकॉर्डिंग करती थीं
फिर एक समय ऐसा भी आया, जब आशा भोलसे सिर्फ पंचम दा के लिए ही रिकॉर्डिंग करती थीं. वर्ष 1981 में जब म्यूजिशियन कल्याण सेन ने फिल्म ‘मुन्नी बाई’ के एक गाने की रिकॉर्डिंग के लिए आशा भोलसे को अप्रोच किया और गाने की रिकॉर्डिंग के लिए उनके पीए बाबू भाई के जरिए आशा जी की रजामंदी भी मिल गई, साथ ही 5 हजार रुपए फीस तक तय हो चुकी थी, ऐसे में जब कल्याण सेन अपनी पूरी टीम के साथ रिकॉर्डिंग के लिए पहुंचे, तो बाबू भाई ने कहा कि आशा जी के दांत में दर्द है आप बाद में आना. बता दें कि आशा जी उसी दिन अपने पति आर डी बर्मन के लिए रिकॉर्डिंग कर रही थीं. जब इस बात की खबर कल्याण सेन को मिली, तो वो रोते हुए आर डी बर्मन के ऑफिस पहुंच गए. कल्याण सेन की बातें सुनते ही पंचम दा ने आशा जी को कसकर डांट लगाई और अपनी रिकॉर्डिंग कैंसिल करवा दी.

यह भी पढ़ें: मधुबाला और दिलीप कुमार का रिश्ता क्यों टूटा? मधुबाला की बहन ने किया खुलासा (Why Did Madhubala And Dilip Kumar’s Relationship Break? Madhubala’s Sister Revealed)

ऐसा था पंचम दा का संगीत का सफर
बॉलीवुड में पहली बार फिल्म ‘छोटे नवाब’ में म्यूजिक की शुरूआत करने वाले आर डी बर्मन को राजेश खन्ना स्टारर फिल्म ‘अमर प्रेम’ के गानों से म्यूजिक इंडस्ट्री के साथ-साथ दुनियाभर में पहचान मिली. इस फिल्म में ‘चिंगारी कोई भड़के’, ‘कुछ तो लोग कहेंगे’ जैसे गानों को दर्शक आज भी गुनगुनाते हैं. आर डी बर्मन को भले ही संगीत विरासत में मिला हो, मगर बहुत कम उम्र में ही उन्होंने अपनी खुद की स्टाइल इजाद कर ली और नए जमाने के संगीतकार बन गए. कई लोग उन्हें आने वाली पीढ़ी का संगीतकार भी कहते थे. आरडी बर्मन के म्यूजिक के लिए एक्सपेरिमेंट्स काफी चर्चित हैं. बताया जाता है कि वे बारिश की बूंदों के साउंड की रिकॉर्डिंग के लिए घंटों बाल्कनी में बैठे रहते थे, रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली चीजों जैसे सोडा बॉटल तक को इंस्ट्रूमेंट की तरह यूज करते थे. पंचम दा अलग तरह का खुद का म्यूजिक बना सकें इसके लिए वो अपने म्यूजिशंस की पीठ तक बजाकर देखते थे. जैज, कैबरे, डिस्को और ओपरा म्यूजिक से भारतीय सिनेमा को समृद्ध करने वाले आरडी बर्मन को उनके चाहने वाले कभी नहीं भूल सकते. उनके रोमांटिक गानों को आज भी कोई टक्कर नहीं दे सकता. तुम आ गये हो नूर आ गया है, मुसाफिर हूँ यारों, सर जो तेरा चकराए, मेरा कुछ सामान, चिंगारी जो भड़के, ओ मेरे दिल के चैन, ये जो मोहब्बत है, बड़े अच्छे लगते हैं, रोज़ रोज़ आखों तले, एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा जैसे कई सुपरहिट गाने पंचम दा ने बॉलीवुड को दिए हैं और ये गाने आज भी लोगों की जुबान पर हैं.

यह भी पढ़ें: मीना कुमारी के अधूरे प्रेम की दर्दभरी दास्तान: कमाल अमरोही से लेकर धर्मेंद्र तक सबने प्यार में धोखा दिया (Tragic Love Story Of Tragedy Queen Meena Kumari)

आप भी सुनिए आरडी बर्मन के ये सुपरहिट गाने:

तुम आ गये हो नूर आ गया है

ओ मेरे दिल के चैन

चिंगारी जो भड़के

बड़े अच्छे लगते हैं

एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा

Recent Posts

क्या बढ़ते प्रदूषण का स्तर मांओं के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है? (Are Rising Pollution Levels Affecting The Health Of Mothers?)

दिल्ली का वायु प्रदूषण मुख्य रूप से पूरी सर्दियों में एक गंभीर समस्या बना रहता…

कहानी- जहां चाह वहां राह (Short Story- Jahan Chah Wahaa Raah)

"ऐसे टीम नहीं बनेगी. टीम मेरे हिसाब से बनेगी." सभी बच्चों को एक लाइन में…

डेली ब्यूटी डोज़: अब हर दिन लगें खूबसूरत (Daily Beauty Dose: Easy Tips To Look Chic And Beautiful Everyday)

खूबसूरत तो हम सभी दिखना चाहते हैं और जब भी कोई त्योहार या बड़ा मौक़ा आता है तो हम कोशिश करते हैं कि अपनी ब्यूटी काख़ास ख़याल रखें. शादी के मौक़े पर भी हम अलग ही तैयारी करते हैं, लेकिन सवाल ये है कि सिर्फ़ विशेष मौक़ों पर ही क्यों, हर दिनखूबसूरत क्यों न लगें? है न ग्रेट आइडिया?  यहां हम आपको बताएंगे डेली ब्यूटी डोज़ के बारे में जो आपको बनाएंगे हर दिन ब्यूटीफुल… स्किन को और खुद को करें पैम्पर फेशियल, स्किन केयर और हेयर केयर रूटीन डेवलप करें, जिसमें सीटीएम आता है- क्लेंज़िंग, टोनिंग और मॉइश्चराइज़िंग.स्किन को नियमित रूप से क्लींज़ करें. नेचुरल क्लेंज़र यूज़ करें. बेहतर होगा कि कच्चे दूध में थोड़ा-सा नमक डालकर कॉटनबॉल से फेस और नेक क्लीन करें.नहाने के पानी में थोड़ा दूध या गुलाब जल मिला सकती हैं या आधा नींबू कट करके डालें. ध्यान रहे नहाने का पानी बहुत ज़्यादा गर्म न हो, वरना स्किन ड्राई लगेगी. नहाने के लिए साबुन की बजाय बेसन, दही और हल्दी का पेस्ट यूज़ कर सकती हैं. नहाने के फ़ौरन बाद जब स्किन हल्की गीली हो तो मॉइश्चराइज़र अप्लाई करें.इससे नमी लॉक हो जाएगी. हफ़्ते में एक बार नियमित रूप से स्किन को एक्सफोलिएट करें, ताकि डेड स्किन निकल जाए. इसी तरह महीने में एक बार स्पा या फेशियल कराएं.सन स्क्रीन ज़रूर अप्लाई करें चाहे मौसम जो भी हो. इन सबके बीच आपको अपनी स्किन टाइप भी पता होनी चाहिए. अगर आपकी स्किन बेहद ड्राई है तो आप ऑयल या हेवी क्रीमबेस्ड लोशन या क्रीम्स यूज़ करें.अगर आपको एक्ने या पिम्पल की समस्या है तो आप हायलूरोनिक एसिड युक्त सिरम्स यूज़ करें. इसी तरह बॉडी स्किन  की भी केयर करें. फटी एड़ियां, कोहनी और घुटनों की रफ़, ड्राई व ब्लैक स्किन और फटे होंठों को ट्रीट करें. पेट्रोलियम जेली अप्लाई करें. नींबू को रगड़ें, लिप्स को भी स्क्रब करें और मलाई, देसी घी या लिप बाम लगाएं. खाने के सोड़ा में थोड़ा पानी मिक्स करके घुटनों व कोहनियों को स्क्रब करें. आप घुटने व कोहनियों पर सोने से पहले नारियल तेल से नियमित मसाज करें. ये नेचुरल मॉइश्चराइज़र है और इससे कालापनभी दूर होता है. फटी एड़िययां आपको हंसी का पात्र बना सकती हैं. पता चला आपका चेहरा तो खूब चमक रहा है लेकिन बात जब पैरों की आईतो शर्मिंदगी उठानी पड़ी. फटी एड़ियों के लिए- गुनगुने पानी में कुछ समय तक पैरों को डुबोकर रखें फिर स्क्रबर या पमिस स्टोन से हल्के-हल्के रगड़ें.नहाने के बाद पैरों और एड़ियों को भी मॉइश्चराइज़र करें. चाहें तो पेट्रोलियम जेली लगाएं. अगर पैरों की स्किन टैन से ब्लैक हो है तो एलोवीरा जेल अप्लाई करें.नेल्स को नज़रअंदाज़ न करें. उनको क्लीन रखें. नियमित रूप से ट्रिम करें. बहुत ज़्यादा व सस्ता नेल पेंट लगाने से बचें, इससे नेल्स पीले पड़ जाते हैं.उनमें अगर नेचुरल चमक लानी है तो नींबू को काटकर हल्के हाथों से नाखूनों पर रगड़ें. नाखूनों को नियमित रूप से मॉइश्‍चराइज़ करें. रोज़ रात को जब सारे काम ख़त्म हो जाएं तो सोने से पहले नाखूनों व उंगलियों परभी मॉइश्‍चराइज़र लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें. इससे  ब्लड सर्कूलेशन बढ़ेगा. नेल्स सॉफ़्ट होंगे और आसपास की स्किनभी हेल्दी बनेगी.क्यूटिकल क्रीम लगाएं. आप क्यूटिकल ऑयल भी यूज़ कर सकती हैं. विटामिन ई युक्त क्यूटिकल ऑयल या क्रीम से मसाज करें.नाखूनों को हेल्दी व स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए नारियल या अरंडी के तेल से मालिश करें. इसी तरह बालों की हेल्थ पर भी ध्यान दें. नियमित रूप से हेयर ऑयल लगाएं. नारियल या बादाम तेल से मसाज करें. हफ़्ते में एक बार गुनगुने तेल से बालों की जड़ों में मालिश करें और माइल्ड शैम्पू से धो लें. कंडिशनर यूज़ करें. बालों को नियमित ट्रिम करवाएं. अगर डैंड्रफ या बालों का टूटना-झड़ना जैसी प्रॉब्लम है तो उनको नज़रअंदाज़ न करें.  सेल्फ ग्रूमिंग भी है ज़रूरी, ग्रूमिंग पर ध्यान दें… रोज़ ब्यूटीफुल दिखना है तो बिखरा-बिखरा रहने से बचें. ग्रूम्ड रहें. नियमित रूप से वैक्सिंग, आईब्रोज़ करवाएं. ओरल व डेंटल हाईजीन पर ध्यान दें. अगर सांस से दुर्गंध आती हो तो पेट साफ़ रखें. दांतों को साफ़ रखें. दिन में दो बार ब्रश करें. कोई डेंटल प्रॉब्लम हो तो उसका इलाज करवाएं.अपने चेहरे पर एक प्यारी सी स्माइल हमेशा बनाकर रखें. अच्छी तरह ड्रेस अप रहें. कपड़ों को अगर प्रेस की ज़रूरत है तो आलस न करें. वेल ड्रेस्ड रहेंगी तो आपमें एक अलग ही कॉन्फ़िडेन्स आएगा, जो आपको खूबसूरत बनाएगा और खूबसूरत होने का एहसास भीजगाए रखेगा. अपनी पर्सनैलिटी और स्किन टोन को ध्यान में रखते हुए आउटफ़िट सिलेक्ट करें. एक्सेसरीज़ आपकी खूबसूरती में चार चांद लगा देती हैं. उनको अवॉइड न करें. मेकअप अच्छे ब्रांड का यूज़ करें, लेकिन बहुत ज़्यादा मेकअप करने से बचें. कोशिश करें कि दिन के वक्त या ऑफ़िस में नेचुरल लुक में ही आप ब्यूटीफुल लगें. फ़ुटवेयर भी अच्छा हो, लेकिन आउटफ़िट व शू सिलेक्शन में हमेशा कम्फ़र्ट का ध्यान भी ज़रूर रखें. आपके लुक में ये बहुतमहत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. 

© Merisaheli