पंचतंत्र की कहानी: दो दोस्त और बोलनेवाला पेड़ (Panchtantra Story: Two Friends And A Talking Tree)

  दो दोस्त और बोलनेवाला पेड़ (Panchtantra Story: Two Friends And A Talking Tree) एक गांव में मनोहर और धर्मचंद…

 

दो दोस्त और बोलनेवाला पेड़ (Panchtantra Story: Two Friends And A Talking Tree)

एक गांव में मनोहर और धर्मचंद नाम के दो दोस्त रहते थे. एक बार वे कमाने के लिए अपना गांव छोड़कर बाहर गए. दूसरे शहर से वो दोनों ख़ूब सारा धन कमाकर लाए. उन्होंने सोचा कि इतना सारा धन घर में रखेंगे, तो ख़तरा हो सकता है. बेहतर होगा कि इसे घर में न रखकर कहीं और रख दें, इसलिए उन्होंने उस धन को नीम के पेड़ की जड़ में गड्ढा खोदकर दबा दिया.

दोनों में यह भी समझौता हुआ कि जब भी धन निकालना होगा, साथ-साथ आकर निकाल लेंगे. मनोहर बेहद भोला और नेक दिल इंसान था, जबकि धर्मचंद बेईमान था. वह दूसरे दिन चुपके से आकर धन निकालकर ले गया, उसके बाद वह मनोहर के पास आया और बोला कि चलो कुछ धन निकाल लाते हैं. दोनों मित्र पेड़ के पास आए, तो देखा कि धन गायब है.

धर्मचंद ने फौरन मनोहर पर इल्ज़ाम लगा दिया कि धन तुमने ही चुराया है. दोनों मे झगड़ा होने लगा. बात राजा तक पहुंची, तो राजा ने कहा कि कल नीम की गवाही के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा. ईमानदार मनोहर ने सोचा कि ठीक है नीम भला झूठ क्यों बोलेगा?
धर्मचंद भी ख़ुशी-ख़ुशी मान गया. दूसरे दिन राजा उन दोनों के साथ जंगल में गया. उनके गांव के अन्य लोग भी थे. सभी सच जानना चाहते थे. राजा ने नीम से पूछा- हे नीमदेव बताओ धन किसने लिया है?

मनोहर ने… नीम की जड़ से आवाज़ आई.

यह सुनते ही मनोहर रो पड़ा और बोला- महाराज, पेड़ झूठ नहीं बोल सकता, इसमें ज़रूर किसी की कोई चाल है. कुछ धोखा है.
राजा ने पूछा कैसी चाल?

यह भी पढ़ें: पंचतंत्र की कहानी: खरगोश, तीतर और धूर्त बिल्ली (Panchtantra Story: The Hare, Partridge & Cunning Cat)

मैं अभी सिद्ध करता हूं महाराज. यह कहकर मनोहर ने कुछ लकड़ियां इकट्ठी करके पेड़ के तने के पास रखी और फिर उनमें आग लगा दी.
तभी पेड़ से बचाओ-बचाओ की आवाज़ आने लगी. राजा ने तुरंत सिपाहियों को आदेश दिया कि जो भी हो उसे बाहर निकालो. सिपाहियों ने फौरन पेड़ के खोल में बैठे आदमी को बाहर निकाल लिया. उसे देखते ही सब चौंक पड़े, क्योंकि वह धर्मचंद का पिता था. अब राजा सारा माजरा समझ गया.

उसने पिता-पुत्र को जेल में डलवा दिया और उसके घर से धन ज़ब्त करके मनोहर को दे दिया. साथ ही उसकी ईमानदारी सिद्ध होने पर और भी बहुत-सा ईनाम व धन दिया.

सीख: विपरीत परिस्थितियों में भी अपना आपा नहीं खोना चाहिए. अपनी समझ-बूझ से काम करना चाहिए. कठिन परिस्थितियों में भी डरने की बजाय उसका सामना करने की हिम्मत करें और शांत होकर अपने दिमाग से फैसले लें.

यह भी पढ़ें: तेनालीराम की कहानी : तेनालीराम और सोने के आम (Tenali Rama And The Golden Mangoes)

Geeta Sharma

Recent Posts

सेक्स प्रॉब्लम्स- मुझे अब सेक्स में ज़्यादा दिलचस्पी नहीं है (Sex Problems- I Have Lost Interest In Sex)

मेरी शादी को 10 साल हो चुके हैं और मेरे दो बच्चे हैं. मुझे अब सेक्स में ज़्यादा दिलचस्पी नहीं…

दिव्या दत्ता/सपना चौधरी- लाजवाब अदाकारा जिन्होंने इंडस्ट्री में बनाई अपनी अलग पहचान… (Divya Dutta & Sapna Choudhary: Actresses Who Carved A Niche In The Industry)

आज दिव्या दत्ता और सपना चौधरी का जन्मदिन है. दोनों ही कलाकारों ने मनोरंजन की दुनिया में अपने बलबूते पर…

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाने के 5 घरेलू उपाय (5 Home Remedies To Get Rid Of Split Ends)

दोमुंहे बाल (Split Ends) हमारे बालों (Hairs) की ख़ूबसूरती बिगाड़ देते हैं. दोमुंहे बालों के कारण बाल झड़ना, बालों का…

अगले साल इस मॉडल के साथ कोर्ट में शादी कर सकते हैं अरबाज़ (Arbaaz Khan And Georgia To This Model In Court, Next Year)

अरबाज़ ख़ान (Arbaaz Khan) और जॉर्जिया एंड्रियानी (Georgia Andriani) के प्यार की कहानी  हर किसी को पता है. दोनों को…

Photo Gallery: देखिए तैमूर, इनाया, यश और रूही जौहर की क्यूट व नई पिक्स (See Star Kids Recent And New Pics)

स्टार किड्स (Star Kids) सोशल मीडिया के फेवरेट हैं. जैसे ही उनकी कोई पिक्चर आती है, इंटरनेट पर वायरल होते…

मेटाबॉलिज़्म से जुड़े 8 मिथकों की सच्चाई (8 Metabolism Myths Busted)

मेटाबॉलिज़्म (Metabolism) वज़न कम (Weight Loss) करने की कोशिश में जुटे लोगों का पसंदीदा विषय है. इस पर अक्सर चर्चा…

© Merisaheli