कहानी- कर्मण्येवाधिकारस्ते बनाम मिस बेचारी-3.. (Short Story- Karmanyevadhikaraste Banam Miss Bechari-3)

भावना प्रकाश

“मुझे पहले ही समझ जाना चाहिए था जब सोसायटी के सोशल मीडिया ग्रुप पर भी किसी ने पेड़ लगाने की योजना पर कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया गया था. ऐसे ग्रुप का फ़ायदा क्या जहां सिर्फ़ पंचायत में समय ख़राब किया जाता हो.” मैं ग़ुस्से में सेक्रेटरी को सुनाकर आ गई.

हम तपती दोपहर में शॉपिंग से लौटे थे. उफ़! फिर पेड़ के नीचे पड़ोसन ने कार खड़ी कर दी.
“मुझे इतना ग़ुस्सा आ रहा है कि…” मेरी बात बेटी ने हंसकर काट दी, “कि अगर तुम सुपर-वुमन होतीं, तो उसकी कार उठाकर फेंक देतीं, यही न?” उसके हंसने से मेरा ग़ुस्सा और बढ़ गया.
“तुम चाबी लेकर घर चलो. मैं कार पार्क करके सोसायटी ऑफिस में मिलकर आती हूं.”
सोसायटी ऑफिस में मुझे जैसा कि पता ही था, दो टूक-सा जवाब मिला, “सोसायटी पार्किंग में फर्स्ट कम फर्स्ट सर्व का नियम है. किसी प्लेस पर पहले कार खड़ी करनेवाले से हम ये कहकर कार हटवा नहीं सकते कि किसी और को खड़ी करनी है.” पर मैं भी अबकी पूरी तैयारी के साथ गई थी.

यह भी पढ़ें: 60+सोशल एटीकेट्स, जो हर महिला को जानना ज़रूरी है(60+ Social Etiquette Rules Every Woman Should Know)

“अबकी आपको पूरा वाकया सुनना ही पड़ेगा. जब बिल्डर हमें फ्लैट्स हैंडओवर कर रहा था, तब सिर्फ़ मैंने मीटिंग में मुद्दा उठाया था कि उसने तय शर्तों के मुताबिक़ छाया देनेवाले पेड़ नहीं लगाए हैं. तब तो किसी ने मेरा साथ नहीं दिया. अगर दस लोग भी साथ खड़े हो जाते, तो बिल्डर को पेड़ लगवाने पड़ते. खैर, जो हुआ सो हुआ. मैं हर मॉनसून में अपने पैसों से पेड़ ख़रीदकर लाती हूं और अपनी मेहनत से लगाती हूं. और तो और अपने पैसों से ट्री-गार्ड भी लगाती हूं. ग्राउंड फ्लोर पर पेड़ के नज़दीक रहनेवालों से इतना नहीं होता कि पेड़ की सुरक्षा करें या पानी ही डाल दें. मैं ही बोतल में भर-भरकर पानी डालती हूं…” मेरी आगे की बात सेक्रेटरी मैडम ने सुननी भी ज़रूरी नहीं समझी.
“सॉरी मैडम, आप पेड़ के लिए कुछ भी करें अगर वो सार्वजनिक ज़मीन पर लगा है, तो वो सार्वजनिक सम्पत्ति ही होगी.”
“पर आप मेरी पूरी बात तो सुने. मैं तो आपसे सिर्फ़ इतनी उम्मीद करती हूं कि आप मेरी पेड़ लगाने की योजनाबद्ध मेहनत में साथ दें. इसे सोसायटी का…”
“सॉरी मैम, हम रेज़ीडेंट्स को उपदेश नहीं दे सकते.”
“मुझे पहले ही समझ जाना चाहिए था जब सोसायटी के सोशल मीडिया ग्रुप पर भी किसी ने पेड़ लगाने की योजना पर कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया गया था. ऐसे ग्रुप का फ़ायदा क्या जहां सिर्फ़ पंचायत में समय ख़राब किया जाता हो.” मैं ग़ुस्से में सेक्रेटरी को सुनाकर आ गई.
मैं भन्नाया सिर लेकर घर आई, तो बेटी किसी से बात कर रही थी. कुछ ही देर में बच्चों से मेरा घर भर गया.
“आंटी, हमें स्कूल प्रोजेक्ट के तहत पेड़ लगाने होते हैं. सोसायटी ग्रुप पर हम आपके मैसेज और योजनाएं पढ़ते रहते हैं. आप हमें अपनी योजनाओं के कार्यकर्ता बना लीजिए. देखिएगा एक दिन किसी को कार खड़ी करने के लिए पेड़ की छाया की कमी नहीं होगी. यही तो आप चाहती हैं न?”

यह भी पढ़ें: बच्चों का कैसे बनाएं रिस्पॉन्सिबल? (How to Make Your Children Responsible?)

“पेड़ ख़रीदने के पैसे भी ख़र्च नहीं करने पड़ेंगे. हमने आपके निर्देशित तरीक़ों से इतने पेड़ बीज से उगाए हैं.” कहते हुए बच्चों ने कुछ छोटे-छोटे पुराने डब्बों में उगी नई कोंपलें आगे कर दीं. मैं उन्हें अभिभूत होकर देखे जा रही थी. वाह, मेरे छोटे-छोटे प्रयासों ने नई जनरेशन के मन में पर्यावरण को लेकर जागृति भर दी! ये तो छाया के नीचे कार खड़ी करने की जगह मिल जाने से भी अच्छी बात हुई.’ है न?

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

अभी सबस्क्राइब करें मेरी सहेली का एक साल का डिजिटल एडिशन सिर्फ़ ₹599 और पाएं ₹1000 का कलरएसेंस कॉस्मेटिक्स का गिफ्ट वाउचर.

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

मनोज बाजपेयी या सवयीमुळे भाजीवाल्यांचा खातो ओरडा, बायकोचीही नाराजी (Vegetable sellers scold Manoj Bajpayee for this act, wife Shabana also gets embarrassed)

बॉलिवूडमधील उत्कृष्ट अभिनेत्यांपैकी एक मनोज बाजपेयी सध्या त्याच्या 'भय्याजी' चित्रपटामुळे चर्चेत आहे. त्याचा हा चित्रपट…

May 29, 2024

अनंत-राधिकाचा दुसरा प्री-वेडिंग सोहळा आजपासून सुरू (Anant Ambani Radhika Merchant 2nd Pre-Wedding)

अनंत अंबानी व राधिका मर्चंट यांच्या पहिल्या प्री-वेडिंगनंतर आता दुसऱ्या प्री-वेडिंगची जोरदार चर्चा रंगली आहे.…

May 29, 2024

लघुकथा- मुफ़्त का भोजन (Short Story- Muft Ka Bhojan)

अच्छा हो यदि हमारे नेता जनता में मुफ़्त बिजली, पानी, तरह-तरह की पेन्शन देने की…

May 29, 2024
© Merisaheli