Short Stories

पौराणिक कथा- मृत्यु का समय (Short Story- Mirtyu Ka Samay)

उसने राजा से यमराज की उपस्थिति और उसकी तरफ़ घूर कर देखने की सम्पूर्ण बात कह सुनाई. उसे लगा कि यमराज उसे ही लेने आए हैं. अतः उसने राजा से निवेदन किया कि वह उसे यमराज से बचा लें.

.
प्राचीन समय की बात है घनश्याम नाम का एक गणमान्य व्यक्ति रहता था. वह शहर का जाना-माना धनाढ्य एवं संस्कारी तो था ही, पूजा-पाठ भी सब नियमित रूप से करता था. राजा से भी उसकी अच्छी मैत्री थी.
एक दिन वह मंदिर जा रहा था कि राह में उसने पेड़ के नीचे यमराज को खड़े देखा. अजब बात यह थी कि यमराज ने बड़े आश्चर्य मिश्रित भाव से उसकी ओर देखा, जिससे घनश्याम सेठ बहुत घबरा गया और वह भागता हुआ फ़ौरन राजा के  दरबार में जा पहुंचा.
उसने राजा से यमराज की उपस्थिति और उसकी तरफ़ घूर कर देखने की सम्पूर्ण बात कह सुनाई. उसे लगा कि यमराज उसे ही लेने आए हैं. अतः उसने राजा से निवेदन किया कि वह उसे यमराज से बचा लें.
राजा के पूछने पर कि यह कैसे संभव है?

यह भी पढ़ें: तुलसी को पवित्र मानकर क्यों की जाती है पूजा और तुलसी मंत्र किस तरह रखता है शरीर को निरोग, जानें इसके पीछे का विज्ञान! (A Sacred Practice For Healthy Living: Why Do We Worship Tulsi? Interesting Facts & Health Benefits Of Tulsi Mantra)

घनश्याम सेठ ने कहा कि वह किसी भी तरह फ़ौरन उसे इस शहर से, बहुत दूर कहीं भेजने का प्रबंध कर दे.
राजा के पास एक ऐसा चमत्कारी कालीन था, जिस पर बैठकर व्यक्ति वायु की गति से विश्व के किसी भी कोने में पहुंच सकता था.
और राजा ने अपने मित्र को उसी चमत्कारी कालीन पर बिठा कर बहुत दूर के देश में भेजने की व्यवस्था कर दी.
घनश्याम सेठ को अब तसल्ली हो गई. नए स्थान में उसके पास रहने का स्थान तो था नहीं, रात हुई तो एक धर्मशाला में जाकर सो गया. आधी रात को सहसा उसकी नींद खुली, तो उसने सामने यमराज को खड़ा पाया. सेठजी बहुत घबरा गए.
अब वह कहां जा सकते थे?
यमराज जब उसे मृत्यु लोक ले जा रहे थे, तो राह में उसने अपनी उलझन रखी, “कल तो मैंने आपको विश्व के दूसरे कोने में देखा था, तब आपने मुझे घूर कर देखा भी था. ऐसा क्यों?”
इस पर यमराज ने उत्तर दिया, “तुम्हें वहां देखकर मुझे घोर आश्चर्य हुआ था. मेरी सूचि में आज की तिथि में तुम्हारे प्राण लेना दर्ज़ था. वह भी वहां से कोसों दूर इस शहर में. मुझे आश्चर्य इस बात का हुआ कि तुम वहां पर कैसे हो, क्योंकि मनुष्य के लिए इतनी जल्दी इतनी दूर पहुंचना तो असंभव ही था. मैंने फिर से अपनी सूची को बहुत ध्यान से देखा. तुम्हारे प्राण यहीं लेना दर्ज़ था. और फिर आज तुम्हें इसी स्थान पर पाकर आश्चर्यचकित हूं.”

यह भी पढ़ें: ज्ञानी होने का दावा (Gyani Hone Ka Dawa)

फिर घनश्याम की इतनी दूर पहुंच जाने की कहानी सुन यमराज ने कहा, “हर मनुष्य की मृत्यु का समय और स्थान दोनों पूर्व निश्चित होते हैं एवं उससे बचना असम्भव ही है.”
उषा वधवा

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

Photo Courtesy: Freepik

अभी सबस्क्राइब करें मेरी सहेली का एक साल का डिजिटल एडिशन सिर्फ़ ₹599 और पाएं ₹1000 का कलरएसेंस कॉस्मेटिक्स का गिफ्ट वाउचर.

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

वेट लॉस के लिए होम रेमेडीज़, जो तेज़ी से घटाएगा बेली फैट (Easy and Effective Home Remedies For Weight Loss And Flat Tummy)

मोटापा घटाने के घरेलू उपाय * रोज़ सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में…

June 19, 2024

स्वरा भास्करने अखेर दाखवला लेकीचा चेहरा, राबियाच्या निरागसतेवर चाहते फिदा  (Swara Bhasker First Time Reveals Full Face Of Her Daughter Raabiyaa )

अखेर स्वरा भास्करने तिची मुलगी राबियाचा चेहरा जगाला दाखवला. त्यांच्या मुलीची एक झलक पाहण्यासाठी चाहते…

June 19, 2024

अध्यात्म ज्ञानामुळे माझा अभिनय आणि मी प्रगल्भ होतोय! – अभिनेता प्रसाद ताटके (My Acting And I Are Deepening Because Of Spiritual knowledge)

'अभिनय' आणि 'अध्यात्म' या बळावर अभिनेते प्रसाद ताटके यांनी असंख्य मालिकांमधून आपला वेगळा ठसा उमटवला…

June 19, 2024

कहानी- बादल की परेशानी‌ (Short Story- Badal Ki Pareshani)

निराश होकर रिमझिम अपने घर लौट आया. उसे देखकर उसकी मम्मी चिंतित हो उठीं. इतना…

June 19, 2024
© Merisaheli