कहानी- नैनीताल अब नहीं… (Short Story- Nainital Ab Nahi…)

उस पहाड़ी नज़र ने उसके इश्क़िया अंदाज़ को भांप लिया और उस चाय बेचनेवाले युवक से उसको संदेश भिजवाया और वो युवक मस्ती में जाकर…

उस पहाड़ी नज़र ने उसके इश्क़िया अंदाज़ को भांप लिया और उस चाय बेचनेवाले युवक से उसको संदेश भिजवाया और वो युवक मस्ती में जाकर उसके कानों में फुसफुसाया.
“पलकें भी नहीं झपका रहे हो ये कैसे देख रहे हो मुझे…”
“हां, क्या…” वो चौंक ही पड़ा, पर उससे पहले युवक ने उसके ठंड से कंपकंपाते हुए हाथों पर गरमागरम चाय थमा दी.


“कोई घर अपनी अद्भुत सजावट ख़राब होने से नहीं, बल्कि अपने गिने-चुने सदस्यों के दूर चले जाने से खाली होता है.” मां उसको फोन करती रहीं और एहसास दिलाती रहीं कि वो घर से निकला है, तो घर खाली-खाली सा हो गया है.
“मां, अब मैं बीस साल का हूं. आपने कहा कि दस दिन का अवकाश है, तो दुनिया को समझो. अब वही तो कर रहा हूं. ओह, मेरी मम्मा! आप ही तो कहती हो कोई भी जीवन यूं ही तो ख़ास नहीं होता, उसको संवारना पड़ता है.”
“ठीक है बेटा, तुम अपने दिल की करो, मगर मां को मत भूल जाना.”
“मां, मैं पिछले बीस साल से सिर्फ़ आपकी ही बात मानता आया हूं. आप जो कहती हो, वही करता हूं ना मां…”
“मैने कब कहा कि हमेशा अच्छी बातें करो, पर हां मन ही मन यह मनोकामना ज़रूर की.” मां ने और ढेर सारा प्यार उडे़लते हुए कहा.
वो अब मां को ख़ूब भावुक करता रहा तब तक जब तक कि मां की किटी का समय नहीं हो गया.
जब मां ने ख़ुद ही गुडबाय कहा, तब जाकर चैन पाया उसने. बस, कुछ घंटों मे वो भवाली पहुंचनेवाला था. अभी बस रामपुर पहुंची थी. किला दूर से दिखाई दे रहा था. कितनी चहल-पहल और रौनक़ थी रामपुर में. उसने बाहर झांक कर बार- बार देखा. बहुत ही मज़ेदार नज़ारे थे.
एक किशोरी नींबू पानी बेच रही थी. उसने भी ख़रीदा और गटागट पी गया. अब बस फिर चल पड़ी थी.
इस बार वो अपनी मर्ज़ी से बस में ही आया था. मां ने बीस हज़ार रुपए उसके खाते में डाले थे कि टैक्सी कर लेना, पर वो टैक्सी से जान-बूझकर नहीं गया. दरअसल, वो सफ़र के पल-पल का आनंद लेना चाहता था.
नींबू पानी पीकर उसे मीठी-सी झपकी आ गई और रामपुर के बाद पंतनगर, टांडा का घनघोर जंगल.
रूद्रपुर, बिलासपुर, काठगोदाम, कब पार किया उसे ख़बर ही नहीं लगी.
भवाली… भवाली… का शोर सुनकर उसकी आंख खुली. आहा! तो अब वो भवाली आ गया था.
वो पहली बार किसी पहाड़ी यात्रा पर गया था. जब उसने झक्क सफ़ेद बर्फ़ से संवरे ऊंचे- ऊंचे पहाड़ देखे, तो अपलक निहारता ही रह गया. वो जी भरकर इस सुंदरता को पी लेना चाहता था.
उधर एक युवती रेडीमेड नाश्ता बेच रही थी.

यह भी पढ़ें: 20 बातें जो पुरुष स्त्रियों से चाहते हैं (20 Things Men Really Want In A Women)

उस पहाड़ी नज़र ने उसके इश्क़िया अंदाज़ को भांप लिया और उस चाय बेचनेवाले युवक से उसको संदेश भिजवाया और वो युवक मस्ती में जाकर उसके कानों में फुसफुसाया.
“पलकें भी नहीं झपका रहे हो ये कैसे देख रहे हो मुझे…”
“हां, क्या…” वो चौंक ही पड़ा, पर उससे पहले युवक ने उसके ठंड से कंपकंपाते हुए हाथों पर गरमागरम चाय थमा दी.
उसने चाय सुड़कते हुई उस युवक की आवाज़ को फिर याद किया और अभी-अभी कहे गए शब्द दोहराए, तो पहाड़ी युवती के सुर को उसके दिल ने भी सुन और समझ लिया.
पहले तो उसको कुछ संकोच सा हुआ और मन ही मन उसने सोचा, ‘अभी इस ज़मीन पर पैर रखे हुए दस मिनट ही हुए है इतनी जल्दी भी ठीक नहीं.’
मगर अगले ही सेकंड उसको याद आया कि बस दस दिन हैं उसके पास. अब अगर वो हर बात और हर मौक़ा टालता ही जाएगा, तो कुछ तज़ुर्बा होगा कैसै?
इसलिए वो एक संतुलन बनाता हुआ नज़रें हटाए बगैर ही बुदबुदाया. “बचपन में मैंने निजी जीवन के अनुभव से एक बात सीखी थी कि फोटो लेते समय शरीर के किसी अंग को हरकत नहीं करनी है. सांस भी रोक कर रखनी है. अब मेरी जो आंखें हैं वो अपनी सांस रोककर मेरे दिल में बना रही हैं तुम्हारा स्कैच.” उसकी यह बात वहां उसी युवक ने जस की तस पहुंचा दी.
उसके आसपासवाले एक स्थानीय लड़के ने भी यह सब सुना और उसको मंद-मंद मुस्कुराता देखकर पहाड़ी युवती शर्म से लाल हो गई. इस रूहानी इश्क़ को महसूस कर वहां की बर्फ़ भी ज़रा-सी पिघल गई और पास बह रही पहाड़ी नदी के पानी में मिल गई. पर दस मिनट बाद व्यवहारिकता के धरातल पर भी उन दोनों की गपशप हो ही गई. वो युवती टूरिस्ट गाइड थी. चार घंटे के तीन सौ रुपए मेहनताना लेती थी.
‘वाह! क्या सचमुच’ उसने मन ही मन सोचा. मगर आगे सचमुच बहुत सुविधा हो गई. उसी युवती ने वाज़िब दामों पर एक गेस्ट हाउस दिलवा दिया और अगले दिन नैनीताल पूरा घुमा लाई. नैनीताल में एक साधारण भोजनालय में खाना और चाय-नाश्ता दोनों ने साथ-साथ ही किया. तीस रुपए बस का किराया और दिनभर खाना, चाय, चना जोर गरम.. सब मिलाकर पांच सौ रुपए भी पूरे ख़र्च नहीं हुए थे. कमाल हो गया. यह युवती तो उसके लिए चमत्कार थी. दिनभर में वो समझ गया था कि बहुत समझदार भी थी. वो लोग शाम को वापस भवाली लौट आए थे. कितनी ऊर्जा थी उसमें. वो मन ही मन उसकी तारीफ़ करता रहा.
एकाध बार उसके चेहरे पर कुछ अजीब-सी उदासी देखकर वो बोली थी, “ये लो अनारदाना. मुंह में रखो और सेहत बनाओ.” उसने अनारदाना चखा सचमुच बहुत ही ज़ायकेदार था.
वो कहने लगी, “सुनो, जो निराश हो गई है. वह अगर तुम्हारी आत्मा है, तो किसी भी उपाय से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा. पहाड़-समंदर घूमने से, संगीत-कला-साहित्य से भी बस थोडा फ़र्क़ पड़ेगा. और वह भी कुछ देर के लिए. निराशा की बैचेनी, तो बस उदासी तोड़कर जीने से दूर होती है. अपने मूड के ख़िलाफ़ बग़ावत करने से दूर होती है. हर माहौल में आंखों से आंखे मिलाकर खड़े रहने से दूर होती है.
शान से, असली इंसान की तरह जीने के मज़े लूटने हैं, तो जागरूक हो जाओ. अपने भीतर जितना भी जीवन है, वो औरों को बांटते चलो. फिर देखो कितना अनुकूल असर होता है.”
और अपनी बात पूरी करके उसने छह घंटे के पूरे पैसे उसको थमा दिए.
वो युवती उससे उम्र मेंं कुछ बड़ी थी.
आगे रानीखेत, अल्मोड़ा आदि की बस यात्रा उसने अच्छी तरह समझा दी थी. उसने कुछ भी ठीक से नहीं सुना यही सोचकर कि वो युवती भी साथ तो चलेगी ही. मगर वो हर जगह अकेला ही गया. उसके बाद वो चार दिन उसको बिल्कुल नज़र नहीं आई. अब कुल चार दिन और बचे थे उसने पिथौरागढ़ घूमने का कार्यक्रम बनाया और युवती साथ हो ली.
उसको उस युवती में कुछ ख़ास नज़र आया. सबसे कमाल की बात तो यह थी कि मां के दिए हुए रुपए काफ़ी बच गए थे या यूं कहें उसमें से बहुत-सी राशि वैसे के वैसी ही पड़ी थी.
उसने चीड और देवदार की सूखी लकड़ी से बनी कुछ कलाकृतियां ख़रीद लीं और वहां पर शॉल की फैक्ट्री से मां, उनकी कुछ सखियां
और अपने मित्रों के लिए शॉल, मफलर , टोपियां पसंद कर ख़रीद लीं.
दो दिन बाद वो दोनों पिथौरागढ़ से वापस आ गए. यात्रा बहुत रोमांचक रही और सुकूनदायक भी. वो उससे कुछ कहना चाहता था, पर वो हमेशा ही उलझी हुई मिलती थी.
मन की बात कहने का अवसर अपने बेकरार दिल के सामने बेकार कर देना समय की नहीं, भावनात्मक स्तर पर व्यक्ति की हार है. वो यही सोच रहा था, पर कुछ नहीं कर पा रहा था. अब एक दिन और बचा था. उसने आसपास के इलाके ज्योलीकोट और दो गांव घूमने का निश्चय किया. वो यह सब नक्शे पर देख ही रहा था कि वो युवती उसके पास भागी-भागी चली आई. हांफते हुए वो बोली, “ज़रा-सा अभिनय कर दो ना.”
“क्या? पर क्यों?” वो चौक पड़ा.
“अरे, सुनो बस बस… वैसे ही जो तुमने पिथौरागढ़ के रिजार्ट में किया था. तुम कह रहे थे ना कि तुम बहुत अच्छी आवाज़ भी निकाल लेते हो.”
“ये क्या कह रही हो. मैं अभिनय और अभी.. ये सब क्या.. ओह, तुम्हारी इसी अदा पर तो फ़िदा हूं मैं.”
“तुम बस मस्त-मगन रहते हो और फालतू कुछ सोचने में समय ख़राब नहीं करते. चलो.. चलो.. शुरू हो जाओ ना.”
“हां, हां.. ठीक है. अभी करता हूं.”
“मगर वो.. वो नहीं.. ये सुनो…” वो बोलती गई.
“सुनो, बस तो अभी यहां एक लफंगा आएगा. उसको कह देना कि तुम फिल्म डायरेक्टर हो और अब मैं तुम्हारी अगली हीरोइन.”
“पर मैं तो अभी बस बीस बीस साल का हूं?” कहकर वो टालने लगा.
“हां, हां.. उससे कुछ नहीं होता. बस, इतना कर दो. ये पुराना आशिक़ है मेरा, मगर तंग कर रहा है. इसे ज़रा बता दो कि तुम मुझे कितना चाहते हो. फिर मुझे तसल्ली से सगाई करनी है. वो देखो, वो बस चालक.. वो उधर देखो, वही जो हम को पिथौरागढ़ अपनी बस में लेकर गया और वापस भी लाया…”
वो बोलती जा रही थी और उसका दिमाग़ चकरघिन्नी बना जा रहा था.
वो अचानक गहरे सदमे में आ गया, पर उसकी बात मान ली और उम्दा अभिनय किया. युवती ने दूर से सारा तमाशा देखा और
उंगली का इशारा भी करती रही.
वो उसी समय बैग लेकर दिल्ली की तरफ़ जाती हुई एक बस में चढ़ा और पलट कर भी नहीं देखा. उसको लगा कि उसके दिल में गहरे घाव हो गए हैं और बहुत सारा नमक अपने किसी घाव में लगा दिया है.

पूनम पांडे


यह भी पढ़ें: प्यार में क्या चाहते हैं स्री-पुरुष? (Love Life: What Men Desire, What Women Desire)

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

हेल्दी और फिट रहना है, तो बचें इन हेल्दी चीज़ों के ओवर डोज़ से… (Stop Overdoing These 11 Healthy Habits To Stay Fit And Healthy)

हेल्दी और फिट रहने के लिए हेल्दी आदतों का होना अच्छी बात है, लेकिन जब यही अच्छी आदतें हद से ज़्यादा बढ़कर सनक बन जाती हैं तो आपको फिट रखने की बजाय नुक़सान ही ज़्यादा पहुंचाती हैं. ऐसे में बेहतर होगा कि कुछ चीज़ों केओवर डोज़ से बचा जाए…  बहुत ज़्यादा डायटिंग करना: अपने बढ़ते वज़न पर नज़र रखना और उसको कंट्रोल में रखने के लिए डायटिंग करना अच्छी बात है, लेकिन जब ये डायटिंग हद से ज़्यादा बढ़ जाती है तो वो आपको फिट और स्लिम रखने की बजाय कमज़ोर करने लगती है. कुछ लोग पतले बने रहने के चक्कर में खाना-पीना ही बंद कर देते हैं, जबकि डायटिंग का मतलब खाना बंद करना नहीं होता, बल्कि अनहेल्दी खाने को हेल्दी खाने से रिप्लेस करना होता है. लेकिन जब आप खाना एकदम ही कमकर देते हो, तो शरीर में पोषण की कमी होने लगती है और आप कमज़ोर होकर कई हेल्थ प्रॉब्लम्स से घिर जाते हो. बहुत ज़्यादा एक्सरसाइज़ करना: फिट रहने के लिए एक्सरसाइज़ करना बहुत ही हेल्दी हैबिट है, लेकिन ओवरएक्सरसाइज़ से आपको फ़ायदा कम और नुक़सान ज़्यादा होगा. यह न सिर्फ़ आपको थका देगी, बल्कि इससे आपकीमसल्स या बॉडी डैमेज तक हो सकती है. हेवी वर्कआउट के बाद बॉडी को रेस्ट की भी ज़रूरत होती है, वरना शरीर थकजाएगा और आप ऊर्जा महसूस नहीं करेंगे.  बहुत ज़्यादा सप्लीमेंट्स खाना: कुछ लोगों की आदत होती है कि वो अपनी हेल्थ को लेकर ज़्यादा ही सोचते हैं और इसओवर कॉन्शियसनेस की वजह से खुद को फायदे की बजाय नुक़सान पहुंचा लेते हैं. बिना किसी सलाह के सिर्फ़ यहां-वहांसे पढ़कर या किसी की सलाह पर सप्लीमेंट्स खाना आपको गंभीर रोगों के ख़तरे तक पहुंचा सकता है. अगर आप फिट हैंऔर हेल्दी खाना खाते हैं तो सप्लीमेंट की ज़रूरत ही क्या है. इसी तरह से जो लोग बहुत ज़्यादा मल्टी विटामिंस लेते हैं उन्हेंकैंसर का ख़तरा अन्य लोगों की तुलना में अधिक होता है, क्योंकि इनके अधिक सेवन से कोशिकाओं का सामान्य निर्माणक्रम प्रभावित होकर रुक जाता है. अगर आप विटामिन सी अधिक मात्रा में लेते हैं, तो डायरिया का ख़तरा बढ़ जाता है, इसी तरह बहुत ज़्यादा विटामिन बी6 नर्व को डैमेज कर सकता है और अगर गर्भावस्था में विटामिन ए की अधिकता हो गईतो उससे बच्चे में कुछ बर्थ डिफ़ेक्ट्स हो सकते हैं. बेहतर होगा जो भी खाएं सीमित और संतुलित मात्रा में ही खाएं. पानी बहुत ज़्यादा पीना: पानी सबसे हेल्दी और सेफ माना जाता है, लेकिन अति किसी भी चीज़ की अच्छी नहीं होती. बहुतज़्यादा पानी पीने से रक्तप्रवाह में सोडियम को पतला कर देता है, जिससे मस्तिष्क की कार्य प्रणाली बिगड़ सकती है औरयहां तक कि व्यक्ति की मौत भी हो सकती है. इस अवस्था को हाईपोरिट्रेमिया कहते हैं जो उन लोगों में अधिक पाई जातीहै, जो खुद को बहुत ज़्यादा हाइड्रेट करते हैं, जैसे- एथलीट्स वग़ैरह. इसी तरह जिन लोगों को कुछ मेडिकल कंडिशन होतीहै उनको भी ज़्यादा पानी मना है, जैसे- कोरॉनरी हार्ट डिसीज़ वालों को अधिक पानी के सेवन से बचना चाहिए. दरअसलआपके शरीर को जब भी किसी चीज़ की ज़रूरत होती है, तो वो खुद ही आपको सिग्नल दे देता है, इसीलिए जब शरीर कोपानी की ज़रूरत होती है, तो आपको प्यास लगती है, लेकिन कुछ लोगों की आदत ही होती है कि वो बिना सोचे-समझेगिन-गिनकर नाप-तोलकर ज़बर्दस्ती पानी पीते रहते हैं ये सोचकर कि इससे उनका पाचन अच्छा होगा और स्किन भी ग्लोकरेगी.  शुगर की जगह आर्टिफ़िशियल स्वीटनर का ज़्यादा प्रयोग: माना शुगर कम करना हेल्दी हैबिट है, लेकिन इसकी जगह आर्टिफ़िशियल स्वीटनर का ही इस्तेमाल करना शुरू देना वज़न कम करने की बजाए बढ़ाता है. इसके अलावा शुगर काएकदम ही प्रयोग बंद करने से आपका शुगर लेवल कम होकर कमज़ोरी का एहसास कराएगा. ऊर्जा के लिए शुगर भी ज़रूरी है.  दांतों को बहुत ज़्यादा और देर तक ब्रश करना: कई लोगों की ये मान्यता है कि दांतों को जितना घिसेंगे, वो उतने हीचमकेंगे. लेकिन बहुत ज़्यादा देर तक ब्रश करने से आप दांतों के इनामल को नुक़सान पहुंचाते हैं और साथ ही मसूड़े भीडैमेज होते हैं इससे. बेहतर होगा सॉफ़्ट ब्रिसल्स वाला टूथ ब्रश यूज़ करें और बहुत ज़ोर लगाकर ब्रश न करें. हेल्दी फल व सब्ज़ियों का ज़्यादा सेवन: चाहे फल हों या सब्ज़ियां या कोई भी हेल्दी फूड उनका ज़रूरत से ज़्यादा सेवन भीख़तरनाक हो सकता है. हरी सब्ज़ियां जहां आपका पर अपसेट कर सकती हैं, वहीं गाजर से आपको ऑरेंज स्किन कीसमस्या हो सकती है. इसी तरह इन दिनों ऑलिव ऑइल भी बहुत पॉप्युलर है लेकिन इसके ज़्यादा प्रयोग से आप सिर्फ़अधिक कैलरीज़ और फ़ैट्स ही बढ़ाएंगे.  साबुन-पानी की बजाय बहुत ज़्यादा सैनिटायज़र का इस्तेमाल: माना आज COVID के चलते सैनिटायज़र बेहद ज़रूरीऔर मस्ट हैव प्रोडक्ट बन चुका है, लेकिन अगर आप घर पर हैं और साबुन से हाथ धोने का ऑप्शन है तो बेहतर होगा कि…

‘कुंडली भाग्य’ फेम एक्ट्रेस मानसी श्रीवास्तव और कपिल तेजवानी हुए एक-दूजे के, सामने आई शादी की तस्वीरें (‘Kundali Bhagya’ Fame Actress Mansi Srivastava Tied The Knot With Kapil Tejwani, See Photos)

टीवी के लोकप्रिय सीरियल 'इश्कबाज' और 'कुंडली भाग्य' एक्ट्रेस मानसी श्रीवास्तव अपने लॉन्ग टर्म बॉय फ्रेंड…

© Merisaheli