लघुकथा- विरासत… (Short Story- Virasat…)

क्या करें बेटी ये दौर ही कुछ ऐसा है कि बाहर दिखावे के लिए शिक्षा, आधुनिकता और समानता का चकाचौंध उजाला है, लेकिन अंदर तो…

क्या करें बेटी ये दौर ही कुछ ऐसा है कि बाहर दिखावे के लिए शिक्षा, आधुनिकता और समानता का चकाचौंध उजाला है, लेकिन अंदर तो आज भी वही आदिम अंधेरा छाया है. बेटे को कुछ कहने से पहले अपना बुढ़ापा दिखने लगता है. इसीलिए बेटे को विरासत में नाम, मकान, पहचान सब मिलता है, लेकिन बेटियों के हिस्से आज भी डर, असुरक्षा, अपराधबोध, कमज़ोर व्यक्तित्व आता है. पल-पल उनके स्वाभिमान को तोड़ा जाता है.” मां एक गहरी सांस लेकर बोली.

“इतनी रात तक कहां थी? कुछ घर की इज्ज़त की परवाह है कि नहीं. तुम्हें हज़ार बार कहा है ना कि अंधेरा होने से पहले घर लौट आया करो.” बेटी के घर में पैर रखते ही पिता कठोर स्वर में बोले.
“आशा के घर पर बैठकर प्रोजेक्ट पूरा कर रही थी पिताजी, कल जमा करना है कॉलेज में.” बेटी नम्रता से जवाब देकर अंदर मां के पास चली आई. तब भी पिता का बुरा-भला कहना रुका नहीं था.
“ये क्या है मां, भैया कितनी भी देर से आए उसे तो पिताजी कुछ नहीं कहते, और मुझसे ऐसे पूछताछ की जाती है जैसे कि मैं पढ़ाई करके नहीं, बल्कि कोई पाप करके आ रही हूं.” बेटी मां के पास आकर भुनभुनाई.


यह भी पढ़ें: 30 बातें जहां महिलाएं पुरुषों से बेहतर हैं (30 things women do better than men)

“मेरे हर कदम पर या तो सवाल उठते हैं या नसीहतें दी जाती हैं.”
“क्या करें बेटी ये दौर ही कुछ ऐसा है कि बाहर दिखावे के लिए शिक्षा, आधुनिकता और समानता का चकाचौंध उजाला है, लेकिन अंदर तो आज भी वही आदिम अंधेरा छाया है. बेटे को कुछ कहने से पहले अपना बुढ़ापा दिखने लगता है. इसीलिए बेटे को विरासत में नाम, मकान, पहचान सब मिलता है, लेकिन बेटियों के हिस्से आज भी डर, असुरक्षा, अपराधबोध, कमज़ोर व्यक्तित्व आता है. पल-पल उनके स्वाभिमान को तोड़ा जाता है.” मां एक गहरी सांस लेकर बोली.


“नहीं मां, मैं अपनी वसीयत ख़ुद अपने हाथ से लिखूंगी. अपने साहस और हिम्मत से और अपनी आनेवाली नस्लों को एक निर्भय और गौरवशाली जीवन की नींव सौंपूंगी विरासत में.” बेटी दृढ़ स्वर में बोली.
अतीत की औरत मुग्ध होकर देख रही थी, वर्तमान की स्त्री भविष्य की वसीयत में स्वाभिमान से भरपूर जीवन विरासत में लिखने के लिए आत्मविश्वास की सुनहरी कलम थाम चुकी है.

डॉ. विनीता राहुरीकर


यह भी पढ़ें: महिलाएं जानें अपने अधिकार (Every Woman Should Know These Rights)

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कौन थे विकी कौशल-कैटरीना कैफ के लव गुरू, कैसे शुरू हुई थी इनकी लवस्टोरी(Who was the Love Guru of Vicky Kaushal-Katrina Kaif? How Vicky-Katrina fell in love?)

विकी कौशल-कटरीना कैफ इन दिनों सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं. जहां देखो वहां दोनों…

© Merisaheli