Jyotish aur Dharm

शिवलिंग पर जल अर्पण क्यों करते हैं? (Why Is Water Offered On The Shivling?)

शास्त्रों में कहा गया है कि शिव कृपा पाने के लिए पूरे नियम से शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए, क्योंकि जल धारा भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है और नियम से इसे शिवलिंग पर चढ़ाने से भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. इससे जुड़ी तमाम जानकारियां दे रहे हैं ज्योतिष-वास्तु शास्त्री पंडित राजेंद्रजी.

किस दिशा की ओर चढ़ाएं जल
शिवलिंग पर जल उत्तर दिशा की ओर मुंह करके जल चढ़ाएं, क्योंकि उत्तर दिशा को शिवजी का बायां अंग माना जाता है, जो माता पार्वती को समर्पित है. इस दिशा की ओर मुंह करके जल अर्पित करने से भगवान शिव और माता पार्वती दोनों की कृपा दृष्टि प्राप्त होती है.

कौन से पात्र से अर्पित करें जल
शिवलिंग पर जल अर्पित करते समय सबसे ज़्यादा ध्यान में रखने वाली बात ये है कि आप किस पात्र से जल अर्पित करें. जल चढ़ाने के लिए सबसे अच्छे पात्र तांबे, चांदी और कांसे के माने जाते हैं. स्टील के पात्र से शिवलिंग पर जल नहीं चढ़ाना चाहिए. जल अर्पण के लिए सर्वोत्तम पात्र तांबे का है, इसलिए इसी पात्र से जल चढ़ाना उत्तम है.
लेकिन तांबे के पात्र से शिवजी को दूध न चढ़ाएं, क्योंकि तांबे में दूध विष के समान बन जाता है.

यह भी पढ़ें: श्रावण मास में ऐसे करें पूजा- शिवजी तुरंत होंगे राजी और बरसाएंगे असीम कृपा… (#Shravan2023 How To Worship Lord Shiva During Shravan Month?)

कभी भी शिवलिंग पर तेजी से जल नहीं चढ़ाना चाहिए
शास्त्रों में भी बताया गया है कि शिवजी को जल धारा अत्यंत प्रिय है, इसलिए जल चढ़ाते समय ध्यान रखें कि जल के पात्र से धार बनाते हुए धीरे से जल अर्पित करें. पतली जल धार शिवलिंग पर चढाने से भगवान शिव की विशेष कृपा दृष्टि प्राप्त होती है.

बैठकर चढ़ाएं जल
हमेशा शिवलिंग पर जल अर्पित करते समय ध्यान रखें कि बैठकर ही जल अर्पित करें. यहां तक कि रुद्राभिषेक करते समय भी खड़े नहीं होना चाहिए. खड़े होकर जल चढ़ाने पर शिवजी के ऊपर जल गिरने के बाद हमारे पैरों में उसके छींटें लगते हैं, जो सही नहीं है.

शंख से न चढ़ाएं शिवलिंग पर जल
कभी भी शिवलिंग पर शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए. शिवपुराण के अनुसार, शिवजी ने शंखचूड़ नाम के दैत्य का वध किया था. ऐसा माना जाता है कि शंख उसी दैत्य की हड्डियों से बने होते हैं, इसलिए शिवलिंग पर शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए.


जल के साथ कुछ और भी मिलाएं
कभी भी शिवलिंग पर जल चढ़ाते हुए जल के पात्र में कोई अन्य सामग्री मिलाएं. कोई भी सामग्री, जैसे- पुष्प, अक्षत या रोली जल में मिलाने से उनकी पवित्रता बढ़ जाती. इसलिए भगवान शिव की कृपा दृष्टि पाने के लिए हमेशा जल में कुछ मिलाकर ही चढ़ाना चाहिए. जल में कुछ बूंदें नमर्दा, गंगा आदि पवित्र नदियों की ज़रूर मिलानी चाहिए.

वस्तु अर्पित करने के बाद जल चढ़ाएं
आप यदि भगवान शिव को शहद, दूध, दही या किसी प्रकार का रस अर्पित करते हैं, तो वह जल में ना मिलाएं. कोई भी वस्तु भगवान को अलग से चढ़ाएं. फिर उसके बाद में जल अर्पित करें.
शिवलिंग पर केवल शुद्ध देसी भारतीय गाय का कच्चा दूध ही चढ़ाना चाहिए, अन्य प्रकार का दूध बिल्कुल भी ना चढ़ाएं.
सावन के पवित्र महीने में पूर्ण समर्पित भाव से भोलेनाथ की पूजा-उपासना करके आनंद प्राप्त करें. इस बार सावन दो महीने का रहेगा.


न पुण्यं न पापं न सौख्यं न दु:खं न मन्त्रो न तीर्थं न वेदो न यज्ञः।
अहं भोजनं नैव भोज्यं न भोक्ता चिदानन्द रूप: शिवोऽहं शिवोऽहम्।।


भगवान शिव अनादि और अनन्त हैं. सम्पूर्ण विश्व की अभिव्यक्ति हैं. इस विश्व का हर कण ही शिव है. एक से अनेक होकर एकमात्र शिव ही इस विश्वरूप में क्रीड़ा कर रहे हैं.
शास्त्रों के अनुसार शिव को महादेव इसलिए कहा गया है कि वे देवता, दैत्य, मनुष्य, नाग, किन्नर, गंधर्व, पशु-पक्षी व समस्त वनस्पति जगत के भी स्वामी हैं.

यह भी पढ़ें: श्रावण मास पर विशेष- रुद्राभिषेक में शिव निवास का विचार… (Shravan Special- Rudrabhishek Mein Shiv Niwas Ka Vichar…)

शिव का एक अर्थ ‘कल्याणकारी’ भी है. शिव की आराधना से सम्पूर्ण सृष्टि में अनुशासन, समन्वय और प्रेम भक्ति का संचार होने लगता है. शिव ही हैं, जिन पर ब्रह्माण्ड के नियम को पालन करवाने की ज़िम्मेदारी है, इसीलिए, स्तुति गान कहता है-
हे! देव, मैं आपकी अनन्त शक्ति को भला कैसे समझ सकता हूँ.? अतः, हे शिव! आप जिस रूप में भी हों, उसी रूप को आपको मेरा प्रणाम! हम जितना विनम्र होंगे, प्रभु उतना ही हममें प्रकट होंगे. जब भक्ति जगती है, तब औदार्य आता है. जो जितना उदार है, वो प्रभु के उतना ही निकट है.
भगवान शिव के नाम का उच्चारण करने से ही दुखों का निवारण हो जाता है. हमें भगवान शिव के प्रति अटूट आस्था और विश्वास रखना चाहिए.
देवों के देव भगवान शिव सृष्टि के प्रकट देव हैं, जो भक्तों की सूक्ष्म आराधना से श्रद्धा भाव से ही प्रसन्न हो जाते हैं. शिव का नाम लेते ही सभी दुखों का नाश होता है. ऐसे भूतभावन भगवान महादेव बाबा को समर्पित श्रावण माह आपके लिए अभीष्ट सिद्धि में सहायक हो.

Photo Courtesy: Freepik

यह भी पढ़ें: रुद्राभिषेक: रूद्र अर्थात भूत भावन शिव का अभिषेक (Rudrabhishek- Sawan 2023)


अभी सबस्क्राइब करें मेरी सहेली का एक साल का डिजिटल एडिशन सिर्फ़ ₹599 और पाएं ₹1000 का कलरएसेंस कॉस्मेटिक्स का गिफ्ट वाउचर
.

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

फायटरच्या स्क्रिनिंगला अवतरलं बॉलिवूडचं तारांगण, हृतिकच्या गर्लफ्रेंडसोबत Ex पत्नीही उपस्थित (SRK, Saba Azad, Sussanne, others Bollywood Celebs attend Hrithik Roshan’s ‘Fighter’ screening)

ग्रीक गॉड म्हणून ओळखला जाणारा बॉलिवूड अभिनेता हृतिक रोशन आणि दीपिका पादुकोणचा बहुप्रतिक्षित चित्रपट फायटर…

January 25, 2024

प्रीती झिंटाचं ६ वर्षांनंतर बॉलिवूडमध्ये पुनरागमन (Bollywood Actress Preity Zinta To Comeback With Sunny Deol In Lahore 1947)

बॉलिवूडमधील डिंपल गर्ल अन्‌ IPL मध्ये पंजाब किंग्ज संघाची मालकीण प्रिती झिंटा गेल्या अनेक वर्षांपासून…

January 25, 2024

कहानी- विश्‍वास की शाखाएं (Short Story- Vishwas Ki Shakhayen)

 कृति के आकर्षण की तीव्र आंधी प्रणव को तो बहा ही रही है, साथ ही…

January 25, 2024

परिणीती चोप्रा आपल्यातील गायनाची कला जोपासणार… (Parineeti Chopra Officially Starts Her Music Career)

परिणीती चोप्रा ही हिंदी चित्रपटसृष्टीतील लोकप्रिय अभिनेत्रींपैकी एक आहे. या अभिनेत्रीने चित्रपटांमधील तिच्या दमदार अभिनयासाठी…

January 25, 2024

तमन्ना भाटीयाने संपुर्ण कुटुंबासह घेतले गुवाहाटीच्या कामाख्या देवीचे दर्शन, भक्तीत मग्न झाली अभिनेत्री (Tamannaah Bhatia Seeks Blessings At Kamakhya Devi Temple With Family In Guwahati)

तमन्ना भाटिया केवळ साऊथची सुपरस्टार नाही तर बॉलिवूड आणि हिंदी सिनेमांमध्येही तिचे खूप मोठे चाहते…

January 25, 2024
© Merisaheli