अंजीर खाने के 11 बेहतरीन फ़ायदे (11 Amazing Benefits Of Eating Anjeer (Fig)

अंजीर स्वास्थ्यवर्धक बहुपयोगी फल है. इसमें आयरन, विटामिन, फाइबर, पोटैशियम, सोडियम, गंधक, फास्फोरस पाया जाता है. यह वज़न घटाने में भी मदद करता है. अंजीर में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है, जो हड्डियों को मज़बूत करने में सहायक होता है. गर्भवती महिलाओं में लौह की कमी को भी पूरा करता है अंजीर. हाइपरटेंशन के मरीज़ों के लिए अंजीर बहुत फ़ायदेमंद है क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में पोटैशियम व कम मात्रा में सोडियम होता है. इसके ये पोषक गुण इसको सर्वोत्तम बनाते हैं. अंजीर में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, जिससे कब्ज़ की समस्या दूर करने में मदद मिलती है. अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन के अनुसार, अंजीर डायबिटीज़ को भी कंट्रोल करता है. इसकी पत्तियों का सेवन शुगर के मरीज़ों की इन्सुलिन के इंजेक्शन पर निर्भरता को कम करता है. अंजीर खाने से डायरिया से भी बचा जा सकता है. यह पाचन शक्ति में सुधार कर पाचन से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है.

घरेलू नुस्ख़े

  • एक-दो पके हुए अंजीर दूध में उबालकर रात को सोने से पहले खाएं और ऊपर से दूध पी लें. इससे कब्ज़ में फ़ायदा होता है या फिर एक अंजीर को रात को सोते समय पानी में डालकर रख दें. सुबह इसे अच्‍छी तरह से चबाकर खाएं और इसका पानी पी लें. कुछ ही दिनों में कब्ज़ की समस्‍या हमेशा के लिए दूर हो जाएगी.
  • सिरदर्द की समस्या होने पर सिरके या पानी में अंजीर के पेड़ की छाल की भस्म बनाकर सिर पर लेप करने से आराम मिलता है.
  • सर्दी-ज़ुकाम होने पर पानी में पांच अंजीर उबाल लें और इस पानी को छानकर गर्म-गर्म सुबह-शाम पीएं. इससे ज़ुकाम में लाभ होता है.
  • कमरदर्द में भी अंजीर का उपयोग लाभदायक होता है. अंजीर की छाल, धनिया और सोंठ बराबर मात्रा में लेकर कूटकर रात को पानी में भिगो दें. सुबह इसके बचे रस को छानकर पिला दें. इससे कमरदर्द में आराम मिलता है.
  • गले की सूजन व जलन होने पर अंजीर के पेस्ट को गर्म पानी के साथ घोलकर गले पर लगाएं. यह दर्द को कम करने के साथ गले को राहत देता है.


यह भी पढ़ें: गजक खाने के 11 बेहतरीन फ़ायदे… (11 Health Benefits Of Eating Gajak)

  • रक्त संबंधी विकार और वृद्धि के लिए पाव लीटर दूध में आठ अंजीर व दस मुनक्के उबालकर खाएं और दूध को पी लें. इससे रक्त में वृद्धि होने के साथ रक्त संबंधी विकार भी दूर होते हैं. दो अंजीर को बीच से आधा काटकर एक ग्लास पानी में रातभर भिगोकर रख दें. सुबह अंजीर खा लें व उसका पानी पी लें. इससे रक्तसंचार बढ़ता है.
  • यदि बवासीर की समस्या हो, तो 3-4 सूखे अंजीर को शाम के समय पानी में भिगोकर रख दें. सुबह अंजीर को मसलकर खाली पेट खा लें. ऐसे कई दिनों तक हर रोज़ करने से बवासीर की तकलीफ़ दूर हो जाएगी.
  • यौन शक्ति बढ़ाने के लिए 2-3 अंजीर रातभर दूध में भिगो दें और सुबह खा लें.
  • अस्थमा के मरीज़ों के लिए अंजीर काफ़ी फ़ायदेमंद है. 2-3 सूखे अंजीर सुबह-शाम दूध में उबालकर खाएं.
  • सूखे अंजीर के टुकड़े और छिले हुए बादाम को गर्म पानी में उबालें. इसे सुखाकर इसमें दानेदार शक्कर, पिसी इलायची, केसर, चिरौंजी, पिस्ता और बादाम बराबर मात्रा में मिलाकर सात दिन तक गाय के घी में डालकर रखे. रोज़ सुबह 20 ग्राम तक सेवन करें. इससे शरीर में ताक़त बढ़ती है.
  • दो अंजीर को रातभर पानी में भिगोकर सुबह खाने से और ऊपर से उसी पानी को पीने से पेट साफ़ होता है.

सुपर टिप
नियमित रूप से अंजीर का सेवन करने पर कोलन कैंसर का ख़तरा कम हो जाता है.

रिसर्च
अध्ययनों के अनुसार, हर रोज़ अंजीर का सेवन ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है. अंजीर में ओमेगा-3 और ओमेगा-6 होते हैं, जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में सहायता करते हैं.

सावधानी
इस बात का भी ध्यान रखें कि अंजीर के अधिक सेवन से वज़न बढ़ भी सकता है, ख़ासकर यदि इसे दूध के साथ लेते हैं.


यह भी पढ़ें: हरी मटर के हेल्थ एंड ब्यूटी बेनीफिट्स (Health And Beauty Benefits Of Green Peas)

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

गोड बातमीची घाई असलेल्यांसाठी, एक नवा, धमाल चित्रपट “एक दोन तीन चार” ( New Marathi Movie Ek Don Tin Char Comming Soon)

आजच्या काळातील आजच्या जोडप्यांची कथा आणि व्यथा असलेला "एक दोन तीन चार" या चित्रपटाचा अफलातून…

July 12, 2024

नाचू कीर्तनाचे रंगी’- पंढरपूर वारीच्या निमित्ताने इंदोरीकर महाराजांचा विशेष कीर्तन महोत्सव !(Indurikar Maharaj Specical Profram For Ashadhi Ekadashi)

मराठी संस्कृतीत कीर्तन परंपरेला अनन्यसाधारण महत्त्व आहे. कीर्तनाच्या माध्यमातून संतांच्या शिकवणींचा प्रसार केला जातो आणि…

July 12, 2024

कहानी- मन्नतों का घर… (Short Story- Mannaton Ka Ghar…)

"मैं तो पहले ही तुम्हारा हूं मांगने की क्या ज़रूरत थी." लड़के ने मीठी सी…

July 12, 2024
© Merisaheli