Categories: ParentingOthers

पैरेंट्स भी करते हैं ग़लतियां (5 Common Mistakes All Parents Make)

बच्चे तो ग़लतियां करते ही हैं, लेकिन कई बार पैरेंट्स भी ऐसी कुछ आम ग़लतियां कर बैठते हैं, जो उन्हें नहीं करनी चाहिए. आइए, इसी…

बच्चे तो ग़लतियां करते ही हैं, लेकिन कई बार पैरेंट्स भी ऐसी कुछ आम ग़लतियां कर बैठते हैं, जो उन्हें नहीं करनी चाहिए. आइए, इसी के बारे में संक्षेप में जानते हैं.

बच्चों को बिगाड़ना

सभी पैरेंट्स अपने बच्चों को बहुत लाड़-प्यार से पालते हैं, लेकिन कुछ बच्चे उनके इसी लाड़-प्यार का नाजायज़ फ़ायदा उठाते हैं, जब उन्हें इस बात का पता चलता है कि उनके घर में दूसरा नन्हा मेहमान आनेवाला है, तो वे अपने को असुरक्षित महसूस करने लगते हैं. धीरे-धीरे असुरक्षा की यह भावना उनके मन में घर करने लगती है, जो आगे चलकर ईर्ष्या में बदल जाती है. कई बार बच्चे अवसाद में भी चले जाते हैं और दूसरे बच्चे के सामने उन्हें अपना अस्तित्व ख़तरे में लगने लगता है.

बच्चों को ज़रूरत से ज़्यादा सुरक्षा देना

जब पैरेंट्स बच्चों को ज़रूरत से ज़्यादा सुरक्षा प्रदान करते हैं, तो उनका आत्मविश्‍वास कमज़ोर पड़ने लगता है. जब उनके सामने आत्मविश्‍वास से भरपूर बच्चे आते हैं, तो उनमें ईर्ष्या या हीनभावना पनपने लगती है.

अन्य बच्चों के साथ तुलना करना

प्रतिस्पर्धा के दौर में अधिकतर पैरेंट्स अपने बच्चों की तुलना अन्य बच्चों से करते हैं, जिसका ख़ामियाज़ा बच्चों को भुगतना पड़ता है, परिणामस्वरूप उनमेंईर्ष्या और प्रतिस्पर्धा की भावना बढ़ने लगती है और उनका आत्मविश्‍वास कम होने लगता है.

यह भी पढ़ेख़तरनाक हो सकती है बच्चों में ईर्ष्या की भावना (Jealousy In Children Can Be Dangerous)

ब़ड़े की उपेक्षा कर छोटे बच्चे पर अधिक ध्यान देना

अधिकतर पैरेंट्स को इस स्थिति का सामना करना पड़ता है. पहला बच्चा जब बड़ा हो जाता है, तो छोटा होने के कारण दूसरे बच्चे की तरफ़ पैरेंट्स का अधिक ध्यान देना स्वाभाविक है, जिसके कारण पहले बच्चे में जलन की भावना बढ़ने लगती है.

ओवर कंट्रोल करना

बच्चों को अनुशासित रखने के लिए कुछ पैरेंट्स उन पर ज़रूरत से ज़्यादा नियंत्रण और सख्ती करते हैं. उनकी इस ग़लती के कारण बच्चों में ईर्ष्या पैदा होने लगती है. बिना बताए उनके साथ सख्ती करना या उन्हें नियंत्रण में रखने के लिए ज़बर्दस्ती नियम-क़ानून थोपने से बच्चों में आत्मविश्‍वास की कमी होने लगती है और वह ख़ुद को अपने भाई-बहन और दोस्तों से कमतर आंकने लगते हैं.

माता-पिता से बच्चों के अच्छे संबंध बच्चे के खाने, सोने और उसके दैनिक गतिविधि को प्रेरित करने के लिए ज़रूरी हो सकते हैं, इसलिए अपने बच्चे के साथ हमेशा बढ़िया संबंध बनाकर रखें.

   – पूनम शर्मा

अधिक पैरेंटिंग टिप्स के लिए यहां क्लिक करेंः Parenting Guide

Recent Posts

बॉलीवुड के इन एक्टर्स की दीवानी हैं अनन्या पांडे (Ananya Pandey Is Crazy About These Bollywood Actors)

अनन्या पांडे बॉलीवुड की उभरती ऐक्ट्रेस में से एक हैं. कुछ ही साल पहले शुरू…

© Merisaheli