Categories: FinanceOthers

जानें बड़ी बचत करने के 9 आसान तरीक़े (9 Easy Ways To Do Big Savings)

पिछले एक साल से कोरोना वायरस के चलते देश की आर्थिक स्थिति बुरी तरह से लड़खड़ा गई है. आर्थिक मंदी के इस दौर ने हमें…

पिछले एक साल से कोरोना वायरस के चलते देश की आर्थिक स्थिति बुरी तरह से लड़खड़ा गई है. आर्थिक मंदी के इस दौर ने हमें यह समझाया है कि भविष्य में संकट ऐसी घड़ी से निबटने के लिए जरुरी है कि हम अपने खर्च को काबू में रखने के साथ बचत को बढ़ाएं. यहाँ पर बताए गए कुछ तरीकों को अपनाकर आप अपने खर्चों में कमी लाकर बचत को बढ़ा  सकते हैं.

1.  लिस्ट बनाकर ही शॉपिंग करें

Photo Credit: freepik.com

अपनी जरूरतों के सामान की लिस्ट बनाकर शॉपिंग करेंगे तो कभी परेशान नहीं रहेंगे और फ़िज़ूलख़र्च से भी बचेंगे. वैसे भी आजकल लोग मार्किट जाकर शॉपिंग करने की बजाय ऑनलाइन शॉपिंग का मज़ा लेते हैं और बिना जरुरत का बहुत सारा अनावश्यक सामन खरीद लेते हैं. लिस्ट बनाकर शॉपिंग करने से आप उतना ही ख़रीदेंगे, जितनी आपको आवश्यकता होगी. इस तरह से अनावश्यक खर्चों पर नियंत्रण करके आप धीरे-धीरे बचत करना सीख जाएंगे जब बड़ी रकम जमा हो जाए, तो उस राशि को कहीं निवेश क्र सकते हैं.

2.  टेलीकॉम बिल पर कंट्रोल करें

Photo Credit: freepik.com

पिछले कुछ समय से वर्क फ्रॉम के चलते बिजली, टेलीफोन, मोबाइल, कंप्यूटर और इंटरनेट के खर्चों में काफी वृद्धि हुई है. इन बिलों में वृद्धि का एक और कारण यह भी है कि मार्केट में टेलीकॉम कंपनियां की भरमार हैं, जो अपने उपभोक्ताओं को ऐसे प्लान्स मुहैया कराती हैं, जिनसे प्रभावित होकर उपभोक्ता सस्ते और अधिक-से-अधिक प्लान्स लें. अगर आपके टेलीकॉम बिलों में महीना-दर-महीना इज़ाफ़ा हो रहा है, तो जरुरत है इन बिलों को कम करने और अनावश्यक प्लान्स को बंद करने की. बेकार के प्लान्स को बंद करके या महंगे प्लान्स बदलकर सस्ते प्लान लेकर आप इन टेलीकॉम बिलों को नियंत्रित कर सकते हैं और बचत को बढ़ावा दे सकते हैं

3.  ब्रांडेड प्रोडक्ट्स का मोह छोड़ें 

बदलते लाइफस्टाइल, फैशन, स्टाइल और ट्रेंड्स के चलते हमारा मोह ब्रांडेड प्रोडक्ट्स के प्रति बढ़ता जा रहा है. बेशक ब्रांडेड प्रोडक्ट्स की क्वालिटी अच्छी होती है, लेकिन उनकी कीमत भी अधिक होती है. एक्सपर्ट्स के अनुसार, ‘उपभोक्ता ब्रांडेड प्रोडक्ट्स को बिना यह सोचे समझे ऑनलाइन ख़रीद लेते हैं कि उस पर क्या एक्स्ट्रा बेनिफिट्स या छूट या ऑफर मिल रहे हैं. ब्रांडेड प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन खरीदते समय उपभोक्ता को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यह ब्रांडेड सामान की ऑनलाइन शॉपिंग तभी करें, जब पर कुछ अतिरिक्त छूट मिले. आजकल अधिकतर ऑनलाइन साइट्स अपने सामान को बेचने के लिए कम कीमत पर अपने इनहाउस ब्रांड बेचते हैं. इन इनहाउस ब्रांड्स को जेनेरिक प्रोडक्ट्स भी कहते हैं. ‘उपभोक्ता की जानकारी के लिए बता दें. ब्रांडेड प्रोडक्ट्स की बजाय ये इनहाउस ब्रांड ज़्यादा अच्छी क्वालिटी के होते हैं और इनकी कीमत भी ब्रांडेड की तुलना में कम होती हैं.’

4.  करें क्रेडिट कार्ड का सही उपयोग

Photo Credit: freepik.com

अक्सर लोगों के मन में यह धारणा होती है कि क्रेडिट कार्ड फ़िज़ूलखर्च बढ़ाते हैं. की जानकारी के लिए बता दें कि फ़िज़ूलखर्च बढ़ानेवाला यही क्रेडिट कार्ड बैंक द्वारा दी जानी वाली सुविधा है, जिसका इस्तेमाल उपभोक्ता पहले खर्च करने और बाद में उस खर्च को चुकाने के लिए करता है. उपभोक्ता क्रेडिट कार्ड का यूज़ ऑनलाइन या ऑफलाइन पेमेंट कर सकता है. लेकिन अगर उपभोक्ता क्रेडिट कार्ड का भुगतान समय पर नहीं करता है, तो उपभोक्ता को उसका जुर्माने के तौर पर शुल्क चुकाना होता है. इसलिए उपभोक्ता को  कोशिश करनी चाहिए कि हर महीने के अंत में अपने बिल की न्यूनतम रकम जरूर चुकाए. समय पर क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान करने पर कोई जुर्माना अदा नहीं करना पड़ता है और उपभोक्ता का क्रेडिट स्कोर भी अच्छा होता है. यदि उपभोक्ता समय पर बिल का भुगतान नहीं करता है, तो बैंक उस रकम पर ब्याज़ भी चार्ज करता है और उपभोक्ता के बिल के साथ-साथ ब्याज की रकम अदा करनी होती है. अगर उपभोक्ता बिल और ब्याज दोनों का ही भुगतान नहीं करता है, तो उस पर लेट पेमेंट लगता है. दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि कुछ शॉप्स एक तय रकम पर शॉपिंग करने के बाद रिवॉर्ड पॉइंट्स का ऑफर देते हैं. इन रिवॉर्ड पॉइंट्स को प्राप्त करने के लिए बिना वजह की शॉपिंग न करें और क्रेडिट कार्ड का बिल न बढ़ाएं.  

5.  सुरक्षित म्यूचुअल फंड में निवेश करें

Photo Credit: freepik.com

मार्केट एक्सपर्ट्स के अनुसार, ज़्यादातर लोग म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट नहीं करते है. क्योंकि उनको लगता है कि म्यूचुअल फंड में निवेश करना जोखिम भरा होता है. जबकि हमेशा नहीं होता. म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना आपके भविष्य के लिए सुरक्षित हो सकता हैं. अगर आपको मार्केट के बारे में पूरी जानकारी  नहीं है. मार्केट से म्यूचुअल फंड के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करके म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं. चाहें तो प्रोफेशनल की सलाह भी ले सकते हैं.

6.  लोन का रीपेमेंट करें और पाएं ब्याज से आज़ादी

जरुरत पड़ने पर बैंक होम लोन, कार लोन, एजुकेशन लोन और पर्सनल लोन की सुविधा तो देते हैं, लेकिन ईएमआई के साथ ब्याज का एक अतिरिक्त खर्च ओर बढ़ जाता है. ब्याज़ के इन अनचाहे खर्च को कम करने के लिए आपका पहला कदम ये चाहिए कि एक-एक करके सभी लोन का समय-सीमा से पहले भुगतान करें, ताकि लोन और ब्याज़ दोनों से राहत मिल सके.

7.  इंश्योरेंस पोर्टफोलियो को ठीक करें
समय के साथ-साथ मार्किट में नई-नई इंश्योरेंस आती रहती हैं. लेकिन अब समय आ गया है कि आप अपने सालों पुराने और महंगे यूलिप प्लान को प्योर टर्म प्लान में शिफ्ट करें, जिसमें ज्यादा लाभ की गुंजाईश हो.

8.  बजट फ्रेंडली घर लें

Photo Credit: freepik.com

आजकल लोग ज़्यादा ट्रैवेलिंग बचना चाहते हैं, इसलिए ऑफिस के आसपास ही महंगा घर किराए पर ले लेते हैं. बेशक उनका ट्रैवेल एक्सपेंस और समय तो बच जाता है, लेकिन ज़्यादा किराया भो तो देना पड़ता हैं. इस बढ़े हुए किराए के खर्च को कम करने के लिए ऐसी जगह पर घर लें, जहां सभी सुख सुविधाओं के साथ किराया भी थोड़ा कम हो और ट्रैवेलिंग भी आसानी से की जा सके.

9.  ऑफर्स के लालच में न पड़ें

अमूमन सभी कंपनियां उपभोक्ता को अपना सामान बेचने के लिए के अनेक तरह के ऑफर देती हैं, जैसे कि तीन आइटम खरीदने पर एक मुफ्त. इन तरह के ऑफर्स पर पैसे खर्चा न करें. देखने में भले ही यह ऑफर आकर्षक लगते हैं, पर पेमेंट चार की ही पड़ती है. ये कंपनियों की ट्रिक्स होती हैं उपभक्ताओं को अपना प्रोडक्ट बेचने की.

  – पूनम कोठरी     

और भी पढ़ें: कैसे उठाएं बचत खाते का लाभ? (Benefits Of Savings Bank Account)                              

 

 

Recent Posts

अजवाइन का पानी वज़न घटाने के साथ शरीर को रखता है फिट और हेल्दी (Ajwain Water For Weight Loss And Other Health Benefits)

महिलाएं अजवाइन का उपयोग रसोई के मसाले के रूप में करती हैं. अजवाइन भोजन को…

पहला अफेयर: अलविदा! (Pahla Affair… Love Story: Alvida)

क्या अब भी कोई उम्मीद बाक़ी है तुम्हारे आने की? क्या अब भी कोई हल्की सी गुंजाइश बची है हमारी मोहब्बत की? क्योंआज भी हर आहट पर धड़क उठता है मेरा दिल, क्यों आज भी रह-रहकर ये महसूस होता है कि तुम हो, कहीं आसपास हीहो… लेकिन बस निगाहों से न जाने क्यों ओझल हो!  सात बरस गुज़र गए जय तुमको मेरी ज़िंदगी से गए हुए लेकिन मैं आज भी, अब भी उसी मोड़ पर रुकी तुम्हारा इंतज़ार कररही हूं… एक छोटी-सी बात पर यूं तनहा छोड़ गए तुम मुझे! मैं तो अपने घर भी वापस नहीं जा सकती क्योंकि सबसेबग़ावत करके तुम्हारे संग भागकर शादी जो कर ली थी मैंने. शुरुआती दिन बेहद हसीन थे, हां, घरवालों की कमी ज़रूरखलती थी पर तुम्हारे प्यार के सब कुछ भुला बैठी थी मैं. लेकिन फिर धीरे-धीरे एहसास हुआ कि तुम्हारी और मेरी सोच तोकाफ़ी अलग है. तुमको मेरा करियर बनाना, काम करना पसंद नहीं था, जबकि मैं कुछ करना चाहती थी ज़िंदगी में.  बस इसी बात को लेकर अक्सर बहस होने लगी थी हम दोनों में और धीरे-धीरे हमारी राहें भी जुदा होने लगीं. एक दिनसुबह उठी तो तुम्हारा एक छोटा-सा नोट सिरहाने रखा मिला, जिसमें लिखा था- जा रहा हूं, अलविदा!… और तुम वाक़ई जा चुके थे…  मन अतीत के गलियारों में भटक ही रहा था कि डोरबेल की आवाज़ से मैं वर्तमान में लौटी!  “निशा, ऑफ़िस नहीं चलना क्या? आज डिपार्टमेंट के नए हेड आनेवाले हैं…” “हां रेखा, बस मैं तैयार होकर अभी आई…” ऑफिस पहुंचे तो नए हेड के साथ मीटिंग शुरू हो चुकी थी… मैं देखकर स्तब्ध थी- जय माथुर! ये तुम थे. अब समझ मेंआया कि जब हमें बताया गया था कि मिस्टर जे माथुर नए हेड के तौर पर जॉइन होंगे, तो वो तुम ही थे. ज़रा भी नहीं बदले थे तुम, व्यक्तित्व और चेहरे पर वही ग़ुरूर!  दो-तीन दिन यूं ही नज़रें चुराते रहे हम दोनों एक-दूसरे से, फिर एक दिन तुम्हारे कैबिन में जब मैं अकेली थी तब एक हल्कीसे आवाज़ सुनाई पड़ी- “आई एम सॉरी निशा!” मैंने अनसुना करना चाहा पर तुमने आगे बढ़कर मेरा हाथ पकड़ लिया- “मैं जानता हूं, ज़िंदगी में तुम्हारा साथ छोड़कर मैंनेबहुत बड़ा अपराध किया. मैं अपनी सोच नहीं बदल सका, लेकिन जब तुमसे दूर जाकर दुनिया को देखा-परखा तो समझआया कि मैं कितना ग़लत था, लड़कियों को भी आगे बढ़ने का पूरा हक़ है, घर-गृहस्थी से अलग अपनी पहचान औरअस्तित्व बनाने की छूट है. प्लीज़, मुझे माफ़ कर दो और लौट आओ मेरी ज़िंदगी में!” “क्या कहा जय? लौट आओ? सात साल पहले एक दिन यूं ही अचानक छोटी-सी बात पर मुझे यूं अकेला छोड़ तुम चलेगए थे और अब मुझे कह रहे हो लौटने के लिए? जय मैं आज भी तुम्हारी चाहत की गिरफ़्त से खुद को पूरी तरह मुक्त तोनहीं कर पाई हूं, लेकिन एक बात ज़रूर कहना चाहूंगी कि तुमने मुझसे अलग रहकर जो भी परखा दुनिया को उसमें तुमने येभी तो जाना ही होगा कि बात जब स्वाभिमान की आती है तो एक औरत उसके लिए सब कुछ क़ुर्बान कर सकती है. तुमनेमेरे स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई और अपनी सुविधा के हिसाब से मेरी ज़िंदगी से चले गए वो भी बिना कुछ कहे-सुने… औरआज भी तुम अपनी सुविधा के हिसाब से मुझे अपनी ज़िंदगी में चाहते हो!  मैं ज़्यादा कुछ तो नहीं कहूंगी, क्योंकि तुमने भी जाते वक़्त सिर्फ़ अलविदा कहा था… तो मैं भी इतना ही कहूंगी- सॉरीबॉस!”…

© Merisaheli