Categories: Travel and Tourism

Happy Travelling: यात्रा के दौरान कब्ज़ से बचने के सुपर इफेक्टिव ट्रिक्स (Avoid Digestive Problems While Traveling)

क्या आपको ट्रैवलिंग के दौरान कब्ज़ की समस्या होती  है? घबराइए नहीं, आप अकेले नहीं हैं, जिसे इस परेशानी का सामना करना पड़ता है. वेकेशन…

क्या आपको ट्रैवलिंग के दौरान कब्ज़ की समस्या होती  है? घबराइए नहीं, आप अकेले नहीं हैं, जिसे इस परेशानी का सामना करना पड़ता है. वेकेशन कॉन्सटिपेशन एक बेहद आम समस्या है. नई जगह, नए वातावरण, नए रूटीन का हमारे पाचन तंत्र पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिससे पेट फूलने व कब्ज़ जैसी समस्याएं होती हैं. जानिए इस समस्या से बचने के कारगर तरीक़े.

एप्पल साइडर विनेगर पीएं
यात्रा के दौरान कब्ज़ से बचने के लिए आधे ग्लास पानी में 1 टेबलस्पून एप्पल साइडर विनेगर मिलाकर खाने से पहले पीएं. इससे काफ़ी फ़ायदा होगा. यह पेट में गैस्ट्रिक जूस के प्रोडक्शन को सक्रिय करता है, जो कि पेट में मौजूद खाने को ब्रेक करने के लिए ज़रूरी है. इससे खाना पचने में आसानी होती है और पेट फूलने व कब्ज़ जैसी परेशानियां नहीं होती हैं. कभी-कभार खाना पचाने के लिए डायजेस्टिव कैप्सूल्स का सेवन भी किया जा सकता है, ख़ासतौर पर यदि आप वेकेशन के दौरान कुछ नया फूड आयटम ट्राई कर रहे हों. खाने से पहले एक कैप्सूल लेने से पेट संबंधी समस्याएं नहीं होगीं.

ये भी पढ़ेंः 7 शानदार रेस्टोरेंट्स, जिनके मालिक हैं बॉलीवुड स्टार्स

अदरक की चाय का सेवन करें
एयर ट्रैवल या ट्रेन से यात्रा करते समय अदरक की बिना दूध वाली चाय पीएं. बाज़ार में जिंजर टी बैग्स आसानी से मिल जाते हैं. आप इन्हें साथ में कैरी करें और जितना हो सके इनका सेवन करें. अदरक शरीर से सुस्ती को ख़त्म करता है, रक्त संचार को बढ़ाता है, शरीर को हाइड्रेट रखता है और पैर के सूजन को भी कम करता है. इसके अलावा यदि आप एकदम नई जगह में जा रहे हैं तो कुछ दिन बॉडी को एडजस्ट करने के लिए ख़ूब सारी सब्ज़ियां और फल का सेवन करें. जब भी आपको थोड़ा रिलैक्स होने का टाइम मिले. पीठ के बल लेट जाएं और घुटनों को पेट के पास ले आकर दोनों हाथों से (हग करें) दबाएं. पेट को दबाने से आंत सक्रिय होती है. जिससे मोशन आसानी से पास होता है.
 मैग्निशियम सिट्रेट की टैब्लेट लें
यात्रा के दौरान पेट की परेशानी से बचने के लिए मैग्निशियम सिट्रेट कैरी करें. यह पाउडर और टेब्लेट दोनों रूपों में उपलब्ध है. यह तुरंत असर दिखाता है. मैग्मिशियम सेंट्रल नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करता है, जिससे मसल्स भी रिलैक्स होते हैं और पाचन तंत्र भी सुचारू रहता है. इसका सेवन करने से पेट फूलने की समस्या नहीं होती.
 मालिश करें
यात्रा के दौरान स्पा या मसाज सेंटर जाकर बॉडी की मालिश कराना तो मुमकिन नहीं होता. ऐसे में ख़ुद से मालिश करके आप इसका अधिकतम फ़ायदा उठा सकते हैं. रीठ की हड्डी के ठीक नीचे एक्युप्रेशर प्वॉइंट होता है. जहां मसाज करने से कब्ज़ की समस्या नहीं होती. इसके लिए मोज़े में दो टेनिस बॉल्स डालकर बांध दें. ध्यान रहें बॉल्स एकदम सटे होने चाहिए. बॉल को रीढ़ की हड्डी के ऊपर रखकर लंबी सांसें लेते हुए धीरे-धीरे घुमाएं. कब्ज़ के लिए दूसरा एक्युपंचर प्वॉइंट नाभि के तीन उंगली नीचे होता है. नाभि के नीचे तीन उंगली की जगह छोड़कर उंगली की मदद से पेट को दबाएं और 30 सेकेंड तक होल्ड करें. बहुत जोर से प्रेशर न डालें. इससे कब्ज़, गैस के साथ-साथ पेट दर्द से भी आराम मिलता है. 

वात को नियंत्रित रखें
आर्युवेद में वात दोष को बहुत बड़ा दोष माना जाता है. शरीर में जब वात बढ़ जाता है तो बहुत तरह की परेशानियां होती है. यात्रा के दौरान वात संबंधी समस्या बढ़ने की आशंका ज़्यादा होती है. ट्रेन इत्यादि में सफर के दौरान अक्सर हम बोरियत मिटाने के लिए मुंह चलाते रहते हैं. इसका पेट पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इससे बचने के लिए थोड़ा कम खाएं. पेट को ठीक रखने के लिए हींगवास्तक चूर्ण का सेवन कर सकते हैं. इसमें हींग, अदरक, अजमोद और काली मिर्च का मिश्रण होता है, जो हमारे पाचन तंत्र को सुचारू रखता है. इसके लिए आधा टीस्पून चूर्ण को पानी में मिलाकर पी जाएं. आपका पेट बिल्कुल अच्छा रहेगा.  
 पैक्ड फूड खाने से बचें
प्लेन और ट्रेन में मिलनेवाले पैक्ड फूड का सेवन करने से कब्ज़ होने की आशंका होती है. अतः जितना मुमकिन हो, इससे बचने की कोशिश करें. घर से हल्का-फुल्का फूड आयटम्स कैरी करने की कोशिश करें. यदि ऐसा मुमक़िन नहीं हो तो बेहतर होगा कि आप ट्रैवलिंग करते समय लिक्विड व फ्रूट्स पर ज़्यादा से ज़्यादा सेवन करें. बहुत हैवी खाने से बचें. रूटीन गड़बड़ होने पर भी पेट संबंधी समस्याएं होती हैं. इससे बचने के लिए हो सके तो अपने नियमित समय पर ही खाने की कोशिश करें. खाना स्किप करने की ग़लती न करें.
चाय-कॉफी का सेवन कम से कम करें
हम यह नहीं कह रहे हैं कि चाय-कॉफी एकदम छोड़ दें. लेकिन वेकेशन मज़े लेने के लिए होता है. ऐसे में बीमार होकर होटल में रूकने से बेहतर है कि अपनी आदतों पर थोड़ा कंट्रोल करके छुट्टियों का आनंद उठाया जाए. इसके लिए चाय-कॉफी का सेवन घटाकर पानी पीने की मात्रा बढ़ा दें.
प्रोबायोटिक लें
हमारे मल में बैक्टीरिया होते हैं, जो पानी का रिटेन करते हैं जिससे मल मुलायम होता है. अगर आप कब्ज़ की समस्या हो रही है तो प्रोबायोटिक या प्रोबायोटिक युक्त फूड्स इत्यादि का सेवन करें. ट्रिप पर निकलने से पहले और ट्रिप के दौरान प्रोबायोटिक का सेवन करने से आपको पेट संबंधी समस्या नहीं होगी.

ये भी पढ़ेंः 12 स्मार्ट पैकिंग ट्रिक्स

Recent Posts

क्या बढ़ते प्रदूषण का स्तर मांओं के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है? (Are Rising Pollution Levels Affecting The Health Of Mothers?)

दिल्ली का वायु प्रदूषण मुख्य रूप से पूरी सर्दियों में एक गंभीर समस्या बना रहता…

कहानी- जहां चाह वहां राह (Short Story- Jahan Chah Wahaa Raah)

"ऐसे टीम नहीं बनेगी. टीम मेरे हिसाब से बनेगी." सभी बच्चों को एक लाइन में…

डेली ब्यूटी डोज़: अब हर दिन लगें खूबसूरत (Daily Beauty Dose: Easy Tips To Look Chic And Beautiful Everyday)

खूबसूरत तो हम सभी दिखना चाहते हैं और जब भी कोई त्योहार या बड़ा मौक़ा आता है तो हम कोशिश करते हैं कि अपनी ब्यूटी काख़ास ख़याल रखें. शादी के मौक़े पर भी हम अलग ही तैयारी करते हैं, लेकिन सवाल ये है कि सिर्फ़ विशेष मौक़ों पर ही क्यों, हर दिनखूबसूरत क्यों न लगें? है न ग्रेट आइडिया?  यहां हम आपको बताएंगे डेली ब्यूटी डोज़ के बारे में जो आपको बनाएंगे हर दिन ब्यूटीफुल… स्किन को और खुद को करें पैम्पर फेशियल, स्किन केयर और हेयर केयर रूटीन डेवलप करें, जिसमें सीटीएम आता है- क्लेंज़िंग, टोनिंग और मॉइश्चराइज़िंग.स्किन को नियमित रूप से क्लींज़ करें. नेचुरल क्लेंज़र यूज़ करें. बेहतर होगा कि कच्चे दूध में थोड़ा-सा नमक डालकर कॉटनबॉल से फेस और नेक क्लीन करें.नहाने के पानी में थोड़ा दूध या गुलाब जल मिला सकती हैं या आधा नींबू कट करके डालें. ध्यान रहे नहाने का पानी बहुत ज़्यादा गर्म न हो, वरना स्किन ड्राई लगेगी. नहाने के लिए साबुन की बजाय बेसन, दही और हल्दी का पेस्ट यूज़ कर सकती हैं. नहाने के फ़ौरन बाद जब स्किन हल्की गीली हो तो मॉइश्चराइज़र अप्लाई करें.इससे नमी लॉक हो जाएगी. हफ़्ते में एक बार नियमित रूप से स्किन को एक्सफोलिएट करें, ताकि डेड स्किन निकल जाए. इसी तरह महीने में एक बार स्पा या फेशियल कराएं.सन स्क्रीन ज़रूर अप्लाई करें चाहे मौसम जो भी हो. इन सबके बीच आपको अपनी स्किन टाइप भी पता होनी चाहिए. अगर आपकी स्किन बेहद ड्राई है तो आप ऑयल या हेवी क्रीमबेस्ड लोशन या क्रीम्स यूज़ करें.अगर आपको एक्ने या पिम्पल की समस्या है तो आप हायलूरोनिक एसिड युक्त सिरम्स यूज़ करें. इसी तरह बॉडी स्किन  की भी केयर करें. फटी एड़ियां, कोहनी और घुटनों की रफ़, ड्राई व ब्लैक स्किन और फटे होंठों को ट्रीट करें. पेट्रोलियम जेली अप्लाई करें. नींबू को रगड़ें, लिप्स को भी स्क्रब करें और मलाई, देसी घी या लिप बाम लगाएं. खाने के सोड़ा में थोड़ा पानी मिक्स करके घुटनों व कोहनियों को स्क्रब करें. आप घुटने व कोहनियों पर सोने से पहले नारियल तेल से नियमित मसाज करें. ये नेचुरल मॉइश्चराइज़र है और इससे कालापनभी दूर होता है. फटी एड़िययां आपको हंसी का पात्र बना सकती हैं. पता चला आपका चेहरा तो खूब चमक रहा है लेकिन बात जब पैरों की आईतो शर्मिंदगी उठानी पड़ी. फटी एड़ियों के लिए- गुनगुने पानी में कुछ समय तक पैरों को डुबोकर रखें फिर स्क्रबर या पमिस स्टोन से हल्के-हल्के रगड़ें.नहाने के बाद पैरों और एड़ियों को भी मॉइश्चराइज़र करें. चाहें तो पेट्रोलियम जेली लगाएं. अगर पैरों की स्किन टैन से ब्लैक हो है तो एलोवीरा जेल अप्लाई करें.नेल्स को नज़रअंदाज़ न करें. उनको क्लीन रखें. नियमित रूप से ट्रिम करें. बहुत ज़्यादा व सस्ता नेल पेंट लगाने से बचें, इससे नेल्स पीले पड़ जाते हैं.उनमें अगर नेचुरल चमक लानी है तो नींबू को काटकर हल्के हाथों से नाखूनों पर रगड़ें. नाखूनों को नियमित रूप से मॉइश्‍चराइज़ करें. रोज़ रात को जब सारे काम ख़त्म हो जाएं तो सोने से पहले नाखूनों व उंगलियों परभी मॉइश्‍चराइज़र लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें. इससे  ब्लड सर्कूलेशन बढ़ेगा. नेल्स सॉफ़्ट होंगे और आसपास की स्किनभी हेल्दी बनेगी.क्यूटिकल क्रीम लगाएं. आप क्यूटिकल ऑयल भी यूज़ कर सकती हैं. विटामिन ई युक्त क्यूटिकल ऑयल या क्रीम से मसाज करें.नाखूनों को हेल्दी व स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए नारियल या अरंडी के तेल से मालिश करें. इसी तरह बालों की हेल्थ पर भी ध्यान दें. नियमित रूप से हेयर ऑयल लगाएं. नारियल या बादाम तेल से मसाज करें. हफ़्ते में एक बार गुनगुने तेल से बालों की जड़ों में मालिश करें और माइल्ड शैम्पू से धो लें. कंडिशनर यूज़ करें. बालों को नियमित ट्रिम करवाएं. अगर डैंड्रफ या बालों का टूटना-झड़ना जैसी प्रॉब्लम है तो उनको नज़रअंदाज़ न करें.  सेल्फ ग्रूमिंग भी है ज़रूरी, ग्रूमिंग पर ध्यान दें… रोज़ ब्यूटीफुल दिखना है तो बिखरा-बिखरा रहने से बचें. ग्रूम्ड रहें. नियमित रूप से वैक्सिंग, आईब्रोज़ करवाएं. ओरल व डेंटल हाईजीन पर ध्यान दें. अगर सांस से दुर्गंध आती हो तो पेट साफ़ रखें. दांतों को साफ़ रखें. दिन में दो बार ब्रश करें. कोई डेंटल प्रॉब्लम हो तो उसका इलाज करवाएं.अपने चेहरे पर एक प्यारी सी स्माइल हमेशा बनाकर रखें. अच्छी तरह ड्रेस अप रहें. कपड़ों को अगर प्रेस की ज़रूरत है तो आलस न करें. वेल ड्रेस्ड रहेंगी तो आपमें एक अलग ही कॉन्फ़िडेन्स आएगा, जो आपको खूबसूरत बनाएगा और खूबसूरत होने का एहसास भीजगाए रखेगा. अपनी पर्सनैलिटी और स्किन टोन को ध्यान में रखते हुए आउटफ़िट सिलेक्ट करें. एक्सेसरीज़ आपकी खूबसूरती में चार चांद लगा देती हैं. उनको अवॉइड न करें. मेकअप अच्छे ब्रांड का यूज़ करें, लेकिन बहुत ज़्यादा मेकअप करने से बचें. कोशिश करें कि दिन के वक्त या ऑफ़िस में नेचुरल लुक में ही आप ब्यूटीफुल लगें. फ़ुटवेयर भी अच्छा हो, लेकिन आउटफ़िट व शू सिलेक्शन में हमेशा कम्फ़र्ट का ध्यान भी ज़रूर रखें. आपके लुक में ये बहुतमहत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. 

© Merisaheli