Categories: Top StoriesOthers

शरद पूर्णिमा की शुभकामनाएं! (Happy Sharad Purnima!)

* शरद पूर्णिमा अश्‍विन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है. * इसे कोजागरी पूर्णिमा या रास पूर्णिमा भी कहते हैं. * ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, पूरे सालभर में इसी पूर्णिमा के दिन चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है, जिससे चंद्रमा की हीलिंग प्रॉपर्टी भी बढ़ जाती है. * हिंदुओं द्वारा इसी दिन कोजागर व्रत, जिसे कौमुदी व्रत भी कहते हैं, रखा जाता है. * इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने गोपियों के संग महारास रचाया था. यह भी पढ़े: धार्मिक कार्यों में शंख बजाने की परंपरा क्यों है? * शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा धरती के बेहद क़रीब होने के कारण उसके प्रकाश में मौजूद रासायनिक तत्व सीधे धरती पर गिरते हैं. * इस दिन रात्रि को मां लक्ष्मी देखती हैं कि कौन जाग रहा है और जो मां की भक्ति में लीन होकर जागरण करते हैं, उन्हें वे धन-वैभव से भरपूर कर देती हैं. * इसलिए इस दिन रात को मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है और उन्हें प्रिय चावल के खीर का भोग लगाया जाता है. * मान्यता अनुसार, शरद पूर्णिमा में चंद्रमा द्वारा अमृत किरणों की बरसात होती है, इसलिए चांदनी रात में चावल की खीर बनाकर रखने और खाने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है. साथ ही इससे कई तरह की बीमारियों भी दूर होती हैं. यह भी पढ़े: गणेशजी से जुड़े रोचक तथ्य

* शरद पूर्णिमा अश्‍विन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है.
* इसे कोजागरी पूर्णिमा या रास पूर्णिमा भी कहते हैं.
* ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, पूरे सालभर में इसी पूर्णिमा के दिन चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है, जिससे चंद्रमा की हीलिंग प्रॉपर्टी भी बढ़ जाती है.
* हिंदुओं द्वारा इसी दिन कोजागर व्रत, जिसे कौमुदी व्रत भी कहते हैं, रखा जाता है.
* इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने गोपियों के संग महारास रचाया था.

यह भी पढ़े: धार्मिक कार्यों में शंख बजाने की परंपरा क्यों है?

* शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा धरती के बेहद क़रीब होने के कारण उसके प्रकाश में मौजूद रासायनिक तत्व सीधे धरती पर गिरते हैं.
* इस दिन रात्रि को मां लक्ष्मी देखती हैं कि कौन जाग रहा है और जो मां की भक्ति में लीन होकर जागरण करते हैं, उन्हें वे धन-वैभव से भरपूर कर देती हैं.
* इसलिए इस दिन रात को मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है और उन्हें प्रिय चावल के खीर का भोग लगाया जाता है.
* मान्यता अनुसार, शरद पूर्णिमा में चंद्रमा द्वारा अमृत किरणों की बरसात होती है, इसलिए चांदनी रात में चावल की खीर बनाकर रखने और खाने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है. साथ ही इससे कई तरह की बीमारियों भी दूर होती हैं.

यह भी पढ़े: गणेशजी से जुड़े रोचक तथ्य

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

#HBD: जानें बर्थडे गर्ल पीवी सिंधु की ये दिलचस्प बातें… (Happy Birthday To PV Sindhu)

भारतीय महिला बैडमिंटन में आज सबसे बड़ा नाम हैं सिंधु, उनके जन्मदिन पर मेरी सहेली…

गुरुपूर्णिमा की शुभकामनाएं! (Happy Gurupurnima 2020)

गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु, गुरुर्देवो महेश्‍वरः गुरुः साक्षात परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष…

कहानी- भंवर (Short Story- Bhanwar)

“तुम्हारे और शशांक के बीच क्या चल रहा है..?” सीधे और सपाट शब्दों में शालिनी…

बॉलीवुड अभिनेत्रियां जो मां बनने के बाद फिर हो गईं फिट और स्लिम, जानें इनकी फिटनेस का राज़ (Bollywood Actresses Who Look Stunning After Pregnancy)

प्रेग्नेंसी में महिलाएं मोटी हो जाती हैं और बॉलीवुड अभिनेत्रियां भी जब मां बनती हैं,…

© Merisaheli