पर्सनल प्रॉब्लम्स: इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव (IUD) का इस्तेमाल कितने सालों तक कर सकते हैं? (How Long Can I Keep IUD?)

मैं 31 वर्षीया दो बच्चों की मां हूं. 3 साल पहले गर्भनिरोधक के तौर पर मैंने इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस (IUD) चुना था. डॉक्टर के मुताबिक़…

मैं 31 वर्षीया दो बच्चों की मां हूं. 3 साल पहले गर्भनिरोधक के तौर पर मैंने इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस (IUD) चुना था. डॉक्टर के मुताबिक़ 10 सालों तक मुझे कोई परेशानी नहीं होगी, पर हाल ही में मेरी एक सहेली, जिसने मेरे जैसा ही डिवाइस इस्तेमाल किया था, उसे 3 साल बाद बदलवाने की सलाह दी गई है. मैं दुविधा में हूं कि इसे कितने साल तक इस्तेमाल कर सकते हैं, 3 या 10? 

– नैना सक्सेना, कानपुर.

मार्केट में कई तरह के इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस उपलब्ध हैं. अगर आपकी सहेली ने मल्टीलोड 250 इस्तेमाल किया होगा, तो उन्हें 3 साल बाद बदलवाना होगा, क्योंकि वह 3 सालों तक ही प्रभावशाली होता है, उसके बाद कंसीव करने का ख़तरा बढ़ जाता है. हो सकता है कि आप कॉपर टी 380 इस्तेमाल कर रही हों, जो 10 सालों तक काम करता है. बेहतर होगा कि आप अपनी मेडिकल फाइल में चेक करें, ताकि कंफ्यूज़न दूर हो सके.

यह भी पढ़ें: बार-बार वेजाइनल इंफेक्शन क्यों होता है?

मेरी पिछली प्रेग्नेंसी बहुत कष्टदायक थी. डिलीवरी के बाद नाल अपने आप नहीं निकली, इसलिए एनीस्थिसिया देकर निकालना पड़ा. इसके बाद खून की कमी हो गई और मुझे ब्लड चढ़ाना पड़ा. उसके बाद कई दिनों तक मुझे बहुत कमज़ोरी महसूस हुई. मैं दोबारा प्रेग्नेंट हूं और मुझे डर है कि कहीं पिछली बार वाली प्रॉब्लम दोबारा न हो जाए?

– ममता मेहता, चंडीगढ़.

जिस प्रकिया से आप गुज़री हैं, उसे नाल का मैन्युअल रिमूवल कहते हैं. इसका कारण गर्भाशय के आकार का असामान्य होना हो सकता है. असामान्य आकार के कारण नाल को निकलना मुश्किल हो जाता है, इसलिए उसे डॉक्टर को मैन्युअली निकालना पड़ता है. ऐसा दोबारा होने की भी संभावना है. अपने ऑब्सट्रेटीशियन को इस बारे में बता दें, ताकि वो पहले से ही ब्लड का इंतज़ाम कर सकें और ज़्यादा परेशानी न हो.

यह भी पढ़ें: डिलीवरी के दूसरे ही हफ़्ते ब्रेस्ट्स में दर्द व सूजन है

आईयूडी (IUD) से जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

मिथ: आईयूडी से इंफेक्शन हो सकता है.
फैक्ट: द वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइज़ेशन ने इस विषय पर कई स्टडीज़ की हैं, जिन्होंने इस मिथ को ग़लत साबित किया है. पाया गया है कि यह महिलाओं की सेहत के लिए नुक़सानदेह नहीं है. डाटा में यह बात सामने आई है कि जो महिलाएं दूसरे बर्थ कंट्रोल अपनाती हैं, उनके मुकाबले आईयूडी का इस्तेमाल करनेवाली महिलाओं में किसी तरह का इंफेक्शन नहीं पाया गया.
मिथ: आईयूडी कई सालों के लिए करवाना पड़ता है.
फैक्ट: यही तो आईयूडी की सबसे बड़ी ख़ासियत है कि इसे आप 3-6 साल या फिर 12 सालों के लिए लगवा सकती हैं. लेकिन ऐसा ज़रूरी भी नहीं है. आप जब चाहे आईयूडी निकलवा सकती हैं. इसके लिए ऐसी कोई समय सीमा नहीं है.
मिथ: आईयूडी से पहले पैप स्मीयर करवाना पड़ता है.
फैक्ट: यह ज़रूरी नहीं है. अगर आपने बहुत दिनों से पैप स्मीयर टेस्ट नहीं करवाया, तो आईयूडी लगवाते समय आप यह भी करवा सकती हैं. अगर सबकुछ सामान्य लग रहा है, तो रिज़ल्ट का इंतज़ार करने की कोई ज़रूरत नहीं.

यह भी पढ़ें: एग्ज़ाम्स के व़क्त पीरियड्स अनियमित क्यों हो जाते हैं?
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
rajshree.gynoncology@gmail.com

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

महिलाओं की ऐसी ही अन्य पर्सनल प्रॉब्लम्स पढ़ें

Recent Posts

फिल्म समीक्षा- रक्षाबंधन/लाल सिंह चड्ढा: भावनाओं और भोलेपन की आंख-मिचोली खेलती… (Movie Review- Rakshabandhan / Lal Singh Chaddha…)

अक्षय कुमार की फिल्मों से अक्सर मनोरंजन, देशभक्ति, इमोशन की अपेक्षा की जाती है और…

तो इस वजह से भारत छोड़कर कनाडा जाना चाहते थे अक्षय कुमार, खुद किया खुलासा (So Because Of This, Akshay Kumar Wanted To Leave India And Go To Canada, Disclosed Himself)

बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार इन दिनों अपनी मच अवेटेड फिल्म 'रक्षा बंधन' को लेकर चर्चा…

कहानी- डिस्काउंट (Short Story- Discount)

अपनी पत्नी का जोश और उसका विश्वास देखकर रघुवर ने सोचा, 'इसमें बुराई ही क्या…

© Merisaheli