कविता- सब्र (Kavita- Sabr)

चांदनी लहराती हुई ज़मीं पर उतरी और लिपट गई खेत, खलिहान ताल तलैया नदी और समंदर की लहरों से धरती निहाल हो गई और इंसान…

चांदनी लहराती हुई
ज़मीं पर उतरी
और लिपट गई
खेत, खलिहान
ताल तलैया
नदी और समंदर की
लहरों से
धरती निहाल हो गई
और इंसान
इन ख़ूबसूरत नज़ारों में
कविता लिखने लगे
चांद को यह बात
कुछ रास नहीं आई
उसने अमावस्या बन
चांदनी को
अंधेरे में क़ैद कर दिया
कहते हैं परियों ने
चांद से धरती पे
उतरने की इजाज़त मांगी
चांद को तरस आया
और उसने
पूर्णिमा को जन्म दिया
और बस चांदनी रात में
परियां
राजमहल में बने
सरोवर में उतरने लगीं
क़िस्से और कहानी में
चांदनी

अमावस्या से
पूर्णिमा तक
हर रोज़
अपने दर्द का इज़हार करती है
अधूरी रह कर
और परियां
सिर्फ़ एक रात उतरती हैं
ज़मीं पर
बस तमन्नाओं की झील
दिल के राजमहल में
उन लम्हों के इंतज़ार का
सब्र कर सके…

– शिखर प्रयाग

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

नवरात्रि- तपस्या का मूर्तिमान स्वरूप देवी ब्रह्मचारिणी (Navratri 2021- Devi Brahmcharini)

देवी ब्रह्मचारिणी ब्रह्म स्वरूप है. यहां ब्रह्म का अर्थ तपस्या से है यानी तपस्या का…

नवरात्रि 2021 कलर्स: नवरात्रि में 9 रंग पहनें बॉलीवुड स्टाइल में (Navratri 2021 Colours: How To Wear 9 Colours Of Navratri In Bollywood Style)

बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ जो भी कपड़े पहनते हैं वो फैशन बन जाता है. नवरात्रि में महिलाएं…

फ़िल्मी सितारों ने परंपरागत अंदाज में मनाया गुडीपाडवा का त्यौहार;फैंस को किया विश (Film Stars celebrate Gudipadwa Festival in Traditional Style; Wishes fans)

हिन्दू नव वर्ष के शुभारम्भ और छात्र नवरात्र के पावन अवसर पर फिल्म अभिनेत्रियों का…

© Merisaheli