मॉनसून डायट टिप्स (Monsoon Diet Tips)

बारिश के मौसम में फिट व हेल्दी रहने के लिए ज़रूरी है कि संतुलित भोजन किया जाए. इस मौसम में इम्यूनिटी कमज़ोर हो जाती है,…

बारिश के मौसम में फिट व हेल्दी रहने के लिए ज़रूरी है कि संतुलित भोजन किया जाए. इस मौसम में इम्यूनिटी कमज़ोर हो जाती है, जिसके कारण शरीर अनेक सीज़नल बीमारियों से ग्रस्त हो जाता है. अगर आप भी मॉनसून का मज़ा लेना चाहते हैं, तो यहां पर बताए गए डायट टिप्स फॉलो करें-

क्या करें?

  •  फल शरीर को ऊर्जावान बनाने के लिए अनेक पोषक तत्व प्रदान करते हैं, इसलिए विटामिन सी से भरपूर और सीज़नल फ्रूट्स खाएं. इन्हें खाने से इम्यूनिटी बढ़ती है और त्वचा संबंधी संक्रमण दूर होते हैं.
  • बरसात के मौसम में पाचन क्रिया धीमी हो जाती है, इसलिए इस मौसम में ऐसा भोजन करें, जो पचने में आसान हो.
  • शुगर का सेवन कम करें. ज़्यादा शुगर खाने से बैड बैक्टीरिया का उत्पादन अधिक होता है.
  • कच्ची सब्ज़ियों में बैक्टीरिया और जर्म्स होते हैं, जिनके पेट में चले जाने पर इंफेक्शन हो सकता है. कच्ची सब्ज़ियों को पकाकर खाने की बजाय उबालकर या स्टीम में पकाकर खाएं.
  • ख़ूब पानी पीएं. पानी शरीर में जमा टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद करता है.
  • खाने में हेल्दी कुकिंग ऑयल का इस्तेमाल करें. हेेल्दी कुकिंग ऑयल डायजेस्टिव सिस्टम को सही रखता है.
  • शरीर में गर्माहट लाने के लिए मसालेवालीचाय या एंटीबैक्टीरियल हर्बल टी पीएं.
  • इस मौसम में ज़्यादातर लोगों की इम्यूनिटी कमज़ोर हो जाती हैै, जिसके कारण उन्हें बार-बार इंफेक्शन होता है. इंफेक्शन से बचने के लिए इम्यूनिटी बूस्टर फूड्स खाएं.
  • बरसात के मौसम में करेला, लौकी, मेथी के बीज ज़रूर खाएं. ये चीज़ें मॉनसून में इम्यूनिटी बढ़ाती हैं, पाचन तंत्र को सही रखने के साथ-साथ त्वचा संबंधी संक्रमण को दूर करने में मदद करती हैं.
  • बारिश में दूषित पानी पीने से मौसमी बीमारियां होती हैं, इसलिए उबला व छाना हुआ गरम पानी पीएं. पानी उबालने से उसमें मौजूद कीटाणु मर जाते हैं.
  • दूध पीने की बजाय दही और दूध से बने डेज़र्ट खाएं.
  • मॉनसून में घर का बना हुआ ताज़ा खाना ही खाएं.

और भी पढ़ें: भूख भगानेवाले 10 खाद्य पदार्थ, जो आपको ज़रूर खाने चाहिए (Top 10 Natural Foods To Suppress Hunger)

क्या न करें?

  •  इस मौसम में वॉटरी फूड्स, जैसे- खीरा, ककड़ी, चावल, तरबूज़, खरबूजा, लस्सी, छाछ और जूस आदि खाने की बजाय ड्राई चीज़ें खाएं. ड्राई चीज़ें यानी मटर, कॉर्न आदि. बारिश में वॉटरी फूड्स खाने से शरीर में सूजन आ सकती है, इसलिए इन्हें खाने से बचें.

  • नॉन वेज खाना अवॉइड करें, विशेष रूप से सी-फूड. बरसात में तालाब और नदियों का पानी दूषित हो जाता है और उनमें रहनेवाली मछलियां खाने से डायरिया या हैजा होने की संभावना हो सकती है.
  • सड़क के किनारे मिलनेवाले फलों के जूस पीने की बजाय घर पर बना ताज़ा जूस पीएं, क्योंकि दुकानदार पहले से ही फलों को काटकर बिना ढंके रखते हैं, जिसके कारण ये कटे फल हवा में फैलनेवाले बैक्टीरिया के संपर्क में आते हैं और इन्हें खाने से पेट संबंधी तकली़फें हो सकती हैं.

  • बरसात में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां न खाएं. इनमें मिट्टी, लार्वा और कीड़े होने की संभावना अधिक होती है. अगर इन्हें अच्छी तरह से साफ़ न किया जाए, तो इन्हें खाने से पेट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं.

और भी पढ़ें: मॉनसून में होनेवाली 10 बीमारियों के लक्षण व उनसे बचने के उपाय (10 Common Monsoon Diseases, Their Treatment & Prevention)

 

–  देवांश शर्मा

Share
Published by
Poonam Sharma

Recent Posts

हेल्दी और फिट रहना है, तो बचें इन हेल्दी चीज़ों के ओवर डोज़ से… (Stop Overdoing These 11 Healthy Habits To Stay Fit And Healthy)

हेल्दी और फिट रहने के लिए हेल्दी आदतों का होना अच्छी बात है, लेकिन जब यही अच्छी आदतें हद से ज़्यादा बढ़कर सनक बन जाती हैं तो आपको फिट रखने की बजाय नुक़सान ही ज़्यादा पहुंचाती हैं. ऐसे में बेहतर होगा कि कुछ चीज़ों केओवर डोज़ से बचा जाए…  बहुत ज़्यादा डायटिंग करना: अपने बढ़ते वज़न पर नज़र रखना और उसको कंट्रोल में रखने के लिए डायटिंग करना अच्छी बात है, लेकिन जब ये डायटिंग हद से ज़्यादा बढ़ जाती है तो वो आपको फिट और स्लिम रखने की बजाय कमज़ोर करने लगती है. कुछ लोग पतले बने रहने के चक्कर में खाना-पीना ही बंद कर देते हैं, जबकि डायटिंग का मतलब खाना बंद करना नहीं होता, बल्कि अनहेल्दी खाने को हेल्दी खाने से रिप्लेस करना होता है. लेकिन जब आप खाना एकदम ही कमकर देते हो, तो शरीर में पोषण की कमी होने लगती है और आप कमज़ोर होकर कई हेल्थ प्रॉब्लम्स से घिर जाते हो. बहुत ज़्यादा एक्सरसाइज़ करना: फिट रहने के लिए एक्सरसाइज़ करना बहुत ही हेल्दी हैबिट है, लेकिन ओवरएक्सरसाइज़ से आपको फ़ायदा कम और नुक़सान ज़्यादा होगा. यह न सिर्फ़ आपको थका देगी, बल्कि इससे आपकीमसल्स या बॉडी डैमेज तक हो सकती है. हेवी वर्कआउट के बाद बॉडी को रेस्ट की भी ज़रूरत होती है, वरना शरीर थकजाएगा और आप ऊर्जा महसूस नहीं करेंगे.  बहुत ज़्यादा सप्लीमेंट्स खाना: कुछ लोगों की आदत होती है कि वो अपनी हेल्थ को लेकर ज़्यादा ही सोचते हैं और इसओवर कॉन्शियसनेस की वजह से खुद को फायदे की बजाय नुक़सान पहुंचा लेते हैं. बिना किसी सलाह के सिर्फ़ यहां-वहांसे पढ़कर या किसी की सलाह पर सप्लीमेंट्स खाना आपको गंभीर रोगों के ख़तरे तक पहुंचा सकता है. अगर आप फिट हैंऔर हेल्दी खाना खाते हैं तो सप्लीमेंट की ज़रूरत ही क्या है. इसी तरह से जो लोग बहुत ज़्यादा मल्टी विटामिंस लेते हैं उन्हेंकैंसर का ख़तरा अन्य लोगों की तुलना में अधिक होता है, क्योंकि इनके अधिक सेवन से कोशिकाओं का सामान्य निर्माणक्रम प्रभावित होकर रुक जाता है. अगर आप विटामिन सी अधिक मात्रा में लेते हैं, तो डायरिया का ख़तरा बढ़ जाता है, इसी तरह बहुत ज़्यादा विटामिन बी6 नर्व को डैमेज कर सकता है और अगर गर्भावस्था में विटामिन ए की अधिकता हो गईतो उससे बच्चे में कुछ बर्थ डिफ़ेक्ट्स हो सकते हैं. बेहतर होगा जो भी खाएं सीमित और संतुलित मात्रा में ही खाएं. पानी बहुत ज़्यादा पीना: पानी सबसे हेल्दी और सेफ माना जाता है, लेकिन अति किसी भी चीज़ की अच्छी नहीं होती. बहुतज़्यादा पानी पीने से रक्तप्रवाह में सोडियम को पतला कर देता है, जिससे मस्तिष्क की कार्य प्रणाली बिगड़ सकती है औरयहां तक कि व्यक्ति की मौत भी हो सकती है. इस अवस्था को हाईपोरिट्रेमिया कहते हैं जो उन लोगों में अधिक पाई जातीहै, जो खुद को बहुत ज़्यादा हाइड्रेट करते हैं, जैसे- एथलीट्स वग़ैरह. इसी तरह जिन लोगों को कुछ मेडिकल कंडिशन होतीहै उनको भी ज़्यादा पानी मना है, जैसे- कोरॉनरी हार्ट डिसीज़ वालों को अधिक पानी के सेवन से बचना चाहिए. दरअसलआपके शरीर को जब भी किसी चीज़ की ज़रूरत होती है, तो वो खुद ही आपको सिग्नल दे देता है, इसीलिए जब शरीर कोपानी की ज़रूरत होती है, तो आपको प्यास लगती है, लेकिन कुछ लोगों की आदत ही होती है कि वो बिना सोचे-समझेगिन-गिनकर नाप-तोलकर ज़बर्दस्ती पानी पीते रहते हैं ये सोचकर कि इससे उनका पाचन अच्छा होगा और स्किन भी ग्लोकरेगी.  शुगर की जगह आर्टिफ़िशियल स्वीटनर का ज़्यादा प्रयोग: माना शुगर कम करना हेल्दी हैबिट है, लेकिन इसकी जगह आर्टिफ़िशियल स्वीटनर का ही इस्तेमाल करना शुरू देना वज़न कम करने की बजाए बढ़ाता है. इसके अलावा शुगर काएकदम ही प्रयोग बंद करने से आपका शुगर लेवल कम होकर कमज़ोरी का एहसास कराएगा. ऊर्जा के लिए शुगर भी ज़रूरी है.  दांतों को बहुत ज़्यादा और देर तक ब्रश करना: कई लोगों की ये मान्यता है कि दांतों को जितना घिसेंगे, वो उतने हीचमकेंगे. लेकिन बहुत ज़्यादा देर तक ब्रश करने से आप दांतों के इनामल को नुक़सान पहुंचाते हैं और साथ ही मसूड़े भीडैमेज होते हैं इससे. बेहतर होगा सॉफ़्ट ब्रिसल्स वाला टूथ ब्रश यूज़ करें और बहुत ज़ोर लगाकर ब्रश न करें. हेल्दी फल व सब्ज़ियों का ज़्यादा सेवन: चाहे फल हों या सब्ज़ियां या कोई भी हेल्दी फूड उनका ज़रूरत से ज़्यादा सेवन भीख़तरनाक हो सकता है. हरी सब्ज़ियां जहां आपका पर अपसेट कर सकती हैं, वहीं गाजर से आपको ऑरेंज स्किन कीसमस्या हो सकती है. इसी तरह इन दिनों ऑलिव ऑइल भी बहुत पॉप्युलर है लेकिन इसके ज़्यादा प्रयोग से आप सिर्फ़अधिक कैलरीज़ और फ़ैट्स ही बढ़ाएंगे.  साबुन-पानी की बजाय बहुत ज़्यादा सैनिटायज़र का इस्तेमाल: माना आज COVID के चलते सैनिटायज़र बेहद ज़रूरीऔर मस्ट हैव प्रोडक्ट बन चुका है, लेकिन अगर आप घर पर हैं और साबुन से हाथ धोने का ऑप्शन है तो बेहतर होगा कि…

‘कुंडली भाग्य’ फेम एक्ट्रेस मानसी श्रीवास्तव और कपिल तेजवानी हुए एक-दूजे के, सामने आई शादी की तस्वीरें (‘Kundali Bhagya’ Fame Actress Mansi Srivastava Tied The Knot With Kapil Tejwani, See Photos)

टीवी के लोकप्रिय सीरियल 'इश्कबाज' और 'कुंडली भाग्य' एक्ट्रेस मानसी श्रीवास्तव अपने लॉन्ग टर्म बॉय फ्रेंड…

© Merisaheli