लघुकथा- चटनी (Short Story- Chutney)

“नही मांजी. मुझे अभी भूख नहीं है.” दरअसल प्रभा अभी खाना बनाने के हिसाब-किताब में ख़ुद को थोड़ा कच्चा समझती थी. और अभी कुछ माह पहले ही तो ब्याह कर आई थी वह ससुराल. नई नवेली बहू तो वैसे भी घर के कामों के लेकर डरी-सहमी सी रहती हैं. उसे डर था की कहीं खाना कम न पड़ जाए, ऊपर से आज खाने पर अचानक से आए दो अतिरिक्त मेहमान भी थे.

सरलाजी की रसोई आज महक उठी थी. दो रसे वाली सब्ज़ियां, दो सूखी सब्ज़ियां, रायता, खीर सब बनकर तैयार था. सभी खाने के लिए बैठ चुके थे. प्रभा के बनाए खाने की ख़ूब तारीफ़ें हो रही थीं. तभी सरलाजी बहू पर लाड़ दिखाती हुई बोलीं, “अरे बहू, आओ तुम भी खाना खाओ. तुम्हें भी तो भूख लगी होगी. सब यहां टेबल पर रख दो, जिसको जो चाहिए होगा ख़ुद ही ले लेगा.”

यह भी पढ़ें: ससुराल के लिए खुद की ऐसे करें मानसिक रूप से तैयार… ताकि रिश्तों में बढ़े प्यार और न हो कोई तकरार (Adapting in A New Home After Marriage: Tips & Smart Ways To Adjust With In-Laws)

प्रभा, “नही मांजी. मुझे अभी भूख नहीं है.” दरअसल प्रभा अभी खाना बनाने के हिसाब-किताब में ख़ुद को थोड़ा कच्चा समझती थी. और अभी कुछ माह पहले ही तो ब्याह कर आई थी वह ससुराल. नई नवेली बहू तो वैसे भी घर के कामों के लेकर डरी-सहमी सी रहती हैं. उसे डर था की कहीं खाना कम न पड़ जाए, ऊपर से आज खाने पर अचानक से आए दो अतिरिक्त मेहमान भी थे.
सबका खाना हो चुका था. दो रोटी और टमाटर की चटनी लेकर प्रभा टेबल पर थाली रखकर खाना खाने बैठी ही थी कि सरलाजी उसकी थाली की ओर देखकर बोल पड़ी, “इतना कम खाना? सारी सब्ज़ियां तो तुम्हारे पसन्द की बनी हैं, फिर सिर्फ़ चटनी रोटी ही क्यों?”

प्रभा, “मांजी, वो ज़्यादा खाना खाने का मन नहीं था मेरा. सुबह से खाने की महक लेते-लेते पेट की भूख मर गई. ऊपर से थोड़ा थक भी गई हूं, तो बस चटनी रोटी ही ले आई.”
सरलाजी, “हां, तो अब कौन-सा काम है तुम्हें. जाओ खाना खाकर आराम करो. पर बहू चटनी बनानी ही थी, तो पहले ही बना लेती, ज़रा हम सब भी चटनी का स्वाद चख लेते.”


यह भी पढ़ें: 7 वजहें जब एक स्त्री को दूसरी स्त्री की ज़रूरत होती है (7 Reasons When A Woman Needs Woman)

प्रभा सरलाजी से अब कैसे कहती कि किचन में उसके लिए कुछ बचा होता, तो वह चटनी बनाती ही क्यों? प्रभा उस चटनी में जो छोले, पनीर की ख़ुशबू की कल्पना कर रही थी अब वह कल्पना भी उड़ गई थी और उसका भूख न लगने का बहाना भी सच में तब्दील हो गया था.

पूर्ति वैभव खरे

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

अभी सबस्क्राइब करें मेरी सहेली का एक साल का डिजिटल एडिशन सिर्फ़ ₹599 और पाएं ₹1000 का कलरएसेंस कॉस्मेटिक्स का गिफ्ट वाउचर.

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कहानी- देवदास (Short Story- Devdas)

“तुम इतने असंस्कारी कैसे हो सकते हो?” उसकी आंखों में आंसू थे. शायद उसे गहरा…

July 7, 2024
© Merisaheli