कहानी- सफ़र (Short Story- Safar)

  “अपने से कमतर ओहदे और वेतनवाले जीवनसाथी के साथ हंसते-खेलते पूरी ज़िंदगी जी जा सकती है, लेकिन ऐसी कमतर…

 

“अपने से कमतर ओहदे और वेतनवाले जीवनसाथी के साथ हंसते-खेलते पूरी ज़िंदगी जी जा सकती है, लेकिन ऐसी कमतर सोचवाले इंसान के साथ एक-एक पल गुज़ारना भारी पड़ जाता है. इसलिए जब मेरे सम्मुख यह प्रस्ताव आया, तो मैंने बिना एक पल गंवाए तुरंत स्वीकार कर लिया.”

इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की चकाचौंध देखते ही बन रही थी. मुझे ऑस्ट्रेलिया की फ्लाइट पकड़नी थी, पर इसके लिए अभी ढेर सारी औपचारिकताएं पूरी करनी थीं. घरेलू उड़ानें तो मैं कुछ भर चुका था, पर अंतर्राष्ट्रीय उड़ान का यह मेरा पहला अवसर था. किस काउंटर पर जाना है, क्या करना है… सोच ही रहा था कि मेरी नज़रें इन्क्वॉयरी काउंटर पर जा टिकीं. वहां एक आधुनिका को बैठे  देखकर मेरा आत्मविश्‍वास थोड़ा डगमगाने लगा. जो-जो प्रश्‍न पूछने थे, उनका मन ही मन अंग्रेज़ी में अनुवाद करने लगा. तसल्ली हो जाने पर मैंने क़दम उधर बढ़ाए ही थे कि दूर से मोबाइल पर बतियाती एक बाला को इधर आता देखकर मेरे क़दम ठिठक गए. यह तो स्वाति है, पहचानते ही मैंने तुरंत मुंह घुमा लिया.

ऊंची हील की सैंडल खटखटाती सधे क़दमों से आगे बढ़ती स्वाति ने मुझे नहीं देखा था. वह दनदनाती सीधे इन्क्वॉयरी काउंटर पर पहुंच गई थी. मोबाइल बंद कर उसने फ़र्राटेदार अंग्रेज़ी में उसी फ्लाइट के बारे में पूछना आरंभ कर दिया, जिसकी जानकारी मैं जुटाना चाह रहा था. मैं तुरंत उधर लपक लिया और ध्यान से सारी बातें सुनने लगा. स्वाति का ध्यान अब भी मेरी ओर नहीं था. वह अपने डॉक्यूमेंट्स चेक कराती एक के बाद एक सवाल दागे जा रही थी. यही फ़र्क़ होता है अंग्रेज़ी में ही सोचकर बोलनेवालों और मुझ जैसों में. एयरकंडीशन हॉल में भी मुझे पसीने आ रहे थे. सारी जानकारी जुटाकर स्वाति मुड़ी, तो मुझे खड़ा देखकर बुरी तरह चौंक उठी.

“राहुल, तुम यहां क्या कर रहे हो?”

“म… मैं भी इसी फ्लाइट से ऑस्ट्रेलिया जा रहा हूं.”

“तो यहां क्यों खड़े हो? कुछ समस्या है? नहीं तो फिर आओ.”

“हं…हां.” मैं स्वाति के साथ हो लिया था. उसके साथ चलने में ही समझदारी है. कहीं कोई समस्या हुई, कुछ पूछना हुआ, तो यह संभाल लेगी. हर काउंटर पर चतुराई से लेडीज़ फर्स्ट की सभ्यता निभाते हुए मैं स्वाति को आगे करता रहा. औपचारिकताएं पूरी करते हमारा औपचारिक वार्तालाप भी चलता रहा. पता चला वह भी अपनी कंपनी के किसी प्रोजेक्ट के तहत ऑस्ट्रेलिया जा रही थी. वह पहले से भी ज़्यादा चुस्त, स्मार्ट और आत्मविश्‍वास से भरपूर नज़र आ रही थी. कोई भी लड़का उसे जीवनसंगिनी के रूप में पाकर ख़ुद को धन्य समझेगा. यह मैं क्या सोचने लगा.

यह भी पढ़ेपुरुषों की चाहत- वर्किंग वुमन या हाउसवाइफ? (What Indian Men Prefer Working Women Or Housewife?)

यदि ऐसा है तो फिर मैंने उसे क्यों ठुकरा दिया था? मेरी अंतरात्मा ने मुझसे अचानक सवाल किया, तो मैं बगलें झांकने लगा. मेरे मन का चोर, जिसे मैंने आज तक सबसे, यहां तक कि अपने घरवालों तक से छुपाकर रखा था, आज खुलकर सामने आकर मुझे ललकार रहा था. मैं जितना घबराकर उससे नज़रें चुराने का प्रयास करता, वह उतना ही सामने आकर मुझे ललकारने लगता. ख़ुद को उससे बचाने में सर्वथा असमर्थ पाकर अंततः मैंने उसके सम्मुख आत्मसमर्पण कर दिया. बह जाने दिया मन को अतीत के झंझावात के साथ.

हम दोनों के परिवार एक-दूसरे से परिचित थे. न केवल परिचित, वरन् मैत्री संबंध भी थे उनमें. इंजीनियरिंग की कोचिंग के दौरान मुझे स्वाति को और भी नज़दीक से जानने-पहचानने का मौक़ा मिला. मैं पढ़ने में अच्छा था, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं कि स्वाति मुझसे बेहतर थी. मैं अंतर्मुखी और झेंपू था. टीचर द्वारा पूछे सारे सवालों के जवाब मुझे आते तो थे, पर मैं कभी हाथ ऊपर नहीं कर पाता था. यदि कभी टीचर की पकड़ में आ भी जाता, तो जवाब देते वक़्त कहीं न कहीं लड़खड़ा जाता था. हालांकि लिखित टेस्ट के परिणामों में मैं अव्वल विद्यार्थियों में शुमार था. दूसरी ओर स्वाति अपने बहिर्मुखी व्यक्तित्व के कारण टीचर्स की पहली पसंद थी. अक्सर टीचर्स मुझे उसका उदाहरण देते हुए उसकी तरह आत्मविश्‍वासी और स्मार्ट होने की सीख देते, लेकिन इससे मैं और अधिक हीनभावना से घिर जाता. उससे नज़रें चुराता फिरता.

यदि किसी दिन उसका परिवार हमारे घर भोजन पर आमंत्रित होता या हमें वहां जाना होता, तो मैं पहले ही पढ़ाई का बहाना बनाकर अपने किसी दोस्त के यहां खिसक लेता. स्वाति मेरे बारे में क्या सोचती थी मुझे नहीं मालूम, पर जहां तक मैं समझता था उसे मेरी सोच की कभी परवाह नहीं रही. वह अपने में मस्त रहनेवाली बिंदास लड़की थी. वैसे भी उसके आगे-पीछे घूमनेवालों की कमी नहीं थी. उसे कहां ़फुर्सत थी यह देखने की कि कौन उसके लिए क्या सोचता है?

हम दोनों को ही अलग-अलग अच्छे कॉलेजों में प्रवेश मिल गया था. अपने-अपने परिवारों से दूर हमें पता ही नहीं था कि हमारे परिवार मिलकर क्या खिचड़ी पका रहे हैं? कैंपस इंटरव्यू देकर छुट्टियों में मैं जब घर पहुंचा, तो पता चला कि घर में मेरी स्वाति से शादी की चर्चा ज़ोरों पर है. मैं यह जानकर भौचक्का-सा रह गया और मौक़ा पाते ही मम्मी पर बरस पड़ा, “किससे पूछकर किया जा रहा है यह सब?”

“इसमें पूछना कैसा बेटा? तू और स्वाति साथ-साथ पढ़े हो. दोनों ने इंजीनियरिंग कर ली है. अब दोनों की नौकरी भी लग गई है. तुम्हें तो पता होगा उसका एक नामी कंपनी में सिलेक्शन हुआ है. फोन पर बात होती रहती होगी न तुम्हारी?”

“नहीं, काफ़ी समय से हमारी बात नहीं हुई है और न ही मुझे यह पता था कि उसका किस कंपनी में रिक्रूटमेंट हुआ है?”

“चलो कोई बात नहीं. अब बात कर लेना. तुम्हें तो ख़ुश होना चाहिए कि घर बैठे इतनी सुंदर, पढ़ी-लिखी, कमाऊ और सुशील लड़की मिल रही है.”

मेरे ग़ुस्से को देखकर मां का स्वर कुछ मंद अवश्य पड़ गया था, पर उत्साह तनिक भी कम नहीं हुआ था. मैं उनकी बातों से मन ही मन और भी भड़क उठा था. क्या समझते हैं ये लोग… कि इस रिश्ते से मुझे ख़ुद को कृतज्ञ समझना चाहिए. स्वाति और उसके घरवालों के सामने दंडवत् हो जाना चाहिए कि अपनी प्रतिभाशाली कन्या के लिए मेरा वरण कर आपने मुझ पर बहुत बड़ा उपकार किया है. मैं आजीवन आपका आभारी रहूंगा.

प्रत्यक्ष में मैं चिल्ला उठा था, “मुझे यह रिश्ता मंज़ूर नहीं है.”

“क्यों? क्या ख़राबी है इस रिश्ते में? या तुझे कोई और पसंद आ गई है?” पापा ने तल्ख़ी से पूछा था. घर में पापा के दबदबे से आतंकित एकबारगी तो मैं सहम उठा था. पर फिर भविष्य की कल्पना कर मैं भी तल्ख़ हो उठा था.

“मैं यह शादी नहीं करूंगा. यह मेरा अंतिम ़फैसला है और इसके लिए मुझे किसी को कोई सफ़ाई देने की आवश्यकता नहीं है.” मेरे निर्णय से सबके चेहरे बुझ गए थे. मुझे दुख तो हुआ था, पर अपने निर्णय से मैं संतुष्ट था. जिस लड़की के सामने पड़ते ही मेरा आत्मविश्‍वास डगमगाने लगता है, ज़ुबान लड़खड़ाने लगती है, उसके साथ ज़िंदगीभर…? नहीं! बचपन से पितृसत्तात्मक परिवार और उसमें पुरुष की महत्ता देखते हुए मैं ख़ुद को भी अपने भावी परिवार के एकछत्र मुखिया के रूप में देखने लगा था, जिसकी आज्ञा को शिरोधार्य करना परिवार के बाकी सदस्य अपना कर्त्तव्य समझें. पत्नी के रूप में मुझे अपने से श्रेष्ठतर तो क्या बराबर की लड़की भी गवारा नहीं थी. और यहां… मैं अगले ही दिन हॉस्टल रवाना हो गया, यह कहकर कि फाइनल परीक्षा की तैयारी वहां रहकर अच्छे-से कर सकूंगा. मेरे तेवर देखकर घरवालों ने भी अपने क़दम पीछे खींच लिए थे और इस तरह वह क़िस्सा वहीं समाप्त हो गया था.

यह भी पढ़ेख़ुद पर भरोसा रखें (Trust YourSelf)

विमान के गेट पर खड़ी एयर होस्टेस ने मुस्कुराकर हमारा अभिवादन किया, तो मैं वर्तमान में लौटा. अपने-अपने बैग ऊपर रख हम पास-पास की सीटों पर जम गए. स्वाति ने बैठने के साथ ही सामने से तकिया निकालकर पीछे लगा लिया था. अपना टीवी ऑन कर लिया था और आर्मरेस्ट से हेडफोन निकालकर सेट करने लगी थी. ऊपर से कोई बटन दबाकर पानी भी ऑर्डर कर दिया था. “तुम्हें चाहिए?” उसने मुस्कुराते हुए पानी की बॉटल मेरी ओर बढ़ा दी थी, जिसे मैंने भी मुस्कुराकर ‘थैंक्स’ कहते हुए थाम लिया. मुझ पर एक बार फिर से उसकी स्मार्टनेस का नशा छाने लगा था. ऐसी स्मार्ट लड़की का दोस्त होने पर गर्व किया जा सकता है, पर पति के रूप में…?

“तुम तो बाहर जाती रहती होगी?” उसकी स्मार्ट गतिविधियों से मैंने अंदाज़ा लगाया था.

“नहीं, पहली बार विदेश जा रही हूं.”

“हं… अ… ओह, म… मेरा भी फर्स्ट टाइम है.” मेरा आत्मविश्‍वास फिर से लड़खड़ाने लगा था. अवचेतन में एक आवाज़ गूंजी. इस लड़की को तो मैं जीवनसंगिनी के तौर पर नकार चुका हूं. हीनभावना तो इसमें होनी चाहिए. मैं क्यों दबा जा रहा हूं? मुझे एक नया डर सताने लगा था. इतनी लंबी यात्रा है, तो बातों का सिलसिला भी लंबा ही चलेगा. यदि कहीं स्वाति ने बातों ही बातों में मेरे इंकार की वजह जाननी चाही तो? तो मैं क्या जवाब दूंगा? यदि उस पर मेरी हीनभावना का राज़ खुल गया तो? तो क्या बच्चू, बची-खुची इज़्ज़त भी जाती रहेगी. नहीं, मुझे संभलकर रहना होगा. मैंने भी स्वाति की तरह अपनी सीट पुशबैक करके तकिया लगाया और अपनी टीवी पर प्रोग्राम सेट करने लगा. स्वाति किनारेवाली सीट पर थी, इसलिए अंदर आते लोग उसे साफ़ नज़र आ रहे थे. एक लड़की को आते देख वह ख़ुशी से सीट से उठ खड़ी हुई और उसके गले लग गई.

“तनु दीदी आप? विश्‍वास नहीं हो रहा है. अनु कैसी है? उससे तो बस फेसबुक पर ही मुलाक़ात होती है.”

आगंतुका की सीट हमारे पीछे ही थी. वह अपना सामान व्यवस्थित करने में व्यस्त हो गई. सीट पर बैठते ही उनका वार्तालाप आरंभ हो गया था, जो विमान के उड़ान भरने के बाद भी ज़ारी रहा. इस प्रयास में स्वाति को बार-बार मुझे ठेलकर अपनी गर्दन पीछे करनी पड़ रही थी और उन आगंतुका को भी बार-बार आगे झुकना पड़ रहा था. जब सीट बेल्ट खोलने का संकेत हुआ, तो वह आगंतुका मुंह आगे करके अंग्रेज़ी में फुसफुसाई, “मैं आगे आ जाऊं क्या? ऐसे तो हमारी गर्दन दुखने लग जाएगी. तेरे पासवाले को पीछे आने के लिए बोल ना? मेरे पास तो कपल बैठा है, उन्हें नहीं कह सकती.”

ज़ाहिर है, मुझे ही सुनाने के लिए कहा गया था. मैं तुरंत अपनी सीट छोड़ उठ खड़ा हुआ और पीछे जाने लगा. स्वाति, “अरे रहने दो…” करती ही रह गई, पर मैं पीछे जाकर ही माना. आख़िर मुझे भी तो दर्शाना था कि मैं एक सभ्य पुरुष हूं. अब मुझे एक तसल्ली और थी कि स्वाति को कोई सफ़ाई नहीं देनी पड़ेगी. हालांकि उसकी ओर से ऐसा कोई सवाल किए जाने की कोई गुंजाइश मुझे अभी तक नज़र नहीं आई थी. वह हमेशा की ही तरह अपने में मस्त और आत्मविश्‍वास से लबरेज़ नज़र आ रही थी. कहीं ऐसा तो नहीं कि मेरे इंकार से वह ख़ुश ही हुई हो कि चलो अच्छा हुआ एक दब्बू के पल्ले पड़ने से बच गई, वरना घरवालों ने तो सूली पर चढ़ाने की पूरी तैयारी कर ली थी. उत्सुकतावश मैंने अपने कान उनकी बातचीत पर केंद्रित कर लिए.

सहेली अनु का हाल जानने के बाद स्वाति अब अपने जीजू का हाल पूछने लगी थी. “आपको तो आख़िरी बार आपकी शादी में ही देखा था. जंच रही थीं आप! सालभर की पोस्टिंग पर जा रही हैं आप ऑस्ट्रेलिया. जीजू तो बेचारे एकदम उदास हो गए होंगे न?”

तनु दीदी… हां, यही नाम था स्वाति की सहेली की दीदी का, उनका चेहरा उतर गया था. ‘कुछ कहना मुश्किल है अभी.’

“सब ठीक तो है न दीदी?” स्वाति को झटका-सा लगा था.

“कुछ भी ठीक नहीं है स्वाति. तुझसे कुछ नहीं छुपाऊंगी. अनु की तरह ही छोटी बहन मानती हूं तुझे. मैं और करन एक ही घर में दो अलग-अलग कमरे में अजनबी की तरह रह रहे हैं.”

“क्या? पर क्यों?”

“पुरुषोचित दंभ.”

“यह क्या होता है?” स्वाति चौंक गई थी, पर मेरे कान और भी सतर्क हो उठे थे.

“जब हमारा रिश्ता तय हुआ था, तब हम अलग-अलग कंपनियों में कार्यरत थे. करन ने 3 साल का बॉन्ड भरकर कंपनी जॉइन की थी. उसका पैकेज मुझसे ज़्यादा था. करन देहाती परिवेश से थे व मैं महानगरीय परिवेश से. लेकिन वे इतने मासूम थे और मुझे इतना प्यार करते थे, इतना सपोर्ट करते थे कि मैं ख़ुद को दुनिया की सबसे भाग्यशाली पत्नी समझती थी. दो साल बाद मेरा दूसरी कंपनी में सिलेक्शन हो गया. मेरा पैकेज व ओहदा बढ़ गया. मैं बहुत ख़ुश थी व सोच रही थी कि करन भी मेरी ख़ुशी व तरक़्क़ी में बहुत ख़ुश होंगे. ऊपर से वे थे भी, पर अंदर से ऐसा बिल्कुल नहीं था.”

“क्यों? वे तो आपसे इतना प्यार करते थे? उनकी तरक़्की होती, तो आप भी तो ख़ुश होतीं न?”

“सौ फ़ीसदी, पर हमारे भारतीय समाज की यही तो विडंबना है. यहां पुरुष लैंगिक समानता की बात कर प्रगतिवादी होने का ढोंग तो करते हैं, पर हक़ीक़त में स्त्री को उच्चतर तो क्या, समकक्ष भी नहीं कर पाते.”

मुझे लगा किसी ने मेरे गाल पर भरपूर तमाचा जड़ दिया है. मेरी भावनाओं से सर्वथा अनजान उनका वार्तालाप जारी था.

“जीजू ने कुछ कहा आपसे?”

“हर चीज़ कहने से ही नहीं समझी जाती. महसूस भी तो होती है. पहले घर, घर के काम हमारे थे. अब वे स़िर्फ मेरे हैं. करन का रवैया कुछ ऐसा हो गया है कि मर्ज़ी हुई, तो मदद करके एहसान-सा जता दिया, वरना मेरी तो ज़िम्मेदारी है ही. मैं देर से लौटती, तो उनकी नज़रें मुझे ऐसे भेदतीं, मानो मैं कोई गुनाह करके लौटी हूं. फिर पता चला वे वक़्त-बेवक़्त मेरे ऑफिस फोन करके जानकारी जुटाते थे कि मैं कहां हूं, किसके साथ हूं? मेरे लिए घर-ऑफिस दोनों जगह का वातावरण दमघोंटू हो गया था. तब मैंने अपने घर को बचाना ज़्यादा ज़रूरी समझते हुए करन के ही ऑफिस में कम पैकेज पर नौकरी जॉइन कर ली. उसकी आंखों के सामने रहूंगी, तो वह शक़ भी नहीं करेगा और उससे कम कमाऊंगी, तो उसका पुरुषोचित दंभ भी संतुष्ट रहेगा. लेकिन यह मेरी बहुत बड़ी भूल थी. घर में हमारे रिश्ते में इतनी बड़ी खाई आ चुकी थी और ऑफिस में हम दिखावा करते थे कि हमारे मध्य दरार तक नहीं है.

कभी-कभी तो बड़ी खिसियानी-सी स्थिति पैदा हो जाती थी. जैसे वेलेंटाइन डे पर वहीं कार्यरत विवाहित जोड़ों को कहा गया कि वे अपने प्यार का इज़हार करें. करन ने मेरे लिए सकुचाते हुए गाना गाया. लोग समझ रहे थे कि वे शरमा रहे हैं, पर मैं महसूस कर सकती थी कि उन शब्दों का एक भी तार दिल से जुड़ा नहीं रह गया था.

स्वाति, अपने से कमतर ओहदे और वेतनवाले जीवनसाथी के साथ हंसते-खेलते पूरी ज़िंदगी जी जा सकती है, लेकिन ऐसी कमतर सोचवाले इंसान के साथ एक-एक पल गुज़ारना भारी पड़ जाता है. इसलिए जब मेरे सम्मुख यह प्रस्ताव आया, तो मैंने बिना एक पल गंवाए तुरंत स्वीकार कर लिया.”

“आपको क्या लगता है कि आपके इस क़दम से जीजू को अपनी ग़लती का एहसास होगा?”

“नहीं जानती. पर कई बार पास रहते हुए भी दिलों में मीलों का फासला बना रहता है, जबकि मीलों का फासला दिलों को पास ले आता है.”

“भगवान करे ऐसा ही हो.”

यह भी पढ़े7 वजहें जब एक स्त्री को दूसरी स्त्री की ज़रूरत होती है (7 Reasons When A Woman Needs Woman)

हमारा गंतव्य आ चुका था. दोनों अपने-अपने बैग लेकर निकल चुकी थीं. स्वाति को शायद मेरा ध्यान ही नहीं रहा था. या शायद उसने मुझसे विदा लेना ज़रूरी नहीं समझा था. मुझमें इतना भी साहस शेष नहीं था कि आगे बढ़कर उससे माफ़ी मांग लेता. ग्लानिबोध से मेरे क़दम मानो भारी हो गए थे. अन्य यात्रियों के लिए यह कुछ घंटों का हवाई सफ़र मात्र होगा, मेरे लिए तो अर्श से फ़र्श तक का सफ़र था.

  संगीता माथुर

अधिक शॉर्ट स्टोरीज के लिए यहाँ क्लिक करें – SHORT STORiES

Usha Gupta

Recent Posts

लताजी की हालत गंभीर… (Lata Mangeshkar In ICU)

लेजेंड सिंगर लता मंगेशकरजी को सांस लेने मेंं तकलीफ़ होने के कारण आईसीयू में भर्ती किया गया है. वे मुंबई…

बिंदास गर्ल कंगना के भाई अक्षत की हुई सगाई, देखें ख़ूबसूरत फोटोज़ (Kangana Ranaut Brother Akshat Engagement Pics Viral)

बॉलीवुड की बिंदास गर्ल कंगना रनौत हमेशा अपने बेबाक बयानों की वजह से चर्चा में छाई रहती हैं. लेकिन इस…

शाहरुख, ऐश-अभिषेक और शाहिद-मीरा जैसे सितारों से सजी अंबानी की प्री-वेडिंग पार्टी, देखें पिक्स व वीडियोज़ (Bollywood Stars Attend Pre Wedding Bash Of Mukesh Ambani’s Niece See Pics-Videos)

मुकेश अंबानी का ख़ूबसूरत आशियाना अंटालिया कल रात एक फिर फिल्मी सितारों की चकाचौंध से रौशन हो गया. और हो…

ग़ज़ल (Shayari: Gazal)

दग़ाबाज़ दुनिया हसीं दिख रही है बता साकिया तूने क्या दे दिया है दराज़-ए-उमर की दुआ देने वालों न दो…

Learn English Speaking: बचें इंग्लिश शब्दों के प्रयोग में होनेवाली आम गलतियों से (Learn English Speak English: Common errors in the use of words)

दुनियाभर के मुकाबले भारते में अंग्रेज़ी बोलनेवालों की संख्या सबसे ज़्यादा है, लेकिन इन सबके बावजूद यह एक विदेशी भाषा…

पहला अफेयर: पहले प्यार की ख़ुशबू (Pahla Affair: Pahle Pyar Ki Khushbu)

पहला अफेयर: पहले प्यार की ख़ुशबू (Pahla Affair: Pahle Pyar Ki Khushbu) आज भी मेरे हाथों पर तेरे प्यार की…

© Merisaheli