शायरी

काव्य- बहाव के विपरीत बह कर भी ज़िंदा हूं…‌ (Poetry- Bahav Ke Viprit Bah Kar Bhi Zinda Hun…)

बहाव के विपरीत बहती हूंइसीलिए ज़िंदा हूंचुनौती देता है जो पुरज़ोर हवाओं कोखुले गगन में उड़ता वो बेबाक़ परिंदा हूं..…

March 3, 2024

कविता- बेटे के नाम (Poetry- Bete Ke Naam)

स्मृति पट परआज भी चित्रित है वह दिनजब तुम किन्हीअनजाने, अनदेखे लोक से उतरमेरी गोद में आए थे.. और मुझे…

February 5, 2024

कविता- मेरे राम…(Poetry- Mere Ram…)

संवरे सारे बिगड़े काम विपदा का हो काम तमाम संशय हटे तब मन का सारा प्रभु राम का लें जब…

January 21, 2024

ग़ज़ल- इश्क़ का चैप्टर और तुम… (Poetry- Ishq Ka Chapter Aur Tum…)

कभी कभीमुझे लगता हैमुझे इश्क़ का चैप्टर क्लोज़ कर देना चाहिएकि तभी तुम आ जाती होमुस्कुराते हुएमेरे सीने पर हाथ…

July 3, 2023

ग़ज़ल- तुम मेरी रगों में नशा बन के बह रहे हो… (Gazal- Tum Meri Rago Mein Nasha Ban Ke Bah Rahe Ho…)

तुम मेरी रगों में फिर नशा बन के बह रहे हो क्या मेरी तमन्नाएं जी उठी हैं तुम्हारे दिल में…

October 19, 2022
© Merisaheli