marriage

पति को ही नहीं, परिवार को अपनाएं, शादी के बाद कुछ ऐसे रिश्ता निभाएं! (Dealing With In-Laws After Marriage: Treat Your In-Laws Like Your Parents)

शादी सिर्फ़ दो लोगों या दो दिलों का संगम ही नहीं होता, बल्कि ये दो परिवार के एक होने का खूबसूरत सफ़र है. सिर्फ़लड़का लड़की ही नहीं, बल्कि दोनों के परिवार भी शादी के बाद एक हो चुके होते हैं. लेकिन अक्सर इस धारणा को जानतेहुए भी मानते और निभाते बहुत कम लोग ही हैं, क्योंकि लड़की को लगता है कि ससुरालवाले उसके पति के रिश्तेदार हैंऔर लड़कों को तो दामाद होने का टैग मिलने के बाद वो खुद को किसी राजा से कम नहीं समझते और पत्नी के परिवारको पूरी तरह अपना पाते. लड़के के घरवालों को भी यही लगता है कि लड़की के परिवार की ही सब जिम्मेदारियां होती हैं, ऐसे में लड़की के घरवालों की समस्याओं से उन्हें क्या लेना-देना…  लेकिन शादी का असली मतलब तो यही होता है जब ये दो परिवार एक होकर एक-दूसरे का मान-सम्मान करें औरमुश्किल वक़्त में एक-दूसरे के साथ खड़े रहें!  आमतौर पर शादी के बाद लड़कियों को नए घर में एडजेस्ट करना होता है, लेकिन इन दिनों ऐसी सोच ज़्यादा हो गई है किलड़कियां एडजेस्टमेंट के लिए तैयार नहीं होती और उनके लिए शादी की परिभाषा सिर्फ़ पति तक ही सीमित होकर रहजाती है और इसीलिए समस्या आती है… बेहतर होगा कि पति को ही नहीं, परिवार को अपनाएं… तभी आपका भविष्यसुरक्षित और जीवन खुशहाल रहेगा…  सबसे पहले तो दिमाग़ से ये बात निकाल दें कि पति के परिवारवाले आपके लिए ग़ैर हैं.जी नहीं, अब वो भी आपके उतने ही अपने हैं जितने आपके पति के. बेहतर होगा सकारात्मक सोच के साथ आप रिश्तों को देखें. शादी के बाद अब पति पर बस आपका ही हक़ है, उनकी भावनाओं से लेकर उनके पैसों तक पर बस अब आपका हीअधिकार है, इस मानसिकता के साथ आप कभी ख़ुशहाल जीवन नहीं जी पाएंगी.ससुराल की हर बात में कमी निकालना और हर बात मायके वालों से शेयर करना ग़लत है. सास को मां का दर्जा देंगी तो वो भी बेटी का प्यार आपको ज़रूर देंगी. ससुर को पिता स्वरूप मानेंगी तो उनका आशीर्वाद हमेशा सिर पर रहेगा.ननद-देवर को भी भाई-बहन की तरह देखें. अपनी चीज़ें उनके साथ शेयर करने से पीछे न हटें. दोस्ती का रिश्ता बनाएंगी तो खुद को अकेला नाहीं पाएंगी.अधिकांश रिश्तों में दरार पैसों व काम की ज़िम्मेदारी को लेकर ही आती है, लेकिन बेहतर होगा कि आप सबमिलकर अपने घर का बजट तैयार करें, जिसमें अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार सबका योगदान हो. काम और ज़िम्मेदारियों का भी चार्ट बना लें और हंसी-ख़ुशी हर कोई अपने हिस्से का काम सम्भाले. एक-दूसरे को चैलेंज करें कि देखते हैं इस हफ़्ते कौन होगा बेस्ट हाउसमेट… चाहें तो वीकेंड पर सबके काम काजायज़ा लेने दें अपने सास-ससुर को और जिसके एफ़र्ट्स सबसे ज़्यादा हों उसको कोई इनाम भी मिले.कोशिश करें कि एक वक़्त का खाना सब साथ मिलकर खाएं. डिनर के बाद आप एक कॉफ़ी डेट रखें जिसमें सभी अपने दिनभर का अनुभव शेयर करें. सबसे ऐसी बॉन्डिंग बनाने की आपकी कोशिश होनी चाहिए कि अपनी तकलीफ़ और दुःख-दर्द वो आपसे शेयरकरने में हिचकें नहीं.सास-ससुर की हेल्थ से लेकर उनके खाने-पीने का ख़ास ध्यान रखकर आप उनकी फ़ेवरेट बन सकती हैं.घरवालों के लिए कभी कुछ स्पेशल बनाएं या उनके साथ पिकनिक पर जाएं. हर वीकेंड के लिए कुछ न कुछ प्लान करें जिससे आप लोगों का लगाव और भरोसा एक-दूसरे के लिए बढ़े.पति से हमेशा शिकायत हि न करें, कोशिश हो कि हमेशा कुछ पॉज़िटिव बात आप कहें. पैसों और घर खर्च को लेकर बहुत ज़्यादा कंजूसी या हस्तक्षेप न करें. बेहतर होगा साथ बैठकर ज़रूरी और ग़ैरज़रूरी ख़र्चों को समझ लें. आजकल वैसे भी सास-बहू का रिश्ता बदल रहा है, अब पहले की तरह सास वाली भूमिका नहि रही, बल्कि दोस्तीका रिश्ता ज़्यादा हो गया है, तो सास से अपने मन की बात, परेशनियां शेयर करें. अगर कोई ऐसी दुविधा आ गई हैजिसका हल नहीं मिल रहा तो सास से सलाह लें. उनको भी महसूस होगा कि आप उनकी सलाह को महत्व देती हैं. सास और ससुर से कहें कि उनका अनुभव और सलाह आपको सही रास्ता दिखा सकता है. कभी-कभी अपनी सास और ननद के साथ शॉपिंग या मूवी प्लान करें, जिसमें सिर्फ़ आप लोग हों और घर के पुरुषोंको कहें कि वो आप लोगों के लिए कुछ अच्छा सा सरप्राइज़ या टेस्टी डिनर तैयार करें. इसी तरह कभी-कभी पुरुषों को बाहर एंजॉय करने को कहें और आप लोग घर पर पार्टी करें. ननद और देवर के लिए बर्थडे पर ही नहीं, वैसे भी गिफ़्ट्स ले आए करें.कोशिश करें कि आपके मायकेवालों के साथ ससुराल वालों के संबंध आपके प्रयास से और बेहतर बनें. अगर आप घर की छोटी बहू हैं तो अपनी जेठानी का भी मान रखें. उन्हें प्यार और सम्मान दें, उनके साथ घरेलू कामोंमें मदद करें. उनके सुख-दुःख को जानें, एक सहेली जैसा बर्ताव करें, ताकि वो आप पर विश्वास करके आपकोसहयोग दें.अगर आप वर्किंग हैं तो जेठानी को भी प्रोत्साहित करें कि वो भी अपने गुणों के आधार पर घर बैठे बहुत कुछ करसकती हैं.अगर वो भी वर्किंग हैं तो आपस में वर्क लाइफ़ डिसकस करें, एक-दूसरे से ईर्ष्या करने से बचें.चाहें तो मिलकर हॉबी क्लास जॉइन करें या वर्क आउट करें. घर के बुजुर्गों को बस आपका थोड़ा सा समय चाहिए होता है, उनके साथ बैठकर उनका हाल जानें. उनकी तबियतक दवाओं का ध्यान रखें. ऐसा नहीं है कि सिर्फ़ लड़कियों की ही ज़िम्मेदारी बनती है, यही बातें लड़कों पर भी लागू होती हैं कि वो अपनेससुराल वालों के लिए दामाद से ज़्यादा एक बेटे की भूमिका निभाएं. बीच-बीच में खुद फ़ोन करके या घर जाकर सबका हाल चाल जान आएं. किसी तरह की मदद हो तो ज़रूर सहयोग करें. ससुराल में ऐसे बनें सबकी फ़ेवरेट… इसके लिए आपको सबसे पहले अपने मन से तमाम बनी-बनाई धारणाएं निकालनी होंगी.सास और ननद तो बुरी ही होती हैं, जेठानी तो जलनेवाली और साज़िश करनेवाली ही होती है- ये राय पहले से नबना लें.सबका दिल जीतने के लिए कुछ एक्स्ट्रा प्रयास करें.सासू मां को शिकायत का मौक़ा न दें और उनकी पसंद-नापसंद जानने की कोशिश करें. उनसे कुछ कुकिंग टिप्स लें. सलाह लेकर ही हर काम करें. उनकी तारीफ़ करें कि आप कैसे ज़िम्मेदारी से सब संभाल लेती हैं, काश मैं भी कर पाती ऐसा.उनसे दोस्ती करके बाक़ी घरवालों की भी पसंद-नापसंद जानने की कोशिश करें.अपनी जेठानी या पति से भूलकर भी सास या घर के अन्य सदस्य की शिकायत या बुराई न करें.शादी के बाद सिर्फ़ पति को ही खुश करने में न लगी रहीं, बल्कि पूरे परिवार को साथ लेकर चलें.सोच यही रखें कि ये आपके ही परिवारवाले हैं और अब इनके साथ ही आपका जीवन और भविष्य है तो ऐसे में क्योंन इनके लिए कुछ ख़ास किया जाए और क्यों न इनके दिल में अपनी ख़ास जगह बनाई जाए.इस तरह रिश्ता निभाएंगी तो ज़रूर शादी और रिश्तों को कामयाब व बेहतर बना पाएंगी.बिट्टू शर्मा  यह भी पढ़ें: 6 रिलेशनशिप गुरु, जो रिश्ते में दे सकते हैं…

शादी के दिन भूलकर भी न करें ये ग़लतियां, इस ख़ास दिन को अपने व अपनों के लिए यूं बनाएं यादगार… (40+ Common Wedding Day Mistakes That Every Bride Should Avoid)

शादी का दिन ज़िंदगी का सबसे ख़ास दिन होता है और इस ख़ास दिन के लिए तैयारियां भी ख़ास की जाती हैं, लेकिन ओवर एक्साइटमेंट में ज़्यादातर लोग कुछ न कुछ ऐसा कर देते हैं जिसके बारे में उन्हें बाद में महसूस होता है कि काश ऐसान किया होता, क्योंकि शादी के दिन आपकी एक छोटी-सी गलती भी आपके भविष्य के लिए भारी पड़ सकती है या फिर आपके शादी के मज़े को किरकिरा कर सकती है… तो क्या है वो बातें, जिनका ख़्याल आपको रखना चाहिए और कौन-सी हैं वो ग़लतियां जिन्हें करने से बचना चाहिए, आइए जानें…  सबसे पहले तो ओवर थिंकिंग से बचें यानी बहुत ज़्यादा न सोचें कि आज शादी है, आज के बाद ज़िंदगी बदलजाएगी, ज़िम्मेदारी बढ़ जाएगी, न जानें नए लोग कैसे होंगे… ये सब न सोचें वर्ना तनाव बढ़ सकता है, जिसका असरआपके चेहरे और सेहत दोनों पर नज़र आएगा.ओवर एक्साइटमेंट से भी बचें. अति उत्साह हमें थका देता है, जिससे आपकी एनर्जी ड्रेन हो जाएगी और शादी केवक़्त आप थके-थके लगेंगे. बहुत ज़्यादा एक्स्पेरिमेंट न करें. शादी के दिन  न दुल्हन को और न ही दूल्हे को किसी तरह का कोई एक्सपेरिमेंटकरना चाहिए. कपड़ों का ट्रायल पहले ही कर लेना चाहिए, शादी वाले दिन के लिए उसे न छोड़ें.शादी वाले दिन शॉपिंग करने या बहुत ज़्यादा घर का काम करने से भी बचें. बेहतर होगा खुद को फ़्री और रिलैक्स्डरखें. चाहें तो म्यूज़िक सुनें.नया हेयर कट, नया हेयर स्टाइल या फिर हेयर कलर न करवाएं. आपका पूरा लुक ख़राब हो सकता है.इस दिन फेशियल न कराएं, वर्ना स्किन पर ऑइल नज़र आएगा, फेशियल शादी से तीन-चार दिन पहले कराएं.नया प्रोडक्ट ट्राई न करें वर्ना एलर्जी या कुछ और समस्या हो सकती है. शादी वाले दिन वैक्सिंग न करवाएं, कुछ दिन पहले ही ये काम करवा लें, वर्ना स्किन पर रैशेज़ या अन्य समस्या होसकती है. पिंपल की समस्या है तो उसको हटाने के चक्कर में बहुत ज़्यादा ट्रीटमेंट न करें, वर्ना वो और ज़्यादा उभर जाएगा.नींद पूरी लें. दिन में सोने से बचें लेकिन आराम ज़रूर करें. तनाव से बचें, माना शादी को लेकर एक घबराहट होती ही है लेकिन बहुत ज़्यादा न सोचें वर्ना चेहरे पर और आंखोंके आसपास सूजन या भारीपन दिखाई देगा. हेवी खाना खाने से बचें, बदहज़मी या पेट ख़राब हो सकता है. घरेलू फेस पैक या कोई नुस्ख़ा न आज़माएं. बेहतर होगा आज के दिन स्किन को नेचुरल रखें, ब्रीद करने दें.दूल्हे को भी ध्यान देना होगा कि शादी वाले दिन बहुत ज़्यादा दोस्तों से ही न घिरे रहें. ख़ुशी, उत्साह या किसी के उकसाने से शराब का सेवन न करें. ये आपकी ज़िंदगी का हसीन दिन है, इसे होश मेंरहकर एंजॉय करें और हो सकता है शराब ज़्यादा हो जाए तो नशे में आपसे क्या गलती हो जाए, होनेवाली पत्नीऔर उसके घरवालों को भी ये बात पसंद न आए. बहुत ज़्यादा बात न करें यानी ओवरफ्रेंडली न हों. अगर आपकी लव मैरिज है तब भी होनेवाले पति या पत्नी केदोस्तों, रिश्तेदारों या ऑफ़िस कलीग से बहुत ज़्यादा हंस-हंसकर या बेपरवाह होकर बातें न करें, क्योंकि हो सकताहै आपका पार्टनर खुले विचारों का हो लेकिन उनके परिवार या रिश्तेदार कुछ ग़लत राय बना लें आपके बारे में. अपने होनेवाले ससुराल की बुराई न करें, न ही अपनी बड़ाई करके उनमें कमियां निकालें.गंदे जोक्स करने से बचें.फ़ैशन के चक्कर में कुछ ऐसा पहनने से बचें जो आपके लिए असुविधाजनक हो. ओवर मेकअप न करें और न करने दें. अपना लुक कुछ दिन पहले ही फ़ाइनल कर लें और उसमें लास्ट मिनट चेंजेसन करें. शादी के दिन आपको खूबसूरत लगने का हक है लेकिन उस चक्कर में खुद को बहुत ज़्यादा लीप-पोत न लें. बहुत ज़्यादा हाई हील्स न पहनें, उससे असुविधा तो होगी ही, आपके गिरने का भी डर बना रहेगा. पैसों को लेकर इस दिन कोई बात न करें. शादी के दिन पार्टनर्स एक-दूसरे को सहज महसूस कराएं, हावी होने की कोशिश न करें. अपने ससुरालवालों को लेकर मन कोई धारणा बनाकर न रखें. साफ़ मन से सबको अपनाएं. पूर्वाग्रहों से बचें, शादी के दिन किसी का व्यवहार देख कर उसके बारे में वही धारणा न बना लें. रिश्तों को वक़्त देना पड़ता है इस सोच के साथ मंडप में बैठें. शादी वाले दिन ससुराल पहुंचते ही शिकायतें न करें कि यहां ये सुविधा नहीं या इस चीज़ की कमी है. ठीक इसीतरह लड़के भी अपने ससुरालवालों को ये न जताएं कि वो उनकी बेटी के साथ शादी करके उनपर कोई एहसान कररहे हैं. बेहतर होगा विनम्रता से सारी रस्में निभाएं. शादी की रात ही सेक्स हो इस बात को दिमाग़ से निकाल दें. शादी की थकान के चलते एक-दूसरे को आराम करनेदें. बात करें और सकारात्मक रहें.एक-दूसरे के शादी के पहले के अफ़ेयर या दोस्तों को लेकर कुछ न पूछें. अगर आपकी अरेंज मैरिज है तो पार्टनर के साथ एक ही दिन में ओवर फ्रेंडली या बहुत ज़्यादा खुलने की गलती नकरें, पहले पार्टनर के स्वभाव को ठीक से जान-समझ लें. वर्ना हो सकता है वो आपके बारे में कोई ग़लत राय बनालें.अगर आपको कोई परेशानी महसूस हो रही है तो उसे ज़रूर विनम्रता से अपने पार्टनर को बताएं. इससे उन्हें लगेगाकि आप उन पर विश्वास करते हैं और उन्हें पूरी तरह से अपना मान चुके हैं.शादी वाले दिन माना हल्की बातें नहीं करनी चाहिए लेकिन उसका ये मतलब भी नहीं कि धीर-गंभीर बनें रहें, इससे येलगेगा कि आपका स्वभाव ही ऐसा है या फिर आप इस शादी से खुश नहीं.आपके चेहरे व स्वभाव में परिपक्वता दिखनी चाहिए लेकिन आप बोझिल या बुझे-बुझे न दिखें. प्यारी मुस्कान होंठों पर रहे, आंखों में ख़ुशी झलके, शांत मन-मस्तिष्क और सकारात्मक सोच के साथ अपने इसदिन का स्वागत करें. हां, अगर आपको कुछ खटक रहा है और लगे कि आपका चुप रहना सही नहीं, तो खुद को न रोकें. कुछ ग़लत हो रहा हो तो लोकलाज के चक्कर में बलि का बकरा न बनें, किसी तरह का कोई कन्फ़्यूज़न हो तो मन मेंदुविधा रखकर शादी के मंडप में न बैठें, पहले उस दुविधा को दूर करें. होनेवाले पार्टनर से बात करें या अपने घरवालोंसे. शादियों में अक्सर छोटी-बड़ी ग़लती या कमी रह ही जाती है, उन कमियों को आधार बनाकर बखेड़ा न खड़ा करें. सहयोगपूर्ण रवैया अपनाएं. इससे आगे चलकर आपका ही मान बढ़ेगा. आज मेरी शादी है तो मेरी बात तो सबको माननी ही होगी, इस एटिट्यूड के साथ न रहें… आज तो मैं मनमानी करसकता या कर सकती हूं, जो मांगू वो मिलना चाहिए या पैरेंट्स को देना ही पड़ेगा वर्ना मैं शादी ही नहीं करूंगा याकरूंगी… इस मानसिकता से जितना दूर रहेंगे उतना आपके भविष्य ke लिए सही होगा. ये सोच न सिर्फ़ आपकेघरवालों बल्कि आगे चलकर आपके पार्टनर और ससुरालवालों को भी नागवार गुज़रेगी और इसका असर आपकेरिश्ते पर पड़ेगा.शादी के बाद कुछ समझौते करने पड़ते हैं और थोड़े बदलावों से गुज़रना पड़ता है, इस सत्य को बहुत ही सहजता सेअपनाएं, इसे तनाव या हौवा बनाकर आज के दिन को भी तनावपूर्ण न बना लें. अपना दिल बड़ा रखें, सही सोच के साथ अपनी मानसिक दशा को भी सही रखें और इस दिन को अपने व अपनों के लिए यादगार बनाएं. सिल्की शर्मा  यह भी पढ़ें: 65+ टिप्स: रिश्ता टूटने की नौबत आने से पहले…

शादी मुबारक! राहुल वैद्य-दिशा परमार हुए एक दूजे के, शादी की प्यारी तस्वीरें आई सामने! (Rahul Vaidya Weds Disha Parmar, See Pictures)

आख़िरकार राहुल और दिशा ने ले लिए सात फेरे और दिशा परमार बन गई मिसेज़ राहुल वैद्य. लाल जोड़े में…

रिश्ते में क्या सहें, क्या ना सहें… (Critical Things You Should Never Tolerate In A Relationship)

रिश्ते होते ही इसलिए हैं कि जीवन का सफ़र आसान हो, मुश्किलें कम हों और बात जब हमसफ़र की हो तो उम्मीदें औरअपेक्षाएं बढ़ जाती हैं, लेकिन जब यही रिश्ता मुश्किलें पैदा करने लगे तो सवाल उठता है कि रिश्ते में क्या और कितना सहेंऔर कितना नहीं.  छोटे-मोटे झगड़े हर रिश्ते में होते हैं तो उनको आधार बनाकर कभी अपने रिश्ते को न बिगाड़ें.अगर पार्टनर की कुछ आदतें आपको नापसंद हों तो यही सोचें कि कोई भी परफेक्ट नहीं होता. सामनेवाले को अपनेजैसा बनाने या बदलने की कोशिश न करें, इससे रिश्ते ख़राब होंगे.अपने मायके वालों से तुलना करके अपने ससुराल की बुराई करना और फिर उसको आधार बनाकर झगड़ने से बचें. अगर पार्टनर कभी ग़ुस्सा करे तो उस बात को लंबा न खींचें क्योंकि ये सामान्य सी बात है. कभी आप तो कभी वोग़ुस्सा करेंगे ही, आख़िर इंसानी फ़ितरत है ये.अपनी फ़िज़ूल की ख़्वाहिशों को पूरा करने के लिए ब्लैक मेलिंग न करें और न ही एक-दूसरे को ताना दें. इसी तरह की तमाम छोटी-छोटी और भी कई बातें हैं जो रिश्ते में सहनी ही चाहिए और उनको आधार बनाकर अपने रिश्तेकी बलि न चढ़ाएं. लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं जो रिश्ते में सहनी नहीं चाहिए वर्ना आप पर ही भारी पड़ सकती हैं ये बातें. 1.डोमेस्टिक वॉयलेंस: एक सर्वे के मुताबिक़ भारत में घरेलू हिंसा के कारण काफ़ी मौतें होती हैं. डोमेस्टिक वॉयलेंस एकअपराध है, लेकिन बावजूद इसके अधिकांश महिलाएं रिश्ते को बचाए रखने के लिए इसे बर्दाश्त करती हैं. यहां तक किपढ़ी-लिखी व सेलिब्रिटी भी इसे बर्दाश्त करती हैं. लोगों से इसे छिपाती भी हैं, यही वजह है कि सामनेवाली की ये आदतहो जाती है, क्योंकि उसको लगता है कि पत्नी को दबाकर रखना बेहद आसान है और फिर वो हर छोटी-बड़ी बात पर हाथउठाना अपना हक़ समझने लगता है. किसी भी रिश्ते में हिंसा की कोई जगह नहीं होती है और ये बात कोई भी महिलाजितनी जल्दी समझ जाए इतना अच्छा है.  ऐसा नहीं है कि सिर्फ़ महिलाएं ही इसका शिकार होती हैं, कई पुरुष भी रिश्ते में हिंसा व प्रताड़ना के शिकार होते हैं, उन्हेंभी यह डर लगता है कि समाज उनकी बात पर भरोसा नहीं करेगा, लेकिन बेहतर होगा आप भी अपने हक़ के लिए लड़ें औरग़लत बातों को बर्दाश्त न करें और सबसे बड़ी बात अपने स्वाभिमान के लिए अन्याय बर्दाश्त न करें!  2. सेक्स में ज़बर्दस्ती: मैरिटल रेप के कई मामले सामने आते हैं लेकिन इस पर अब तक विवाद ही है, लेकिन महिलाएंइसका काफ़ी शिकार होती हैं. सेक्स और रिश्ते में दोनों की भावनाओं और इच्छाओं का सम्मान बेहद ज़रूरी है. लेकिनअगर सेक्स में पार्टनर बस अपनी ही ज़रूरत का ख़याल रखता है तो वो मशीनी प्रक्रिया होती है जिसमें भावनाएं व प्यारनदारद होता है. अगर आप अपने पार्टनर का सम्मान करते हैं, तो पार्टनर से भी उम्मीद करते होंगे, वो भी उतना ही सम्मानआपको दे. लेकिन जब ऐसा नहीं होता और एक ही पार्टनर हमेशा अपनी इच्छाएं थोपता चला जाता है, तो यह ज़बर्दस्तीघुटन पैदा करती है. अगर पार्टनर आपको समय नहीं देता, रोमांस की आपकी ज़िंदगी व बेडरूम में जगह नहीं, आपके पासप्यार से बैठकर आपके सुख-दुख के बारे में जानने की कोई ज़रूरत नहीं समझता और आपको महज़ अपनी ज़रूरत पूरीकरने का साधन समझता है तो उस रिश्ते में आप कहां हो ये समझ लेना ज़रूरी है. 3.अप्राकृतिक यानी अननेचुरल सेक्स: कई पुरुष अपने पार्टनर पर अननेचुरल सेक्स के लिए दबाव डालते हैं. भारत मेंएनल सेक्स और ओरल सेक्स ग़ैरक़ानूनी है और अगर आपका पार्टनर कंफर्टेबल नहीं है, तो उस पर दबाव न डालना हीबेहतर होगा. वो पोर्न फिल्मों को अपना आदर्श मानते हैं और अपने पार्टनर से उसी तरह के प्रदर्शन की चाह रखते हैं. सेक्समें दोनों का सहज रहना ज़रूरी है. यदि कोई समस्या है, तो विशेषज्ञ की राय ली जा सकती है, आप काउंसलर के पास भीजाकर अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के तरी़के जान सकते हैं या आप आपस में बात करें, सेक्स में और भी कईतरह के फ़न और एक्सपेरिमेंट किए जा सकते हैं ताकि बोरियत न हो और न ही इस तरह अननेचुरल सेक्स का सहारा लेनेकी बात दिमाग़ में आएगी. 4. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर: रिश्ते में बेईमानी बर्दाश्तन करें. अगर कभी कोई भूल हो जाए या इंसान भटक जाए, तो माफ़किया जा सकता है, लेकिन यदि कोई बार-बार आपके भरोसे का फ़ायदा उठाता रहे और वही गलती बार-बार दोहराए, तोआपको आंखें खोल लेनी चाहिए. यह सोचकर कि रिश्ता टूट जाएगा, इसलिए बर्दाश्त करते रहना, सहते रहना सही नहीं. अगर आप सहते जाएंगे तो पार्टनर आपको हल्के में लेगा. उसकी यह सोच बन जाएगी कि मैं चाहे जो भी करूं, उसे बर्दाश्तकर लिया जाएगा, अच्छा होगा कि पार्टनर के इस भ्रम को तोड़ें और ख़ुद को भी भ्रमित होने से रोकें. आपके लिए अगरपार्टनर के मन में प्यार और सम्मान नहीं तो उस रिश्ते को भी वो सम्मान नहीं देगा जिसमें आप दोनों बंधे हैं. 5.भावनात्मक शोषण व मानसिक प्रताड़ना: शारीरिक प्रताड़ना ही नहीं मानसिक प्रताड़ना भी बेहद घातक होती है. इसकेअलावा भावनात्मक रूप से भी कई लोग अपने पार्टनर को प्रताड़ित करते हैं. यदि आपको यह महसूस हो रहा है कि रिश्ते मेंआपका शोषण हो रहा है, मानसिक यातनाएं दी जा रही हैं, बेवजह गाली-गलौज की जा रही है या आर्थिक स्तर पर भीपरेशान किया जा रहा है, तो अपने लिए स्टैंड लें और पार्टनर से जितना जल्दी हो बात करके बताएं कि ये सब आप बर्दाश्तनहीं करेंगी. अपने हक़ के लिए आवाज़ उठाएं. यदि आपको यह महसूस हो रहा है कि रिश्ते में आपका शोषण हो रहा है, पार्टनर या कोई भी आपको भावनात्मक स्तर पर सपोर्ट नहीं कर रहा या हर छोटी-मोटी ज़रूरतों के लिए आपको उसकेसामने गिड़गिड़ाना पड़ रहा है, हर बात पर आपको तंज कसे जाते हैं, सबके सामने नीचा दिखाने की कोशिश होती है या येजताया जाता है कि आपकी कोई अहमियत नहीं तो चुप रहकर सहना समझदारी नहीं. तो क्या करें? सबसे पहला रास्ता है बात करें. अपनी बात प्यार और शांति से समझाएं कि आप रिश्ते को महत्व देती हैं इसलिए इसेबचाए रखना चाहती हैं. लेकिन बात से जब बात आगे बढ़ जाए तो आप एक्सपर्ट की राय व मदद लेने से न हिचकें. अपनेऔर पार्टनर के पेरेंट्स से बात करें और बड़ों की राय के बाद निर्णय लें ताकि रिश्ते में ये सब न सहना पड़े.  पिंकी शर्मा 

यामी गौतम ने शेयर की वेडिंग एलबम की अनदेखी तस्वीरें, मेहंदी के बाद अब हल्दी सेरेमनी की पिक्चर्स हुईं वायरल! (Yami Gautam Shares More Pictures From Pre-Wedding Ceremonies)

यामी गौतम ने गुपचुप तरीक़े से अचानक शादी कर सबको चौंका दिया था. बेहद सादगी से हुई इस शादी की…

शादी करने जा रहे हैं, पर क्या वाकई तैयार हैं आप? एक बार खुद से ज़रूर पूछें ये बात! (Ask Yourself: How Do You Know If You Are Ready For Marriage?)

शादी को आज भी हमारे समाज की सबसे अहम परंपरा माना जाता है. ऐसे में लोगों को लगता है कि…

शादी से पहले और शादी के बाद, इन 15 विषयों पर ज़रूर करें बात! (15 Things Every Couple Should Discuss Before Marriage)

शादी एक ज़िम्मेदारी है और उससे जुड़ी बहुत-सी ज़िम्मेदारियां शादी के बाद अपने आप जुड़ती चली जाती हैं, इसलिए शादी…

जल्द मां बनना चाहती हैं सना खान, अपने निकाह, ब्रेकअप और शौहर के लुक्स पर हो रही चर्चा पर भी खुलकर बोलीं! (Sana Khan On Marrying Anas ‘It Was Not An Overnight Decision)

सना खान ने जब शोबिज़ को अलविदा कहा था तब लोगों को काफ़ी हैरत हुई थी लेकिन उससे ज़्यादा हैरानी…

© Merisaheli