Categories: FILMEntertainment

Throwback: इस एक सवाल ने हराया ऐश्वर्या राय को और सुष्मिता ने जीता मिस इंडिया 1994 का ताज (Throwback: Sushmita Sen Beat Aishwarya Rai In This Question To Win Miss India Title In 1994)

इस एक सवाल का जवाब देकर नीली आंखों वाली खूबसूरत हसीना ऐश्‍वर्या राय को पछाड़ कर मिस इंडिया बनी थीं सुष्मिता सेन, ऐसे जीता था…

इस एक सवाल का जवाब देकर नीली आंखों वाली खूबसूरत हसीना ऐश्‍वर्या राय को पछाड़ कर मिस इंडिया बनी थीं सुष्मिता सेन, ऐसे जीता था मिस इंडिया 1994 का ताज…

सुष्मिता सेन भारत की ऐसी पहली खूबसूरत महिला हैं, जिन्होंने देश के लिए पहला मिस यूनिवर्स का ताज जीता. सुष्मिता सेन ने पहले मिस इंडिया और फिर मिस यूनिवर्स का खिताब जीतकर देश का गौरव बढ़ाया. खास बात ये है कि सुष्मिता सेन ने नीली आंखों वाली खूबसूरत हसीना ऐश्वर्या राय को हराकर मिस इंडिया का ताज जीता था.

बता दें कि 1994 में मिस इंडिया प्रतियोगिता का आयोजन गोवा में किया गया था, जिसमें सुष्मिता सेन और ऐश्‍वर्या राय दोनों ने हिस्सा लिया था और दोनों ही आखिरी राउंड तक पहुंच गई थीं. फिर मिस इंडिया 1994 के लिए दोनों के बीच कांटे की टक्‍कर हुई. आखिरी राउंड में जब दोनों के बीच मामला टाई पर आकर रुक गया, तो जजों ने फैसला किया कि एक फाइनल सवाल के आधार पर यह तय किया जाएगा कि मिस इंडिया का ताज किसके सिर पर सजेगा. फिर दोनों से बारी-बारी सवाल पूछा गया.

जजेज़ ने सुष्मिता से पूछा, “आप भारत के टेक्सटाइल हेरिटेज के बारे में क्या जानती हैं? ये कब शुरू हुआ और क्या आप इन्‍हें पहनना पसंद करेंगी?” इस सवाल का जवाब देते हुए सुष्मिता ने कहा, “मुझे लगता है कि ये महात्मा गांधी के समय शुरू हुआ था. इसे बहुत लंबा समय बीत चुका है. मुझे इंडियन और एथनिक वेयर पहनना बहुत पसंद है.”

फिर जजेज़ ने एक सवाल ऐश्वर्या राय से पूछा, “आप अपने पति में कैसी खूबियां देखना चाहेंगी? आप ‘The Bold’ के Ridge Forrester और Santa Barbara के Mason Capwell में से किसे चुनेंगी? इस सवाल का जवाब देते हुए ऐश्वर्या राय ने कहा, मुझमें और मैसन में बहुत सी चीजें एक जैसी हैं. मैसन बहुत केयरिंग हैं और उनका सेंस ऑफ ह्यूमर बहुत अच्छा है, जो मेरे कैरेक्टर से मेल खाता है, इसलिए मैं मैसन को चुनूंगी.”

यह भी पढ़ें: देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा बन गई हैं ग्लोबल सुपर पावर, इस इंटरनेशनल मैगज़ीन ने दिया है प्रियंका को ये खिताब (Priyanka Chopra Becomes Global Superpower, This International Magazine Gave This Title To Priyanka)

दोनों के जवाब में से जजेज़ को सुष्मिता सेन का जवाब ज्‍यादा पसंद आया, इसलिए मिस इंडिया 1994 का ताज सुष्मिता के सिर सजा. इस तरह एक सवाल का जवाब देकर सुष्मिता सेन ने ऐश्वर्या राय को पछाड़ कर मिस इंडिया का ताज अपने नाम कर दिया.

बता दें कि सुष्मिता सेन ने इसी साल यानी 1994 में मिस यूनिवर्स का खिताब भी जीता और देश का गौरव बढ़ाया. भारत के लिए पहली बार मिस यूनिवर्स का खिताब सुष्मिता सेन ने ही जीता था और उस समय उनकी उम्र सिर्फ 18 साल थी.

सुष्मिता सेन ने दो बेटियों को गोद लेकर ये साबित कर दिया कि उनका दिल कितना बड़ा है. सुष्मिता ने हमेशा लीक से हटकर अपनी अलग पहचान बनाई है और उनकी यही बात सुष्मिता को अन्य अभिनेत्रियों से खास बनाती है.

यह भी पढ़ें: ऐश्वर्या राय, दीपिका पादुकोण से लेकर विद्या बालन तक इन 5 बॉलीवुड अभिनेत्रियों ने निभाए बंगाली किरदार, आपको कौन-सा किरदार पसंद है? (5 Bengali Characters Of Bollywood Actresses, Which Character Do You Like?)

मिस इंडिया और मिस यूनिवर्स का खिताब जीतने के बाद सुष्मिता सेन ने बॉलीवुड फिल्मों में काम करना शुरू किया और अपने अभिनय से सबका दिल जीत लिया. सुष्मिता सेन ने भले ही बहुत ज़्यादा फिल्मों में काम नहीं किया है, लेकिन उनके अभिनय को दर्शकों ने हमेशा पसंद किया है.

इस समय भी सुष्मिता सेन बॉलीवुड से दूर ही हैं, लेकिन सोशल मीडिया के माध्यम से वो अपने फैन्स के साथ हमेशा जुड़ी रहती हैं.

Recent Posts

अजवाइन का पानी वज़न घटाने के साथ शरीर को रखता है फिट और हेल्दी (Ajwain Water For Weight Loss And Other Health Benefits)

महिलाएं अजवाइन का उपयोग रसोई के मसाले के रूप में करती हैं. अजवाइन भोजन को…

पहला अफेयर: अलविदा! (Pahla Affair… Love Story: Alvida)

क्या अब भी कोई उम्मीद बाक़ी है तुम्हारे आने की? क्या अब भी कोई हल्की सी गुंजाइश बची है हमारी मोहब्बत की? क्योंआज भी हर आहट पर धड़क उठता है मेरा दिल, क्यों आज भी रह-रहकर ये महसूस होता है कि तुम हो, कहीं आसपास हीहो… लेकिन बस निगाहों से न जाने क्यों ओझल हो!  सात बरस गुज़र गए जय तुमको मेरी ज़िंदगी से गए हुए लेकिन मैं आज भी, अब भी उसी मोड़ पर रुकी तुम्हारा इंतज़ार कररही हूं… एक छोटी-सी बात पर यूं तनहा छोड़ गए तुम मुझे! मैं तो अपने घर भी वापस नहीं जा सकती क्योंकि सबसेबग़ावत करके तुम्हारे संग भागकर शादी जो कर ली थी मैंने. शुरुआती दिन बेहद हसीन थे, हां, घरवालों की कमी ज़रूरखलती थी पर तुम्हारे प्यार के सब कुछ भुला बैठी थी मैं. लेकिन फिर धीरे-धीरे एहसास हुआ कि तुम्हारी और मेरी सोच तोकाफ़ी अलग है. तुमको मेरा करियर बनाना, काम करना पसंद नहीं था, जबकि मैं कुछ करना चाहती थी ज़िंदगी में.  बस इसी बात को लेकर अक्सर बहस होने लगी थी हम दोनों में और धीरे-धीरे हमारी राहें भी जुदा होने लगीं. एक दिनसुबह उठी तो तुम्हारा एक छोटा-सा नोट सिरहाने रखा मिला, जिसमें लिखा था- जा रहा हूं, अलविदा!… और तुम वाक़ई जा चुके थे…  मन अतीत के गलियारों में भटक ही रहा था कि डोरबेल की आवाज़ से मैं वर्तमान में लौटी!  “निशा, ऑफ़िस नहीं चलना क्या? आज डिपार्टमेंट के नए हेड आनेवाले हैं…” “हां रेखा, बस मैं तैयार होकर अभी आई…” ऑफिस पहुंचे तो नए हेड के साथ मीटिंग शुरू हो चुकी थी… मैं देखकर स्तब्ध थी- जय माथुर! ये तुम थे. अब समझ मेंआया कि जब हमें बताया गया था कि मिस्टर जे माथुर नए हेड के तौर पर जॉइन होंगे, तो वो तुम ही थे. ज़रा भी नहीं बदले थे तुम, व्यक्तित्व और चेहरे पर वही ग़ुरूर!  दो-तीन दिन यूं ही नज़रें चुराते रहे हम दोनों एक-दूसरे से, फिर एक दिन तुम्हारे कैबिन में जब मैं अकेली थी तब एक हल्कीसे आवाज़ सुनाई पड़ी- “आई एम सॉरी निशा!” मैंने अनसुना करना चाहा पर तुमने आगे बढ़कर मेरा हाथ पकड़ लिया- “मैं जानता हूं, ज़िंदगी में तुम्हारा साथ छोड़कर मैंनेबहुत बड़ा अपराध किया. मैं अपनी सोच नहीं बदल सका, लेकिन जब तुमसे दूर जाकर दुनिया को देखा-परखा तो समझआया कि मैं कितना ग़लत था, लड़कियों को भी आगे बढ़ने का पूरा हक़ है, घर-गृहस्थी से अलग अपनी पहचान औरअस्तित्व बनाने की छूट है. प्लीज़, मुझे माफ़ कर दो और लौट आओ मेरी ज़िंदगी में!” “क्या कहा जय? लौट आओ? सात साल पहले एक दिन यूं ही अचानक छोटी-सी बात पर मुझे यूं अकेला छोड़ तुम चलेगए थे और अब मुझे कह रहे हो लौटने के लिए? जय मैं आज भी तुम्हारी चाहत की गिरफ़्त से खुद को पूरी तरह मुक्त तोनहीं कर पाई हूं, लेकिन एक बात ज़रूर कहना चाहूंगी कि तुमने मुझसे अलग रहकर जो भी परखा दुनिया को उसमें तुमने येभी तो जाना ही होगा कि बात जब स्वाभिमान की आती है तो एक औरत उसके लिए सब कुछ क़ुर्बान कर सकती है. तुमनेमेरे स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई और अपनी सुविधा के हिसाब से मेरी ज़िंदगी से चले गए वो भी बिना कुछ कहे-सुने… औरआज भी तुम अपनी सुविधा के हिसाब से मुझे अपनी ज़िंदगी में चाहते हो!  मैं ज़्यादा कुछ तो नहीं कहूंगी, क्योंकि तुमने भी जाते वक़्त सिर्फ़ अलविदा कहा था… तो मैं भी इतना ही कहूंगी- सॉरीबॉस!”…

© Merisaheli