85+ डेली हेल्थ टिप आइडियाज़: इन छोटे-छोटे हेल्थ और लाइफ़स्टाइल टिप्स से होगा बड़ा फ़ायदा… (Health And Lifestyle Tips: 85+ Daily Health Tip Ideas)

हेल्दी रहना जितना चुनौतीपूर्ण लगता है, ये उतना है नहीं, क्योंकि हेल्दी और फिट रहने के लिए हम कुछ ज़्यादा ही सोचते हैं और कर…

हेल्दी रहना जितना चुनौतीपूर्ण लगता है, ये उतना है नहीं, क्योंकि हेल्दी और फिट रहने के लिए हम कुछ ज़्यादा ही सोचते हैं और कर कुछ नहीं पाते, लेकिन फिटनेस और हेल्थ के लिए कुछ बड़ा करने की नहीं, छोटे-छोटे स्येप्स लेने की ज़रूरत है, जो आपके देंगे बड़ा फ़ायदा… आइए, जानें क्या हैं वो टिप्स और स्टेप्स?

– सबसे पहले, अपने दिन की शुरूआत बेहतर करें. पॉज़िटिव माइंड के साथ उठे और अपनी दिनचर्या को हेल्दी रखें.
– सुबह समय से उठने का नियम बनाएं. 
– सुबह उठते ही एक या दो ग्लास गुनगुना पानी पीएं.
– हल्की-फुल्की एक्सरसाइज़, योग या वॉक से करें हेल्दी शुरुआत. रोज़ाना समय निकाल कर थोड़ी-सी फिज़िकल एक्टिविटी ज़रूर करें. दिन भर चुस्ती-स्फुर्ति के लिए हल्का व्यायाम बेहद ज़रूरी है.
– रोज़ाना कम से कम 8 ग्लास पानी ज़रूर पीएं. 
– चेहरे पर स्माइल रखें और खुद को मोटिवेट करें कि हां, आज का दिन अच्छा रहेगा और हम ख़ुश रहेंगे. 
– इसके बाद नंबर आता है हेल्दी ब्रेकफास्ट का. पौष्टिक नाश्ता करें, क्योंकि ऊर्जा को बढ़ाने और नए दिन की शुरुआत के लिए सबसे ज़रूरी है पौष्टिक नाश्ता, जिससे शरीर को पूरे दिन की ऊर्जा मिले.
– रिसर्च बताते हैं कि हेल्दी नाश्ता आपको डायबिटीज़ के ख़तरे से बचाता है. जो लोग नाश्ता करते उन्हें डायबिटीज़ का ख़तरा नाश्ता ना करनेवालों की तुलना में कम रहता है.
– इसके अलावा ब्रेकफ़ास्ट आपको मोटापे से बचाता है. जो लोग नाश्ता नहीं करते उनकी वेस्ट लाइन नाश्ता करनेवालों की तुलना में अधिक होती है. 
– भले ही लंच ठीक से ना करें लेकिन नाश्ता हेल्दी करेंगे तो फ़ैट्स से बचेंगे.
– बहुत ज़्यादा नमक और मीठा खाने से बचें.
– इसी तरह बहुत ज्यादा चाय-कॉफी या अल्कोहल के सेवन से बचें. 
– ग्रीन टी को अपनी दिनचर्या में शामिल करें. 
– मौसमी फल और सब्ज़ियां ज़रूर खाएं. हर रंग के फल व सब्ज़ियां खाएं.


– केले में फाइबर और पेक्टिन भरपूर मात्रा में होता है, जो आंतों के स्वास्थ्य के लिएबहुत फायदेमंद होता है.
– रिसर्च बताते हैं कि पपीता खाने से डायजेस्टिव सिस्टम में सुधार होता है. पपीते में विटामिन ए, बी और सी और कई तरह के एन्ज़ाइम्स होते हैं, जो खाने को डायजेस्ट करने में मदद करते हैं. 
– सेब में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं, जो पेट के स्वास्थ्य के लिए अच्छे माने जाते हैं. सेब फाइबर का अच्छा स्रोत भी है और गुड बैक्टीरिया को पनपाने में भी मदद करता है. 
– खाने से एक घंटा पहले एक ग्लास पानी में नींबू का रस डालकर पीएं.
– रात को हल्दीवाला दूध लें. 
– नींद भरपूर लें, क्योंकि नींद पूरी न होने पर हेल्द तो ख़राब होती ही है, साथ ही वज़न भी बढ़ता है.
– खाने में वैरायटीज़ रखें, ताकि हर तरह का पोषण आपको मिल सके.
–  बासी भोजन करने से बचें. जितना हो सके ताज़ा पका खाना ही खाएं.
– हफ़्तेभर का डायट प्लान करके चार्ट बना लें.
– हेल्दी स्नैक्स खाएं. स्नैकिंग के बहुत-से हेल्दी ऑप्शन्स हैं. 
– सूप्स पीएं, सलाद खाएं.
– इसी तरह ड्राय फ्रूट्स भी अपने डायट में ज़रूर शामिल करें.
– नींबू का रोज़ाना सेवन करें. या तो नींबू पानी के रूप में या फिर खाने में नींबू का रस डालकर. यह पाचन शक्ति कोबेहतर बनाता है.
– रोज़ सुबह 1 टीस्पून फिश ऑयल लेना भी काफ़ी हेल्दी होता है.
– पनीर का सेवन करें, क्योंकि यह वज़न को भी नियंत्रित रखने में कारगर है.


– इसी तरह से दही व छाछ का भी सेवन करें, क्योंकि इनमें हेल्दी बैक्टीरिया होते हैं जो पेट और आंतों को स्वस्थ रखते हैं.
– प्रोटीन रिच फूड खाएं. ये मेटाबॉलिज़्म को बढ़ाता है. 
– ईटिंग हैबिट्स में एकदम से उसे बदलने की बजाय धीरे-धीरे बदलाव लाएं.
– बहुत ज़्यादा स्ट्रिक्ट डायट न करें, क्योंकि उसे ज़्यादा समय तक फ़ॉलो कर पाना बेहद मुश्किल है.
– बेहतर होगा अगर वेट लॉस करना हो, तो छोटे-
छोटे-छोटे गोल्स सेट करें. 
– एक ही हफ़्ते में स्लिम-ट्रिम होने की कोशिश आपको कमज़ोर और आपके डायट प्लान को बेकार साबित कर देगी. 
– वज़न कम करने में नींबू और शहद बेहद कारगर हैं. गुनगुने पानी में रोज़ सुबह खाली पेट सेवन करें.
– खाने के फौरन बाद पानी न पी लें.
– दिन में दो बार भरपेट खाने की बजाय 5-6 बार में थोड़ा-थोड़ा खाएं.
– खाना चबा-चबाकर खाएं. खाते समय मोबाइल या लैपटॉप को एक तरफ़ रख दें.
– कैल्शियम युक्त पदार्थ ज़रूर लें, जैसे- दूध, छाछ और दही. ये जल्दी डायजेस्ट हो जाते हैं.  
– हरीपत्तेदार सब्ज़ियां भी कैल्शियम का अच्छा स्रोत हैं. इन्हें अपने डायट में ज़रूर शामिल करें. 
– कोशिश करें कि आपकी थाली कलरफुल हो, जितने ज़्यादा कलर्स होंगे, उतना ही पोषक आपका भोजन होगा. 
– डायट में फाइबर शामिल करें. फाइबर जितना ज़्यादा होगा पेट उतना ही हेल्दी रहेगा क्योंकि आपको क़ब्ज़ की समस्या नहीं होगी.


– डायट में साबूत अनाज, दालें, गाजर, ब्रोकोली, नट्स, छिलके सहित आलू, मकई, बींस व ओट्स को शामिल करें. फल और सब्ज़ियां फ़ाइबर का अच्छा सोर्स है. खीरा, गाजर, सलाद और हरीपत्तेदार सब्जियां ज़रूर खाएं.
– कुछ मसाले बहुत हेल्दी होते हैं, काली मिर्च दालचीनी, लौंग, इलाइची, धनिया, जीरा, सौंफ आदि को खाने में शामिल करें.
– बहुत ज़्यादा पेनकिलर्स न ले. छोटी-मोटी समस्याओं के लिए घरेलू नुस्खे ही आज़माएं. गले में खराश हो या सिर में दर्द, तो दालचीनी का सेवन करें. चुटकीभर दालचीनी पानी के साथ या शहद के साथ लें. 
– सर्दी-खांसी होने पर सेंधा नमक गुनगुने सरसों के तेल में मिलाकर सीने पर लगाएं. 
– फ्राइड व प्रोसेस्ड फूड कम खाएं.  
– हफ़्ते में एक या दो दिन अपनी क्रेविंग्स के लिए रखें. मनपसंद कुछ खाएं.
– होल ग्रेन्स और फ़ाइबर्स भी भरपूर मात्रा में लें.
– हमेशा भूख से थोड़ा कम ही खाएं, ताकि पानी के लिए जगह बची रहे.
– खाना बनाने और खाने से पहले साबुन से हाथ ज़रूर धोएं.
– हेल्थ चेकअप भी नियमित तौर पर करवाते रहें. कई बार डायबिटीज़ या बीपी जैसी बीमारियों का पता नहीं चल पाता.


– अपनी पसंद का काम करें, अपनी हॉबीज़ को भी पूरा करने का टाइम निकालें. यह आपको रिफ्रेश कर देगा. 
– डान्सिंग और स्विमिंग क्लासेस जॉइन करें. इससे फन के साथ-साथ एक्सरसाइज़ भी होगी.
– रिसर्च बताते हैं कि ज़्यादा टीवी देखने वालों की लाइफ़ कम होती जाती है, इसलिए बहुत ज़्यादा टीवी ना देखें, यह आपको आलसी और इनएक्टिव बनाएगा. 
– इसी तरह मोबाइल और बहुत ज़्यादा सोशल साइट्स पर भी ना बने रहें. 
– कंप्यूटर के सामने बहुत देर तक न रहें. समय-समय पर आंखें बंद करके रिलैक्मस करें.
– घर में वेंटिलेशन अच्छा होना चाहिए. दिन के समय खिड़कियां खुली रखें, ताकि ताज़ा हवा और भरपूर रोशनी रहे.
– नहाने के बाद थोड़ा ध्यान लगाएं. इससे मन में एकाग्रता आती है और आप रिफ्रेश महसूस करते हैं.
– खांसते-छींकते वक़्त मुंह ढंकें और धूल-धूप में जाते वक़्त मास्क पहनें.
– ओवर ईटिंग से बचें. कई बार अपना मनपसंद खाना देखते ही हम भूख से ज़्यादा खा लेते हैं, – बहुत ज़्यादा पेन किलर्स न खाएं. घरेलू नुस्ख़े आज़माएं.

– फ़ोन पर बहुत देर तक बातें न करें, इससे कई तरह की समस्या हो सकती है. 
– बहुत देर तक एक ही जगह पर न बैठें, न ही देर तक टीवी देखें.
– एसी का प्रयोग ज़रूरत पड़ने पर ही करें, बहुत ज़्यादा एसी भी सेहत के लिए सही नहीं.
– ओरल हेल्थ और हाइजीन का भी ख़्याल रखें. सोने से पहले भी दांतों को ब्रश करें.
– दांत और मसूड़ों की तकलीफ़ हो तो सेंधा नमक और सरसों का तेल मिलाकर मसूड़ों की मालिश करें.
– सांसों की दुर्गंध मिटाने के लिए पानी में बेकिंग सोडा डालकर गरारे करें.
– अगर आपके मुंह से दुर्गंध आती है, तो अपना पेट साफ़ रखने की कोशिश करें. 
– तनाव न पालें. स्ट्रेस से दूर रहें, क्योंकि स्ट्रेस पूरे शरीर व ख़ासतौर से पाचन तंत्र पर नकारात्मक प्रभाव डालता है. इससे गैस, ऐसिडिटी, क़ब्ज़ जैसी समस्या हो सकती है.


– खुश रहना सीखें और खुलकर हंसे. खुलकर हंसने से फेफड़ों में लचीलापन बढ़ता हैऔर उन्हें ताज़ा हवा व ऑक्सीजन मिलती है.
– समय मिलने पर बॉडी व हेड मसाज करवाएं. इससे थकान भी मिटेगी और ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ेगा.
– पर्सनल हाइजीन के महत्व को भी समझें और उनपर ध्यान दें.
– अपना वज़न नियंत्रण में रखने का हमेश प्रयास करें, ताकि आप बढ़ते वज़न से होनेवाली बीमारियों- जैसे- बीपी, हार्ट, डायबिटीज़ आदि से बचे रहें. 
– लेकिन डायटिंग का सही तरीक़ा चुनें. खान न खाना सही नहीं, बल्कि अनहेल्दी खाने को हेल्दी से रिप्लेस करना ही सही निर्णय होता है. 
– इसी तरह अपने मानसिक स्वास्थ्य का भी धयान रखें. हेल्दी सोशल लाइफ़ मेंटेन करें, क्योंकि इससे आपको अकेलापन और डिप्रेशन नहीं होगा. 
– कुकिंग थेरेपी ट्राई करें. रिसर्च के अनुसार जब आप खुद खाना बनाते हैं तो तनाव कम होता है, आप बेहतर महसूस करते हैं, क्रिएटिव बनते हैं और हेल्दी रहते हैं.


– इसके अलावा जब आप खुद खाना बनाते हैं, तो हेल्दी ऑप्शन चुनते हैं और आपको एक संतुष्टि भी महसूस होती है. 
– नींद पूरी लें, क्योंकि नींद न होने से भी डिप्रेशन होता है. नींद अच्छी होने से दिनभर के तनावों से आप बचे रहेंगे और ऊर्जावान रखेगी. 
– रात को समय से सोने की कोशिश करें, देर रात तक न जागें, इससे आपका पाचन तंत्र भी ख़राब होगा और आपको सुबह फ्रेश महसूस नहीं होगा. 
– नींद न आने पर या तनाव होने पर सिगरेट या शराब का ऑप्शन न चुनें. ये अनहेल्दी होगा. 
– लेकिन जिस तरह ओवरईटिंग हानिकारक है, उसी तरह ओवर स्लीपिंग से भी बचें. 
– अपने बारे में अच्छा सोचें, रोज़ दिन में कोई एक ऐसा काम करें, जिससे दूसरों की मदद हो सके, इससे आपका मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होगा. 
– चीटिंग, झूठ बोलना और ईर्ष्या जैसे नकारात्मक भाव मन न पालें. 
– मदद की भावना आपको पॉज़िटिव रखेगी और बदला लेने की मानसिकता आपको बीमार कर देगी.


– हर समय काम ही न करते रहें, अपने लिए और अपनों के लिए भी समय निकालें. हॉलिडे प्लान करें. अगर समय कम हो, तो आसपास ही एक-दो दिन के लिए घूम आएं या मूवी प्लान करें. 
– दोस्तों व रिश्तेदारों को बुलाकर गेट-टु-गेदर करें, इससे आपकी ख़ुशियों में इज़ाफा होगा और आप हेल्दी रहेंगे. 
– पैसों से रिश्तों को न तोलें और स्वार्थी न बनें. खुलकर जीएं, फिर देखें.
– ऐसी ही कई तमाम छोटी-छोटी बातें हैं, जो आपको हेल्दी रखेगी और बड़ा फ़ायदा देगी.

– रिंकु शर्मा 

यह भी पढ़ें: वर्ल्ड हार्ट डे: भारतीय युवाओं में तेज़ी से बढ़ रहे हैं हार्ट फेलियर के मामले, जानें इसे कैसे मैनेज करें, ताकि आपका दिल सुरक्षित रहे! (World Heart Day: Managing The Rise Of Failure In India)

Share
Published by
Geeta Sharma

Recent Posts

ब्रेकअप के तुरंत बाद शादी के बंधन में बंधी टीवी की ये अभिनेत्रियां (These TV Actresses Got Married Soon After Breakup)

बॉलीवुड हो या टीवी इंडस्ट्री के सितारे, इनकी प्रोफेशनल लाइफ से लेकर पर्सनल लाइफ तक…

© Merisaheli