काव्य- … जबकि तुमने बचाए रखा मनुष्यता को! (Kavay- … Jabki Tumne Bachaye Rakha Manushyta Ko!)

सुनों कविताओं.. (मन का विश्वास)
जबकि
हिम्मत बंधाने की बजाय
दहशतों के कारनामे गिना रहे थे लोग
तुमने प्रेम से सहलाये कंधे
मनुष्यता के
तुमने उखडती सांसों को बचाया
सांत्वनाओं के ऑक्सीजन से

जबकि
हम बंद रहे
अपने ही घर में
तुमने खुलेआम
ज़ारी रखी
सभी से वार्तालापें मन की
… और नहीं डगमगाने दिया
भीतर का सकारात्मक रुझान
किसी भी क़ीमत पर

सुनों कविताओं..
जबकि
हर कहीं गिनीं जा रही हैं
सिर्फ़ संख्याएं ही
तुमने कहीं-न-कहीं बचाए रखा
मनुष्यता को
सही से…

नमिता गुप्ता ‘मनसी

यह भी पढ़े: Shayeri

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta
Tags: Kavita

Recent Posts

कविता- रसिक प्रेम (Poetry- Rasik Prem)

रसिक श्यामलेकर अधरों पर मुस्कानछेड़ वंशिका की तानपुकार रहे राधा नाम राधामन ही मन रिझायेरसिक…

May 20, 2024

कहानी- आख़री ख़त (Short Story- Aakhri Khat)

औरत को ये क़ैद क्यों मिलती है? शायद तुम्हारे मौन का कारण तुम्हारी अपनी क़ैद…

May 20, 2024

Turn Down The Heat

Parenting is hard work. Sometimes, our kids make us feel angry. We will come home…

May 20, 2024

यामी गौतम झाली आई! अभिनेत्रीच्या घरी चिमुकल्या सदस्याचं आगमन (Yami Gautam And Director Aditya Dhar Blessed With Baby Boy)

बॉलीवूड अभिनेत्री यामी गौतमच्या घरी चिमुकल्या सदस्याचं आगमन झालं आहे. १० मे रोजी अक्षय्य तृतीयेच्या…

May 20, 2024
© Merisaheli