लघुकथा- मासूम बात (Short Story- Masoom Baat)

"पिछली बार ख़ूब मज़ा आया था जहां आप लेकर गए थे. कितने सारे बच्चे थे. उनके शूज़ भी नहीं थे. फिर मम्मा और आपने मेरे…

“पिछली बार ख़ूब मज़ा आया था जहां आप लेकर गए थे. कितने सारे बच्चे थे. उनके शूज़ भी नहीं थे. फिर मम्मा और आपने मेरे हाथ से सबको कलरफुल शूज़ दिलाए थे और सबको पाव भाजी भी खिलाई थी. केक काटते समय तो सबने कितने ज़ोर से हैप्पी बर्थडे सॉन्ग गाया था. एक बच्चे ने तो वही पर मुझे काग़ज़ से फूल बना कर दिया था. हम फिर वही चलेंगे.” ईशान ने चहकते हुए पूछा.

“पापा अगले महीने मैं 6 ईयरस् का हो जाऊंगा.”
ईशान के कथन मे छुपा प्रश्न अजय ने भांप लिया कि बेटा उसके जन्मदिन के लिए पापा क्या तैयारी कर रहे है और क्या तोहफ़ा देने की सोच रहे हैं.
मुस्कुराते हुए अजय ने पूछा, ‘बेटा, दो साल पहले तुम्हारे बर्थडे पर तुम्हे क्या गिफ्टस मिले थे?”
“मामा ने रिमोटवाली गाड़ी दी थी और चाची एक ड्रेस लाई थी और मेरे दोस्त भी लाए थे…”
“अब वो गिफ्टस् कहां है?”
“कार तो थोड़े दिन मे ही ख़राब हो गई थी और ड्रेस भी छोटी हो गई और…”

यह भी पढ़ें: प्रेरक प्रसंग- बात जो दिल को छू गई… (Inspirational Story- Baat Jo Dil Ko Chhoo Gayi…)

“पिछले साल बर्थडे पर हम कहां गए थे?”
“पिछली बार ख़ूब मज़ा आया था जहां आप लेकर गए थे. कितने सारे बच्चे थे. उनके शूज़ भी नहीं थे. फिर मम्मा और आपने मेरे हाथ से सबको कलरफुल शूज़ दिलाए थे और सबको पाव भाजी भी खिलाई थी. केक काटते समय तो सबने कितने ज़ोर से हैप्पी बर्थडे सॉन्ग गाया था. एक बच्चे ने तो वही पर मुझे काग़ज़ से फूल बना कर दिया था. हम फिर वही चलेंगे.” ईशान ने चहकते हुए पूछा.
“नही इस बार हम आपको बहुत सारे बूढ़े अंकल के पास ले चलेंगे. उनको तुम झांसी की रानी वाली कविता सुनाना, जो तुम पूरे जोश में गाते हो. फिर हम देवांश को भी ले चलेंगे, वो गाना बहुत अच्छा गाता है.”
“हां… हां देवांश को भी और मोनिका को भी.”
“केक भी हम एक नही दो काटेंगे.” मम्मी ने दूध का ग्लास हाथ में थमाते ईशान से कहा.
“एक केक मैं ओवन में बनाऊंगी और दूसरा आटे गुड का हलवा, जो कटेगा भी और बंटेगा भी.”

यह भी पढ़ें: उम्र बढ़ने के साथ-साथ बच्चों को बनाएं आत्मनिर्भर, सिखाएं छोटे-छोटे लेकिन ये ज़रूरी काम (Children Must Know These Work To Become Dependent In Life)

ईशान के चेहरे पर दबे छुपे ही सही संतोष के भाव अजय ने पत्नी संग पढ़ लिए थे. देने की ख़ूशी का बेटे द्वारा आत्मसात होता ज्ञान दोनों महसूस कर पा रहे थे.

– संदीप पांडे

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

Photo Courtesy: Freepik

अभी सबस्क्राइब करें मेरी सहेली का एक साल का डिजिटल एडिशन सिर्फ़ ₹599 और पाएं ₹1000 का कलरएसेंस कॉस्मेटिक्स का गिफ्ट वाउचर.

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

क्या बढ़ते प्रदूषण का स्तर मांओं के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है? (Are Rising Pollution Levels Affecting The Health Of Mothers?)

दिल्ली का वायु प्रदूषण मुख्य रूप से पूरी सर्दियों में एक गंभीर समस्या बना रहता…

कहानी- जहां चाह वहां राह (Short Story- Jahan Chah Wahaa Raah)

"ऐसे टीम नहीं बनेगी. टीम मेरे हिसाब से बनेगी." सभी बच्चों को एक लाइन में…

© Merisaheli