Short Stories

कहानी- रहिमन धागा प्रेम का (Short Story- Rahiman Dhaga Prem Ka)

रोहित ने मुझे कुर्सी पर बैठाते हुए कहा, “ये अस्तित्व की लड़ाई, ये तुलना… बस तुम्हें ख़राब लगती है? और जो बात-बात पर तुम तराजू उठाकर एक पलड़े में मुझे और दूसरे पलड़े में अपने पापा, भइया और चाचाजी को रख देती हो… वो सही है?..”

“वाह! क्या कढ़ी बनाई है यार! मम्मी भी एकदम ऐसी बनाती हैं…” रोहित तारीफ़ों के पुल बांधे जा रहे थे, लेकिन मेरा मन खिन्न हो गया था. किसी तरह एक-डेढ़ रोटी गटक कर मैं उठ गई. रसोईं में आते ही आंखें भर आईं. मन किया उड़कर पापा के पास पहुंच जाऊं और ख़ूब रो लूं…
“क्या हुआ गीतू? तुम रो क्यों रही हो.” रोहित हड़बड़ा गए.
“मैंने ऐसा क्या कह दिया?.. मैं तो तारीफ़ ही…”

यह भी पढ़ें: रोमांटिक क्विज़: जानिए कितने रोमांटिक कपल हैं आप (Romantic Quiz: How Much Romantic Couple Are You),


“ऐसी तारीफ़ अपने पास ही रखिए.” ना चाहते हुए भी मैं फट पड़ी.
“हद है रोहित, हर बात में तुलना… परसों खीर खाते समय आपने कहा, अच्छी है, लेकिन दीदी की खीर वाली बात नहीं आई और आज कढ़ी अच्छी लगी, तो आपकी मम्मी की बनाई कढ़ी जैसी हो गई… मतलब मैं कुछ नहीं! मेरा अस्तित्व ही नहीं…” मैं सुबकने लगी थी.
रोहित ने मुझे कुर्सी पर बैठाते हुए कहा, “ये अस्तित्व की लड़ाई, ये तुलना… बस तुम्हें ख़राब लगती है? और जो बात-बात पर तुम तराजू उठाकर एक पलड़े में मुझे और दूसरे पलड़े में अपने पापा, भइया और चाचाजी को रख देती हो… वो सही है?
मैं तुम्हें कहीं ले जाऊं, तो कहती हो ऐसे ही पापा मुझे घुमाने ले जाते थे… मैंने गाना सुनाया तो ऐसे ही भइया भी बहुत अच्छा गाते हैं, इतनी मेहनत करके मैंने पिज़्ज़ा बनाना सीखा… क्योंकि तुम्हें पसंद है, लेकिन वो भी चाचाजी पहले ही कर चुके थे, वाह भई!”
हमारी शादी हुए एक महीना हो गया था, लेकिन रोहित को इतने ग़ुस्से में मैंने कभी नहीं देखा था. मुझे आश्चर्य हो रहा था इन्हें एक-एक बात याद थी, अपराधबोध तो हुआ, फिर भी मैंने कहा, “आप समझिए तो… मैं पूरा परिवार छोड़कर आई हूं, सबसे अलग होकर…”
रोहित मुस्कुराने लगे, “और मैं? मैं अपने पूरे खानदान के साथ रह रहा हूं ना यहां? मैं भी तो सबसे अलग रह रहा हूं, मुझे भी याद आती है यार! तुम भी तो समझो… और ये तुम्हारे हाथ में क्या हुआ है?”
“गर्म तेल गिर गया था… ओह, लाल पड़ गया…” बहस के चलते मेरा ध्यान ही नहीं गया था. रोहित जल्दी से टूथपेस्ट ले आए और लगाने लगे, मैं सोचने लगी… ऐसे ही एक बार पापा ने लगाया था.

यह भी पढ़ें: आपकी पत्नी क्या चाहती है आपसे? जानें उसके दिल में छिपी इन बातों को (8 Things Your Wife Desperately Wants From You, But Won’t Say Out Loud)


“क्या सोच रही हो? पापा, चाचा या भइया किसी ने लगाया होगा, है ना!”  रोहित हंसते हुए पूछ रहे थे, मैं चौंक गई, लेकिन सच कहते-कहते रुक गई, “मैं सोच रही थी… जलने पर टूथपेस्ट लगाते हैं, ये तो आज ही पता चला!”

लकी राजीव

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

Photo Courtesy: Freepik

अभी सबस्क्राइब करें मेरी सहेली का एक साल का डिजिटल एडिशन सिर्फ़ ₹599 और पाएं ₹1000 का कलरएसेंस कॉस्मेटिक्स का गिफ्ट वाउचर.

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कहानी- मुखौटा (Short Story- Mukhota)

"तुम सोच रहे होगे कि‌ मैं बार में कैसे हूं? मेरी शादी तो बहुत पैसेवाले…

May 25, 2024

श्वेता तिवारी माझी पहिली आणि शेवटची चूक, ‘या’ अभिनेत्याची स्पष्ट कबुली (When Cezanne Khan Called His Kasautii… Co-Star Shweta Tiwari “First & Last Mistake”)

श्वेता तिवारी तिचा अभिनय आणि फोटोंमुळे नेहमी चर्चेत असते. सोशल मीडियावर हॉट फोटो पोस्ट करुन…

May 25, 2024

सुट्टीचा सदुपयोग (Utilization Of Vacation)

एप्रिलच्या मध्यावर शाळा-कॉलेजला सुट्ट्या लागतील. सुट्टी लागली की खूप हायसे वाटते. थोड्या दिवसांनंतर मात्र सुट्टीचा…

May 25, 2024

अवनीत कौरच्या कान्स पदार्पणाने जिंकली सर्वांची मन, भारतीय संस्कारांचे पदार्पण (Avneet Kaur Touches The Ground During Cannes Red Carpet Appearance, Her Indian Sanskar Is Winning Hearts) 

77 वा कान्स फिल्म फेस्टिव्हल सुरू आहे. बॉलिवूडपासून हॉलिवूडपर्यंतचे सितारे कान्सच्या रेड कार्पेटवर आपली जादू…

May 25, 2024
© Merisaheli