कहानी- पिघलती सिल्लियां (Short Story- Pighalti Silliyaan)

काश सुजीत, तुम कहकर जाते, यूं ही बिना कुछ कहे अचानक चले गए. बेटे के आने का इंतज़ार तो कर लेते... उसे सच तो बता देते... कम-से-कम यह तो कह देते कि मां का ख़्याल रखना, वह स़िर्फ तेरे लिए ही जीती-मरती है. जैसे ज़िंदगीभर पलायन करते रहे, ज़िम्मेदारियों से वैसे ही आख़िरी क्षणों में भी चुपचाप चले गए. वरना जिसे कभी दिल की बीमारी न हो, उसका दिल अचानक काम करना कैसे बंद कर सकता है.   उसके और मेरे बीच ब़र्फ की टनों सिल्लियां जम चुकी हैं. मज़े की बात है कि कभी क्षणांश एकाध सिल्ली थोड़ी-सी कहीं, किसी कोने से पिघलती भी है और दो-चार बूंदों की नमी दिखने भी लगती है, तो तुरंत अविश्‍वास और नफ़रत की सर्द हवाएं चलने लगती हैं. मन में जमी सोच की फफूंद नमी को ढंक देती है. फिर से सिल्लियां ठोस और पथरीली हो जाती हैं. ब़र्फ की ये चौकोर सिल्लियां आकार व अनुपात में समान व नुकीली न होने के बावजूद, किसी टूटे कांच के टुकड़े की मानिंद उसके दिल में जा चुभती हैं. उससे उठनेवाली पीड़ा इतनी पैनी होती है कि उसका पूरा अस्तित्व हिल जाता है. कितना तो रो चुकी है वह, अपने भाग्य को भी कोस चुकी है. ईश्‍वर के सामने कितनी प्रार्थनाएं कर चुकी है. पंडितों की बातों पर विश्‍वास कर जिसने जो उपाय करने को कहा, उसने वे भी किए... आस सब कुछ करवाती है, शायद इस तरह से ही सिल्लियां पिघल जाएं, पर सब व्यर्थ गया. गुज़रते समय के साथ सिल्लियां इतनी सख़्त…

काश सुजीत, तुम कहकर जाते, यूं ही बिना कुछ कहे अचानक चले गए. बेटे के आने का इंतज़ार तो कर लेते… उसे सच तो बता देते… कम-से-कम यह तो कह देते कि मां का ख़्याल रखना, वह स़िर्फ तेरे लिए ही जीती-मरती है. जैसे ज़िंदगीभर पलायन करते रहे, ज़िम्मेदारियों से वैसे ही आख़िरी क्षणों में भी चुपचाप चले गए. वरना जिसे कभी दिल की बीमारी न हो, उसका दिल अचानक काम करना कैसे बंद कर सकता है.

 

उसके और मेरे बीच ब़र्फ की टनों सिल्लियां जम चुकी हैं. मज़े की बात है कि कभी क्षणांश एकाध सिल्ली थोड़ी-सी कहीं, किसी कोने से पिघलती भी है और दो-चार बूंदों की नमी दिखने भी लगती है, तो तुरंत अविश्‍वास और नफ़रत की सर्द हवाएं चलने लगती हैं. मन में जमी सोच की फफूंद नमी को ढंक देती है. फिर से सिल्लियां ठोस और पथरीली हो जाती हैं.

ब़र्फ की ये चौकोर सिल्लियां आकार व अनुपात में समान व नुकीली न होने के बावजूद, किसी टूटे कांच के टुकड़े की मानिंद उसके दिल में जा चुभती हैं. उससे उठनेवाली पीड़ा इतनी पैनी होती है कि उसका पूरा अस्तित्व हिल जाता है. कितना तो रो चुकी है वह, अपने भाग्य को भी कोस चुकी है. ईश्‍वर के सामने कितनी प्रार्थनाएं कर चुकी है. पंडितों की बातों पर विश्‍वास कर जिसने जो उपाय करने को कहा, उसने वे भी किए… आस सब कुछ करवाती है, शायद इस तरह से ही सिल्लियां पिघल जाएं, पर सब व्यर्थ गया.

गुज़रते समय के साथ सिल्लियां इतनी सख़्त होती गईं कि पत्थर की तरह ही लगने लगीं. छुओ तो भी चोट पहुंचाएंगी और यूं ही सामने रहें, तो भी मन को चुभती रहेंगी. पीड़ा शरीर की हो या मन की… दर्द हर हालत में होता है. और उसे तो वर्षों हो गए हैं इस चुभन को सहते हुए. बच्चा अगर मां से मुंह मोड़ ले, तो शायद उससे बड़ी पीड़ा और कोई नहीं होती. मां के लिए उसका बच्चा ही सब कुछ होता है… उसके लिए वह दुनिया से लड़ने को तत्पर रहती है, ताकि दुख की आंच उस तक न पहुंच पाए, पर विडंबना तो यह है कि उसे अपने आंचल में सुरक्षित रखने के बावजूद वह उससे दूर हो गया. उसे लगता है कि उसकी मां ही उसकी सबसे बड़ी दुश्मन है, जो उसकी ख़ुशियों पर ग्रहण लगाना चाहती है.

उसे पता ही नहीं चला कि वह कैसे उससे दूर होता गया. वजह तो वह आज तक नहीं जान पाई है. उसे यही समझ आता है कि नौकरी और घर के काम में व्यस्तता की वजह से वह उसे उतना टाइम नहीं दे पाई, जो सुजीत उसे देते थे. उनका ख़ुद का बिज़नेस था और वैसे भी किसी चीज़ की कभी परवाह ही नहीं की थी, इसलिए उनका मस्त रहना शिवम को बहुत भाता था. घर-बाहर की सारी ज़िम्मेदारियों से चूर वह अक्सर झुंझला जाती थी और सुजीत पर आनेवाली खीझ और ग़ुस्सा शिवम पर निकाल देती थी.

यह भी पढ़ेघर को मकां बनाते चले गए… रिश्ते छूटते चले गए… (Home And Family- How To Move From Conflict To Harmony)

“पापा को देखो वह कितना कूल रहते हैं और एक आप हैं कि हमेशा चिढ़ती रहती हैं.” शिवम अक्सर उसे कहता और वह फट पड़ती, “पापा, जैसी मस्त लाइफ नहीं है मेरी. दोपहर बाद घर से जाते हैं, न काम की टेंशन है न घर की. थकती मैं हूं, वह नहीं, तो कूल तो रहेंगे ही.”

सुजीत तब उसका पक्ष लेने की बजाय शिवम की हां में हां मिलाते हुए कहते,  “पता नहीं क्यों थकती हो इतना. सारी दुनिया की महिलाएं काम करती हैं. तुम्हें तो बस हमेशा लड़ने का बहाना चाहिए. आदत है यह तुम्हारी.” सुजीत के

साथ-साथ धीरे-धीरे शिवम भी उसी टोन में बोलने लगा और अनजाने ही उनके बीच एक खाई बनती चली गई. सुजीत ने उन दोनों के बीच मीडिएटर की भूमिका निभानी शुरू कर दी और मां-बेटे के बीच मौन पसरता गया. ऐसी कठोर सिल्लियां शिवम के मन में जम गईं कि वह उन्हें पिघला ही न पाई. विदेश में पढ़ाई करने के लिए जाने के बाद से उनके बीच की शब्दों की टूटी-फूटी कड़ियां भी टूट गईं. वह तरसती ही रही अपने बेटे से बात करने के लिए. सुजीत ही थोड़ा-बहुत जब मन होता, तो उसके बारे में बता देते. दूरियां ख़त्म करने की बजाय न जाने क्यों सुजीत उन्हें और लंबी करते गए.

ऐसा कैसे हो सकता है कि एक बेटा अपनी मां से नफ़रत करे..? यही सवाल उसे मथता रहता. शिवानी इस बात को हज़ारों बार दिन में नकारती. “अरे ब़र्फ और मंगानी पड़ेगी, अभी तो पांच घंटे और हैं शिवम के आने में.” जेठानी के स्वर से वह अपने मन के भीतर छिपी अनगिनत वेदनाओं की गठरियों की गांठों को फिर से लगा, उनकी ओर देखने लगी.

“शिवानी, यहां आसपास कोई मार्केट होगी न, जहां से ब़र्फ मिल सके.” जेठानी ने उससे पूछा.

वह आज ही सुबह इंदौर से दिल्ली आई थीं. यहां के न तो उन्हें रास्ते पता थे और न ही बाज़ारों के बारे में कोई जानकारी थी. धीरे-धीरे बाकी रिश्तेदार भी जुट रहे थे, पर चूंकि परिवार में और कोई नहीं था, इसलिए शिवानी को ही सारे काम करने पड़ रहे थे. घर में कौन-सा सामान कहां रखा है, यह उसे ही बताना पड़ रहा था. चादरें कमरे में बिछा दी गई थीं… कभी पूजा की कोई सामग्री चाहिए… कभी रसोई में से कोई पुकार लेता…

हालांकि उसकी मौसी उसे बार-बार हिदायत दे रही थीं कि ऐसे में उठते नहीं है. “तू बैठी रह. रिश्तेदार, तेरे पड़ोसी, जानकार सब आ रहे हैं, तेरा उठना ठीक नहीं है.” पर क्या करे शिवानी…

भाई-बहनों ने अंतिम यात्रा की सारी तैयारियां कर दी थीं, पर उन्हें भी तो बताना ही था कि कहां क्या रखा है?

व्यस्तता कई बार आंसुओं को आंखों में ही कैद कर देती है. कहां है उसके पास शोक मनाने का समय… अभी तो यक़ीन तक नहीं आया है कि सुजीत चले गए हैं. सब कुछ कितना अचानक हुआ. रात को ही तो अस्पताल ले गई थी, डॉक्टर ने कहा, “हार्ट अटैक आया है…”

“पर कैसे? कब? बिल्कुल ठीक थे यह तो. कोई हार्ट प्रॉब्लम भी नहीं थी.”

“शुगर पेशेंट के साथ ऐसा हो जाता है. आपने बताया था न कि शुगर काफ़ी घट-बढ़ रही थी.”

उस पल ऐसा लगा था कि कोई पंछी फुर्र से उड़ गया हो.

काश सुजीत, तुम कहकर जाते, यूं ही बिना कुछ कहे अचानक चले गए. बेटे के आने का इंतज़ार तो कर लेते… उसे सच तो बता देते… कम-से-कम यह तो कह देते कि मां का ख़्याल रखना, वह स़िर्फ तेरे लिए ही जीती-मरती है. जैसे ज़िंदगीभर पलायन करते रहे, ज़िम्मेदारियों से वैसे ही आख़िरी क्षणों में भी चुपचाप चले गए. वरना जिसे कभी दिल की बीमारी न हो, उसका दिल अचानक काम करना कैसे बंद कर सकता है. शुगर ज़रूर उस रात भी बहुत घट-बढ़ रही थी. इंसुलिन भी नहीं लगाया था यह सोचकर कि शायद इस तरह कंट्रोल में आ जाए. कहां रहा कंट्रोल में कुछ… अचानक शुगर पचास हो गई. जल्दी से उसने कुछ मीठे बिस्किट खिला दिए. चेक की, तो इस बार 500 पहुंच गई थी. अस्पताल लेकर भागी, पर ईसीजी करते ही डॉक्टर ने बता दिया था कि हार्ट केवल पच्चीस प्रतिशत ही काम कर रहा है. सबको बुला लीजिए, कोई चांस नहीं है बचने का. हम इन्हें वेंटीलेटर पर डाल देते हैं.

वेंटीलेटर पर डालने की बात सुन उसकी रूह कांप गई थी. सुजीत का निस्तेज चेहरा देख मन भीग गया था उसका. बरसों की नाराज़गी, ग़ुस्सा और उसका उसे हमेशा अपमानित करना सब भूल गई थी वह. प्यार से उसके सिर पर हाथ फेरते हुए जब उसने सुजीत को दलिया खिलाने की कोशिश की, तो उसकी आंखों के कोर भीग गए थे. शायद पश्‍चाताप हो रहा हो.

“बिल्कुल चिंता मत करो. तुम ठीक हो जाओगे. थोड़ी हिम्मत रखो और दवाइयों को रिस्पॉन्ड करो. डॉक्टर कह रहे हैं कि तुम मशीनें देखकर घबरा रहे हो. दवाइयां काम ही नहीं कर रही हैं.” उसने सांत्वना देने की कोशिश की थी. सुजीत एकदम ख़ामोश थे… कुछ नहीं कहा, न कुछ पूछा. शिवानी की तरह उन्होंने भी कहां सोचा होगा कि उनका अंतिम व़क्त आ गया है. जब तक कुछ घटे नहीं, कौन इस बात को मानना चाहता है.

“मौसी, शिवम आ गया.” मेरे भांजे ने कहा, तो सब उसकी ओर लपके. सबसे लिपटकर वह रो रहा था, पर उसके पास नहीं आया. शिवानी कब से केवल भीतर ही भीतर रो रही थी, पर शिवम को देखते ही उसका बांध सारे किनारों को तोड़ता हुआ वेग से बह निकला था. जब से आया था, पापा के सिरहाने ही बैठा हुआ था. उनके माथे पर बार-बार हाथ फेर रहा था, मानो कहीं किसी कोने में आशा हो कि शायद पापा उसके स्पर्श को महसूस कर, उसे एक बार आंख खोलकर देख लेंगे और कहेंगे, “आ गया मेरे बर्रे…” बचपन से ही शिवम को वे दोनों न जाने प्यार से कितने नामों से पुकारते आए थे. बिना अर्थोंवाले नाम… सुजीत कहते, “सारा दिन चिपका रहता है यह मुझसे जैसे बर्रा हो, जो चिपक जाए, तो पीछा छुड़ाना मुश्किल हो जाता है.”

जब उसका मुंडन हुआ था, तो वह इतना प्यारा लगता था कि उसके सिर पर बार-बार हाथ फेरते हुए वह उसे ‘टकली’ कहती. कोई उसे शिवानी का ‘शिव’ कहता, दोस्त अक्सर उसे ‘शि’ कहकर पुकारते… शॉर्ट फॉर्म के ट्रेंड की वजह से. बचपन से ही वह इतना प्यारा था कि जो भी उसे देखता, उस पर स्नेह लुटाने लगता. पड़ोसी और सोसाइटी के लोग प्यार से ‘शिबु’ कहते थे.

शिवानी का मन कर रहा था कि शिवम को अपने सीने से चिपटाकर इतना रोए कि बरसों से जमे आंसू सारी ब़र्फ की सिल्लियों को पिघला दें, पर आने के बाद भी उसने न तो उसकी ओर देखा था और न ही कोई बात की थी. अपने अंदर न जाने कितने तूफ़ान समेटे रहता है. हमेशा उसे यही लगता रहा है कि पापा बीमार हैं, तो मां ज़िम्मेदार है, पापा मां के साथ बुरा सुलूक करते हैं, तो भी मां ही दोषी है… कहीं वह आज भी पापा की मौत का ज़िम्मेदार उसे तो नहीं ठहरा रहा… कांप गई थी शिवानी.

सुजीत को ब़र्फ की सिल्लियों से उठाकर अर्थी पर रख दिया गया था. स़फेद दुशालों से उसे ढंका जा रहा था. फूलमालाओं को पूरे शरीर पर बिछा दिया गया था. अब ले जाने की तैयारी थी. चार कंधों पर जाता है मनुष्य… कैसी विडंबना है यह भी… दुनिया से प्रस्थान करने के लिए भी हमें कंधे चाहिए होते हैं, सारी ज़िंदगी तो हम कंधे ढूंढ़ते ही रहते हैं. ले जाने की तैयारी पूरी हो चुकी थी, बस उससे कहा जा रहा था कि सुजीत के तीन चक्कर काट ले और कहे कि उसने उसे क्षमा कर दिया. उसकी चूड़ियां उतारकर सुजीत के साथ लपेट दी गईं. बिंदी पोंछ दी गई. उसे लग रहा था सैलाब उमड़ रहा है उसके भीतर चाहे जैसा था, था तो उसका पति… चाहे कितने दुख दिए, पर इस तरह जाना बर्दाश्त नहीं हो रहा था. प्यार के कण तो उनके बीच फिर भी व्याप्त ही रहे, बेशक विषमताओं की वजह से वे दिखे नहीं. फूट-फूटकर रो पड़ी वह. लिपट गई सुजीत से… आख़िरी बार महसूस करना चाहती थी उसे.

रुदन का हाहाकार मानो फैल गया था, तभी शिवम ने उसे उठाया. पलभर को दोनों की नज़रें मिलीं. उसका पूरा शरीर कांप रहा था, आंसू गालों को भिगो रहे थे. शिवानी ने कुछ कहना चाहा कि तभी शिवम ने उसे गले से लगा लिया.

“मत रोओ मम्मी, शायद ऐसा ही होना था. संभालो अपने आपको… मैं हूं न. आप रोओगे तो पापा को दुख होगा. उनकी आत्मा को शांति नहीं मिलेगी. जाने दो उन्हें चैन से.”

यह भी पढ़ेबढ़ते बच्चे बिगड़ते रिश्ते (How Parent-Child Relations Have Changed)

उसका और शिवम का रुदन कमरे में भर गया था. नीचे शवदाह की गाड़ी खड़ी थी. वह नीचे जाने के लिए सीढ़ियां उतरने लगी.

ब़र्फ की सिल्लियां पिघल रही हैं. “कमरे में पानी फैल रहा है, इन्हें उठाकर बाहर फेंक दो.” बुआ ने कहा. उसे लगा सारी सिल्लियां पिघल गई हैं.

सुमन बाजपेयी

अधिक शॉर्ट स्टोरीज के लिए यहाँ क्लिक करें – SHORT STORiES

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

एंटी एजिंग होम रेमेडीज़ (Anti Aging Home Remedies)

विटामिन सी स्किन के कोलाजन के निर्माण में मदद करता है. विटामिन सी युक्त फल सब्ज़ियों का सेवन करें औरस्किन पर भी अप्लाई करें.नींबू में विटामिन सी होता है, नींबू काटकर सीधे स्किन पर अप्लाई करें या गुलबजल में मिलाकर अप्लाई करें.एलोवीरा पल्प लगायें, यह एंटीबैक्टीरीयल है और इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज़ हैं. शोध बताते हैं कि एलोवीरा स्किन कोहाइड्रेट करता है, कोलाजन बढ़ाकर लचीलापन बढ़ाता है और रिंकल्स को कम करता है.ऑलिव ऑयल से मसाज करें क्योंकि रीसर्च बताते हैं कि यह स्किन को झुर्रियों से बचाता है.दही के सेवन से स्किन स्वस्थ रहती है और यह स्किन को रिंकल्स से भी बचाता है.अंडे का सफ़ेद भाग स्किन को हेल्दी ग्लो देता है और त्वचा में कसावट बनाए रखता है. इसका मास्क स्किन परअप्लाई करें.योग और एक्सरसाइज़ स्किन के लचीलेपन को बढ़ाते हैं. नियमित रूप से फ़ेस योग व एक्सरसाइज़ करें.केला कोलाजन को बढ़ाता है और एजिंग प्रॉसेस को धीमा करता है. केले को आप खायें भी और उसे मास्क के तौरपर भी अप्लाई करें. केले को मैश करके शहद मिलायें और इस मास्क को अप्लाई करें. सूखने पर गुनगुने पानी से धोलें.ऐवोकैडो को अपने डायट में शामिल करें. इसमें मौजूद विटामिन ए, डी और ई स्किन की नमी को बरक़रार रखते हैंऔर एजिंग प्रॉसेस को रोकते हैं.ककड़ी यानी कुकुंबर में शहद मिलाकर मास्क तैयार करके अप्लाई करें. ककड़ी में मैग्नीसीयम, पोटैशियम, विटामिन ए और ई होते हैं. इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह रक्त संचार को बढ़ाकर झुर्रियाँ कम करने में मददगारहै.शहद में नींबू के रस की कुछ बूँदें मिलाकर मास्क बनायें और २० मिनट के लिए लगायें. यह स्किन में कसाव लाता है.स्ट्रॉबेरीज़ विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट का बेहतरीन स्रोत है. ३-४ स्ट्रॉबेरीज़ को मैश करके फ़ेस पर पेस्ट कोअप्लाई करें. १५-२० मिनट बाद धो लें.पपीता एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है और इसमें मौजूद एंज़ायम पैपेन त्वचा से डेड सेल्स को हटाता है. पपीता केकुछ टुकड़ों को मैश करके पेस्ट तैयार करें और चेहरे पर अप्लाई करें. सूखने पर धो लें.पाइनऐपल प्रीमैच्योर एजिंग को रोकने में कारगर है. इसका पेस्ट चेहरे पर अप्लाई करें और १५-२० मिनट बाद धोलें.गुलबजल में नींबू के रस की कुछ बूँदें और ग्लिसरिन मिला लें और इसको सोने से पहले चेहरे पर अप्लाई करें. सुबहधो लें.

अजय देवगन को मुंबई पुलिस ने क्यों कहा डियर सिंघम… वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई! (Mumbai Police Has Responded To Ajay Devgan In Singham Style)

देश ही नहीं दुनिया के हालात हम सभी देख रहे हैं लेकिन इन सबके बीच प्रशासन, डाक्टर्स और पुलिस जिस तरह अपनाफ़र्ज़ अदा कर रही है वो क़ाबिले तारीफ़ है.  पुलिस को कई जगह लोगों के रोष का भी सामना करना पड़ रहा है बावजूद इसके वो लोगों की मदद कर रही है और उन्हेंजागरूक भी करने का काम कर रही है. दरअसल मुंबई पुलिस ने एक विडीओ ट्विटर पर शेयर किया जिसमें लोगों से पूछा जा रहा है कि क्या लोग लॉक डाउन केदौरान घर में बोर हो गए हैं? अगर लोग बोर हो गए तो उन पुलिस वालों की बात करें जो अपना काम बिना थके बिना रुकेकर रहे हैं. अगर इन्हें लॉकडाउन में २१ दिनों के लिए घरों में क़ैद कर दिया जाए तो वो क्या करेंगे? इसपर अधिकतर पुलिस वालों ने कहा कि वो अपने परिवार के साथ aur बच्चों के साथ समय बिताएँगे क्योंकि उनके कामके चलते उन्हें यह अवसर ना के बराबर मिलता है. किसी ने कहा वो बुक्स पढ़ेंगे, मूवी देखेंगे और बच्चों के साथ खेलेंगे.  ऐक्टर अजय देवगन को यह विडीओ बेहद पसंद आया और उन्होंने इसको शेयर किया और पुलिस की तारीफ़ की. मुंबई पुलिस ने जब यह देखा तो उन्होंने भी अजय देवगन का शुक्रिया अदा किया और कहा- डियर सिंघम, हम वही कर रहेहैं जो ख़ाकी से करने की उम्मीद की जाती है, ताकि चीज़ें और हालात पहले जैसे हो सकें- वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई.  इस ट्वीट ने इंटरनेट पर काफ़ी वाहवही बटोरी. इसी तरह सुनील शेट्टी ने भी मुंबई पुलिस की तारीफ़ की थी जिस पर मुंबई पुलिस ने कहा दिल की हर धड़कन इस शहरके लिए, इसके बाद अक्षय कुमार से लेकर आयुषमान खुराना और कई अन्य ऐक्टर्स ने भी मुंबई पुलिस के इस विडीओ को सराहा. https://twitter.com/mumbaipolice/status/1247719169748905984?s=21 https://twitter.com/mumbaipolice/status/1247844108368035841?s=21

अभिषेक-श्वेता मां जया बच्चन को जन्मदिन की बधाई देते हुए बेहद भावुक हो गए… (Abhishek-Shweta Became Very Emotional While Congratulating Mother Jaya Bachchan On Her Birthday…) 

आज जया बच्चन का जन्मदिन है. उनके दोनों बच्चों ने अभिषेक बच्चन और श्वेता बच्चन…

© Merisaheli