10 बातें जो पति को कभी न बताएं (10 things you should never tell to your husband)

पति-पत्नी के रिश्ते में प्यार और विश्‍वास निहायत ज़रूरी होता है, लेकिन ऐसी कई बातें (Things never to tell to your husband) होती हैं, जिन्हेें न कहना ही उचित होता है. पर्सनल टच काउंसलिंग सेंटर की सायकोलॉजिकल काउंसलर डॉ. रीटा खार  से बातचीत के आधार पर प्रस्तुत हैं वे बातें, जो पति को कभी नहीं बतानी चाहिए.

1. पति को अपनी पर्सनल सेविंग के बारे में कभी भी न बताएं. वे आपकी इमर्जेन्सी में काम आने वाले बचत के पैसे होते हैं. पुरुषों की प्रवृत्ति भी कुछ हद तक फ़िजूलख़र्ची की होती है. ऐसे में उन्हें अपने बचत के पैसों के बारे में न बताना ही ठीक रहता है.

2. शादी से पहले या फिर अतीत में कभी आपका कोई अ़फेयर रहा हो तो उसके बारे में पति को कतई न बताएं. पति पज़ेसिव और शक्की मिज़ाज के होते हैं. वे इस तरह की बातें बिल्कुल बर्दाश्त
नहीं करते. साथ ही यदि पुरुष मित्र को आप बहुत पसंद भी करती हों तो पति को न कहें, न ही उसका अधिक नाम लें. इससे भविष्य में कई समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं.

3. पार्टी, फंक्शन, रिश्तेदारों के बीच, दोस्तों के साथ रहने पर उनके सामने पति की कमियों और बुरी आदतों का रोना रोने न लग जाएं. बहुत कम पति होते हैं, जो इन सब बातों को सहज ढंग से लेते हैं. लेकिन इससे जहां पति के मान-सम्मान को ठेस पहुंचती है, वहीं पति तनाव और हीनभावना के शिकार भी होते हैं.

4. अपने मायके और ससुराल के किसी व्यक्ति विशेष ख़ासकर ननद, देवर, बहन आदि की बुराई उनके सामने न करें. इससे कभी-कभी बात का बतंगड़ बन सकता है.

5. मुझे आप पर विश्‍वास नहीं रहा- इस तरह की बातें पति से न बोलें. पति-पत्नी का रिश्ता ही विश्‍वास की नींव पर टिका होता है. कहीं ऐसा न हो कि आपकी यह सोच रिश्तों में दरार पैदा कर दे.

6.पति को यह कभी न क़हें कि आप उन्हें पसंद नहीं करतीं या उनसे नफ़रत करती हैं. अक्सर पत्नियां झगड़ा होने या किसी भी तरह का वाद-विवाद होने पर पति को इस तरह के उलाहने देकर कोसती हैं. आपका इस तरह से कहना उन्हें आहत कर सकता है.

7. यदि आप पति से अधिक सुंदर हैं या फिर आपकी बेमेल जोड़ी है तो इस बात का गुरूर न करें. शादी-ब्याह और रिश्ते संजोग से बनते हैं. बात-बात पर आपका पति को नीचा दिखाना और अपनी ख़ूबसूरती का बखान करना उन्हें दुखी कर देगा. इससे वे डिप्रेशन के भी शिकार हो सकते हैं.

8. यदि आप कामकाजी हैं तो यक़ीनन ऑफ़िस में आपको तरह-तरह के लोगों को रोज़ाना हैंडल करना पड़ता होगा, अतः बेहतर होगा कि घर-ऑफ़िस को अलग-अलग रखें. न घर की बातें ऑफ़िस में, न ऑफ़िस की घर में, क्योंकि पति आपकी ऑफ़िस की समस्या को उतना समझ तो पाएंगे नहीं, बल्कि आपकी परेशानी से वे भी परेशान हो उठेंगे.

9. अपने उच्च पद और तनख़्वाह (यदि पति से अधिक) का पति पर रौब न जमाएं. हर इंसान का अपना कैलिबर होता है. आपका यह व्यवहार उन्हें कुंठित कर सकता है.

10. हमारे मायके में तो ऐसा नहीं होता था… अक्सर पतियों को अपनी पत्नियों से इस तरह के जुमले सुनने  को मिलते हैं. पत्नियां ससुराल के रीति-रिवाज़, क्रियाकलापों आदि की तुलना अपने मायके से करती रहती हैं, जिससे शायद हर पति पीड़ित रहता है. अधिकतर पति कहते नहीं, लेकिन ये सभी बातें उनके मन में चुभती ज़रूर हैं. अतः बेहतर होगा कि इस तरह की बातों से बचें.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढें: पति की इन 7 आदतों से जानें कितना प्यार करते हैं वो आपको

यह भी पढ़ें:  क्या करें जब पति को हो जाए किसी से प्यार?

Meri Saheli Team :
© Merisaheli