वेट लॉस, शुगर कंट्रोल से लेकर कई बीमारियों में फ़ायदेमंद है जिमीकंद/सूरन (9 Health and Nutrition Benefits of Jimikand)

सूरन यानी जिमीकंद एक प्रकार का कंद मूल है, जिसमें कई ख़ास पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होते हैं, जो…

सूरन यानी जिमीकंद एक प्रकार का कंद मूल है, जिसमें कई ख़ास पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होते हैं, जो शरीर को कई बीमारियों से बचाने में सहायता करते हैं. सूरन में कार्बोहाइड्रेट और फाइबर भरपूर मात्रा में होती है. इस कारण सूरन को खाने के बाद लंबे समय तक भूख नहीं लगती. यह भूख को कम करके वज़न घटाने में भी सहायक होता है. इस सब्ज़ी को स्लिमिंग फूड भी कहते हैं. सूरन में मौजूद पोटैशियम पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है. यदि इसे नियमित रुप से खाएं, तो कब्ज़ व कोलेस्ट्रॉल की समस्या नहीं होती. खांसी, बवासीर, वात, सांस संबंधी रोग, कृमि की बीमारी के उपचार में सूरन का उपयोग किया जाता है. जिन्हें लीवर में समस्या है, उन्हें भी डॉक्टर सूरन खाने की सलाह देते हैं.

  • बवासीर की समस्या में सूरन को टुकड़ों में काटकर भाप में पका लें. फिर तिल के तेल में सब्ज़ी बनाकर खाएं और उसके ऊपर से छाछ पी लें. इससे हर तरह की बवासीर में लाभ होता है. इसे महीनेभर तक करें. अगर खूनी बवासीर हो, तो सूरन की सब्ज़ी के साथ इमली की पत्तियां व चावल लेने से फ़ायदा होता हैं.
  • मेनोपॉज (रजोनिवृत्ति) में महिलाओं को अचानक गर्मी लगना, नींद न आना, अजीब सा व्यवहार जैसे लक्षण दिखते हैं. अध्ययन के अनुसार, सूरन के रस के इस्तेमाल से मेनोपॉज के लक्षण में काफ़ी हद तक राहत मिल सकती है.

यह भी पढ़ें: चोट-मोच, सूजन के लिए उपयोगी घरेलू नुस्ख़े (Useful Home Remedies For Injury, Swelling)

  • सूरन ब्लड सर्कुलेशन सही करता है. इसमें मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी के कारण यह गठिया व अस्थमा के मरीज़ों के लिए भी अच्छा होता है. इसमें पाया जानेवाला कॉपर लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाकर शरीर में ब्लड के फ्लो को दुरुस्त करता है.
  • सूरन में प्राकृतिक रूप से एलेंटॉइन केमिकल कंपाउंड होता है. एक शोध में पाया गया कि एलेंटॉइन में एंटी डायबिटिक प्रभाव होता है, लिपिड प्रोफाइल को सुधारने के साथ ब्लड शुगर को नियंत्रित करके डायबिटीज़ से बचाव करता है.
  • सूरन लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स की श्रेणी में आता है और इसमें फाइबर अच्छी मात्रा में होता है, इस कारण डायबिटीज़ के मरीज़ इसे अपने भोजन में ज़रूर शामिल करें.
  • सूरन में ओमेगा 3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है. ये अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने के साथ ख़राब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं.
  • जिमीकंद में विटामिन बी6 पाया जाता है, जिससे बाल गिरने की समस्या दूर होती है और बाल हेल्दी व मज़बूत भी होते हैं. साथ ही सूरन चिड़चिड़ेपन और चिंता जैसी समस्या को भी कम करता है.
  • सूरन में दर्द कम करने वाले और सूजन रोधी गुण होते हैं, जो जोड़ों के दर्द को कम करते हैं.
  • जिमीकंद को एस्ट्रोजन बढ़ाने वाला भोजन भी कहते हैं. ये सब्ज़ी विटामिन बी6 व एंटीस्पास्मोडिक गुण पीएमएस यानी प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम के लक्षणों को रोकने के साथ-साथ ठीक करने में भी सहायक है.

यह भी पढ़ें: कॉर्न (मक्का) खाने के 15 लाजवाब फ़ायदे… (15 Amazing Health Benefits Of Corn (Maize)

रिसर्च
एक रिसर्च के अनुसार, सूरन में एंटीऑक्सीडेंट रक्षा प्रणाली में वृद्धि करके व इंफ्लेमेशन प्रक्रिया को कम कर कोलन कैंसर से बचा जा सकता है.

सावधानी

  • जिन्हें त्वचा संबंधी समस्याएं, ह्रदयरोग, रक्तस्राव, कुष्ठ रोग आदि है, वे सूरन का सेवन न करें.
  • यदि सूरन खाने से मुंह आना या खुजली हो, तो नींबू या इमली का सेवन करें.
  • अधिक मात्रा में सूरन के सेवन से उल्टी हो सकती है.
  • साइनस के संक्रमण से पीड़ित मरीज़ों को जिमीकंद खाने से बचना चाहिए.

Photo Courtesy: Freepik

Recent Posts

क्या बढ़ते प्रदूषण का स्तर मांओं के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है? (Are Rising Pollution Levels Affecting The Health Of Mothers?)

दिल्ली का वायु प्रदूषण मुख्य रूप से पूरी सर्दियों में एक गंभीर समस्या बना रहता…

कहानी- जहां चाह वहां राह (Short Story- Jahan Chah Wahaa Raah)

"ऐसे टीम नहीं बनेगी. टीम मेरे हिसाब से बनेगी." सभी बच्चों को एक लाइन में…

डेली ब्यूटी डोज़: अब हर दिन लगें खूबसूरत (Daily Beauty Dose: Easy Tips To Look Chic And Beautiful Everyday)

खूबसूरत तो हम सभी दिखना चाहते हैं और जब भी कोई त्योहार या बड़ा मौक़ा आता है तो हम कोशिश करते हैं कि अपनी ब्यूटी काख़ास ख़याल रखें. शादी के मौक़े पर भी हम अलग ही तैयारी करते हैं, लेकिन सवाल ये है कि सिर्फ़ विशेष मौक़ों पर ही क्यों, हर दिनखूबसूरत क्यों न लगें? है न ग्रेट आइडिया?  यहां हम आपको बताएंगे डेली ब्यूटी डोज़ के बारे में जो आपको बनाएंगे हर दिन ब्यूटीफुल… स्किन को और खुद को करें पैम्पर फेशियल, स्किन केयर और हेयर केयर रूटीन डेवलप करें, जिसमें सीटीएम आता है- क्लेंज़िंग, टोनिंग और मॉइश्चराइज़िंग.स्किन को नियमित रूप से क्लींज़ करें. नेचुरल क्लेंज़र यूज़ करें. बेहतर होगा कि कच्चे दूध में थोड़ा-सा नमक डालकर कॉटनबॉल से फेस और नेक क्लीन करें.नहाने के पानी में थोड़ा दूध या गुलाब जल मिला सकती हैं या आधा नींबू कट करके डालें. ध्यान रहे नहाने का पानी बहुत ज़्यादा गर्म न हो, वरना स्किन ड्राई लगेगी. नहाने के लिए साबुन की बजाय बेसन, दही और हल्दी का पेस्ट यूज़ कर सकती हैं. नहाने के फ़ौरन बाद जब स्किन हल्की गीली हो तो मॉइश्चराइज़र अप्लाई करें.इससे नमी लॉक हो जाएगी. हफ़्ते में एक बार नियमित रूप से स्किन को एक्सफोलिएट करें, ताकि डेड स्किन निकल जाए. इसी तरह महीने में एक बार स्पा या फेशियल कराएं.सन स्क्रीन ज़रूर अप्लाई करें चाहे मौसम जो भी हो. इन सबके बीच आपको अपनी स्किन टाइप भी पता होनी चाहिए. अगर आपकी स्किन बेहद ड्राई है तो आप ऑयल या हेवी क्रीमबेस्ड लोशन या क्रीम्स यूज़ करें.अगर आपको एक्ने या पिम्पल की समस्या है तो आप हायलूरोनिक एसिड युक्त सिरम्स यूज़ करें. इसी तरह बॉडी स्किन  की भी केयर करें. फटी एड़ियां, कोहनी और घुटनों की रफ़, ड्राई व ब्लैक स्किन और फटे होंठों को ट्रीट करें. पेट्रोलियम जेली अप्लाई करें. नींबू को रगड़ें, लिप्स को भी स्क्रब करें और मलाई, देसी घी या लिप बाम लगाएं. खाने के सोड़ा में थोड़ा पानी मिक्स करके घुटनों व कोहनियों को स्क्रब करें. आप घुटने व कोहनियों पर सोने से पहले नारियल तेल से नियमित मसाज करें. ये नेचुरल मॉइश्चराइज़र है और इससे कालापनभी दूर होता है. फटी एड़िययां आपको हंसी का पात्र बना सकती हैं. पता चला आपका चेहरा तो खूब चमक रहा है लेकिन बात जब पैरों की आईतो शर्मिंदगी उठानी पड़ी. फटी एड़ियों के लिए- गुनगुने पानी में कुछ समय तक पैरों को डुबोकर रखें फिर स्क्रबर या पमिस स्टोन से हल्के-हल्के रगड़ें.नहाने के बाद पैरों और एड़ियों को भी मॉइश्चराइज़र करें. चाहें तो पेट्रोलियम जेली लगाएं. अगर पैरों की स्किन टैन से ब्लैक हो है तो एलोवीरा जेल अप्लाई करें.नेल्स को नज़रअंदाज़ न करें. उनको क्लीन रखें. नियमित रूप से ट्रिम करें. बहुत ज़्यादा व सस्ता नेल पेंट लगाने से बचें, इससे नेल्स पीले पड़ जाते हैं.उनमें अगर नेचुरल चमक लानी है तो नींबू को काटकर हल्के हाथों से नाखूनों पर रगड़ें. नाखूनों को नियमित रूप से मॉइश्‍चराइज़ करें. रोज़ रात को जब सारे काम ख़त्म हो जाएं तो सोने से पहले नाखूनों व उंगलियों परभी मॉइश्‍चराइज़र लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें. इससे  ब्लड सर्कूलेशन बढ़ेगा. नेल्स सॉफ़्ट होंगे और आसपास की स्किनभी हेल्दी बनेगी.क्यूटिकल क्रीम लगाएं. आप क्यूटिकल ऑयल भी यूज़ कर सकती हैं. विटामिन ई युक्त क्यूटिकल ऑयल या क्रीम से मसाज करें.नाखूनों को हेल्दी व स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए नारियल या अरंडी के तेल से मालिश करें. इसी तरह बालों की हेल्थ पर भी ध्यान दें. नियमित रूप से हेयर ऑयल लगाएं. नारियल या बादाम तेल से मसाज करें. हफ़्ते में एक बार गुनगुने तेल से बालों की जड़ों में मालिश करें और माइल्ड शैम्पू से धो लें. कंडिशनर यूज़ करें. बालों को नियमित ट्रिम करवाएं. अगर डैंड्रफ या बालों का टूटना-झड़ना जैसी प्रॉब्लम है तो उनको नज़रअंदाज़ न करें.  सेल्फ ग्रूमिंग भी है ज़रूरी, ग्रूमिंग पर ध्यान दें… रोज़ ब्यूटीफुल दिखना है तो बिखरा-बिखरा रहने से बचें. ग्रूम्ड रहें. नियमित रूप से वैक्सिंग, आईब्रोज़ करवाएं. ओरल व डेंटल हाईजीन पर ध्यान दें. अगर सांस से दुर्गंध आती हो तो पेट साफ़ रखें. दांतों को साफ़ रखें. दिन में दो बार ब्रश करें. कोई डेंटल प्रॉब्लम हो तो उसका इलाज करवाएं.अपने चेहरे पर एक प्यारी सी स्माइल हमेशा बनाकर रखें. अच्छी तरह ड्रेस अप रहें. कपड़ों को अगर प्रेस की ज़रूरत है तो आलस न करें. वेल ड्रेस्ड रहेंगी तो आपमें एक अलग ही कॉन्फ़िडेन्स आएगा, जो आपको खूबसूरत बनाएगा और खूबसूरत होने का एहसास भीजगाए रखेगा. अपनी पर्सनैलिटी और स्किन टोन को ध्यान में रखते हुए आउटफ़िट सिलेक्ट करें. एक्सेसरीज़ आपकी खूबसूरती में चार चांद लगा देती हैं. उनको अवॉइड न करें. मेकअप अच्छे ब्रांड का यूज़ करें, लेकिन बहुत ज़्यादा मेकअप करने से बचें. कोशिश करें कि दिन के वक्त या ऑफ़िस में नेचुरल लुक में ही आप ब्यूटीफुल लगें. फ़ुटवेयर भी अच्छा हो, लेकिन आउटफ़िट व शू सिलेक्शन में हमेशा कम्फ़र्ट का ध्यान भी ज़रूर रखें. आपके लुक में ये बहुतमहत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. 

© Merisaheli