ग़ज़ल (Gazal)

देख लेती हूं तुम्हें ख़्वाब में सोते-सोते चैन मिलता है शब-ए-हिज्र में रोते-रोते इक तेरे ग़म के सिवा और बचा ही क्या है बच गई…

देख लेती हूं तुम्हें ख़्वाब में सोते-सोते
चैन मिलता है शब-ए-हिज्र में रोते-रोते

इक तेरे ग़म के सिवा और बचा ही क्या है
बच गई आज ये सौगात भी खोते-खोते

प्यार फलने ही नहीं देते बबूलों के शजर
थक गए हम तो यहां प्यार को बोते-बोते

बेवफ़ा कह के उसे छेड़े हैं दुनिया वाले
मर ही जाए न वो इस बोझ को ढोते-ढोते

इतनी दीवानी बनाया है किसी ने मुझको
प्यार की झील में खाती रही गोते-गोते

ऐसा इल्ज़ामे-तबाही ये लगाया उसने
मुद्दतें हो गईं इस दाग़ को धोते-धोते

आ गया फिर कोई गुलशन में शिकारी शायद
हर तरफ़ दिख रहे आकाश में तोते-तोते

तेरे जैसा ही कोई शख़्स मिला था ‘डाली’
बच गए हम तो किसी और के होते-होते…

– अखिलेश तिवारी ‘डाली’

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कैटरीना कैफ का डांस देख क्रेजी हुए फैंस, वीडियो ने मचाया तहलका (Fans Went Crazy Watching katrina Kaif’s Dance, The Video Created Panic)

बॉलीवुड में बार्बी गर्ल के नाम से मशहूर एक्ट्रेस कैटरीना कैफ (Katrina Kaif) के लिए…

कविता- करवा चौथ (Poetry- Karwa Chauth)

जीवन की आपाधापी में शौक सिंगार का सोया सा फिर पुलक उठा, मुस्काया सखी फिर…

मीरा राजपूत ने पहना ऐसा शॉर्ट्स, हो रही हैं बुरी तरह ट्रोल (Mira Rajput Wore Such Shorts, Getting Trolled Badly)

आज का ज़माना सोशल मीडिया का है, जहां हर कोई एक्टिव रहता है. फिर चाहे…

रंग तरंग- भूखे इश्क़ न होत सजना… (Satire- Bhukhe Ishq Na Hot Sajna…)

''सिया उठो, सरगी का टाइम हो गया, मां बुला रही हैं.'' मैंने जान-बूझकर करवट ले…

© Merisaheli