ग़ज़ल (Gazal)

आ गए आपकी मेहरबानी हुई दिल की सरगम बजी शादमानी हुई मिल गई प्यार की सल्तनत अब हमें वो भी राजा हुआ मैं भी रानी…

आ गए आपकी मेहरबानी हुई
दिल की सरगम बजी शादमानी हुई

मिल गई प्यार की सल्तनत अब हमें
वो भी राजा हुआ मैं भी रानी हुई

जब से पड़ने लगी वो निगाह-ए-करम
फूल जैसी खिली ज़िन्दगानी हुई

लग गई क़हक़हों की झड़ी देखिए
इस कदर दोनों में ख़ुश बयानी हुई

फूल बूटे तरन्नुम से गाने लगे
जब शुरू प्यार की यह कहानी हुई

आज मौक़ा मुक़द्दर ने दे ही दिया
जो ये हासिल तेरी मेज़बानी हुई

दिल से ‘डाली’ लगाते हैं हम इसलिए
जां से प्यारी तेरी हर निशानी हुई…

– अखिलेश तिवारी डाली

  • शादमानी- ख़ुशी
  • निगाह-ए-करम- कृपादृष्टि

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta
Tags: gazalshayari

Recent Posts

कौन थे विकी कौशल-कैटरीना कैफ के लव गुरू, कैसे शुरू हुई थी इनकी लवस्टोरी(Who was the Love Guru of Vicky Kaushal-Katrina Kaif? How Vicky-Katrina fell in love?)

विकी कौशल-कटरीना कैफ इन दिनों सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं. जहां देखो वहां दोनों…

© Merisaheli