कविता- अभी वक़्त गुजरा कहां है… (Kavita- Abhi Waqt Gujra kahan Hai?)

अभी वक़्त गुजरा कहां है अभी भोर होते ही आसमां में सुबह की लाली नज़र आती है सुबह टहलने निकले तो कानों में कोयल की…

अभी वक़्त गुजरा कहां है
अभी भोर होते ही
आसमां में
सुबह की लाली नज़र आती है
सुबह टहलने निकले तो
कानों में कोयल की कूक सुनाई पड़ती है
कभी-कभी दिख जाते हैं
मोर भी
नाचते हुए
कोई गीत सुन लेता हूं
अपने ही भीतर
उठती लहरों के साथ
मुस्कुरा उठता हूं
अभी हाथों में कलम पकड़ कर
लिख सकता हूं
अभी चल सकता हूं
थोड़ा दौड़ भी तो लेता हूं
नेत्रों में सौंदर्य की अनुभूति का
एहसास बचा है
अभी कुछ कहने की ताकत
मेरे भीतर है
कुछ करने का
हौसला भी तो
बरक़रार है
अभी मेरे दिल ने
हार कहां मानी है
अभी वक़्त गुजरा कहां है
अभी वक़्त गुजरा कहां है…

– मुरली

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

मीरा राजपूत ने पहना ऐसा शॉर्ट्स, हो रही हैं बुरी तरह ट्रोल (Mira Rajput Wore Such Shorts, Getting Trolled Badly)

आज का ज़माना सोशल मीडिया का है, जहां हर कोई एक्टिव रहता है. फिर चाहे…

रंग तरंग- भूखे इश्क़ न होत सजना… (Satire- Bhukhe Ishq Na Hot Sajna…)

''सिया उठो, सरगी का टाइम हो गया, मां बुला रही हैं.'' मैंने जान-बूझकर करवट ले…

© Merisaheli