Stories

कहानी- सिर्फ़ एहसास है ये…5 (Story Series- Sirf Ehsaas Hai Ye… 5)

और प्यार? पापा की परिभाषा में आकर्षण! नहीं, आकर्षण तो जाड़ों की धूप की तरह दो पल में ढल जाता…

कहानी- सिर्फ़ एहसास है ये…4 (Story Series- Sirf Ehsaas Hai Ye… 4)

“तुम मेरी रूह की हमसफ़र हो, तुम मस्तिष्क से मेरी समवयस्क भी हो, और ये भी सच है कि मैं…

कहानी- सिर्फ़ एहसास है ये…3 (Story Series- Sirf Ehsaas Hai Ye… 3)

मैंने पलकें हल्के से खोलीं, तो उनकी एकटक ख़ुद को निहारती आंखों में प्यार का ब्रह्मांड देखा. जाने कितनी आकाशगंगाएं…

कहानी- सिर्फ़ एहसास है ये…2 (Story Series- Sirf Ehsaas Hai Ye… 2) 

  धीरे-धीरे मेरे प्रश्न पकते गए और साथ में उनके उत्तर भी. मैं उनकी भेजी मार्क्स, टॉलस्टाय, वर्ड्सवर्थ और जाने…

कहानी- सिर्फ़ एहसास है ये…1 (Story Series- Sirf Ehsaas Hai Ye… 1)

साल में एक बार आते और मेरी सारी अटपटी ख़्वाहिशों का पिटारा भरकर जाते. घाटी में दूर तक उतरकर नायाब…

कहानी- बंधन और मुक्ति 5 (Story Series- Bandhan Aur Mukti 5)

"प्रेम का अविरल झरना तेरे आंगन में बह रहा है और अपने मन को सूखा रखना उसके साथ अन्याय नहीं…

कहानी- बंधन और मुक्ति 4 (Story Series- Bandhan Aur Mukti 4)

सुहासिनी की आंखों में प्रश्न को गहराया देख बात आगे बढ़ाई थी उन्होंने, “शाश्वत को मुक्ति चाहिए बेटा और सुकेश…

कहानी- बंधन और मुक्ति 3 (Story Series- Bandhan Aur Mukti 3)

‘बस, हो गए पूरे सात जनम के वादे?’ नहीं, नहीं, ये वो क्या करने चली थी? शाश्वत से बेवफ़ाई. अचानक…

कहानी- बंधन और मुक्ति 2 (Story Series- Bandhan Aur Mukti 2)

"जब आप लोगों से बिछड़ने का समय आया और बुआ ने मेरे सामने ये प्रस्ताव रखा, तो मैं भी आपकी…

कहानी- बंधन और मुक्ति 1 (Story Series- Bandhan Aur Mukti 1)

  शाश्वत की फोटो पेट पर रखकर बच्चे की धड़कन सुना रही थी कि रुलाई हिचकियों में बदल गई. तभी…

कहानी- बापू से पापा तक…8 (Story Series- Bapu Se Papa Tak…8)

  जब मौसी को यह निश्चित हो गया कि जोशीजी भी यही चाहते हैं, तो उन्होंने पापा से बात करने…

कहानी- बापू से पापा तक…7 (Story Series- Bapu Se Papa Tak…7)

"क्या बात है लल्ली इस बार तुम कुछ उदास लग रही हो?"  मुझसे कोई उत्तर न पा वह उठकर मेरे…

© Merisaheli