क्यों ज़रूरी है एक्सरसाइज़ः 22 वजहें (22 Reasons why Exercise is Necessary)

यह तो हम सभी जानते हैं कि एक्सरसाइज़ हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद ज़रूरी है, लेकिन जब एक्सरसाइज़ करने की बात आती है तो हम दस तरह के बहाने बनाना शुरू कर देते हैं. कभी टाइम का रोना रोते हैं तो कभी कहते हैं कि हमें एक्सरसाइज़ की कोई ज़रूरत नहीं. आइए, जानते हैं एक्सरसाइज़ करने की 20+ वजहें.


1. रोज़ाना कार्डियोवेस्कुलर एक्सरसाइज़ करने से हमारी ब्रीदिंग कैपिसिटी बढ़ती है और हम ज़्यादा एनर्जेटिक महसूस करते हैं.
2. यह ह्रदय व मांसपेशियों को स्वस्थ रखता है और रक्त के बहाव को बनाए रखता है.
3. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से हमारा स्टेमिना यानी काम करने की क्षमता बढ़ती है और हम ज़्यादा अच्छे तरी़के से अपना काम कर पाते हैं.
4. रेग्युलर एक्सरसाइज़ करने से हमारे शरीर से एंडोर्फिन्स नामक हार्मोन का स्राव होता है, जो तनाव कम करने में सहायक होता है.
5. नियमित एक्सरसाइज़ करने से शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है जिससे सभी इंटरनल ऑर्गन को सही मात्रा में ब्लड सप्लाई मिल पाता है और हमारा दिमाग़ सही तरी़के से काम करता है.
6. वेट ट्रेनिंग मसल्स की कार्यक्षमता बढ़ाने के साथ ही इन्हें सुदृढ़ और मज़बूत बनाने में भी सहायक होता है.
7. एक्सरसाइज़ दिमाग़ को सक्रिय करके नए ब्रेन सेल्स के निर्माण में मदद करता है. साथ ही ब्रेन सेल्स के कनेक्शन को भी मज़बूत करता है.
8. जो लोग शारीरिक रूप से सक्रिय रहते हैं वे ज़्यादा समय तक ज़िंदा रहते हैं. एक्सरसाइज़ असमय मृत्यु की संभावना को भी कम करता है.
9. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से मेटाबॉल़िज़्म बढ़ता है. एक्सरसाइज़ करने के बाद आराम करते समय भी कैलोरी बर्न होती हैं, जिससे वज़न कम होता है.
10. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से ब्लड कॉलेस्ट्रॉल लेवल प्रभावित होता है. एक्सरसाइज़ बैड कॉलेस्ट्रॉल लेवल को कम करके एचडीएल यानी गुड कॉलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है.
11. एक्सरसाइज़ ब्लडप्रेशर नियंत्रित करने में भी मदद करता है. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से हाई ब्लडप्रेशर से पीड़ित लोगों का ब्लडप्रेशर तक़रीबन 75 फ़ीसदी तक कम हो जाता है. ब्लडप्रेशर नियंत्रित करने में अन्य एक्सरसाइज़ेस की अपेक्षा एरोबिक ज़्यादा असरकारी होता है.
12. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने वालों को विभिन्न प्रकार के कैंसर, ख़ासतौर पर कोलोन और ब्लड कैंसर होने का ख़तरा कम हो जाता है.
13. अमेरिकन एकेडमी ऑफ न्यूरोलॉजी में छपी रिपोर्ट के अनुसार, नियमित तौर पर एक्सरसाइज़ करने वालों को अन्य लोगों की तुलना में स्ट्रोक का ख़तरा 50 फ़ीसदी कम होता है.
14. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से बोन मिनरल डेंसिटी बढ़ती है जिससे ऑस्टियोपोरोसिस होने का ख़तरा कम हो जाता है.
15. एक्सरसाइज़ करने से अच्छी नींद आती है और डिप्रेशन का ख़तरा भी कम हो जाता है. स्टैनफोर्ड स्कूल ऑफ मेडिसीन के शोधकर्ताओं के अनुसार, नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने वालों को जल्दी और अच्छी नींद आती है और वे सुबह ज़्यादा फ्रेश फील करते हैं.
16. एक्सरसाइज़ शारीरिक बनावट ठीक करने के साथ ही आत्मविश्‍वास बढ़ाने में भी सहायक है. फिटनेस और एक्सरसाइज़ेस हमें अपनी क्षमता के अनुरूप प्रदर्शन करने में मदद करते हैं.
17. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से एजिंग की प्रक्रिया धीमी हो जाती है और हम ज़्यादा दिनों तक स्वस्थ और जवां बने रहते हैं.
18. वेट ट्रेनिंग जैसे एक्सरसाइज़ नियमित रूप से करने से मांसपेशियों में टेस्टोस्टेरॉन का स्राव ज़्यादा होता है जो एनर्जी व स्टेमिना बढ़ाकर शारीरिक क्षमता भी बढ़ाता है.
19. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ शरीर में रक्त के बहाव को ठीक करता हैै, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को ठीक करने के साथ ही डीजनरेटिक बीमारियों जैसे- टाइप-2 डायबिटीज़ से भी रक्षा करता है.
20. रेग्युलर एक्सरसाइज़ करने से ह्रदय अधिक मात्रा में ब्लड पंप करता है और हम अधिक मात्रा में ऑक्सिजन ग्रहण करते हैं.
21. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने वालों को पीठ दर्द का ख़तरा कम होता है. हाल में हुए शोधों से यह सिद्ध हुआ है कि एक्सरसाइज़ लो बैक पेन से छुटकारा दिलाने में भी सहायक है.
22. एक्सरसाइज़ हमारे मानसिक स्वास्थ्य को सुधारता है. साथ ही डिप्रेशन के लक्षण को भी कम करता है. शोधकर्ताओं के अनुसार, नियमित एक्सरसाइज़ का असर सरट्रालाइन जैसे एंटीडिप्रेशेन्ट की तरह ही होता है. उनके अनुसार, ह़फ़्ते में 4-5 दिन 30 मिनट तक एक्सरसाइज़ करने से डिप्रेशन के लक्षणों में सुधार आता है.

 

सिरदर्द के प्रकार, कारण और उनसे छुटकारा पाने के अचूक उपाय(Types of Headaches: Causes & How to Get Rid of Them)

Meri Saheli Team :
© Merisaheli