कविता- आईने में ख़ुद को देखना मेरी नज़र से… (Poem- Aaina Mein Khud Ko Dekhna Meri Nazron Se…)

अब अपनी आंखें खोल देना

और आईने में

ख़ुद को देखना

मेरी नज़र से

जैसे तुम्हें

आईना नहीं

मैं

देख रहा हूं

देखना अपने माथे के सौंदर्य को

अपनी आंखों में बसे

दूसरों को

प्यार से देखने के हुनर को

और देखना

अपनी हंसी को

मेरी निगाह से

जो इतनी ख़ूबसूरत है

कि न जानें कितने रोते हुए

चेहरों में ताज़गी भर दे

देखना

अपनी तराशी हुई ख़ूबसूरत

गर्दन को

और फिर थोड़ा-सा

शरमाते हुए

अपने पूरे बदन को

मेरी निगाह से

सोचना कि

कहां कहां

टिकती और रुकती होगी

मेरी निगाह

तुम्हें देखते हुए

तुम्हारे बदन के

सौंदर्य का रस पीने को

इसे देखते ही

तुम ख़ुद से

बेइंतहा प्यार करने लगोगे

यक़ीन मानो

कितना कुछ छुपा है

तुम्हारे भीतर

बस तुमने कभी

ख़ुद को

गौर से देखने की

कोशिश ही नहीं की…

– शिखर प्रयाग

यह भी पढ़े: Shayeri


Photo Courtesy: Freepik

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

9 विवाह क़ानून, जो हर विवाहित महिला को पता होने चाहिए (9 Legal Rights Every Married Woman In India Should Know)

शादी एक ऐसा रिश्ता होता है, जो दो लोगों को ही नहीं, बल्कि दो परिवारों…

February 28, 2024

कहानी- परवाह (Short Story- Parvaah)

"जानते हो अमित, जब पारस होस्टल गया था… मेरे पास व्योम था. उसकी पढ़ाई में…

February 28, 2024

रुबिना अभिनवने गोव्यात साजरा करेला लेकींचा तिसऱ्या महिन्याचा वाढदिवस (Rubina Dilaik And Abhinav Shukla Celebrate Their Twins’ 3-Month Birthday)

रुबिना दिलैक आणि अभिनव शुक्ला सध्या त्यांच्या आयुष्यातील सर्वात सुंदर टप्पा एन्जॉय करत आहेत. गेल्या…

February 28, 2024

शाप की कोप (Short Story: Shaap Ki Kop)

नीलता कौशलजींचं निधन झालं आणि एक वर्षाच्या आतच एके संध्याकाळी वादळी वार्‍या-पावसाने त्यांच्या दारातील ते…

February 28, 2024
© Merisaheli