कविता- भूख (Poem- Bhukh)

सामने दलिया या खिचड़ी के आते ही तलाशने लगती उसकी सूखी आंखें अचार के किसी मर्तबान या स्टोर रूम के कोने में रखे पापड़ों के…

सामने दलिया या
खिचड़ी के आते ही
तलाशने लगती
उसकी सूखी आंखें
अचार के किसी मर्तबान
या स्टोर रूम के कोने में
रखे पापड़ों के डिब्बे को

बेरंग और बेस्वाद
उबला हुआ वो खाना
उतरता नही गले से
उसके

पर उम्र की दरकार है
हजम नही कर पातीं
उसकी बूढ़ी हड्डियां
अब तले फले गरिष्ठ
भोजन को

एक समय तरह तरह के
स्वादिष्ट व्यंजन बनाती
और उतने ही प्रेम से
सबको खिलाती

बरस बीते वो मां अब
बूढ़ी हो गई
उसकी पसंद नापसंद
सूखे पत्ते सी
ढह गई

कांपते हाथों से
कुछ निवाले खाकर
धीरे से परे अपनी
थाली सरका कर
कहती है अब बस
पेट भर गया है

तभी उन आंखों का
मौन मुखर हो उठता है
मन अभी अतृप्त है
ये पता चलता है…

पूनम पाठक

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta
Tags: poemKavita

Recent Posts

OMG: तो क्या निया शर्मा ने इसलिए टीवी से बना ली दूरी, वजह जानकर यकीन नहीं होगा (OMG: So Why Did Nia Sharma Distance Herself From TV, Will Not Believe Knowing The Reason)

टीवी की जानी मानी एक्ट्रेस निया शर्मा (Nia Sharma) इन दिनों अपनी एक्टिंग से ज्यादा…

© Merisaheli