ग़ज़ल- तस्तीक़ (Gazal- Tastik)

अब न कोई शक़-ओ-शुबा है, हर ढंग से तस्तीक़ हो गई निराशाओं से लड़ने की, मेरी बीमारी ठीक हो गई लहू नसों में कुछ करने…

अब न कोई शक़-ओ-शुबा है, हर ढंग से तस्तीक़ हो गई

निराशाओं से लड़ने की, मेरी बीमारी ठीक हो गई

लहू नसों में कुछ करने का, धीरे-धीरे ठंड पा गया

ज़ख़्म अभी बाकी है पर, भरने का सा निशां आ गया

उठती-गिरती धड़कन भी, इक सीधी-सी लीक हो गई

निराशाओं से लड़ने की, मेरी बीमारी ठीक हो गई

अब न जुनूं कुछ करने का, बेचैन रूह को करता है

अब न दिल में ख़्वाबों का, दरिया बेदर्द बहता है

ख़्वाब फ़ासला पा गए और हक़ीक़तें नज़दीक़ हो गई

निराशाओं से लड़ने की, मेरी बीमारी ठीक हो गई…

भावना प्रकाश

शक-ओ-शुबा- संदेह
तस्तीक़- सत्यता प्रमाणित होना
लीक- लकीर

(इस ग़ज़ल का मतलब है कि अब ख़्वाबों को पूरा करने के लिए पागलपन की हद तक संघर्ष करते रहने की आदत ख़त्म हो रही है…)

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

सुनील शेट्टी ने दर्ज कराई प्रोडक्‍शन कंपनी के खिलाफ पुल‍िस कंप्लेन, जानिए क्या है मामला (Suniel Shetty files complaint against a production company)

एक तरफ सुनील शेट्टी अपने बेटे अहान शेट्टी के बॉलीवुड डेब्यू को लेकर इन दिनों…

‘नागिन’ के फैंस के लिए बुरी खबर ;शुरू होते ही बंद होने की कगार पर ‘कुछ तो है ‘सीरियल (Bad news for ‘Naagin’ fans; ‘Kuch To Hai’ serial on the verge of closure as soon as it starts)

फोटो सौजन्य:इंस्टाग्राम टीवी सीरियल्स की शूटिंग शुरू हो गयी है और कई नए सीरियल्स टीवी…

© Merisaheli