काव्य- कसक (Kavay- Kasak)

बिखरते ख़्वाबों को देखा सिसकते जज़्बातों को देखा रूठती हुई ख़ुशियां देखीं बंद पलकों से टूटते हुए अरमानों को देखा... अपनों का बेगानापन देखा परायों…

बिखरते ख़्वाबों को देखा

सिसकते जज़्बातों को देखा

रूठती हुई ख़ुशियां देखीं

बंद पलकों से

टूटते हुए अरमानों को देखा…

अपनों का बेगानापन देखा

परायों का अपनापन देखा

रिश्तों की उलझन देखी

रुकती सांसों ने

हौले से ज़िंदगी को मुस्कुराते देखा…

तड़प को भी तड़पते देखा

आंसुओं में ख़ुशियों को देखा

नफ़रत को प्यार में बदलते देखा

रिश्तों के मेले में

कितनों को मिलते-बिछड़ते देखा…

नाकामियों का मंज़र देखा

डूबती उम्मीदों का समंदर देखा

वजूद की जद्दोज़ेहद देखी

एक ज़िंदगी ने

हज़ारों ख़्वाहिशों को मरते देखा…

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेShayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कविता- हर बार मेरा आंचल तुम बनो… (Poetry- Har Baar Mera Aanchal Tum Bano…)

हूं बूंद या बदली या चाहे पतंग आसमान तुम बनो हूं ग़ज़ल या कविता या…

कहानी- जीवन की वर्तनी (Short Story- Jeevan Ki Vartani)

उस दिन देर रात जब मैं शादी से लौट रही थी, मुझे यही लग रहा…

© Merisaheli