काव्य- सावन से पहले चले आना… (Kavay- Sawan Se Pahle Chale Aana…)

सुनो ना... सावन से पहले चले आना बड़ा तरसी है आरज़ू तेरी ख़ातिर इस बरस खुल के बरस जाना मद्धिम हवा को साथ लिए कुछ…

सुनो ना…

सावन से पहले चले आना

बड़ा तरसी है आरज़ू तेरी ख़ातिर

इस बरस खुल के बरस जाना

मद्धिम हवा को साथ लिए

कुछ गुनगुनी बूंदों को हाथ लिए

जब दूर कहीं सूरज ढले

जब यहीं कहीं गगन धरा से मिले

दबे पांव

धीमी दस्तक से

दर मेरा खटखटाना

सुनो ना…

सावन से पहले चले आना

                                               – मंजू चौहान

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर मंजू चौहान की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं

यह भी पढ़ेShayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

रवि दुबे और सरगुन मेहता की प्रेम कहानी (Love Story Of Ravi Dubey And Sargun Mehta)

मनचाहा जीवनसाथी, मनचाहा प्रोफेशन, मनचाही ख़ुशियां... यदि ये सब हासिल हो जाएं तो ज़िंदगी से…

कहानी- फीनिक्स (Story- Phoenix)

हमारे भीतर, जीने के कोई साधना और तंतु विद्यमान नहीं होते हैं, लेकिन ये जो…

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सामने आए ये 10 खुलासे (Sushant Singh Rajput Death Case: 10 Focal Points Of Investigation)

दिवंगत बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में हर रोज नई बातें सामने आ…

© Merisaheli