विश्‍व काव्य दिवस- मैं जब भी अकेला होता हूं… (World Poetry Day- Main Jab Bhi Akela Hota Hoon…)

World Poetry Day मैं जब भी अकेला होता हूं क्यों ज़ख़्म हरे हो जाते हैं क्यों याद मुझे आ जाती हैं वो बातें सारी दर्द…

World Poetry Day

मैं जब भी अकेला होता हूं
क्यों ज़ख़्म हरे हो जाते हैं

क्यों याद मुझे आ जाती हैं
वो बातें सारी दर्द भरी

मैं जिनको भूल नहीं पाता
वो घाव कितने गहरे हैं

किस-किसने दिए हैं ग़म कितने
किस-किसका नाम मैं लूं हमदम

जिस-जिसने मुझपे वार किए
वो सारे अपने थे हमदम

एक बात समझ में आई है
है चलन यही इस दुनिया का

जिस पेड़ ने धूप में छांव दी
उस पेड़ को जड़ से काट दिया…

 

वेद प्रकाश पाहवा ‘कंवल’

 

यह भी पढ़े: Shayeri

 

 

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कहानी- पिंजरा (Short Story- Pinjara)

"पापा, मिट्ठू का पिंजरा धूप से अंदर ले आती हूं, तो वह चिढ़ जाता है,…

जब विजय देवरकोंडा के साथ रश्मिका मंदाना ने किया था किसिंग सीन, लोगों ने उन्हें बुरी तरह से किया था ट्रोल (When Rashmika Mandanna did Kissing Scene with Vijay Deverakonda, People Trolled Her Badly)

साउथ की ब्लॉक बस्टर फिल्म 'पुष्पा' में श्रीवल्ली का किरदार निभाकर लाखों-करोड़ों दिलों को जीतने…

© Merisaheli