काव्य- नारी (Kavay- Naari)

हे नारी! तू अबला नारी है क्यों
हर युग में रही बेचारी है क्यों
कभी रावण द्वारा चुराई गई
फिर अग्निपरीक्षा भी दिलाई गई
कभी इन्द्र द्वारा छली गई
और गौतम द्वारा पाषाण बनाई गई
कभी जुए में दांव पर लगाई गई
फिर भरी सभा चीरहरण को लाई गई
कभी दहेज के नाम पर जलाई गई
कभी पति के मरने पर सती भी बनाई गई
युगों युगों से ये सिलसिला अनवरत जारी है
कभी इस नारी की कभी उस नारी की बारी है
प्रथाओं के नाम पर कितनी प्रथाएं तुझ पर थोपी गई
घर परिवार की सब ज़िम्मेदारियां तुझको सौंपी गईं
इस समाज निर्माण में तू बराबर की हक़दारी है
कि नारी भी समाज में सम्मान की अधिकारी है…

– रिंकी श्रीवास्तव

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कहानी- परवाह (Short Story- Parvaah)

"जानते हो अमित, जब पारस होस्टल गया था… मेरे पास व्योम था. उसकी पढ़ाई में…

February 28, 2024

रुबिना अभिनवने गोव्यात साजरा करेला लेकींचा तिसऱ्या महिन्याचा वाढदिवस (Rubina Dilaik And Abhinav Shukla Celebrate Their Twins’ 3-Month Birthday)

रुबिना दिलैक आणि अभिनव शुक्ला सध्या त्यांच्या आयुष्यातील सर्वात सुंदर टप्पा एन्जॉय करत आहेत. गेल्या…

February 28, 2024

शाप की कोप (Short Story: Shaap Ki Kop)

नीलता कौशलजींचं निधन झालं आणि एक वर्षाच्या आतच एके संध्याकाळी वादळी वार्‍या-पावसाने त्यांच्या दारातील ते…

February 28, 2024

सुंदरी’ मालिका पुन्हा एकदा नव्या वळणावर : वनिता खरात घेणार प्रेक्षकांचा निरोप (‘Sundari’ Serial Takes A New Turn : Vanita Kharat Is About To Exit)

आई आणि मुलीचं नातं हे जगावेगळं असतं. आईसोबत रक्ताचंच नातं असलं की त्यांच्या भावना खऱ्या…

February 28, 2024
© Merisaheli