कविता- द्रौपदी का ऊहापोह (Kavita- Draupadi Ka Uhapoh)

द्रौपदी स्वयंवर मैं अग्निसुता, मैं स्वयंप्रभा मैं स्वयं प्रभासित नारी हूं मैं यज्ञ जन्मा, और पितृ धर्मा नहीं किसी से हारी हूं हे सखे बताओ…

द्रौपदी

स्वयंवर

मैं अग्निसुता, मैं स्वयंप्रभा

मैं स्वयं प्रभासित नारी हूं

मैं यज्ञ जन्मा, और पितृ धर्मा

नहीं किसी से हारी हूं

हे सखे बताओ किंचित ये

क्यों हलचल सी मेरे मन में है?

वरण करूं मैं जिसका क्या

ऐसा कोई इस जग में है?

कैसे चुनूंगी योग्य पति

कैसे मैं उसे पहचानूंगी?

गर मेरे योग्य नही है वो,

तो कैसे मैं ये जानूंगी,

मेरे तेज को क्या कोई

सामान्य जन सह पाएगा

फिर सिर्फ़ निशाना साध मुझे

कोई कैसे ले जाएगा?

हे प्रभु, कहा है सखा मुझे

तो सखा धर्म निभाना तुम

क्या करूं क्या नहीं

सही राह दिखलाना तुम!..

भावना प्रकाश

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

सारा अली खान ने भाई इब्राहिम पर प्यार लुटाते हुए कह दी यह इमोशनल बात… (Sara Ali Khan- Home is where the brother is…)

सारा अली खान की अपने परिवार से बहुत गहरी बॉन्डिंग रही है, ख़ासकर मां अमृता…

इस वजह से अमीषा पटेल को घमंडी समझते थे लोग, एक्ट्रेस ने बताया मजेदार किस्सा (Because Of This, People Considered Ameesha Patel As Arrogant, The Actress Told A funny Story)

बॉलीवुड इंडस्ट्री की जानी मानी एक्ट्रेस अमिषा पटेल वैसे तो काफी अच्छे स्वभाव की हैं,…

© Merisaheli