पहला अफेयर: तुम्हारा इंतज़ार है… (Pahla Affair: Tumhara Intezar Hai)

  पहला अफेयर: तुम्हारा इंतज़ार है... (Pahla Affair: Tumhara Intezar Hai) नयन, तुम मेरे दूर के एक रिश्तेदार, इस तरह मेरे दिल के सबसे क़रीबी…

 

पहला अफेयर: तुम्हारा इंतज़ार है… (Pahla Affair: Tumhara Intezar Hai)

नयन, तुम मेरे दूर के एक रिश्तेदार, इस तरह मेरे दिल के सबसे क़रीबी शख़्स बन जाओगे, वो भी जीवन के 40 वर्ष पूरे होने के बाद, मैंने कभी सोचा भी न था. शादी के बाद पति-बच्चों का भरपूर प्यार मिला, पर तुमने तो जीवन में ऐसे प्रवेश किया कि लगा प्यार का एहसास ही अब जाकर हुआ.

कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मेरे साथ ऐसा होगा… किसी को याद करते ही दिल की धड़कनों का बढ़ना, तेज़-तेज़ चहलक़दमी करना, झूले पर बैठकर आसमान निहारते रहना… इन सबके पीछे तुम थे नयन… इसका एहसास मुझे बहुत दिनों बाद हुआ कि क्यूं तुमसे फ़ोन पर बात करना इतना अच्छा लगने लगा था? क्यूं तुम्हारी पसंद के रंग के कपड़े पहनने की इच्छा होने लगी थी? क्यूं तुमसे बातों-बातों में तुम्हारी सारी पसंद-नापसंद को जान मैं उन्हें अपनाने लगी थी… शायद मुझे तुमसे प्यार हो गया था.

नयन, वो तुम्हारा फ़ोन पर ङ्गहेलोफ बोलना, ऐसी सिरहन पैदा कर देता था कि बस पूछो ही मत. तुम्हारा इतना केयर करना और हर वक़्त मेरी फ़िक्र करना मुझे अंदर तक छू जाता था. ऐसा क्यूं होता था कि मैं अपने दिल की हर बात तुमसे शेयर करती थी? क्यूं तुम मुझसे वही बात कहते, जो मेरे हित में हो? क्यूं मेरा मन अक्सर ये चाहता कि ख़ामोशी के हर पल में तुम्हारी मुहब्बत का ही एहसास हो? क्यों मेरा मन हर पल तुम्हारे ही साथ की ख़्वाहिश करता था और ये चाहता था कि कहीं दूर पहाड़ों की तलहटी में तुम्हारे साथ बैठकर आंखें बंदकर मौन रहकर सारी ज़िंदगी बिता दूं.

नयन, मैंने तुम्हारे अंदर भी ऐसे ही प्यार का उफान महसूस किया था, पर तुमने कभी कुछ नहीं कहा. मैंने लाख कोशिश की, पर तुम्हारी ज़ुबान तक वो बात ला न सकी.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: वो लड़की… (Pahla Affair: Wo Ladki)

तुम बेशक मुझसे प्यार न करो, मैं कभी तुमसे इस बात के लिए ज़बरदस्ती नहीं करूंगी, पर नयन मेरा दिल ये मानने को तैयार नहीं, क्योंकि मैं जानती हूं कि तुम भी मुझसे प्यार करते हो. प्यार के इस पवित्र रूप से रू-ब-रू कराने के लिए मैं हमेशा तुम्हारी आभारी रहूंगी.
मुझे ख़ुशी है कि इस उम्र में ही सही, लेकिन इतना पवित्र प्यार मिला मुझे, जिसमें वासना के लिए कोई स्थान नहीं था, जिसमें स़िर्फ आत्मा का सुंदर मिलन था.

नयन, तुमने कभी मेरा किसी तरह से फ़ायदा नहीं उठाया, जबकि तुम मेरे सौंदर्य की हमेशा तारीफ़ करते थे. मेरी गृहस्थी की इतनी चिंता थी तुम्हें कि कहीं मैं जुनून में अपनी गृहस्थी बर्बाद न कर दूं, यही सोचकर तुमने मुझसे दूरी बना ली. मुझे आगे न बढ़ने को कहकर तुमने ये साबित कर दिया कि कितनी परवाह है तुम्हेें मेरी ज़िंदगी की.

तुम्हारी और मेरी मंज़िल एक नहीं, पर नयन, प्यार तो मैं तुमसे करती रहूंगी. मैं तुमसे पूछूंगी नहीं कि तुम्हें भी मुझसे प्यार है या नहीं, पर तुम्हारे उसी एक वाक्य ङ्गआई लव यू टूफ का मैं जीवनभर इंतज़ार करूंगी.

कौन कहता है कि प्यार की उम्र होती है? मैं कहती हूं कि नयन जैसा इंसान जिस किसी को भी मिलेगा, उसे उससे प्यार तो हो ही जाएगा. प्यार में उम्र का बंधन, छोटा-बड़ा होना, ये कहां मायने रखता है? प्यार तो बस हो जाता है. आज मैं एक ज़िम्मेदार गृहिणी हूं, पर नयन को प्यार तो हमेशा करती रहूंगी.

– ऊषा शर्मा

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: धूप का टुकड़ा (Pahla Affair: Dhoop Ka Tukda)

Share
Published by
Geeta Sharma

Recent Posts

शाहरुख खान के इस 5 क्वालिटी की दीवानी हैं अनन्या पांडे (Ananya Pandey Is Crazy About These 5 Qualities Of Shahrukh Khan)

बॉलीवुड की नई और टैलेंटेड एक्ट्रेस अनन्या पांडे ने काफी कम उम्र में ही अपनी…

क्यों कमजोर हो जाती है पुरुषाें की फर्टिलिटी? जानें कारण, लक्षण और उपचार(Male infertility: Symptoms, Causes And Treatment)

इंफर्टिलिटी यानी बांझपन की समस्या. इंफर्टिलिटी को हमारे यहां हमेशा महिलाओं से जोड़ा जाता है.…

कहानी- प्रतिशोध (Short Story- Pratishodh)

आधी रात के समय होनेवाली खड़खड़ाहट से रेखा की नींद खुल गई. उसने देखा एक…

© Merisaheli