काव्य- कविता लिखने चला हूं… (Poem- Kavita Likhne Chala Hun…)

सुनो आज मुझे मुझे बेहद ख़ूबसूरत शब्द देना जैसे गुलाब चेहरे के लिए झील आंखों के लिए हंस के पंख गालों के लिए और होंठों…

सुनो आज मुझे
मुझे बेहद ख़ूबसूरत शब्द देना
जैसे
गुलाब चेहरे के लिए
झील आंखों के लिए
हंस के पंख गालों के लिए
और होंठों के लिए
अंगूर या अनार
नैतिकता के बंधन न हों तो
आम, नींबू, स्ट्रॉबेरी
और रेड वाइन भी मांग लूं
आज मैं
तुम्हारे शरीर पर
कविता लिखने चला हूं…

शिखर प्रयाग

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कियारा आडवाणी ज्यादा अमीर हैं या सिद्धार्थ मल्होत्रा, जानें कितनी है दोनों की नेटवर्थ (Kiara Advani is Richer or Sidharth Malhotra, Know Net Worth of Both)

बॉलीवुड के मोस्ट पॉपुलर लवबर्ड सिद्धार्थ मल्होत्रा और कियारा आडवाणी अब ऑफिशियली पति-पत्नी बनने वाले…

लॉन्जरी को लेकर दुल्हन न करें ये ग़लतियां (Lingerie Mistakes That Should Be Avoided For Bride)

हर दुल्हन के लिए शादी का दिन बहुत ख़ास होता है. इस दिन को यादगार…

© Merisaheli