Romantic

कहानी- प्रीत के रंग हज़ार 3 (Story Series- Preet Ke Rang Hazar 3)

वेद की परिणीता बनने के लिए मुझे मंगलसूत्र और सिंदूर की कोई आवश्यकता नहीं थी. कितना अपार था उसका प्रेम.…

कहानी- प्रीत के रंग हज़ार 2 (Story Series- Preet Ke Rang Hazar 2)

विगत के दर्द के फिर से उभरने के डर से वह भारत जाना नहीं चाहती थी. प्रीत के हज़ारों रंग…

कहानी- प्रीत के रंग हज़ार 1 (Story Series- Preet Ke Rang Hazar 1)

श्‍लोक से जुड़ने से पहले जीवन के सूने जलते रेगिस्तान में नंगे पैर अकेली ही तो वह दौड़ रही थी.…

कहानी- एहसास तुम्हारे प्यार का… 3 (Story Series- Ehsas Tumhare Pyar Ka 3)

कभी-कभी किसी के जीवन में कोई संबंध अचानक इतना आत्मीय हो जाता है कि उसे खो देने का भय बर्दाश्त…

कहानी- एहसास तुम्हारे प्यार का… 2 (Story Series- Ehsas Tumhare Pyar Ka 2)

उनका निश्छल प्यार और अपनापन देखकर उसका मन भीग उठा. न जाने क्यूं दादी मां की यादें ताज़ा होने लगीं,…

कहानी- एहसास तुम्हारे प्यार का… 1 (Story Series- Ehsas Tumhare Pyar Ka 1)

उसे लगता कि उसके मन की संवेदनशीलता, उसके दुख-दर्द और प्यार की भावना को मन की परतों में कहीं गहरे…

कहानी- पारितोषिक 3 (Story Series- Paritoshik 3)

“आशंकाओं का कोई अंत नहीं है. तुम्हारी आज की ईमानदारी बीते कल पर भारी पड़ेगी. यूं डरकर जीने की ज़रूरत…

कहानी- पारितोषिक 2 (Story Series- Paritoshik 2)

“कैसी हो दर्शना?” एक मुस्कान के साथ दर्शना ने देखा, तो अचकचाकर उसने अपनी नज़रें झुका ली थीं. जाने क्या…

कहानी- पारितोषिक 1 (Story Series- Paritoshik 1)

“तुम्हें ऐसा क्यों लगा कि मैं तुम्हारे घरवालों के साथ नहीं निभा पाऊंगी?” ऐसे अनेक प्रश्‍न दर्शना पूछती और वो…

कहानी- अंतिम विदाई 3 (Story Series- Antim Vidai 3)

तुम किसी और को चाहते रहो और मैं इसे अपना भाग्य, असल में दुर्भाग्य मानकर चुपचाप स्वीकार कर लूं, यह…

कहानी- अंतिम विदाई 2 (Story Series- Antim Vidai 2)

नागपुर आकर मैंने निश्‍चय किया कि मैं मंदिरा को पूरी तरह से दिल से निकाल दूंगा. मेरा बीता कल अब…

कहानी- अंतिम विदाई 1 (Story Series- Antim Vidai 1)

मुझमें इतना साहस नहीं था अपनों से लड़ने का. अपनी इच्छाओं का दमन करना ही एक मात्र राह बची थी.…

© Merisaheli