Jeene ki kala (Motivational Stories)

हार

हार से हारे नहीं… (Face Your failure)

समुद्र की लहरों की तरह ज़िंदगी में भी सफलता-असफलता के रूप में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, ऐसे में जो डर जाते हैं वो तिनके की तरह बह जाते हैं, मगर जो डरते नहीं और साहिल की तरह अडिग रहते हैं वही क़ामयाबी के शिखर तक पहुंच पाते हैं. तो अब फैसाल आप पर है कि … Continue reading हार से हारे नहीं… (Face Your failure) »

7

जीवन है जीने के लिए (Live Your Life Happily)

बुज़दिल होते हैं वो लोग जो ज़िंदगी को छोड़ मौत को गले लगाते हैं. ईश्‍वर ने हमें जो अनमोल जीवन दिया है, उसे यूं ही बस छोटी-सी परेशानी के दबाव में आते ही क्यों अक्सर लोग त्याग देते हैं. दुखों को सहने की क्षमता जिनमें नहीं होती अक्सर वही लोग सुंदर से जीवन को ख़त्म … Continue reading जीवन है जीने के लिए (Live Your Life Happily) »

सज्जन

सज्जनता- कमज़ोरी नहीं मज़बूती है (Sajjanata Kamzori nahin mazbooti hai)

आज समाज के बदलते स्वरूप में सज्जन लोगों को कमज़ोर समझा जाता है, जबकि धर्मदृष्टि से सज्जन व्यक्ति स्वभाव से निर्भय और दृढ़ होते हैं. सज्जनता का अनुकरण करके आप जीवन के हर क्षेत्र में सफल साबित होते हैं. जिस समाज में सज्जनता के अनुगामी होते हैं, वो समाज सफलता की राह पर अग्रसर रहता … Continue reading सज्जनता- कमज़ोरी नहीं मज़बूती है (Sajjanata Kamzori nahin mazbooti hai) »

Power Of Words

शब्दों की शक्ति (Power Of Words)

हमारे दिल में किसी के लिए क्या भाव/विचार हैं उससे ज़्यादा मायने रखते हैं उसके लिए कहे हमारे शब्द. शब्दों की बहुत अहमियत होती है. आप किसी से बात करते समय कैसे बोलते हैं इससे न स़िर्फ आपके व्यक्तिव का पता चलता है, बल्कि सामने वाले पर भी उसका गहरा असर होता है. यदि आप … Continue reading शब्दों की शक्ति (Power Of Words) »

ख़ूबसूरत विचार

विचारों से आती है ख़ूबसूरती (Vicharon Se Aati Hai KHoobsurati)

महंगे कॉस्मेटिक्स और पार्लर पर ढेरों ख़र्च करके हम अपने चेहरे को सबसे सुंदर बनाने में जुटे रहते हैं, मगर क्या कभी अपने विचारों व भावनाओं को ख़बूसरत बनाने की कोशिश की है? सच्ची ख़ूबसूरती चाहते हैं, तो चेहरे को नहीं, बल्कि विचारों को सवारें. ख़ूबसूरत विचारों से चेहरा ख़ुद-ब-ख़ुद चमकने लगेगा. सकारात्मक सोच का … Continue reading विचारों से आती है ख़ूबसूरती (Vicharon Se Aati Hai KHoobsurati) »

Gyani

ज्ञानी होने का दावा (Gyani Hone Ka Dawa)

सीखने की कोई सीमा नहीं होती, तो भला कोई इंसान सब कुछ आने का दावा कैसे कर सकता है? दरअसल, ज्ञानी होने का दावा करना ही इस बात का प्रमाण है कि उस शख़्स के अंदर अंह का विकास हो चुका है और उसने अपनी सफलता का मार्ग ख़ुद अवरुद्ध कर दिया है. जिस दिन … Continue reading ज्ञानी होने का दावा (Gyani Hone Ka Dawa) »

डर

कमज़ोर बनाता है डर (Kamzore Banata Hai Dar)

दुनिया में शायद ही कोई ऐसा इंसान हो जो किसी चीज़ से डरता न हो, डर एक सहज प्रवृति है, मगर जब ये हद से बढ़ जाए और आपके विकास को प्रभावित करने लगे, तो संभल जाइए. किसी चीज़ को लेकर ज़रूरत से ज़्यादा डर आपको आगे बढ़ने नहीं देता है. अतः ज़िंदगी की रेस … Continue reading कमज़ोर बनाता है डर (Kamzore Banata Hai Dar) »

वादा

करें एक वादा ख़ुद से (Make a Promise to yourself )

कभी अपनों के लिए तो कभी ग़ैरों को ख़ुश करने के लिए आपने उनसे कई वादे किए होंगे और उन्हें पूरा करने के लिए भी आप जी-जान लगाते होंगे, लेकिन क्या कभी आपने ख़ुद से कोई वादा किया? कभी सोचा कि आपको भी अपने आप से एक ऐसा वादा करना चाहिए जो आपको भी प्रसन्न … Continue reading करें एक वादा ख़ुद से (Make a Promise to yourself ) »

Life

चलना ही ज़िंदगी है (It’s time to move on)

जीवन में कई बार ऐसे वाकये या हादसे हो जाते हैं जो ज़िंदगी की चाल ही बदल देते हैं या यूं कहें कि हमें तोड़कर रख देते हैं. ऐसी बातों को सीने से लगाए रखने की बजाय आगे बढ़ना और नई शुरुआत करना ही जीवन है. ये मुश्किल है, मगर नामुमक़िन नहीं. ज़िंदगी रुकती नहीं … Continue reading चलना ही ज़िंदगी है (It’s time to move on) »

Competition

कॉम्पटिशन ज़रूरी है, लेकिन… (Try To Do Healthy Competition)

सर्वश्रेष्ठ बनने और सर्वश्रेष्ठ पाने की चाह से ही शायद कॉम्पटिशन शब्द का जन्म हुआ होगा. कॉम्पटिशन सकारात्मक हो तो आपको बहुत आगे ले जा सकती है, लेकिन नकारात्मक प्रतिस्पर्धा आपके साथ-साथ दूसरों को भी नुक़सान पहुंचा सकती है. अतः ऐसी कॉम्पटिशन से बचें, जो आपको ग़लत दिशा में ले जाए. बचपन से ही हम अपने … Continue reading कॉम्पटिशन ज़रूरी है, लेकिन… (Try To Do Healthy Competition) »

believe in yourself

उम्मीद ख़ुद से करें, दूसरों से नहीं (Believe in yourself, do not expect from others)

‘उम्मीद पर दुनिया क़ायम है’ इस जुमले से परे एक सच्चाई ये भी है कि दूसरों से की गई ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीदें सामने वाले के साथ ही हमारे लिए भी दुखदायी होती हैं. कई बार इन उम्मीदों का बोझ इतना बढ़ जाता है कि उस बोझ तले हमारे कई रिश्ते दबकर दम तोड़ देते … Continue reading उम्मीद ख़ुद से करें, दूसरों से नहीं (Believe in yourself, do not expect from others) »

eraser and word mistakes, concept of Making Changing

सीखें ग़लतियां स्वीकारना (Accept your mistakes)

गलतियां हर किसी से होती हैं, मगर कोई अपनी ग़लती स्वीकार कर उससे सीख लेते हुए जीवन में आगे बढ़ जाता है, तो कोई इसका दोष दूसरों पर मढ़ कर अपनी ज़िम्मेदारी से पल्ला झाड़ लेता है, मगर ऐसा करके वो नुक़सान अपना ही करता है. यदि आप जीवन में सही मायने में सफल होना … Continue reading सीखें ग़लतियां स्वीकारना (Accept your mistakes) »

1 2