Tag Archives: Kavita

कविता- ज़रूरी थी… (Kavita- Zaruri Thi…)

Kavita- Zaruri Thi

बाकी थी तमन्नाएं हसरत अधूरी थी

चाहतें तड़पती थीं और दुआ अधूरी थी

फिर तेरी आंख से जीने का उजाला मांगा

उम्र तो मिली थी मुझे रोशनी ज़रूरी थी

व़क्त तो कट जाता ज़ुल्फ़ों की छांव में

पर ज़िंदगी गुज़रने को धूप भी ज़रूरी थी

धूल तेरे पांव की चंदन सी महकी थी

ख़ुशबू बदन की तेरी सांस में ज़रूरी थी

ऩज़रें बदलती रहीं हालात देख कर

एक निगाह ऐसे में तेरी ज़रूरी थी…

Murli Manohar Shrivastav

मुरली मनोहर श्रीवास्तव

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर मुरली मनोहर श्रीवास्तव की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

 

ग़ज़ल- ऐ दोस्त यह जीने का कोई ढंग नहीं है… (Ghazal- Ae Dost Yah Jeene Ka Koi Dhang Nahi Hai…)

Gazal

Gazal

ऐ दोस्त यह जीने का कोई ढंग नहीं है

कि सांस चल रही है पर उमंग नहीं है

अब जिससे पूछिए, है इसी बात का गिला

कि ज़िंदगी में पहले सा वो रंग नहीं है

अब ढूंढ़े से भी घर कोई ऐसा नहीं मिलता

जिसमें किसी मसले पे कोई जंग नहीं है

ये ज़िंदगी की राहें भी अजीब हैं यारों

सब साथ चल रहे हैं, पर कोई संग नहीं है…

 

        दिनेश खन्ना

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर दिनेश खन्ना की भेजी गई ग़ज़ल को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

 

यह भी पढ़े: Shayeri

 

 

ग़ज़ल- नमी आंखों में तेरी… (Gazal- Nami Aakhon Mein Teri…)

Gazal

Gazal

 

नमी आंखों में तेरी देखकर घुटता है दम मेरा

बड़ा बेचैन करता है तेरा उतरा हुआ चेहरा

तेरी मायूसियां दिल को परेशां करती रहती हैं

खुदा के वास्ते दे दे मुझे रंज-ओ-अलम तेरा

तेरे दुख बांट कर मुझ को बड़ा आराम मिलता है

बनूं मैं राज़दां तेरा शरीके ग़म बनूं तेरा

नहीं मिलता सुकूं मुझको परेशां देख कर तुझको

यही है कशमकश मेरी इसी उलझन ने है घेरा

मिले आराम से मंज़िल बना ले हमसफ़र मुझको

बनूं मैं हमनवा तेरा तू बन जा हमनवा मेरा…

वेद प्रकाश पाहवा ‘कंवल’

 

यह भी पढ़े: Shayeri

 

काव्य- बोल रहे लोग… (Kavya- Bol Rahe Log…)

Kavya, Bol Rahe Log, kavita

Kavya, Bol Rahe Log, kavita

बोल रहे लोग कि दुनिया

बदल गई!

कहां बदली दुनिया?

औरत तो एक गठरी तले दब गई..

 

गठरी हो चाहे संस्कारों की,

रस्मों को, रिवाज़ों को निभाने की

बंधनों की, मर्यादाओं की,

औरत तो वही तक सिमट गई..

 

तहज़ीब और तालीम

घर हो या बाहर

ज़िम्मेदारी का ढेर

औरत उन्हीं ज़िम्मेदारियां को निभाने में रह गई..

 

भाव एक, भावनाएं अनेक

मन में आस

काश!

मुझे भी मिले एक आकाश

आकाश छूने की अभिलाषा

औरत तो काल्पनिक दुनिया में रह गई

 

लोगों के लिए दुनिया बदल गई

औरत जहां थीं वहीं रह गई…

 

अनूपा हर्बोला

मेरी सहेली वेबसाइट पर अनूपा हर्बोला की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

शायरी: निदा फ़ाज़ली की उम्दा ग़ज़लें (Shayari: Nida Fazli Special)

Shayari, Nida Fazli Special
Shayari, Nida Fazli Special
ग़ज़ल 1

गिरजा में मंदिरों में अज़ानों में बट गया

होते ही सुब्ह आदमी ख़ानों में बट गया

इक इश्क़ नाम का जो परिंदा ख़ला में था

उतरा जो शहर में तो दुकानों में बट गया

पहले तलाशा खेत फिर दरिया की खोज की

बाक़ी का वक़्त गेहूँ के दानों में बट गया

जब तक था आसमान में सूरज सभी का था

फिर यूँ हुआ वो चंद मकानों में बट गया

हैं ताक में शिकारी निशाना हैं बस्तियाँ

आलम तमाम चंद मचानों में बट गया

ख़बरों ने की मुसव्वरी ख़बरें ग़ज़ल बनीं

ज़िंदा लहू तो तीर कमानों में बट गया

ग़ज़ल 2

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता

कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता

तमाम शहर में ऐसा नहीं ख़ुलूस न हो

जहाँ उमीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता

कहाँ चराग़ जलाएँ कहाँ गुलाब रखें

छतें तो मिलती हैं लेकिन मकाँ नहीं मिलता

ये क्या अज़ाब है सब अपने आप में गुम हैं

ज़बाँ मिली है मगर हम-ज़बाँ नहीं मिलता

चराग़ जलते हैं बीनाई बुझने लगती है

ख़ुद अपने घर में ही घर का निशाँ नहीं मिलता

यह भी पढ़ें: काव्य- जब भी मायके जाती हूं…

यह भी पढ़ें: मैं शायर तो नहीं… 

विश्‍व काव्य दिवस- मैं जब भी अकेला होता हूं… (World Poetry Day- Main Jab Bhi Akela Hota Hoon…)

World Poetry Day

World Poetry Day

World Poetry Day

मैं जब भी अकेला होता हूं
क्यों ज़ख़्म हरे हो जाते हैं

क्यों याद मुझे आ जाती हैं
वो बातें सारी दर्द भरी

मैं जिनको भूल नहीं पाता
वो घाव कितने गहरे हैं

किस-किसने दिए हैं ग़म कितने
किस-किसका नाम मैं लूं हमदम

जिस-जिसने मुझपे वार किए
वो सारे अपने थे हमदम

एक बात समझ में आई है
है चलन यही इस दुनिया का

जिस पेड़ ने धूप में छांव दी
उस पेड़ को जड़ से काट दिया…

 

वेद प्रकाश पाहवा ‘कंवल’

 

यह भी पढ़े: Shayeri

 

 

काव्य- एक ख़्वाहिश (Kavya- Ek Khwahish)

Kavya, Ek Khwahish

Kavya, Ek Khwahish

उस दिन हम मिले

तो मिले कुछ इस तरह

जैसे मिलती है धूप छाया से

जैसे मोती से सीपी मिल जाए

जैसे सहरा में फूल खिल जाए

यादों के फूलों की ख़ुशबू

यही एहसास-सा दिलाती है

तू हो, तेरा ख़्याल हर पल हो

गर मुलाक़ात हो फिर कभी

तो ज़िंदगी मेरी मुकम्मल हो

 

  काव्य- एक ख़्वाहिश (Kavya- Ek Khwahish)

 

      दिनेश खन्ना

मेरी सहेली वेबसाइट पर दिनेश खन्ना की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

 

यह भी पढ़े: Shayeri

कविता- काश! (Kavita- Kash!)

ज़िंदगी पूरी लगा दी

एक-दूसरे को परखने में

सोचती हूं काश!

समय रहते कुछ वक़्त लगाया होता

एक-दूसरे को समझने में

 

ख़ामियां बहुत निकाली हमने

एक-दूसरे में

कसर नहीं छोड़ी हमने

घर की बात, कठघरे में लाने में

काश! समय रहते

हमने सुलझा लिया होता

घर की बात को घर में

जैसा आज है ज़माना

उससे तो बहुत बेहतर होता

 

काश! थोड़ी-सी माफ़ी

थोड़ा-सा सामंजस्य कर लिया होता

तो बचपन, मेरे घर का कुछ और ही होता

काश! देखी होती सहमी-सहमी आंखें उनकी

तो आज उन आंखों की चमक कुछ और ही होती

काश! ख़ामोशी पके बालों की महसूस की होती हमने

तो उनके चेहरे का नूर आज कुछ और ही होता…

 

अनूपा हर्बोला

मेरी सहेली वेबसाइट पर अनूपा हर्बोला की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

काव्य- जब भी मायके जाती हूं… (Kavay- Jab Bhi Mayke Jati Hun…)

Hindi Kavita

 

जब भी मायके जाती हूं
फिर बचपन जी आती हूं
टुकड़ों में बंटी ख़ुशियों को
आंचल में समेट लाती हूं

अपनी हर मुश्किल का जवाब
मां के ‘सब ठीक हो जाएगा’ में पा जाती हूं
रूखे हो चुके कड़े हाथों से
कोमल थपकी ले आती हूं
सख़्त हो चुकी गोद में से
मीठी झपकी ले आती हूं

पापा ये चाहिए… पापा वो चाहिए…
कहकर इठलाती हूं
भाई से भी जीभर के
झगड़ा करके आती हूं

भूल जाती हूं कि मैं भी एक मां हूं
मायके जाकर फिर से बच्ची बन जाती हूं…

– पायल अग्रवाल

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर पायल अग्रवाल के भेजे गए काव्य को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी काव्य, कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

 

 

ग़ज़ल- थोड़ा-सा आसमान… (Gazal- Thoda-Sa Aasman)

Gazal, Thoda-Sa Aasman

Gazal

ग़म इतने मिले ख़ुशी से डर लगने लगा है
मौत क्या अब ज़िंदगी से डर लगने लगा है
सोचा था मिलेगी मुकद्दसे ज़मीं हमें भी
खुले आसमान में दम घुटने-सा लगा है

ख़ुशी आने को बेताब है बांहों में मेरी
ग़म है कि रास्ता रोकने लगा है
मुझे मंज़ूर था उसका न आना हर बार
दिल है कि फिर तकाज़ा करने लगा है

काश! छिन लेती सितारों से हर ख़ुशी अपनी
अब ज़मीन से पांव उखड़ने-सा लगा है
हमने की है हर दवा मकदूर तलक़
तमन्नाओं का दम-सा अब घुटने लगा है

एक बार मिलने की ख़्वाहिश थी उससे मेरी
दिल है कि अब तसल्लियां देने लगा है
ग़मे दिल को सहारा देना है मुमताज़ अब
यह टूटकर बिखरने-सा लगा है…

– मुमताज़

 

मेरी सहेली वेबसाइट पर मुमताज़ की भेजी गई ग़ज़ल को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

 

ग़ज़ल- मेरी तन्हाई (Gazal- Meri Tanhai)

Gazal, Meri Tanhai

Gazal- Meri Tanhai

 

जो महफ़िलें रुलाती मुझे हैं
उनसे अच्छी मेरी तन्हाई है

जो महफ़िलें इल्ज़ाम लगाती हैं
उनसे अच्छी मेरी तन्हाई है

उसने जज़्बातों से खेला खिलौनों की तरह
हम यकीं करते रहे उन पर दीवानों की तरह

अब दोस्त भी दुश्मनों-सा मिजाज़ रखते हैं
ऐसी भीड़ से अच्छी मेरी तन्हाई है

कभी यादों के ख़ज़ाने से हसीं का तोहफ़ा लाती है
कभी आंखों में आंसुओं के समंदर भर जाती है

जैसी भी है बस मेरी है
दुनिया से अच्छी मेरी तन्हाई है…

– ऋतु गांगुली

मेरी सहेली वेबसाइट पर ऋतु गांगुली की ग़ज़ल को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri

[amazon_link asins=’9385193430,B0063EDKRC,B075RYX7D2,1482814552′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’f5a3f268-07fe-11e8-92bb-696a356b0e20′]

कविता- अब बिन तेरे सूना है संसार… (Kavita- Ab Bin Tere Soona Hai Sansar…)

Kavita- Ab Bin Tere Soona Hai Sansar

जब-जब तुमसे मुलाक़ात होती है
मेरे दिल में कोई गीत उतर आता है
सामने आ जाते हो तुम
मेरा सूना-सा जहां रंगीन हो उठता है
मैं सोचती हूं तुमसे क्या करूं बातें
पर तुम्हारी हर बात पर दिल झूम उठता है
जब अकेली भी होती हूं मैं
तब भी तुम मेरे क़रीब होते हो
मेरी यादों में, मेरी सांसों, मेरी ख़्वाहिशों में बसे
तुम ही तो हर पल दिल के नज़दीक होते हो
नींद में भी आती है तुम्हारी याद
लगती नहीं अब स्याह रात
तेरा आना भी अब मुझे अजीब नहीं लगता
तेरे आने पर मुझ-सा ख़ुशनसीब न कोई होता
तेरी हर मुस्कुराहट पर मेरा दिल निसार
अब बिन तेरे सूना है संसार…

– श्रुति राय

मेरी सहेली वेबसाइट पर श्रुति राय की भेजी गई कविता को हमने अपने वेबसाइट में शामिल किया है. आप भी अपनी कविता, शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri