Tag Archives: tips

कैसे बचें इंटरव्यू फोबिया से? (how to deal with interview phobia?)

rsz_91937168 (1)

किसी ने सच कहा है कि अगर आपको तरक्क़ी करनी है, तो एक ही नौकरी पकड़कर बैठे न रहें. इससे आप एक तरह के सेफ ज़ोन में दाखिल हो जाते हैं, जिसे तोड़ने की आप हिम्मत नहीं जुटा पाते. इस तरह की परिस्थिति करियर के लिए बाधक सिद्ध होती है. नई नौकरी के विचार मात्र से आपका मन कांप उठता है. भले ही आप दूसरों के सामने इसे प्रदर्शित न करें, लेकिन आपके भीतर एक अजीब-सा डर घर कर जाता है, जिसे निकालना बहुत मुश्किल होता है. कई सालों से एक ही कंपनी के लिए जी जान लगाकर नौकरी करने के बाद भी अगर मन मुताबिक़ तरक्क़ी नहीं हो रही है, तो बहुत जल्दी उस नौकरी को छोड़कर दूसरी जॉब की तलाश करें. इसके लिए आपको इंटरव्यू देने पड़ेंगे. ऐसे में इंटरव्यू के नाम से डरने की ज़रूरत नहीं है. बस, अपनाइए ये टिप्स और छा जाइए इंटरव्यू में.

स्ट्रॉन्ग फीलिंग
सबसे पहले अपने मन में ये तय कर लें कि अब आपको बहुत जल्द एक नई नौकरी ढूंढ़नी है. जिस दिन आप मन में ये सोच लेंगे, उस दिन से आपकी प्रतिक्रिया बदल जाएगी. आपका मन अब आपके अनुरूप सोचने लगेगा. ऐसे में आपके भीतर बैठा इंटरव्यू का डर धीरे-धीरे ग़ायब होने लगेगा.

सेल्फ एनालिसिस
अगर आप योग्यता और डिग्री होने के बाद भी नौकरी नहीं हासिल कर पा रहे हैं, मेहनत करने के बाद भी कंपनियों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित नहीं कर पा रहे हैं, तो आपकोे सेल्फ एनालिसिस की ज़रूरत है. इंटरव्यू से डरकर उसी नौकरी में लगे रहने की बजाय ख़ुद का मूल्यांकन करें और अपनी कमियों को सुधारें.

अप टु डेट रहें
आमतौर पर लंबे समय तक एक ही नौकरी में रहने से सीखने की क्षमता ख़त्म हो जाती है. ऐसा लगता है, सब कुछ तो आता है. यही ग़लती आपको नई नौकरी के लिए आगे बढ़ने नहीं देती और मन में इंटरव्यू का ख़्याल आते ही आप डरने लगते हैं. अपने फील्ड से जुड़ी हर बात को जानें. कब, क्या नया हो रहा है, यह जानना आपके लिए बहुत ज़रूरी है. जब आपको नई नौकरी से जुड़ी सारी बातें पता होंगी, तो इंटरव्यू में आप घबराएंगे नहीं.

हताश न हों
बात बड़ी अजीब, लेकिन सच है, ऑफिस में कलीग के साथ लंच के समय जब भी नई नौकरी की बात होती है, तो अक्सर लोग ख़ुद को कम आंकने लगते हैं और ये कहने से परहेज़ नहीं करते कि अब जॉब देगा कौन? उनके अंदर वो क्षमता रही नहीं, जिससे उन्हें आसानी से जॉब मिल सके. यदि आप भी ऐसा सोचते हैं, तो अपनी सोच बदलें. ख़ुद को कभी भी हतोत्साहित न करें.

पॉज़िटिव एटीट्यूड
डर से उबरने के लिए यह सबसे बेहतरीन आइडिया है. लंबे समय से कोई इंटरव्यू न देने पर डर लगना लाज़मी है, लेकिन उस डर को हराया जा सकता है. बस, ज़रूरत है तो सकारात्मक रवैया अपनाने की. यक़ीन मानिए, इससे आपका सारा डर मिनटों में दूर हो जाएगा. अपने मन में यह बात बैठा लीजिए कि आपको एक जगह स्टिक होने की ज़रूरत नहीं. तरक्क़ी करने के लिए आपको एक कंपनी से दूसरी कंपनी में जाना ही होगा. सफलता के लिए यह बहुत ज़रूरी है.

सिक्योर ज़ोन से बाहर निकलें
कई सालों से एक ही कंपनी में जॉब करते रहने से आप सिक्योर महसूस करने लगते हैं. मन में यह बात घर कर जाती है कि यह नौकरी पूरी तरह से सिक्योर है. ऐसे में जब कंपनी में प्रमोशन और सैलरी नहीं बढ़ती, तब अचानक आपको सिक्योरिटी ख़त्म होती नज़र आने लगती है और नई नौैकरी के ख़्याल मात्र से आप चिंतित होने लगते हैं. एक्सपर्ट्स कहते हैं कि डे फर्स्ट से ही किसी भी कंपनी में ख़ुद को सिक्योर वाली फीलिंग से दूर रखें. मन में ये सोच लें कि कुछ समय बाद आपको दूसरी नौकरी करनी है. यह भाव आपको हमेशा हर तरह के डर से बचाएगा और इंटरव्यू फोबिया से आप दूर रहेंगे. बात बस विचारों की है. विचार बदलिए, डर अपने आप ख़त्म हो जाएगा.

डिप्रेशन से बचें
यह ख़तरनाक स्थिति है. नई नौकरी ढूंढ़नेे, इंटरव्यू देने के डर से कई बार लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं. इंटरव्यू के प्रेशर को वो ख़ुद पर इतना ज़्यादा हावी कर देते हैं कि नई नौकरी के चक्कर में वो वर्तमान नौकरी भी ठीक से नहीं कर पाते. ऐसी स्थिति से बचें और अपना आत्मविश्वास बनाए रखें. रिलैक्सेशन बूस्टिंग टेकनीक इंटरव्यू के डर को ख़त्म करने का ये बेहद आसान उपाय है. इसके लिए अपने मन-मस्तिष्क को इतना मज़बूत बनाएं कि डर जगह बनाने न पाए. इसके लिए आप  ख़ासतौर पर मेंटल एक्सरसाइज़ करें.

एक्सपर्ट एडवाइज़
उपर्युक्त तरी़के अपनाने के बाद भी अगर आप में कॉन्फिडेंस नहीं आ पा रहा है, तो ऐसी स्थिति में एक्सपर्ट की सलाह लें. वो आपका माइंड बदलकर आपके भीतर सकारात्मक सोच और ऊर्जा का संचार करेंगे, जिससे आप नई नौकरी के लिए ख़ुद को तैयार कर सकेंगे.

कार्टून देखें
आपको सुनकर भले ही हंसी आए, लेकिन जानकार मानते हैं कि मनोबल गिरने पर ऐसे कार्टून देखना हमेशा अच्छा होता है, जो हर बार दुश्मनोंको हराते हैं. कार्टून आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा भरते हैं. इससे आपके अंदर बदलाव आता है.

इंप्रेसिव इंटरव्यू पढ़ें
इंटरव्यू के लिए ख़ुद को तैयार करने के लिए नामी हस्तियों के इंटरव्यू पढ़ें. इस तरह के इंटरव्यू में कई तरह के उतार-चढ़ाव भरे सवाल-जवाब होते हैं, जिससे आपको अपनी स्थिति को समझने में मदद मिलेगी.

– श्वेता सिंह

बातें जो अच्छी हैं आपके रिश्ते के लिए (Ways To Improve Your Relationship)

Ways To Improve Your Relationship

पति-पत्नी के बीच लड़ाई-झगड़े, बहस, नोंक-झोंक, प्यार-तकरार बहुत ही आम बात है, जो उनके रिश्ते की मिठास को कम करने की बजाय बढ़ाती ही है, लेकिन कई बार ऐसी बातें, जिन्हें ग़ैरज़रूरी समझ या अपने ईगो की वजह से हम नज़रअंदाज़ करते जाते हैं, वे रिलेशनशिप के लिए घातक सिद्ध हो सकती हैं. यह समझना ज़रूरी है कि कुछ बातें आपके संबंध को मज़बूत व परिपक्व (Ways To Improve Your Relationship) बनाने के लिए अनिवार्य हैं.

Ways To Improve Your Relationship

क्यों हैं आप साथ-साथ?

  • शादी के कुछ वर्षों बाद हो सकता है आपको यह लगे कि इस व्यक्ति से शादी करके बड़ी भूल हुई है. ऐसा इसलिए लगता है, क्योंकि दोनों के स्वभाव और आदतें भिन्न होती हैं.
  • उस समय उन बातों को याद करें, जो कभी आप दोनों को एक-दूसरे की बातें बहुत ही अच्छी लगती थीं.
  • उन बातों, उन पलों को याद करें, जिनकी वजह से आप एक-दूसरे के बिना एक पल भी गुज़ारना नहीं चाहते थे.
  • आपने एक लंबा सफ़र उन्हीं आदतों और अच्छाइयों के साथ तय किया है, इस बात को न भूलें.
  • व़क्त के साथ बहुत-सी आदतें बदलती हैं. हो सकता है आज किन्हीं कारणों से एक-दूसरे को इतना व़क्त नहीं दे पा रहे, जितना कभी देते थे, लेकिन इसका मतलब रिश्ते का अंत नहीं है. इन्हें ही याद करके, आपसी समझदारी से रिलेशनशिप को फिर से एक मौक़ा दें.

ईगो को आड़े न आने दें

  • किसी भी रिलेशनशिप के बिखराव का सबसे बड़ा कारण ईगो होता है. अगर आपसे कोई ग़लती हो जाती है, तो बेहिचक साथी को सॉरी कह दें. यह मानकर चलें कि सॉरी बोलना एक ऐसी अच्छी बात है, जो आपके ईगो को सिर उठाने नहीं देता और आपके संबंधों में भी प्यार व विश्‍वास बना रहता है.
  • मनोवैज्ञानिक नीलिमा पाठक के अनुसार, पुरानी ग़लतियों, बातों को याद करके लड़ने-झगड़ने से बेहतर है, उन्हें भूलकर या उन्हें माफ़ कर रिश्ते को एक और मौक़ा दें.
  • यक़ीनन एक माफ़ी रिलेशनशिप को बचाने का कारगर फॉर्मूला साबित होगा, क्योंकि ग़लतियों को नज़रअंदाज करना बिल्कुल सही नहीं, लेकिन उन्हें माफ़ कर देना बहुत ही बड़ी वजह बन सकती है रिलेशनशिप को दोबारा शुरू करने में.

ज़िम्मेदारियों का बंटवारा

  • पति-पत्नी दोनों का वर्किंग होना आज की जीवनशैली को मेंटेन रखने के लिए एक ज़रूरत बन गया है.
  • जिस तरह से दोनों मिल-जुलकर आर्थिक ज़िम्मेदारियों का निर्वाह करते हैं, उसी तरह से घरेलू काम में भी एक-दूसरे की मदद अवश्य करें.
  • अगर पत्नी वर्किंग ना भी हो, तो भी घर में इतने काम होते हैं कि वह थक जाती है, लेकिन आमतौर पर लोगों की यह धारणा होती है कि घर का काम करने का ज़िम्मा स़िर्फ महिलाओं का है, पर यह ज़रूरी नहीं है कि घर का सारा काम केवल पत्नी ही करे. ऐसे में अगर आप उसकी थोड़ी-सी मदद कर दें, तो उसके मन में आपके प्यार की डोर और ज़्यादा मज़बूत होगी.
  • आपकी यह छोटी-सी पहल आपकी पत्नी के मन में प्यार के साथ-साथ आपके प्रति सम्मान भी बनाए रखेगी. हमेशा ये कोशिश करनी चाहिए कि आप अपने साथी के चेहरे से उनकी प्यारी मुस्कान को कभी न जाने दें.

आपसी जुड़ाव की निशानी

  • अगर पति-पत्नी के बीच तकरार होती रहती है, तो इसे वैचारिक भिन्नता से ज़्यादा इस बात की निशानी मानना चाहिए कि उनके बीच जुड़ाव बहुत अधिक है. मनोवैज्ञानिक आराधना मलिक के अनुसार, “झगड़ा इस बात का प्रतीक होता है कि संबंधों में जीवंतता बरक़रार है. वे चाहे कितना ही झगड़ें, पर एक-दूसरे से अलग नहीं हैं.
  • सच्चाई तो यह है कि कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं होता है. कमी हर रिश्ते की तरह पति-पत्नी के रिश्ते में भी होती है.”
  • आपसी जुड़ाव तभी उत्पन्न होता है, जब एक साथी को यह पता हो कि दूसरा साथी क्या सोच रहा है या क्या महसूस कर रहा है. इसका अर्थ यह हुआ कि विचारों की भिन्नता को एक-दूसरे के समक्ष लाना, न कि चुप रहकर मन ही मन घुलते रहना. बोलकर, अपनी राय देकर इस नतीजे पर पहुंचना कि क्या सही है और क्या ग़लत, एक स्वस्थ रिश्ते की निशानी है.

रखें ध्यान पसंद-नापसंद का

  • एक सुदृढ़ और सम्मानजनक रिलेशनशिप के लिए साथी की पसंद-नापसंद का ध्यान रखना उतना ही महत्वपूर्ण है, जितना कि   आप स्वयं की इच्छाओं का ख़्याल रखते हैं.
  • उसे आपकी कोई बात अच्छी नहीं लगती है, तो उसे बदलने की कोशिश करें.
  • इसी तरह से इस बात का ख़्याल रखें कि ऐसी कौन-सी बातें हैं, जिनके ज़िक्र मात्र से आपके जीवनसाथी के चेहरे पर मुस्कान छा जाती है और कौन-सी ऐसी बातें हैं, जिनसे वह परेशान या दुखी हो जाता है.
  • यही नहीं, साथी को क्या खाना पसंद है, उसका पसंदीदा रंग कौन-सा है जैसी छोटी-छोटी बातें आप दोनों के प्यार को और बढ़ाएंगी.
  • नीलिमा पाठक के अनुसार, आप इस बात को भी ध्यान में रखें कि आपका साथी आपसे कैसे व्यवहार की उम्मीद करता है या किस चीज़ में उसकी रुचि ज़्यादा है.
  • इन बातों के पता होने से आप अपने साथी को कभी भी दुख देने के बारे में नहीं सोच पाते हैं.
  • कोई भी व्यक्ति अपने स्वभाव को एक दिन में नहीं बदल सकता, इसलिए उसे समय व सहयोग दें.

खुलकर बात करें

  • दांपत्य जीवन में कई बार ऐसा होता है कि एक छोटी-सी बात इतनी बढ़ जाती है कि वो एक बड़े मुद्दे का रूप ले लेती है. तब पति-पत्नी एक-दूसरे से बोलना तक छोड़ देते हैं और चुप्पी साध लेते हैं, लेकिन जब ये चुप्पी टूटती है, तो इससे घर एक जंग के मैदान में बदल जाता है.
  • कभी भी अपने दांपत्य जीवन में ऐसी स्थिति न आने दें. अपने साथी के साथ हर बात शेयर करें.
  • वैसे भी साथी का अर्थ ही ये है कि जो हमेशा आपके सुख और दुख में आपके साथ हो, साथ ही जिससे आप अपने दिल की हर बात को खुलकर कह सकें.
  • आपस  की  प्रॉब्लम्स  को  ख़त्म  करने  का  इससे  बेहतर  तरीक़ा  शायद  ही  कोई दूसरा हो.
  • रिलेशनशिप को निभाने में क्या परेशानियां आ रही हैं, किन बातों को लेकर झगड़े हो रहे हैं, इन सभी बातों के पीछे की वजहों को जानने की कोशिश करें.
  • किन तरीक़ों से उन्हें सुलझाया जा सकता है, इसके बारे में भी सोचें और मिलकर बातचीत करें. साथ ही एक-दूसरे की बातों को भी सुनें.
  • कई बार बेवजह की ग़लतफ़हमियों से भी रिश्ते में दरार आ जाती है, जिन्हें बातचीत के ज़रिए बड़ी ही आसानी से दूर किया जा सकता है. अपने साथी से मन की बात कहने में आख़िर बुराई ही क्या है और अगर इस वजह से तक़रार हो भी जाए, तो मुद्दा सुलझ भी तो जाता है.
  • बात चाहे छोटी ही क्यों न हो, चुप रहने की बजाय बात सुलझाने की कोशिश करनी चाहिए. बहस से बचने के चक्कर में अगर झगड़ा न किया जाए, तो समस्या गंभीर बन सकती है और रिश्ते में दरार भी आ सकती है.
  • मैरिज काउंसलर मणिका मानती हैं कि झगड़ा करना स्वास्थ्यवर्द्धक भी होता है और अगर उसका उपयोग ठीक तरह से किया जाए, तो वह रिश्ते को पुख्ता करने और ऊर्जावान बनाने में भी सहायक होता है. पर इसका अर्थ यह नहीं है कि जब भी आपको लगे कि रिश्ते में गरमाहट की कमी हो रही है, आप झगड़ा करने लगें.
  • पति-पत्नी का संबंध ऐसा होता है कि उनके बीच कोई भी विवाद बहुत लंबे समय तक चल ही नहीं सकता है, इसलिए अगर तक़रार हो भी गई हो, तो उसे तूल न दें और न ही यह उम्मीद रखें कि साथी आपको मनाए. बिना हिचक के साथी से माफ़ी मांग लें. इससे आप किसी भी तरह से उसकी नज़रों में छोटे नहीं होंगे, बल्कि आपकी पहल आपके संबंधों को और प्रगाढ़ता देगी.

सीमाएं तय करें

  • एक-दूसरे पर पाबंदियां लगाने की बजाय, एक-दूसरे को और उनके विचारों को आज़ादी दें.
  • रिलेशनशिप को जितना बांधकर रखा जाएगा, उतनी ही दूरियां बढ़ेंगी.
  • मैरिज काउंसलर अदिती छाबड़ा का मानना है कि जो गाइडलाइन्स आपने पार्टनर के लिए तय की हैं, उन्हें ख़ुद भी फॉलो करें. अपनी बात साथी पर थोपें नहीं.

टच में रहें

  • आप चाहे अपने घर में हों या ऑफिस में, दिन में कम से कम एक बार तो पार्टनर से फोन पर बात ज़रूर करें.
  • उनसे पूछें कि दिन कैसा गुज़र रहा है,  उनकी तबियत कैसी है इत्यादि.
  • मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि ये छोटी-छोटी बातें दांपत्य जीवन में प्रेम बढ़ाती हैं और इन्हीं छोटी-छोटी बातों से उनके बीच के रिश्ते की अहमियत हमेशा बनी रहती है.

एक-दूसरे के परिवार का सम्मान करें

  • अगर आप चाहते हैं कि आपका साथी आपको प्यार करे और आपकी बात को मान दे, तो इसके लिए यह बेहद ज़रूरी है कि आप अपने जीवनसाथी से जुड़े सारे संबंधों को खुले दिल से स्वीकार करें.
  • उसके परिवार के सदस्यों का सम्मान करें. जब आप अपने जीवनसाथी के माता-पिता को अपने माता-पिता की तरह मान-सम्मान देंगे और उसके भाई-बहनों को अपने
  • भाई-बहन की तरह प्यार करेंगे, तो यक़ीनन आपके संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी.
  • सुमन बाजपेयी

क्या करें जब हो आपसी मनमुटाव? (How Successful Couples Resolve Conflicts)

How Successful Couples Resolve Conflicts

रिश्ते जीने का संबल होते हैं, पर जब इनमें आपसी मतभेद पनपने लगते हैं, तो जीना मुश्किल-सा हो जाता है. तो क्यों न अपने रिश्ते को हमेशा ख़ुशगवार बनाए (How Successful Couples Resolve Conflicts) रखें, जिससे मनमुटाव की गुंजाइश ही न रहे. इस संदर्भ में हमें सायकोलॉजिस्ट रोहिणी गिरिजा ने कई उपयोगी बातें बताईं.

How Successful Couples Resolve Conflicts

कभी-कभी सब कुछ अच्छा, सहज व सरल होना भी जीवन को नीरस बना देता है. ऐसे में कई बार आपसी मनमुटाव जहां रिश्ते में हलचल पैदा करते हैं, वहीं उसे मज़बूत बनाने का माध्यम भी बन जाते हैं, बशर्ते मतभेद को अधिक लंबा न खींचा जाए. मनमुटाव को हम जितनी जल्दी दूर कर लेते हैं, रिश्ते के लिए उतना ही अच्छा होता है. इसके लिए निम्न बातों पर ग़ौर फरमाएं.

  • जब कभी अपने किसी से मनमुटाव हो, तो उस पर व्यंग्यबाण न कसें. फिर चाहे वो पति-पत्नी, पैरेंट्स या फिर भाई-बहन ही क्यों न हों. अक्सर अपनों द्वारा किए गए पर्सनल कमेंट्स मन को अधिक आहत करते हैं.
  • इंसानी फ़ितरत रही है कि वे ग़लतफ़हमी को दूर करने की कोशिश कम करते हैं या फिर देरी से करते हैं. ऐसा न करें. जितनी जल्दी हो सके बातचीत द्वारा मतभेद को दूर करें.
  • एक-दूसरे को नीचा दिखाने के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल न करें. इससे आपसी कड़वाहट अधिक बढ़ जाती है, जो संबंधों को भी कमज़ोर बना देती है.
  • ध्यान रहे, मनमुटाव रिश्ते से बढ़कर नहीं, इसलिए कभी भी रिश्ते में ईगो को आड़े न आने दें. आपसी विवाद को जितनी जल्दी भूलेंगे, रिश्ते उतनी जल्दी मधुर बनेंगे व ट्रैक पर आएंगे.
  • कई बार ऐसा भी होता है कि कोई हमें समझ ही नहीं पाता. ऐसे में बेहतर होगा कि शांत रहें और सही मौक़ा मिलने पर अपनी बात को रखें.
  • जब भी किसी बात पर बहस, मतभेद या आपसी नाराज़गी होती है, तो हम ख़ुद को सही और दूसरे को क़सूरवार ठहराते हैं. लेकिन एकबारगी आप दूसरे के पहलू से भी सोचने की कोशिश करें. यदि आप उसकी जगह होते, तो क्या करते या क्या हो सकता था. इस तरह समस्याएं जल्दी सुलझती हैं.
  • मैं क्यों बोलूं या पहले समझौता करूं… यहीं पर आकर अक्सर संबंधों की गाड़ी अटक जाती है और मनमुटाव बढ़ जाता है. हमारा अहम् कहें या फिर नाराज़गी, जो पहल करने से रोकती है. लेकिन आपके द्वारा अपनेपन से की गई प्यारभरी पहल न केवल दूसरे के ग़ुस्से को दूर करती है, बल्कि मनमुटाव को भी ख़त्म कर देती है.

इन वास्तु टिप्स को भी आज़माएं

  • हर रोज़ सुबह स्नान करने के बाद पूरे घर में गंगाजल छिड़कें.
  • किचन में बैठकर खाना खाने से घर में राहु का प्रभाव कम होता है और सुख-शांति बनी रहती है.
  • स़फेद चंदन की बनी कोई भी मूर्ति ऐसे स्थान पर रखें, जहां से परिवार के सभी सदस्यों की नज़र उस पर पड़े.
  • यदि घर के पुरुष सदस्यों के बीच मनमुटाव व तनाव है, तो घर में कदम के पेड़ की डाली रखें.
  • हर महीने घर के सदस्यों व घर में आए सभी मेहमानों की संख्या के बराबर मीठी रोटियां बनाकर गाय, कुत्ते आदि जानवरों को खिलाएं. इससे घर में आपसी मनमुटाव, बीमारी, झगड़ा, फ़िज़ूलख़र्ची आदि दूर होगी.

क्या न करें?

  • घर की उत्तर-पूर्व दिशा में डस्टबिन यानी कूड़ादान न रखें. इससे घर में आपसी मनमुटाव बढ़ता है.
  • यदि परिवार की महिलाओं में अक्सर मनमुटाव बना रहता है, तो सभी महिलाएं एक साथ लाल रंग के कपड़े न पहनें.
  • रेखा कुंदर

 

रिश्तों को आजकल हुआ क्या है? (What Is Wrong With Relationship These Days?)

ट्रैवलिंग में कैसे करें बचत? (How to save money during travelling)

4

क्या आप उन लोगों में से हैं, जिन्हें हमेशा यात्रा करनी पड़ती है? कभी ऑफिस का काम, तो कभी फैमिली ट्रिप. अब ऐसे में आपकी जेब पर भार तो पड़ेगा ही, लेकिन कुछ स्मार्ट तरी़के से आप इससे बच सकते हैं. बढ़ती महंगाई में बचत करने की आपकी आदत को तब क्या हो जाता है, जब आप टूर पर निकलते हैं. सालभर की बचाई रकम यूं मिनटों में एक ही ट्रिप पर उड़ा देना समझदारी नहीं है. असली बचत तो तब होगी, जब आप ट्रैवलिंग में भी बचत कर सकें. चलिए, जानते हैं क्या हैं वो टिप्स, जिन्हें अपनाकर आप स्मार्ट ट्रैवलर बन सकते हैं.

BNB-Com Bank Travel Card.jpg

ट्रैवल कार्ड का इस्तेमाल करें
किसी भी जगह का टूर प्लान करते समय ट्रैवल कार्ड का इस्तेमाल करें. जिस तरह आप शॉपिंग करने के लिए डेबिट/क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं, ठीक उसी तरह ट्रैवलिंग के लिए ट्रैवल कार्ड का इस्तेमाल करें. इसे आप बैंक के ज़रिए बनवा सकते हैं. बेहतर होगा कि जिस बैंक में आपका अकाउंट है, उसी बैंक से ट्रैवल कार्ड बनवाएं. इस ट्रैवल कार्ड की ख़ासियत यह है कि ज़रूरत पड़ने पर आप इसे रिचार्ज भी करा सकते हैं. हर छोटी-बड़ी चीज़ के लिए आपको कैश देने की ज़रूरत नहीं. इससे आप टेंशन फ्री रहेंगे और सफ़र का आनंद भी उठा पाएंगे.

purse

अपने वॉलेट में ज़्यादा पैसे न रखें
आमतौर पर किसी भी ट्रिप पर जाने से पहले लोग अपने पर्स में एक्स्ट्रा अमाउंट रख लेते हैं. वो ऐसा इसलिए करते हैं ताकि इमर्जेंसी के व़क्त अगर कोई एटीएम मशीन आसपास न दिखे, तो वो इस कैश का इस्तेमाल कर सकें. हो सकता है, आपकी आदत भी कुछ ऐसी ही हो, लेकिन ये सही तरीक़ा नहीं है. इस तरह आपका पूरा ध्यान आपके पर्स पर ही रहता है और आप घूमने का आनंद नहीं ले पाते.

बैंक को इंफॉर्म करें
ट्रैवलिंग में पैसे बचाने का ये एक बेहतरीन तरीक़ा है. ट्रैवलिंग के बारे में अपने बैंक और क्रेडिट कार्ड कंपनी को जानकारी दें. पूरा ट्रैवल प्लान बताएं. ऐसे में ग़लती से अगर आपका कार्ड खो जाता है, तो बैंक उसे ब्लॉक करके आपको दूसरी आईडी मुहैया कराती है ताकि आप आसानी से अपनी ट्रिप एंजॉय कर सकें. कई बार बैंक के पास घूमने के अच्छे प्लान होते हैं. ऐसे में आप काफ़ी पैसे बचा सकते हैं.

फ़र्जी एटीएम से बचें
आप अपने साथ चाहे जितना भी कैश ले जाएं, लेकिन यात्रा करते समय पैसों की कमी हो सकती है. ऐसे में पैसों को सुरक्षित रखने के लिए किसी भी एटीएम मशीन से पैसे नहीं निकालें. उसी एटीएम से पैसा निकालें जिस बैंक के बारे में आपको जानकारी हो. कोशिश करें कि जिस बैंक में आपका अकाउंट है, उसी बैंक के एटीएम का इस्तेमाल करें.

public-computers

पब्लिक कंप्यूटर का यूज़ न करें
कई बार ऐसा होता है कि सफ़र के दौरान हमें नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना पड़ता है. ऐसे में आप अपना लैपटॉप लेकर जाएं. कभी भी होटल या साइबर कैफे के कम्प्यूटर का इस्तेमाल न करें. आपके नेट बैंकिंग की निजी जानकारी आसानी से कोई भी हैक कर सकता है, इसलिए पब्लिक कंप्यूटर से नेट बैंकिंग न करें. प्रकित नंदी जो एक एडवर्टाइज़िंग कंपनी में काम करते हैं, उनका कहना है कि एक साल पहले वो अपने परिवार के साथ सिंगापुर छुट्टियां बिताने गए थे. वहां उन्होंने होटल के कंप्यूटर से नेट बैंकिंग की. जब वो सफ़र से वापस आए, तो कुछ दिनों बाद उन्हें पता लगा कि उनके अकाउंट से 15,000 रुपए किसी दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर हुए थे. आपके साथ ऐसा कुछ न हो, इसलिए सतर्क रहें.

स्मार्ट टिप्स

  • सफ़र के दौरान अपने बैंक का पासवर्ड, एटीएम पिन आदि की जानकारी फोन पर किसी को न दें.
  • सफ़र पर जाने के बाद अगर बैंक का कस्टमर केयर आपसे आपका पासवर्ड मांगे, तो भूल से भी उन्हें अपना पासवर्ड या एटीएम पिन न बताएं. ये फ़र्जी कॉल हो
    सकता है.
  • अगर आपको और पैसों की ज़रूरत लगे, तो आप मनी ट्रांसफर में जाएं और अपने किसी ख़ास दोस्त या रिश्तेदार को पैसे ट्रांसफर करने के लिए कहें.
  • बहुत से देशों में अपने राष्ट्रीयकृत बैंक आपको मिल जाएंगे. उन्हीं बैंकों से पैसे निकालें. ऐसा करने से पहले एक बार छानबीन अवश्य करें.
  • अगर दूसरे देश में कोई आपको आपकी करेंसी के बदले उनकी करेंसी देने को कहे, तो भूलकर भी ऐसा न करें. वो आपको धोखा देकर फेक करेंसी दे सकता है.

– सुषमा विश्वकर्मा

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

[amazon_link asins=’B01F7AX9ZA,B0747MKTRK,B00JP2LK08,B074G3TJYF’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’caace576-b4b8-11e7-8f49-bf611781d3d3′]

सनस्क्रीन सिलेक्शन टिप्स

ऐ हुस्न बेपरवाह, मुझे है तेरी चाहत का नशा… गुलाब भी मांगते हैं रंगत तुझसे, ऐसी है कुछ तेरी अदा… तू चलती है जहां, धूप खिलती है वहां… और जो छिप जाती है तू, तो वीरान हो जाता है समां… कभी आंखों में ले जाती है तू ज़माने का नूर छिपाकर, तो कभी आसमान से सपनों को तोड़कर सहलाती है अपनी पलकों पर बैठाकर… साहिल की रेत पर लिखती है तू हुस्न की दास्तान और मैं लहरों-सा मिलता हूं तुझसे होकर तेरे इश्क़ में फ़ना… ये हसरतें मेरी तन्हा-तन्हा सी, तेरी तमन्नाओं में ढलकर पूरी होना चाहती हैं… और चांद की डोली पर सवार होकर, रेशमी तारों से तेरी मांग भरना चाहती हैं…

1

सनस्क्रीन लगाना न स़िर्फ गर्मियों में, बल्कि हर मौसम में ज़रूरी है, क्योंकि यह आपको सनटैन, सनबर्न और प्रीमैच्योर एजिंग से प्रोटेक्शन देता है. इसके अलावा इसे अप्लाई करने से स्किन कैंसर होने की संभावना भी कम हो जाती है. लेकिन सनस्क्रीन सिलेक्ट करते व़क्त कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है, ताकि आपको मिले कंप्लीट प्रोटेक्शन.

– सनस्क्रीन में सबसे महत्वपूर्ण होता है एसपीएफ. कितने एसपीएफ का सनस्क्रीन सिलेक्ट करना है, यह कई बातों पर निर्भर करता है, जैसे- आपकी स्किन टाइप, आपके शहर का मौसम और तापमान आदि. भारत चूंकि गर्म प्रदेश है, तो यहां एसपीएफ 30 ही इफेक्टिव होता है.

–  एसपीएफ 15 आपको अधिक से अधिक दो-तीन घंटों तक का ही प्रोटेक्शन दे सकता है.

–  गर्मियों में जब धूप तेज़ होती है, तो बेहतर होगा कि सनस्क्रीन को साथ में कैरी करें.

–   जब बाहर धूप में हों, तो हर 3-4 घंटे में सनस्क्रीन अप्लाई करें.

–  फेस के लिए अलग सनस्क्रीन लें. अगर आपकी स्किन ऑयली है, तो ऑयल फ्री सनस्क्रीन लें. इसी तरह सेंसिटिव स्किन के लिए भी अलग से सनस्क्रीन लें.

2

–   आमतौर पर सनस्क्रीन लगाने के बाद आपकी त्वचा हल्की-सी डार्क पड़ जाती है, इससे बचने के लिए बाहर जाने से लगभग 15 मिनट पहले सनस्क्रीन लगाएं, ताकि बाहर जाने तक त्वचा का रंग सामान्य हो जाए.

–  सनस्क्रीन लगाने के बाद अगर आप यह सोचेंगे कि अब आप दिनभर कड़ी धूप में भी रह सकते हैं, तो आप ग़लत सोच रहे हैं. बेहतर होगा कि जहां ज़रूरत न हो, वहां धूप से बचा जाए.

–  अतिरिक्त बचाव के लिए सनग्लासेस और हैट ज़रूर पहनें.

–  सनस्क्रीन ख़रीदते समय उसकी कंसिस्टेंसी भी ज़रूर देखें.  स्प्रे की बजाय क्रीम सनस्क्रीन अच्छे होते हैं.

–  हां, अगर आप क्रीम सनस्क्रीन अप्लाई करके उस पर स्प्रे भी करते हैं, तो सनस्क्रीन का असर ज़्यादा देर तक रहता है.

 

–  अपने स्काल्प के लिए भी अलग से सनस्क्रीन ख़रीदें, क्योंकि वहां धूप डायरेक्ट और तेज़ लगती है. यह स्काल्प को जला सकती है.

–  क्रीम सनस्क्रीन ड्राई स्किन के लिए बेस्ट होता है, जेल सनस्क्रीन स्काल्प के लिए और जहां-जहां बाल हों, जैसे- पुरुषों के सीने पर लगाने के लिए अच्छा होता है. स्टिक्स में उपलब्ध सनस्क्रीन को आप आंखों के आसपास लगाने के काम में ला सकते हैं.

3

–  स्प्रे सनस्क्रीन लगाने में आसान ज़रूर होता है, लेकिन उसमें डर होता है कि वो आंखों में, सांस के द्वारा फेफड़ों में या फिर मुंह में जा सकता है.

–  आप सनस्क्रीन में मॉइश्‍चराइज़र भी मिक्स कर सकते हैं. यह और भी प्रभावी होगा.

–  स़िर्फ खुले हिस्से पर ही सनस्क्रीन लगाना है और बाकी पर नहीं, यह धारणा ग़लत है. पूरे शरीर पर लगाएं, क्योंकि आपके कपड़े आपको उतना प्रोटेक्शन नहीं देंगे, जितना सनस्क्रीन लगाने के बाद मिलेगा.

–  ध्यान रहे, तेज़ धूप में यदि बिना सनस्क्रीन के आप बाहर जाएंगे, तो आपकी स्किन जल सकती है, रैशेज़ आ सकते हैं और यहां तक कि ऊपरी त्वचा की परतें भी निकल सकती हैं.

–  कभी भी सनस्क्रीन लगाने के बाद आंखों को ज़ोर से रब न करें, क्योंकि आंखों में अगर वो गया, तो नुक़सान कर सकता है.

–  बहुत छोटे बच्चों को सनस्क्रीन न लगाएं, क्योंकि उनकी त्वचा सेंसिटिव होती है. थोड़े बड़े बच्चों को भी ज़िंक ऑक्साइडयुक्त या टाइटेनियम डायऑक्साइडयुक्त सनस्क्रीन ही लगाएं, क्योंकि ये स्किन में समाते नहीं और त्वचा को नुक़सान नहीं पहुंचाते.

–  अगर सनस्क्रीन की मात्रा की बात करें, तो चेहरे, स्काल्प, बांहों और हाथों पर 1-1 टीस्पून सनस्क्रीन अप्लाई करना चाहिए और 2-2 टीस्पून धड़ के हिस्से पर और प्रत्येक पैर पर लगाएं.

– कमलेश शर्मा

मॉनसून मेकअप टिप्स

मैंने तुमको ख़्वाब में देखा… दिन में देखा, रात में देखा… हर प्यारी बरसात में देखा… तुम्हारे हुस्न का खिलता गुलाब देखा… भीगता-महकता तुम्हारा शबाब देखा… हर पल अब तुम्हें ही सोचता हूं, हर घड़ी अब तुम्हें ही चाहता हूं… मैंने अब तुमको अपने साथ देखा… अपने पास देखा… हर मौसम में उतनी ही प्यारी लगती हो, पर इस बरसते मौसम में तुम्हें और भी निखरते देखा… मैंने अब तुमको और बस अब तुमको ही देखा…

1

– डार्क कलर्स और गहरा मेकअप करने से बचें, क्योंकि भीग जाने पर वो फैलकर पूरा फेस बिगाड़ सकता है.

– हल्का मेकअप और लाइट कलर्स ही यूज़ करें.

– वॉटर प्रूफ आई मेकअप और लिप कलर्स यूज़ करें. काजल बिल्कुल भी न लगाएं.

– अगर फाउंडेशन बहुत ही ज़रूरी हो, तो वॉटर प्रूफ फाउंडेशन उपलब्ध होते हैं, उनका ही इस्तेमाल करें.

– मेकअप से पहले 5-10 मिनट तक बर्फ का टुकड़ा फेस पर रगड़ें, इससे मेकअप ज़्यादा देर तक टिकेगा.

– आइस रब करने के बाद ऑयली स्किन पर एस्ट्रिंजेंट यूज़ करें और अगर स्किन ड्राई है, तो टोनर का इस्तेमाल करें.

– वॉटर बेस्ड मॉइश्‍चराइज़र लगाना न भूलें.

– मेकअप बेस के लिए फाउंडेशन की बजाय फेस पाउडर बेहतर होगा.

– लाइट ब्राउन, बेज, पेस्टल या पिंक क्रीम आईशैडो के साथ थिक आईलाइनर अप्लाई करें.

– वॉटरप्रूफ मस्कारा का डबल कोट लगाएं.

– सॉफ्ट मैट लिपस्टिक्स इस मौसम के लिए बेस्ट ऑप्शन है. लेकिन अगर आप चाहें, तो सॉफ्ट ब्राउन या पिंक शेड्स के साथ शीयर ग्लॉस भी यूज़ कर सकती हैं.

– ब्लश करना बहुत ज़रूरी हो, तो लाइट शेड्स सिलेक्ट करें और अच्छी तरह से ब्लेंड करें.

डिफरेंट मेकअप लुक्स

यूं तो मॉनसून में नेचुरल लुक्स और कम मेकअप ही प्रीफर किए जाते हैं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि पूरा मॉनसून आप बोरिंग लुक के साथ बिता दें. मेकअप करें और जमकर करें, बस यह ध्यान रखें कि मेकअप वॉटरफ्रूफ हो.

फॉर एवर फ्रेश (डे लुक)

3
– लाइट फांउडेशन, लाइट कंसीलर और ब्लश अप्लाई करें.

– सॉफ्ट लुक के लिए यही ब्लश आईशैडो के लिए भी यूज़ करें.

– ब्राउन आई पेंसिल आईलाइनर की जगह यूज़ करें.

– मस्कारा एकदम सॉफ्ट टच के साथ अप्लाई करें.

– पीच कलर का लिपकलर लगाकर हल्का-सा ग्लॉस लगाएं.

ग्लैमर (नाइट लुक)

1

– वाइट-गोल्ड आईशैडो यूज़ करें.

– हेवी मस्कारा लगाएं.

– गालों पर रेडिश रूज़ अप्लाई करें.

– हॉट रेड लिप कलर्स से ग्लैमरस लुक पाएं.

फंकी एंड फन (डे लुक)

3

– कलर्ड आईलाइनर्स यूज़ करें, जैसे- ग्रीन, ब्लू, पिंक या ऑरेंज, जो भी आपके आउटफिट से मैच कर रहा हो.

– फेस टोन न्यूड रखने के लिए फाउंडेशन यूज़ करें.

– चाहें तो लाइट शेड या ट्रांस्परेंट लिप कलर यल ग्लॉस यूज़ करें.

स्मोकिंग हॉट (नाइट लुक)

6

 

 

– नाक को शार्प लुक देने के लिए ब्लश को साइड में लगाएं.

– डार्क ब्राउन आईशैडो आंखों के बाहरी किनारों पर अप्लाई करें.

– हल्का-सा व्हाइट गोल्ड शिमर अपर आईलिड पर अप्लाई करें.

– लुक को इंटेन्स करने के लिए बोल्ड, डार्क ब्लैक काजल लगाएं.

– मस्कारा लगाएं.

– लाइट पिंक ब्लश करें.

– पेल, नेचुरल लिपस्टिक पर हल्का-सा ग्लॉस लुक को कंप्लीट करेगा.

ईज़ी मेकअप गाइड

 

1

 

– अगर मेकअप करना बहुत ज़रूरी हो, तो ही करें, वो भी वॉटरप्रूफ मेकअप.

– हेवी मेकअप न करें. हेवी मॉइश्‍चराइज़िंग क्रीम्स, ऑयली फाउंडेशन्स और क्रीम बेस्ड कलर मेकअप अवॉइड करें.

– मेकअप बेस के लिए मैट कॉम्पैक्ट या कैलामाइन लोशन का इस्तेमाल करें.

फाउंडेशन: बारिश के दिनों में बेहतर होगा कि फाउंडेशन बिल्कुल भी यूज़ न करें. फेस पाउडर बेहतर ऑप्शन है.
मस्कारा और आईलाइनर्स: वॉटरप्रूफ ही यूज़ करें, काजल न लगाएं.

आईशैडो: शीयर और पेस्टल शेड्स यूज़ करें और पाउडर शैडो ही मॉनसून में बेहतर होते हैं, जिसमें ब्राउन, पिंक या बेज कलर्स बेस्ट होते हैं इस मौसम के लिए.

आईब्रो: नियमित थ्रेडिंग करवाती रहें, लेकिन आईब्रो पेंसिल इस मौसम में भूल ही जाएं, तो अच्छा होगा. बेहतर होगा कि ब्रो ब्रश पर थोड़ा-सा हेयर जेल लगाकर अप्लाई करें. ब्रोज़ शार्प और शेप में लगेंगी.

लिप्स: लॉन्ग लास्टिंग और नॉन ट्रॉन्स्फर लिप कलर्स यूज़ करें. क्रीमी, ग्लॉसी लिपस्टिक्स से दूर रहें. पाउडर मैट टोन्स या क्रीम मैट टिन्ट्स बेहतर ऑप्शन है.

– अगर ग्लॉस यूज़ करना ही है, तो क्रिस्टल क्लीयर ग्लॉस ही यूज़ करें.

– वैसे न्यू लुक के लिए नॉन ट्रान्स्फर कलरफुल लिप ग्लॉस यूज़ किए जा सकते हैं, जो आपको ग्लैमरस लुक देंगे. वैसे भी मॉनसून तो रोमांस का सीज़न होता है, तो अगर आपको इस तरह के नॉन ट्रान्स्फर लिप ग्लॉस मिलते हैं, तो ज़रूर लें.

– कुछ न्यूड शेड्स की लिपस्टिक्स भी ट्राई कर सकती हैं.

ब्लश: लाइट ब्लश अप्लाई करें. क्रीम ब्लशर वॉटर फ्रेंडली होते हैं, इसलिए भीगने पर भी आपको स़िर्फ टिशू से हल्के हाथों से थपथपाकर पोंछना होगा और आपका ब्लश वैसा ही लगेगा.

रिलेशनशिप क्लीनिंग टिप्स

किसी भी चीज़ को टिकाऊ और व्यवस्थित रखने के लिए समय-समय पर उसकी साफ़-सफ़ाई ज़रूरी होती है. हमारे रिश्ते भी ऐसे ही होते हैं, अगर उन्हें भी टिकाऊ बनाना है, तो समय-समय पर उन्हें भी क्लीनिंग की ज़रूरत पड़ती है. अपने रिलेशनशिप में से तमाम बुरी आदतें, नकारात्मक भावनाएं दूर करके उन्हें क्लीन करें और अपने रिश्ते को बनाएं परफेक्ट.

2

ईगो: किसी भी रिश्ते की मज़बूती के लिए बहुत ज़रूरी है ईगो को बीच में न आने दिया जाए, लेकिन  हम अपने अहम् को इतना महत्व देते हैं कि अधिकतर रिश्ते इसी के भेंट चढ़ जाते हैं.

–  ईगो को इतना बड़ा बना लेते हैं कि उसके सामने रिश्ते छोटे लगने लगते हैं.

– छोेटी-छोटी बातों को अपने स्वाभिमान का विषय बनाकर अपनों से ही उलझ पड़ते हैं.

– बहुत ज़रूरी है कि अपने रिश्ते में से ईगो को क्लीन किया जाए, ताकि आपका रिश्ता रहे लॉन्ग लास्टिंग.

ईर्ष्या: अपने रिश्ते को सेफ रखने के लिए बहुत ज़रूरी है कि ईर्ष्या को मन में न पनपने दें. चाहे कोई भी रिश्ता हो, ईर्ष्या अगर दिल में घर कर जाए, तो क़रीबी रिश्ते को भी ख़त्म कर सकती है.

– अपनी भावनाएं सकारात्मक रखें.

– नकारात्मक विचार मन से निकाल दें.

– यदि किसी में कोई कमी या कमज़ोरी भी है, तो भी उसके गुणों पर ध्यान दें.

– किसी की सफलता पर ईर्ष्या करने से नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है. बेहतर होगा कि इस दुर्गुण को अपने रिश्ते से क्लीन करें, प्रशंसा करना सीखें और रिश्ते को पॉज़िटिव बनाएं.

 

2

कम्यूनिकेशन गैप: अक्सर हमें एहसास ही नहीं हो पाता और हमारे बीच मौन पसर जाता है. अंजाने में ही हम अपने रिश्ते के प्रति इतने कैज़ुअल होते चले जाते हैं कि आपस में बातचीत करना हमारी प्राथमिकता में रहता ही नहीं.

– बेहतर होगा कि कम्यूनिकेशन गैप को क्लीन करें और आपस में बात और शेयरिंग का सिलसिला जारी रखें.

–  न स़िर्फ अपने सुख-दुख, बल्कि छोटी-छोटी बातें भी शेयर करने का अलग ही सुख होता है. इससे रिश्ते मज़बूत बनते हैं.

ठंडापन: रिश्ते में ठंडापन और उदासीनता ख़तरे की निशानी है. अगर आपका रिश्ता भी इसी स्थिति से गुज़र रहा है, तो अलर्ट हो जाएं और इसे अपने रिलेशनशिप से दूर करें.

–  रोमांटिक पलों को एंजॉय करें और ऐसे पलों को ज़रूर चुराएं, जो आप दोनों को क़रीब लाएं.

–  सरप्राइज़ दें, डेट्स प्लान करें.

–  कुछ नया करें, ताकि एक्साइटमेंट बना रहे.

1

सेक्स के प्रति अरुचि: सेक्स एक बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. इसे नज़रअंदाज़ करना रिश्ते के लिए ख़तरनाक हो सकता है.समय के साथ-साथ सेक्स के प्रति अरुचि होने लगती है, जिससे रिश्ता उबाऊ होने लगता है.

– एक-दूसरे के प्रति आकर्षण बना रहे, इसका प्रयास जारी रखें.

– अपनी फिटनेस व पर्सनल हाइजीन का ख़्याल भी रखें.

–  पार्टनर को कॉम्प्लीमेंट्स दें. रोमांटिक बातें करें.

– बेडरूम का डेकोर भी रोमांटिक ही रखें. बीच-बीच में डेकोर बदलते रहें, ताकि नीरसता न आए.

झूठ और अविश्‍वास: अपने रिश्ते को झूठ और अविश्‍वास जैसी चीज़ों से बचाएं. विश्‍वास की बुनियाद पर ही रिश्ते खड़े होते हैं.

– बेहतर होगा कि ऐसी नौबत न आए कि आपको झूठ बोलना पड़े.

– कोई भी बात हो, अपने पार्टनर से ज़रूर शेयर करें, क्योंकि बातें छिपाने पर ग़लतफ़हमियां बढ़ती हैं.

–  ग़लतफ़हमियां बढ़ने पर अविश्‍वास भी बढ़ता है, जिससे रिलेशनशिप में और उलझनें बढ़ने लगती हैं.

शक: अपने पार्टनर पर विश्‍वास करें. बात-बात पर या बेवजह शक करना या बहुत अधिक रोक-टोक व सवाल-जवाब करना सही नहीं. इससे पार्टनर को लगेगा कि आपको उन पर भरोसा नहीं.

– शक करने की कोई बड़ी वजह हो, तो बेहतर होगा कि आपस में बातचीत करके मसला हल करें.

– बेवजह मन में कड़वाहट पाले रखने से आपके स्वभाव व आपके रिश्ते पर नकारात्मक असर ही होगा.

– भरोसा करना सीखें. इससे रिश्तों में अपनापन और प्यार बढ़ता है और सामनेवाला भी आप पर भरोसा करके ख़ुद को सहज महसूस करता है.

3

अत्यधिक अपेक्षाएं: अपेक्षाएं स्वाभाविक हैं, लेकिन अत्यधिक अपेक्षाएं स़िर्फ दुख और निराशा ही देती हैं. ख़ुद को, अपने रिश्ते को इस कसौटी पर हमेशा परखें कि आपने क्या और कितनी अपेक्षाएं पाली हुई हैं.

–  अपने साधनों और एक-दूसरे के स्वभाव को जानने के बाद कुछ बदलाव आपको करने ही होंगे.

–  यह अपेक्षा करना कि सब कुछ आपके मन मुताबिक़ ही होगा, सही नहीं.

–  रिश्तों में त्याग व समर्पण करना ही पड़ता है, तभी वे टिकते हैं.

–  समय-समय पर अपने रिश्ते का विश्‍लेषण ज़रूर करें और नकारात्मक चीज़ों को बाहर करके रिश्ते को क्लीन करें.

रिश्ते को समय न देना: समय के साथ-साथ हम अपने रिश्ते को बहुत ही कैज़ुअली लेने लगते हैं. अपने प्रोफेशन से लेकर दोस्तों तक को हम समय देते हैं, लेकिन धीरे-धीरे अपने रिश्ते को ही समय देना भूल जाते हैं.

– यह ग़लती कभी न करें. आपके अपनों को सबसे ज़्यादा आपके समय की ही ज़रूरत होती है.

–  समय निकालकर उन्हें ख़ुश करें और उन्हें स्पेशल फील करवाएं.

ज़िद व ग़ुस्सा: हर बात पर ज़िद करना या ग़ुस्सा होना ठीक नहीं है. अगर आप ऐसा करते हैं, तो संभल जाइए.

– ज़िद व ग़ुस्सा जैसी भावनाएं अच्छे से अच्छे रिश्ते को तोड़ सकती हैं.

– अपने रिश्ते को बचाए रखने के लिए आपको इन भावनाओं पर नियंत्रण करना ही होगा.

ताने देना: कुछ लोगों की आदत होती है बात-बात पर ताने देने की. कभी लड़ाई-झगड़े के दौरान, तो कभी मज़ाक के नाम पर भले ही आप ताने देते हों, लेकिन आपकी कही बातें सामनेवाले को तकलीफ़ दे सकती हैं.

– अपने चाहनेवालों का सम्मान करें. उन्हें सबके सामने नीचा दिखाने से बचें.

– जाने-अंजाने अगर आपमें यह आदत है, तो इसे समय रहते ठीक कर लें, वरना आपके रिश्ते पर यह भारी पड़ सकती है.

– विजयलक्ष्मी

स्किन केयर मिस्टेक्स

हेल्दी और ग्लोइंग स्किन पाना चाहती हैं, तो अपने स्किन केयर रूटीन में हमेशा बचें इन ग़लतियों से.
Untitled-1
बार-बार चेहरा धोना या बिल्कुल नहीं धोना

चेहरे से धूल-मिट्टी साफ़ करने के लिए रोज़ाना दो बार चेहरा धोना ज़रूरी होता है, पर ज़्यादातर लड़कियां दिन में कई बार अपना चेहरा धोती हैं. इससे त्वचा का नेचुरल ऑयल निकल जाता है और त्वचा को एक्स्ट्रा ऑयल प्रोड्यूस करना पड़ता है, जिससे कील-मुंहासों की समस्या होने लगती है. साथ ही चेहरे पर अतिरिक्त ऑयल दिखाई देता है.

स्किन केयर टिप: रोज़ाना दो बार फेसवॉश से चेहरा धोएं.

अधिक गरम पानी से नहाना

शावर हमेशा ठंडे पानी से लेना चाहिए, पर अगर आपको ठंडे पानी की आदत नहीं, तो गुनगुना पानी इस्तेमाल करें, क्योंकि अधिक गरम पानी से स्किन ड्राय हो जाती है और रोमछिद्र भी खुल जाते हैं. इसका असर सीधे चेहरे पर दिखाई देता है.

स्किन केयर टिप: नहाने के लिए हमेशा गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें.

कील-मुंहासों को फोड़ना-नोचना

कील-मुंहासे चेहरे की ख़ूबसूरती को बिगाड़ देते हैं, पर इसका यह बिल्कुल मतलब नहीं कि आप उन्हें नोचें या फोड़ें. ऐसा करके आप अपने लिए ही मुश्किलें बढ़ाती हैं, क्योंकि मुंहासों को फोड़ने व नोचने से उनके दाग़-धब्बे चेहरे पर हमेशा के लिए बन जाते हैं. अपने चेहरे को हमेशा दाग़रहित बनाए रखना चाहती हैं, तो ऐसा बिल्कुल न करें.

स्किन केयर टिप: पिंपल्स होने पर रात को सोते समय टूथपेस्ट लगा लें.

सोने से पहले मेकअप रिमूव न करना

मेकअप ख़ूबसूरती में चार चांद लगाता है, पर अगर उसी मेकअप को रात को चेहरे से उतारा न गया, तो वह दाग़ भी दे सकता है. दरअसल, सोते व़क्त हमारी त्वचा ख़ुद को रिजुवनेट करती है और अगर त्वचा साफ़-सुथरी न हो, तोकील-मुंहासे, डल स्किन व प्री-मैच्योर एजिंग जैसी स्किन प्रॉब्लम्स होने लगती हैं. मेकअप चेहरे की त्वचा को सांस नहीं लेने देता, इसलिए रोज़ाना रात को सोने से पहले क्लींज़र से मेकअप रिमूव करें.

स्किन केयर टिप: बाहर से घर आने पर धूल-मिट्टी और मेकअप साफ़ करने के लिए आप कच्चे दूध में थोड़ा-सा नमक डालकर भी चेहरा साफ़ कर सकती हैं. क्लींज़र के साथ-साथ टोनर और मॉइश्‍चराइज़र का इस्तेमाल हेल्दी व ग्लोइंग स्किन के लिए ज़रूरी है.

ओवर या अंडर एक्सफोलिएशन

जब बात आती है एक्सफोलिएशन की, तो इसमें दो तरह के लोग हैं, एक वो जो शायद ही कभी एक्सफोलिएट करते हों और दूसरे वो जो अक्सर करते रहते हैं. स्क्रब से स्किन के डेड सेल्स के साथ-साथ बैक्टीरिया से भी छुटकारा मिलता है. इससे चेहरा क्लीन व हेल्दी दिखाई देता है. पर याद रहे, हफ़्ते में केवल दो बार ही स्क्रब करें.

स्किन केयर टिप: एक्सफोलिएशन या स्क्रबिंग के लिए माइल्ड स्क्रब यूज़ करें. चेहरे पर सर्कुलर मोशन में हल्के हाथों से मसाज करते हुए स्क्रब करें, न कि ज़ोर से रगड़ें.

2
तकिए और बेडशीट्स को साफ़ न रखना

हमारे तकिए और बेडशीट कवर्स पर रोज़ाना धूल-मिट्टी, डस्ट माइट्स, जर्म्स आदि जमा होते रहते हैं. सोते व़क्त हमारी स्किन से डेड स्किन सेल्स निकलते हैं, जो डस्ट माइट्स और जर्म्स को अट्रैक्ट करते हैं और हमें पता भी नहीं चलता कि हमारे कील-मुंहासों का कारण तकिए और बेडशीट्स हैं. इसलिए हर हफ़्ते तकिए और बेडशीट्स के कवर्स साफ़ करें.

स्किन केयर टिप: अगर हर हफ़्ते सफ़ाई मुमकिन नहीं, तो 15 दिन में करें. बीच-बीच में तकिए, बेडशीट और गद्दे को धूप में सुखाएं, ताकि डस्ट माइट्स और जर्म्स मर जाएं.

सनस्क्रीन लोशन न लगाना

गर्मी के मौसम में सूरज की हानिकारक किरणों से बचने के लिए तो हर कोई सनस्क्रीन लोशन लगाता है, पर अन्य मौसम में इसे अनदेखा करते हैं. अगर आप भी सनटैन, स्किन एजिंग और स्किन कैंसर से बचना चाहती हैं, तो रोज़ाना घर से निकलते व़क्त सनस्क्रीन ज़रूर लगाएं.

स्किन केयर टिप: सनस्क्रीन लोशन लगाना जितना ज़रूरी है, उससे कहीं ज़्यादा ज़रूरी है सही सनस्क्रीन लगाना. अगर आप सही एसपीएफ युक्त सनस्क्रीन लोशन नहीं लगा रही हैं, तो वह आपकी स्किन की सुरक्षा नहीं कर पाएगा.

गंदे मेकअप ब्रश इस्तेमाल करना

महिलाओं का ध्यान मेकअप पर तो होता है, पर मेकअप ब्रशेज़ पर उनका ध्यान बहुत ही कम जाता है. बहुत-सी महिलाओं को तो पता भी नहीं कि लगातार एक ही मेकअप ब्रश इस्तेमाल करने से उसमें मेकअप की एक परत जम जाती है, जो जर्म्स व बैक्टीरिया को अपनी ओर आसानी से अट्रैक्ट करते हैं. यानी मेकअप के साथ-साथ आप जर्म्स को भी अपने चेहरे तक पहुंचा देती हैं. हर एक-दो महीने में गर्म पानी में माइल्ड सोप डालकर ब्रशों को साफ़ करें.

स्किन केयर टिप: ब्रश के अलावा अपने कॉम्पैक्ट पाउडर के पफ को भी नियमित रूप से बदलती रहें.

अनहेल्दी लाइफस्टाइल अपनाना

आजकल हमारी लाइफस्टाइल काफ़ी अनहेल्दी हो गई है, जिसका सीधा असर हमारी स्किन पर दिखाई देता है. हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाने के लिए भरपूर नींद लें, हेल्दी खाएं, पर्याप्त पानी पीएं, स्ट्रेस न लें और धूम्रपान से दूर रहें.

स्किन केयर टिप: हेल्दी स्किन के लिए एंटीऑक्सीडेंट्स बहुत ज़रूरी हैं. अपने खाने में मौसमी फल व हरी सब्ज़ियां शामिल करें. 6-8 घंटे की नींद न लेने से आपको अंडर आई सर्कल हो सकते हैं, इसलिए सुकूनभरी नींद लें.

स्किन टाइप के अनुसार प्रोडक्ट्स न लेना

बहुत-सी महिलाओं को पता ही नहीं होता कि उनकास्किन टाइप क्या है और वो कोई भी ब्यूटी प्रोडक्ट इस्तेमाल करने लगती हैं. जबकि उन्हें पता भी नहीं होता कि उन्हें उसकी ज़रूरत है भी या नहीं. अपनी स्किन टाइप यानी ड्राय, ऑयली, नॉर्मल, सेंसिटिव के अनुसार प्रोडक्ट्स ख़रीदें.

स्किन केयर टिप: कोई भी स्किन केयर या ब्यूटी प्रोडक्ट ख़रीदते व़क्त उसका लेबल चेक करें कि वह किस तरह की त्वचा के लिए बना है. उसमें मौजूद तत्वों को भी देखें, बहुत ज़्यादा केमिकल युक्त प्रोडक्ट्स अवॉइड करें.

2
ब्यूटी प्रोडक्ट्स की एक्सपायरी डेट चेक न करना

जिस तरह हर चीज़ की एक्सपायरी डेट होती है, उसी तरह स्किन केयर और मेकअप प्रोडक्ट्स भी एक्सपायरी डेट के साथ आते हैं. कुछ महिलाएं ब्यूटी प्रोडक्ट्स सालों तक रखे रहती हैं और उसकी एक्सपायरी डेट की ओर ध्यान ही नहीं देतीं.

स्किन केयर टिप: समय-समय पर प्रोडक्ट्स की एक्सपायरी डेट चेक करती रहें और अपने ब्यूटी बॉक्स में नए प्रोडक्ट्स ऐड करती रहें.

डर्मेटोलॉजिस्ट से कंसल्ट न करना

किसी भी तरह की स्किन प्रॉब्लम का ख़ुद इलाज करने की बजाय डर्मेटोलॉजिस्ट को दिखाना ज़रूरी होता है. बहुत-सी महिलाएं यहां-वहां से टिप्स बटोरकर काम चलाने की कोशिश करती हैं, पर ज़रूरी नहीं कि वो हर बार सफल हों. अगर घरेलू इलाज से कोई समस्या हल नहीं हो रही है, तो तुरंत डर्मेटोलॉजिस्ट से मिलें.

स्किन केयर टिप: रिंकल्स, एजिंग या चेहरे पर मौजूद दाग़-धब्बे इनसे छुटकारा दिलाने में एक्सपर्ट ही आपकी मदद कर सकते हैं. ख़ुद इलाज करने की बजाय उनसे कंसल्ट करें.

– संतारा सिंह

मॉनसून हेयर केयर

मॉनसून में नमी के कारण बाल चिपचिपे हो जाते हैं और उलझ जाते हैं. बार-बार बाल भीगने और सही केयर न करने से स्काल्प में खुजली भी होने लगती है. इसलिए बेहतर होगा कि अभी से हेयर केयर रूटीन प्लान कर लें.

1

हेयर प्रॉब्लम्स इन मॉनसून

– फ्रिज़ी हेयर, बालों का उलझना.

– ऑयली और चिपचिपे बाल.

– बालों का गिरना-टूटना.

– ड्राई स्काल्प.

– बेजान और अनहेल्दी बाल.

2

क्या करें?

– ड्राई स्काल्प से बचने के लिए गुनगुने नारियल तेल से हेयर मसाज करें.

– अगर डैंड्रफ की भी प्रॉब्लम हो तो नीम ऑयल से मसाज करें.

– जहां तक हो सके, बालों को भीगने से बचाएं. अगर फिर भी बाल भीग जाएं तो उन्हें तुरंत अच्छी तरह सुखा लें और घर लौटते ही माइल्ड शैंपू से बाल धो लें.

– मॉनसून में माइल्ड शैंपू का इस्तेमाल करें. शैंपू के बाद लाइट कंडीशनर लगाना न भूलें.

– केमिकलयुक्त शैंपू की बजाय हर्बल शैंपू व कंडीशनर इस्तेमाल करें. ये बालों की नेचुरल शाइन को बनाए रखते हैं.

– बालों को हफ़्ते में दो-तीन बार धोएं.

– स्टाइलिंग प्रोडक्ट्स, जैसे- हेयर जेल, स्प्रे आदि का इस्तेमाल करने से बचें, क्योंकि ये स्काल्प पर चिपककर बालों को चिपचिपा बना सकते हैं.

– इसी तरह बारिश में हेयर कलरिंग करने से भी बचें.

– ब्लो ड्राई का इस्तेमाल कम-से-कम करें. बालों को टॉवेल ड्राई करने की कोशिश करें.

– गीले बालों में कंघी करने से बचें. कंघी की जगह हेयर ब्रश यूज़ करें. इससे बाल टूटेंगे नहीं.

– हेयर स्पा ट्रीटमेंट लें. आप चाहें तो घर में ख़ुद भी स्पा कर सकते हैं.

– बालों को रेग्युलर ट्रिम करवाती रहें, ताकि दोमुंहे बालों की प्रॉब्लम न हो.

– हेल्दी डायट लें. ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीएं.

होममेड पैक्स फॉर मॉनसून

 

3ओटमील-हनी पैकः 3 टीस्पून ओटमील, 1 अंडे की स़फेदी, 1 टीस्पून शहद और 1 टीस्पून दही मिलाकर थोड़ी देर फ्रिज में रखें. चेहरे को क्लीन करके यह पैक अप्लाई करें. सूखने पर धो लें.

स्ट्रॉबेरी थेरेपीः 4-6 स्ट्रॉबेरी को मैश करके पेस्ट बना लें. इसमें 1 टीस्पून ब्रांडी, 2 टेबलस्पून ब्रेड क्रंब्स, 2 टीस्पून मुलतानी मिट्टी और गुलाबजल मिलाकर पैक बनाएं. 20 मिनट तक चेहरे पर लगाएं. चेहरा ग्लो करने लगेगा.

मिंट ब्यूटीः पुदीने के पत्तेे को पीसकर पेस्ट बना लें. इसमें आधा केला मैश करके मिलाएं. चेहरे पर लगाएं. 10 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें.

फेशियल स्क्रबः चावल का आटा लें या बादाम को पीसकर पेस्ट बना लें. इसमें दही मिलाएं. 15 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें. इससे चेहरा अच्छी तरह क्लींज़ हो जाएगा. सूखने पर हल्के हाथों से स्क्रब करें. चेहरा धो लें.

Untitled-1

एग फेस पैकः  ऑयली स्किन के लिए यह पैक बेहद इफेक्टिव है. 1 अंडे की स़फेदी में 1 टीस्पून शहद मिलाएं. सूखने पर फेस वॉश कर लें.

आल्मंड मास्कः 5-6 बादाम, 2 टीस्पून ओटमील, 4 टेबलस्पून मलाई, 2 बूंद नींबू का रस और 1 मैश किया हुआ एवोकैडो- सबको मिलाकर पेस्ट बना लें. 20 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें. अब कॉटन को ठंडे दूध में भिगोकर इससे पैक को पोंछें. चेहरे पर ठंडे पानी के छींटें मारते हुए धोएं. मॉइश्‍चराइज़र लगाएं. ड्राई, डल और रिंकलयुक्त स्किन के लिए यह पैक बहुत इफेक्टिव है.

लेमन ब्लीचः आधी मूली को कद्दूकस कर लें. इसमें नींबू का रस मिलाकर 10 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें. धोने से पहले सर्कुलर मोशन में मसाज करें. गुनगुने पानी से चेहरा धो लें.

फेशियल टोनरः गुलाबजल और ककड़ी का रस मिलाकर फ्रिज में रखें. कॉटन को इसमें डुबोकर फेस को वाइप करें. यह बेहतरीन होममेड टोनर है.

रिश्तों को न लगे ख़ुद की ही नज़र (Dont ignore your relationship)

Dont ignore your relationship

दामन में सिमटी थी मुहब्बत मेरी… लबों से लिपटे थे चाहत के रंग… तुम और मैं तब एक ही थे और एक ही थी अपनी डगर… कब तुमने अपनी राह अलग बना ली, कब मैंने कोई नई मंज़िल ढूंढ़ ली… व़क्त यूं ही फिसलता गया हाथों से और हमने अपनी आंखें मूंद लीं… आओ मिला लें फिर से अपने रास्ते, देर न हो जाए अकेले चलते-चलते… कुछ तुम बढ़ो, कुछ हम बढ़ेें… रोक लें अपने रिश्ते की शाम को ढलते-ढलते…

Dont ignore your relationship

हम अपने रिश्ते के प्रति इतने कैज़ुअल हो जाते हैं कि हमें ख़ुद ही पता नहीं चलता कि कब हमारी ख़ुद की ग़लती से प्यार भरा रिश्ता बस एक औपचारिकता बनकर रह गया. समय-समय पर ख़ुद विश्‍लेषण करें कि ऐसी कौन-सी ग़लतियां हैं, जो आप अपने रिश्ते में अक्सर करते हैं.

सब कुछ परफेक्ट है: अक्सर लोग सोचते हैं कि उनके रिलेशनशिप में कोई प्रॉब्लम ही नहीं और उनका रिश्ता परफेक्ट है. यही सोच धीरे-धीरे रिश्ते के प्रति उन्हें कैज़ुअल बनाती चली जाती है और वो रिलैक्स हो जाते हैं, जिससे रिश्ता बोरिंग होता चला जाता है यानी जिसे आप परफेक्शन समझ रहे होते हैं, वो दरअसल बोरियत होती है, जहां कम्यूनिकेशन कम होता है, शिकायतें भी न के बराबर होती हैं और सब कुछ रूटीन बन जाता है.

टिप्स: अपने रिश्ते की गर्मी को समय के साथ खोने न दें. परफेक्ट कुछ भी नहीं होता, इसलिए हमेशा परफेक्शन की दिशा में काम करते रहना चाहिए.

– एक-दूसरे को स्पेशल फील करवाएं.

– हंसी-मज़ाक और रोमांस बने रहना बहुत ज़रूरी है.

– शिकवे-शिकायतें भी ज़रूरी होती हैं. आंख मूंदकर यह सोच लेना कि सब ठीक है, तो छोटी-सी बात पर क्या बोलना, यह अप्रोच नकारात्मक है.

– कम्यूनिकेशन कम होने पर आप दोनों धीरे-धीरे दूर होते चले जाते हैं और रिश्ते में बोरियत पसरने लगती है. ऐसा क़तई न होने दें.

रिश्ते के प्रति लापरवाह होना: आपको लगता है कि घर में और रिलेशनशिप में सब कुछ ठीक है, प्यार करनेवाला पार्टनर और अंडरस्टैंडिंग रिश्तेदार मिले हैं, तो आप एक्स्ट्रा एफर्ट डालना बंद कर देते हैं. धीरे-धीरे अपने ख़ुद के रिश्ते व पार्टनर के प्रति आप लापरवाह होते जाते हैं और अंजाने ही रिश्ता प्रभावित होने लगता है.

टिप्स: पार्टनर को कॉम्प्लीमेंट दें. कभी उनके लुक्स पर, कभी उनकी किसी अदा पर तारीफ़ के कुछ शब्द जादू का काम करते हैं.

– एक-दूसरे की ज़रूरतों के प्रति हमेशा सतर्क रहें और एक-दूसरे के लिए कुछ भी करने के लिए एक्स्ट्रा एफर्ट ज़रूर डालें, ताकि पार्टनर को यह महसूस हो कि आपको उनकी कितनी ज़रूरत और परवाह है.

रिश्ते की कद्र न करना: सब कुछ ‘अच्छा’ चलने में और सब कुछ ‘ठंडा’ चलने में फ़र्क़ होता है. जी हां, कपल्स इस अंतर को समझ ही नहीं पाते कि जिसे वो अच्छा और परफेक्ट समझ रहे थे, वो दरअसल उनके रिश्ते का ठंडापन था. रिश्ते के प्रति कैज़ुअल अप्रोच व लापरवाही ही इस ठंडेपन को जन्म देती है. ऐसे में आप अपने रिश्ते के लिए कुछ भी ख़ास करने की बात सोच ही नहीं पाते. जैसा चल रहा है, वैसा ही चलने देते हैं.

टिप्स: बेहतर होगा अपने रिश्ते की क़द्र करें. उसके महत्व को समझें और समय रहते उसे ठंडेपन से बचाएं.

– एक-दूसरे को गिफ्ट व सरप्राइज़ दें.

– रोमांटिक डेट्स पर भी जाएं. मूवी देखें, मस्ती करें, हॉलीडेज़ पर जाएं.

– पार्टनर के लिए कुछ स्पेशल बनाएं या कभी पार्टनर की पसंद का कलर पहनकर उन्हें यह बताएं कि यह स़िर्फ आपके लिए ही है.

सेक्स को अनदेखा करना: सेक्स शादीशुदा रिश्ते का बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा है. लेकिन समय के साथ-साथ कपल्स सेक्स के प्रति भी उदासीन होते चले जाते हैं. इस उदासीनता का प्रभाव आपके रिश्ते पर पड़ता है. काम की थकान और बढ़ती ज़िम्मेदारियां किस तरह जीवन से धीरे-धीरे रोमांस और सेक्स को छीन लेती हैं, इसे कपल्स जब तक समझ पाते हैं, तब तक काफ़ी समय निकल चुका होता है.

Dont ignore your relationship

टिप्स: सेक्स को अनदेखा न करें. पार्टनर को अट्रैक्ट करने और उनके लिए अट्रैक्टिव बने रहने के तमाम प्रयास जारी रखें.

– रोमांटिक छेड़छाड़ व मैसेजेस करें.

– सेक्सुअल हाइजीन का ख़्याल रखें.

– सेक्सी नाइटवेयर पहनें.

– पत्नी को चाहिए कि वो बेडरूम को किचन या शिकायतों का कमरा न बनाए और पति को चाहिए कि वो बेडरूम को अपना सेकंड ऑफिस न बनाए.

अपने प्रति कैज़ुअल हो जाना: न स़िर्फ पार्टनर के प्रति, बल्कि ख़ुद के प्रति भी कैज़ुअल अप्रोच रखना इस बात का प्रतीक है कि आपको अपने रिश्ते में ख़ास दिलचस्पी नहीं. काम में इतना खो जाना कि अपने लुक्स, फिटनेस और हेल्थ के प्रति उदासीन रवैया अपनाना आपके रिलेशनशिप को भी उदासीन बना देगा.

टिप्स: अपनी हेल्थ और फिटनेस का पूरा ख़्याल रखें और पार्टनर को यह ज़ाहिर करें कि आप उनके लिए अट्रैक्टिव बने रहना चाहते हैं.

– अपने लुक्स और स्टाइल को भी मेंटेन करें, ताकि पार्टनर की दिलचस्पी बनी रहे.

– साथ-साथ वर्कआउट करें या कोई फिटनेस क्लास, हॉबी क्लास आदि जॉइन करें.

– अगर यह संभव नहीं है, तो सुबह जॉगिंग या रात को खाने के बाद ईवनिंग वॉक पर साथ में जाएं.

– एक-दूसरे में दिलचस्पी बनी रहे, इसके लिए ज़रूरी है कि पहले आपकी ख़ुद में दिलचस्पी जगी रहे.

– विजयलक्ष्मी

 

लघु उद्योग- जानें सोप मेकिंग बिज़नेस की एबीसी… (Small Scale Industry- Learn The Basics Of Soap Making)

4 हेयर स्टाइल फॉर मॉनसून

hair styles, monsson hair style

मॉनसून में परफेक्ट हेयर स्टाइल सिलेक्शन ज़रूरी है. हेयर एक्सपर्ट्स के अनुसार बारिश में टाइ अप हेयर ट्रेंडी तो लगते ही हैं, इससे आपके बाल बारिश में सेफ भी रहते हैं.

टॉप बन

1
पूरे बालों की एकदम हाई पोनीटेल बनाएं. इसे बांधकर बन बना लें. बन में स्टाइल ऐड करना चाहती हैं, तो पोनी के बालों के कई सेक्शन करके ट्विस्ट कर लें या पतली-पतली चोटी बना लें. इससे बन बना लें.

ब्रेंडेड क्राउन

4
बालों को दो सेक्शन में डिवाइड करें. दोनों सेक्शन की चोटी बनाएं और क्राउन की तरह पिनअप कर लें.

फ्रेंच बन

2
एक साइड से सागर चोटी बनाना शुरू करें और आगे से पीछे तक चोटी बनाते हुए दूसरे कान तक चोटी बनाएं. पिन से चोटी को सेक्योर कर लें. इससे बन जैसा लुक आ जाएगा.

फिश टेल

3
बालों के दो सेक्शन करें और दोनों से फ्रेंच चोटी बना लें. दोनों चोटियों को पीछे ले जाकर एक-दूसरे पर रैप करते हुए पिनअप कर लें. आप चाहें तो हाफ क्लिप, हाई पोनीटेल भी ट्राई कर सकती हैं. ये स्टाइल भी मॉनसून के लिए परफेक्ट होते हैं.