कविता- हर प्रलय में… (Kavita- Har Pralay Mein…)

आज के हालातों में हर कोई 'बचा' रहा है कुछ न कुछ पर, नहीं सोचा जा रहा है 'प्रेम' के लिए कहीं भी.. हां, शायद…

आज के हालातों में
हर कोई ‘बचा’ रहा है कुछ न कुछ
पर, नहीं सोचा जा रहा है
‘प्रेम’ के लिए
कहीं भी..

हां, शायद
‘उस प्रलय’ में भी
नाव में ही बचा रह गया था ‘कुछ’
कुछ संस्कृति..
कुछ सभ्यताएं..
और
.. थोड़ा सा आदमी!

प्रेम तब भी नहीं था
आज भी नहीं है
.. वही ‘छूटता’ है हर बार
हर प्रलय में
पता नहीं क्यों…

नमिता गुप्ता

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

नवरात्रि- शांति और कल्याणकारी देवी चंद्रघंटा (Navratri 2021- Devi Chandraghanta)

या देवी सर्वभूतेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥ नवरात्रि के तीसरे…

आरती सिंह का दिखा बोल्ड अवतार ;मालदीव में बिता रही हैं छुट्टियां (Aarti Singh stuns in Bikni from her Maldives Vacation)

फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम टीवी एक्ट्रेस आरती सिंह बिग बॉस 13 से काफी नाम कमा चुकी…

© Merisaheli