कविता- तुम दूर ही अच्छे हो… (Kavita- Tum Dur Hi Achche Ho…)

तुम और मैं मिले तो मुझे अच्छा लगा गुज़रे वक़्त की कसक कुछ कम हुई परंतु मन के डर ने कहा तुम दूर ही अच्छे…

तुम और मैं
मिले तो मुझे अच्छा लगा
गुज़रे वक़्त की कसक कुछ कम हुई
परंतु मन के डर ने कहा
तुम दूर ही अच्छे हो..

जानती हूं मैं
तुम्हारे आने से होंठो पर मुस्कान आई
और मन में उमंग भी छाई
फिर भी कहती हूं
तुम दूर ही अच्छे हो..

देखने लगी मैं
भविष्य के लिए सुनहरे सपने
सजने लगे आंखों में नई उम्मीदें
फिर भी यह लगा
तुम दूर ही अच्छे हो..

समझ गई मैं
तुम क्षणिक जीवन में विश्‍वास करते हो
परंतु मैंने शाश्वत जीवन की कल्पना की थी
इसलिए मैंने कहा
तुम दूर ही अच्छे हो..

जान गई मैं
हमसफ़र ना हुए तो क्या हुआ
ख़ूबसूरत और मीठी याद तो हो
पास होकर भी
तुम दूर ही अच्छे हो…

अमृता सिन्हा

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

लव स्टोरी- आंखों की मूक भाषा (Love Story- Aankho Ki Mook Bhasha)

मैं तो इस बात से अनभिज्ञ था कि मेरा प्रेम एकतरफ़ा है या फिर तुम…

सुनील शेट्टी ने दर्ज कराई प्रोडक्‍शन कंपनी के खिलाफ पुल‍िस कंप्लेन, जानिए क्या है मामला (Suniel Shetty files complaint against a production company)

एक तरफ सुनील शेट्टी अपने बेटे अहान शेट्टी के बॉलीवुड डेब्यू को लेकर इन दिनों…

© Merisaheli