पहला अफेयर: इंतज़ार (Pahla Affair: Intezar)

पहला अफेयर: इंतज़ार (Pahla Affair: Intezar) मुहब्बत इंद्रधनुष की तरह कायनात के एक किनारे से दूसरे किनारे तक फैली हुई…

पहला अफेयर: इंतज़ार (Pahla Affair: Intezar)

मुहब्बत इंद्रधनुष की तरह कायनात के एक किनारे से दूसरे किनारे तक फैली हुई है और इसके दोनों सिरे दर्द के अथाह समंदर में डूबे हुए. लेकिन फिर भी जो इस दर्द को गले लगा लेता है, उसे इसी में सुकून मिलता है.

बस, मुझे भी इसका एहसास उस व़क्त हुआ, जब उसकी मासूम आंखें और मुस्कुराते होंठों को मैंने देखा. न जाने कैसी कशिश थी उसकी आंखों में कि डूबता ही चला गया और आज तक उबर ही नहीं पाया.

वैसे तो मैंने उसे कैफे में देखा था, तभी से खो सा गया था, पर आमने-सामने मुलाक़ात कॉलेज के बाइक स्टैंड पर हुई. “ऐ मिस्टर, तुम समझते क्या हो अपने आप को? तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरी दोस्त से बदतमीज़ी करने की और ये दादागिरी कहीं और जाकर दिखाना.”

मैं ख़ामोश सा बस उसे देखता ही जा रहा था और उसका चेहरा गुस्से में तमतमा रहा था. आंखें चमक रही थीं और माथे पर पसीने की बूंदें थीं. अचानक उसकी सहेली आई और कहने लगी, “ये तू क्या कर रही है, ये वो लड़का नहीं है.”

वो अवाक् सी देखने लगी और कहने लगी, “मुझे माफ़ कर दीजिए, मुझे लगा कि…”

“कोई बात नहीं, अंजाने में ऐसा हो जाता है.” मेरी बात सुनकर वो तेज़ी से वहां से चली गई.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: नीली छतरीवाली लड़की… (Pahla Affair: Neeli Chhatriwali Ladki)

लेकिन मैं बुत बनकर वहीं खड़ा रहा, जब तक कि मेरे दोस्तों ने आकर मुझे चौंकाया नहीं. फिर तो बस आते-जाते मुलाक़ातें होने लगीं. पहले-पहले वो सकुचाई सी नज़रें उठाती, फिर बाद में मुस्कुराने लगी. उसकी वो मुस्कुराहट मेरे दिल में उतर जाया करती थी. उसकी बोलती आंखें कई ख़्वाब जगाया करती थी. वो भी मुझे पसंद करने लगी थी, कम से कम मुझे तो यही लगने लगा था. हम क़रीब आने लगे थे.

एक दिन उसने कहा कि वो विदेश जा रही है, आगे की पढ़ाई के लिए. मैंने कुछ नहीं कहा. अगले दिन फिर उसने कहा. मैंने कहा कि ठीक है. वो कहने लगी, “कुछ कहोगे या पूछोगे नहीं?”

मैंने कहा, “तू मुझसे दूरी बढ़ाने का शौक पूरा कर, मेरी भी ज़िद है कि तुझे हर दुआ में मांगूंगा.” वो देखती ही रह गई.

पांच साल में शायद बहुत कुछ हो जाता है, लेकिन मेरा प्यार उसके प्रति बढ़ता ही चला गया… बस फिर वो लम्हा आ गया, जब वो सामने आई, लेकिन बदले हुए रूप में. उसके साथ उसका हमसफ़र था और उसके चेहरे की ख़ुशी देखकर मैं मुस्कुरा दिया. बिना किसी शिकवे-गिले के मैंने उसे विदा किया…

मेरा पहला प्यार अधूरा रह गया… बस उम्रभर का इंतज़ार दे गया… मैं अब भी उसके लिए ख़ुशियों की दुआ मांगता हूं, क्योंकि प्यार का अर्थ स्वार्थी होना नहीं है, प्यार का मतलब समर्पण और त्याग भी तो है.

– वीना साधवानी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर- तुम मेरे हो… (Pahla Affair- Tum Mere Ho)

Geeta Sharma

Recent Posts

सना खान ने किया प्यार का ऐलान, जानिए कौन है उनका बॉयफ्रेंड (Sana Khan Announces She is Dating Her Dance Tutor)

रियलिटी शो बिग बॉस 6 की एक्स कंटेस्टेंट सना खान (Sana Khan) भले ही कम फिल्में करती हैं, लेकिन वे…

कैंसर सर्वाइवर का बोझ लेकर घूमना नहीं चाहतीः सोनाली बेंद्रे (Sonali Bendre On Her Cancer Battle, Says It’s Not A Badge She Wants To Wear And Move Around)

यह तो हम सभी जानते हैं कि सोनाली बेंद्रे (Sonali Bendre) कैंसर (Cancer) जैसी बीमारी से जंग लड़ रही हैं.…

पति-पत्नी के बीच हों झगड़े तो करें वास्तु के ये उपाय (Vastu Tips For Married Couple)

पति-पत्नी के बीच लगातार झगड़े हों और ये झगड़े थमने का नाम न लें, तो आप अपने घर (Home) के…

सनी लियोनी ऐसे करती हैं ट्रोलर्स से डील (Sunny Leone Opens Up About Trolls on Arbaaz Khan’s Chat Show)

हाल ही में अरबाज़ खान (Arbaaz Khan) के चैट शो पिंच (Chat Show Pinch) में सनी लियोनी (Sunny Leone) शामिल…

सारा अली खान के फिटनेस मंत्र (Fitness Mantra Of Sara Ali Khan)

सारा (Sara) पीसीओडी से पीड़ित थी, जिसके कारण उनका वज़न लगातार बढ़ता जा रहा था, लेकिन कड़ी मेहनत, वर्कआउट और…

कहानी- राहुल का ख़त (Short Story- Rahul Ka Khat)

राहुल मेरे बनाये भोजन की खुले दिल से प्रशंसा करता और प्रशंसा की भूखी मैं उसकी पसन्द का विशेष ख़याल…

© Merisaheli