कविता- सिर्फ़ लिखी थी एक कविता, खाली लिफ़ाफ़ों से क्या कहूं… (Poetry- Sirf Likhi Thi Ek Kavita, Khali Lifafon Se Kya Kahoon…)

सुबहों को व्यस्त ही रखा, दुपहरियां थकी-थकी सी रही कुछ जो न कह सकी, इन उदास शामों से क्या कहूं.. चुन-चुनकर रख लिए थे जब,…

सुबहों को व्यस्त ही रखा, दुपहरियां थकी-थकी सी रही
कुछ जो न कह सकी, इन उदास शामों से क्या कहूं..

चुन-चुनकर रख लिए थे जब, कुछ पल सहेज कर
वो जो ख़र्चे ही नहीं कभी, उन हिसाबों का क्या कहूं..

न तुमने कुछ कहा कभी, मैं भी चुप-चुप सी ही रही
हर बार अव्यक्त जो रहा, उन एहसासों का क्या कहूं..

यूं तो गुज़र ही रहे थे हम-तुम, बगैर ही कुछ कहे-सुने
अब कि जब मिलें, छूटे हुए उन जज़्बातों से क्या कहूं..

हां है कोई चांद का दीवाना, कोई पूजा करे सूरज की
वो जो भटकते फिर रहे, मैं उन टूटे तारों से क्या कहूं..

न ख़त का ही इंतज़ार था, और न किसी फूल का
सिर्फ़ लिखी एक कविता, खाली लिफ़ाफ़ों से क्या कहूं…

नमिता गुप्ता ‘मनसी’

यह भी पढ़े: Shayeri

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

लघुकथा- शोपीस (Short Story- Showpiece)

"इन उधार के चावों से ही वह थोड़ा ख़ुश हो लेती है. अपना जीवन भर…

कार्तिक आर्यन जब पैसों के लिए करने लगे थे यह काम, जानकर हैरान हो जाएंगे आप (When Kartik Aaryan started Doing This Work for Money, You will be Surprised to Know)

हाल ही में कार्तिक आर्यन की फिल्म 'भूल भूलैया 2' रिलीज़ हुई है, जिसे दर्शकों…

© Merisaheli